Home ब्लॉग पीछे छूटी टीबी से लड़ाई

पीछे छूटी टीबी से लड़ाई

कि जब कोविड ने कहर बरपाया, तब टीबी सरकार और समाज की प्राथमिकता में काफी पीछे छूट गई। सवाल है क्या अब कोविड के शांत होने के बाद  टीबी की लगातार गंभीर होती समस्या की तरफ सरकार और स्वास्थ्य व्यवस्था का ध्यान जाएगा? दुनिया के टीबी मरीजों में से एक चौथाई भारत में हैं।

कोविड-19 ने टीबी के खिलाफ लड़ाई को भारी नुकसान पहुंचाया है। हालांकि इससे कुछ सबक सीखने को भी मिले हैं। अब यह हम पर है कि हम इन सबकों को सीखते हैं या नहीं। असल सवाल राजनीतिक इच्छाशक्ति का है। यहां ये याद कर लेना उचित होगा कि 2020-21 में जब कोविड ने कहर बरपाया, तब टीबी सरकार और समाज की प्राथमिकता में काफी पीछे छूट गई। सवाल है कि क्या अब कोविड के शांत होने के बाद  टीबी की लगातार गंभीर होती समस्या की तरफ सरकार और स्वास्थ्य व्यवस्था का ध्यान जाएगा?

गौरतलब है कि दुनियाभर के टीबी मरीजों में से लगभग एक चौथाई भारत में हैं। एक अनुमान के मुताबिक 2020 में भारत में लगभग पांच लाख लोगों की मौत टीबी से हुई, जो कि पूरी दुनिया में हुई मौतों का एक तिहाई है। करीब एक दशक में पहली बार 2020 में टीबी से मौतों में वृद्धि हुई है। विश्व स्वास्थ्य संगठन के मुताबिक कोविड महामारी ने टीबी के मोर्चे पर सालों की मेहनत पर पानी फेर दिया। बीते हफ्ते विश्व टीबी दिवस के मौके पर भारत ने एक नई रिपोर्ट जारी की। इस रिपोर्ट के मुताबिक 2019-21 के दौरान लगभग दो तिहाई लोग ऐसे थे, जिनके अंदर टीबी के लक्षण पाए गए, लेकिन उन्हें इलाज नहीं मिला।

सर्वाइवर्स अगेंट्स टीबी नाम की संस्था के मुताबिक कोरोना महामारी के समय टीबी के खिलाफ मुहिम में शामिल लोग बेहद डरे हुए थे। उन्हें किसी भी तरह की सूचना, टेस्ट और इलाज आदि की सुविधाएं उस समय उपलब्ध नहीं थीं। यही कारण रहा जिससे कोविड ने टीबी के खिलाफ लड़ाई को बहुत पीछे पहुंचा दिया। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 2025 तक- यानी संयुक्त राष्ट्र की समयसीमा से पांच साल पहले देश से टीबी खत्म करने का लक्ष्य तय किया हुआ है। लेकिन अब इस लक्ष्य को हासिल करना बेहद मुश्किल लग रहा है।

ऐसा तभी हो सकता है, अगर टीबी के मामलों को खोजने के लिए जमीनी स्तर पर विशेष अभियान चलाए जाएं। इसके लिए अतिरिक्त फंडिंग की जरूरत होगी। फिर यह भी गौरतलब है कि टीबी की बड़ी वजह कुपोषण है, जिसके भारत में बढऩे के संकेत हैँ। बहरहाल, ये अच्छी खबर है कि मास्क की वजह से टीबी का प्रसार भी 20 प्रतिशत तक कम होने का अनुमान लगाया गया है। ऐसे उपायों को जारी रखने की जरूरत है।

RELATED ARTICLES

भविष्य की आहट

राष्ट्रप्रेम की डींगों का धरातली आइना डा. रवीन्द्र अरजरिया दुनिया के सामने मातृभूमि की छवि धूमिल करने की एक कोशिश गोरों की धरती पर फिर हो...

भारत पर बेमतलब तोहमत

पहले गेहूं निर्यात को लेकर बड़बोले दावे करने के बाद अचानक निर्यात पर रोक लगा देने के निर्णय पर भारत की विदेशों में जो...

मनुष्य का किंगडम एनिमेलिया!

हरिशंकर व्यास पृथ्वी के ह्यूमन बाड़े मतलब पशुवाद और पशुताएं। बाड़ों में वैयक्तिक तौर पर बिना व्यक्तित्व के व्यक्ति वक्त काटता है। अधिकतम लोग बिना...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

व्हाट्सएप यूजर्स के लिए खास सुविधा शुरू, Whatsapp पर डाउनलोड होगा DL और PAN

नई दिल्ली। इलेक्ट्रॉनिक्स और आईटी मंत्रालय ने व्हाट्सएप यूजर्स के लिए खास सुविधा शुरू की है। अब आप सिर्फ एक व्हाट्सएप मैसेज के जरिए...

कोरोना के बाद अब मंकीपॉक्स की दहशत ! मोदी सरकार ने राज्यों को किया अलर्ट, हरकत में आई उद्धव सरकार ने जारी की एडवाइजरी

नई दिल्ली। डब्लूएचओ के अनुसार मंकीपॉक्स एक वायरल जूनोटिक बीमारी है। यह जानवरों से मनुष्यों में फैलती है और फिर मनुष्य से मनुष्य में...

हिना खान ने बॉडीकॉन ड्रेस में फ्लॉन्ट किया फिगर, चौथे लुक ने आते ही मचा दिया कहर

बॉलीवुड की मशहूर एक्ट्रेस हिना खान इन दिनों कांस फिल्म फेस्टिवल 2022 में खूब धूम मचा रही हैं। हिना खान आए दिन कांस से...

भविष्य की आहट

राष्ट्रप्रेम की डींगों का धरातली आइना डा. रवीन्द्र अरजरिया दुनिया के सामने मातृभूमि की छवि धूमिल करने की एक कोशिश गोरों की धरती पर फिर हो...

उत्तराखण्ड में साइबर अपराधी ने, डीजीपी का सोशल साइट पर बना लिया फर्जी एकाउंट

देहरादून। उत्तराखंड डीजीपी अशोक कुमार का किसी ने फर्जी ट्विटर अकाउंट बनाया है। पुलिस मुख्यालय की सोशल मीडिया सेल प्रभारी को जैसे ही इसकी...

महाभारतकालीन समय से रहे हैं उत्तर-पूर्वी राज्यों से हमारे संबंध: महाराज

श्रीनगर। हमारा देश एक राष्ट्र, एक ध्वज और एक आत्मा है। प्रतिष्ठित उत्सव अक्टेव-2022 जिस धरती पर हो रहा है, यही वह स्थान है...

पर्यटकों की भीड़ से कम पड़ी रोडवेज की बसें

देहरादून। पर्यटकों की भीड़  को देखते हुए रोडवेज ने मसूरी के लिए बसों के फेर बढ़ाए, बावजूद इसके बसों की किल्लत कम नहीं हो...

हरकी पैड़ी पर गंगा आरती की अब हो सकेगी ऑनलाइन बुकिंग

देहरादून।  हरकी पैड़ी पर होने वाली गंगा की विश्व प्रसिद्ध मुख्य आरती को पहली बार ऑनलाइन बुक किया जा सकेगा। पहले तक श्रीगंगा सभा...

गोरीकुंड से केदारनाथ का सफ़र होगा और भी आसान, जानिए

देहरादून।  गौरीकुंड-केदारनाथ 16 किमी पैदल मार्ग पर ऑल टेरेन व्हीकल (एटीवी) चलाने की संभावनाएं तलाशी जाने लगी हैं। पर्यटन मंत्री ने लोक निर्माण विभाग...

95 साल के शख्स को 84 साल की महिला से हुआ प्यार, 40 मेहमानों की मौजूदगी में खाई साथ जीने-मरने की कसमें

लंदन। जरा सोचिए कि आप 95 साल की उम्र में क्या कर रहे होंगे? आप कहेंगे 95 साल की उम्र में कोई क्या कर...

Recent Comments