Home ब्लॉग देशभक्ति के पटाखे और जश्न का टशन

देशभक्ति के पटाखे और जश्न का टशन

सहीराम

सौ करोड़ टीके लगाने का जश्न दोबारा न हो पाया! अगर हमारी क्रिकेट टीम पाकिस्तान से मैच जीत जाती तो अंदाजा लगाइए कि कैसा रंग जमता। पटाखों पर चाहे कितना ही प्रतिबंध लगा होता, उनके फोडऩे से चाहे कितना ही प्रदूषण फैलता, फिर भी पटाखे अवश्य फूटते। वैसे भी पटाखे फोडऩा हमारे यहां अब देशभक्ति में शुमार होने लगा है। गलती से कोई नेता अगर पटाखे न फोडऩे का उपदेश दे दे तो उसकी शामत आ जाती है। उसे धर्मविरोधी तो करार दे ही दिया जाता है, देशद्रोही भी ठहरा दिया जाता है। बेचारे आमिर खान ने तो पटाखे न फोडऩे का एक विज्ञापन ही किया था कि देशभक्त उस कंपनी के मालिक तक शिकायत ले जाने से नहीं चूके।

तो प्रदूषण वगैरह के बावजूद पटाखे फोडऩा देशभक्ति का काम हो चुका है। इसलिए अगर हमारी क्रिकेट टीम जीत जाती तो पटाखे अवश्य ही फूटते। वे कम से कम इसलिए तो जरूर ही फोड़े जाते कि उनकी गूंज पाकिस्तान तक सुनायी दे। अभी तो आतंकवादियों की बंदूकों की आवाज ही वहां तक पहुंच रही है। अगर यह मैच जीत जाते कम से कम पटाखों की आवाज भी वहां तक पहुंच जाती। हिसाब बराबर मान लिया जाता। हमारे यहां पाकिस्तान तक आवाज पहुंचाने की बड़ी ललक रहती है। हमारे नेता तो चुनावी जीत की धमक भी वहां तक पहुंचाने के अरमान पाले रहते हैं।

खैर, हमारी टीम भले ही किसी से भी हार जाती। चाहे टिंबकटू से ही हार जाती। क्या हारते नहीं? वो तो भला हो एथलीटों का कि वे अब ओलंपिक में पदक लाने लगे हैं, वरना तो पहले हर खेल में हार ही हमारे हिस्से आती थी। पर क्रिकेट की हार की और बात है। सुना है कभी पहले पाकिस्तान के साथ हॉकी भी ऐसे ही खेली जाती थी। पाकिस्तान के साथ खेलना, हमारे यहां खेल नहीं माना जाता, युद्ध माना जाता है।
इस मामले में खेल भावना को कोई तवज्जो नहीं देता। खेल भावना गई तेल लेने! बताओ तुम हारे कैसे? फिर अब तो खैर ट्रोल आर्मी होने लगी है।

सोशल मीडिया ने और चाहे कुछ न दिया हो, पर गालियों के खजाने की चाबी ट्रोल सेना को जरूर दे दी है। लेकिन जब सोशल मीडिया नहीं होता था, तब भी तोहमत तो मोहम्मद शमी जैसों को ही झेलनी पड़ती थी।
तो जनाब हमारी क्रिकेट कम से कम देश में सौ करोड़ टीके लगने का जो जश्न मनाया जा रहा है, उसे दुगना करने के लिए ही जीत जाती। वैसे भी कितने साल बाद तो मैच हुआ था। आगे होता रहे, इसीलिए जीत जाना चाहिए था। अब तो पता नहीं कब पाकिस्तान से खेलना बंद हो जाए। अगर टीम जीत जाती तो हो सकता है उसे प्रधानमंत्री के साथ डिनर करने या चाय पार्टी करने का ही मौका मिल जाता।

RELATED ARTICLES

मानव बुद्धि: पहले पंखज्फिर पिंजरे!

हरिशंकर व्यास त्रासद सत्य है जो पृथ्वी के आठ अरब लोग अपना स्वत्व छोड़ते हुए घोषणा करते हैं कि हम फलां-फलां बाड़े (195 देश) के...

सबको पसंद है राजद्रोह कानून

अजीत द्विवेदी भारतीय दंड संहिता की धारा 124ए यानी राजद्रोह कानून पर सुप्रीम कोर्ट का फैसला ऐतिहासिक है लेकिन यह अंतिम जीत नहीं है। यह...

विश्व-विमर्श श्रीलंका : सियासत, विक्रमसिंघे और कांटों का ताज

डॉ. सुधीर सक्सेना अपरान्ह करीब पौने दो बजे कोलंबो से वरिष्ठ राजनयिक व वकील शरत कोनगहगे ने खबर दी-‘रनिल विक्रमसिंघे सायं साढ़े छह बजे श्रीलंका...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

चारधाम यात्रा में अव्यवस्थाओं पर भड़के यशपाल आर्य, बोले सिस्टम के नाकारापन के कारण पूरे देश में उत्तराखंड की छवि हो रही खराब

हल्द्वानी। चारधाम यात्रा की व्यवस्थाओं को लेकर नेता प्रतिपक्ष यशपाल आर्य ने सरकार पर सवाल उठाए। कहा कि सरकार यात्रियों को बुनियादी सुविधाएं तक...

देहरादून पहुंचा पहाड़ का रसीला खट्टा मीठा फल काफल, जानिए इसके फायदे

देहरादून। सीजन के अंतिम दिनों में ही सही पहाड़ का रसीला काफल देहरादून पहुंच गया है। यह पहाड़ी फल कैंसर समेत कई बीमारियों की रोकथाम...

फर्जी राशन कार्ड धारकों के ख़िलाफ़ खाद्य विभाग की महिमा, “अपात्र को ना और पात्र को हां”, 1967 टोल फ्री नंबर पर करें शिकायत

देहरादून। खाद नागरिक आपूर्ती व उपभोगता मामले मंत्री रेखा आर्या ने आज बनबसा से वर्चुअल माध्यम से खाद्य विभाग की समीक्षा बैठक ली। बैठक में...

उत्तराखंड का आम बजट बनाने में आप भी दीजिये धामी सरकार को अपने अहम सुझाव, जानिए कैसे

देहरादून । उत्तराखंड सरकार आम बजट को लेकर राज्य के हर वर्ग से सुझाव लेगी। इसके लिए सरकार के स्तर से ईमेल आईडी जारी...

“मोक्ष” पर सियासत जारी, राजीव महर्षि ने लगाया भाजपा पर सनातन धर्म के अपमान का आरोप

देहरादून। चारधाम यात्रा पर लोग मोक्ष प्राप्ति के लिये आते हैं बयान के बाद उत्तराखंड की सियासत में उबाल है। भाजपा प्रवक्ता के बयान...

बद्रीनाथ हाईवे हनुमानचट्टी के बलदोड़ा में पत्थर गिरने से मार्ग हुआ अवरुध्द, विभिन्न स्थानों पर ठहरे यात्री

देहरादून। चमोली में बीती देर रात को तेज बारिश के चलते बद्रीनाथ राष्ट्रीय राजमार्ग के हनुमानचट्टी से आगे बलदोड़ा में चट्टान से पत्थर गिरने और...

शिक्षा विभाग में अपनी ढपली अपना राग, चहेतों के लिए एक्ट दरकिनार, बीमार शिक्षक कर रहे तबादलों का इंतजार

देहरादून। शिक्षा विभाग में शून्य सत्र के बावजूद पूरे साल तबादलों एवं शिक्षकों की संबद्धता का खेल चलता रहा, लेकिन बीमार शिक्षक तबादले का...

चारधाम यात्रा :- केदारनाथ और यमुनोत्री धाम में 31 मई तक पंजीकरण फुल, अब तक 2 लाख से अधिक श्रद्धालु कर चुके दर्शन

देहरादून। केदारनाथ और यमुनोत्री धाम में दर्शन करने के लिए 31 मई तक वहन क्षमता के अनुसार पंजीकरण फुल हो चुके हैं, जबकि बदरीनाथ...

विदेशी मुद्रा भंडार 1.8 अरब डॉलर घटकर 595.9 अरब डॉलर पर

मुंबई ।  देश का विदेशी मुद्रा भंडार 06 मई को समाप्त सप्ताह में लगातार नौवें सप्ताह गिरता हुआ 1.8 अरब डॉलर कम होकर 595.9 अरब...

जानिए गर्मी में दिन में कितनी बार धोना चाहिए चेहरा, बनी रहेगी नमी

गर्मी में ताजगी बने रहने के लिए लोग दिन में कई बार चेहरा धोते हैं। कुछ लोगों को लगता है कि बार-बार फेस वॉश...

Recent Comments