Home Uncategorized वासिंगटन। संक्रामक रोग विज्ञान में संचारी रोगों की रोकथाम के स्तर की...

वासिंगटन। संक्रामक रोग विज्ञान में संचारी रोगों की रोकथाम के स्तर की परिभाषाएं दी गई हैं। नियंत्रण का अर्थ है वैक्सीन जैसे जनस्वास्थ्य उपायों से किसी बीमारी को संचरण के कम स्तर पर ले आना। इसी प्रकार उन्मूलन से आशय है-क्षेत्र विशेष में रोग संबंधी मामले घट कर शून्य पर पहुंच जाना। समूल नष्ट करने का मतलब है समूची दुनिया में रोग के मामले शून्य पर आ जाना। और रोग के खत्म हो जाने का अर्थ है कि सुरक्षित प्रयोगशालाओं में बचे जीवाणु के अंश भी नष्ट हो गए। 1979 में चेचक रोग दुनिया में समूल नष्ट हुआ था। इसका कारण केवल वैक्सीन नहीं थी, बल्कि इसके लक्षण इतने स्पष्ट थे कि इन्हें पहचानना आसान था। इसका संक्रमण कुछ अवधि के लिए ही रहता था। साथ ही एक बार संक्रमण होने पर व्यक्ति में जिंदगी भर के लिए इसके प्रति रोग प्रतिरोधक क्षमता आ जाती थी। खसरा कभी समूल नष्ट नहीं किया जा सका। अत्यधिक संक्रामक श्वसन संबंधी यह वायरस 1963 में तब नियंत्रण में आया, जब इसकी वैक्सीन बनी। अमरीका में वैक्सीन लगवाने वालों की संख्या अत्यधिक रही, जिससे इसका तकनीकी रूप से उन्मूलन हो गया। कोविड-19 वायरस का अंत चेचक या खसरे जैसा नहीं होगा। अत्यधिक संक्रामक होने के साथ ही इसमें ऐसे लक्षण हैं, जो अन्य श्वसन संबंधी संक्रमण से मिलते-जुलते हैं। साथ ही एसिम्प्टोमैटिक मरीज लक्षण आने से पहले भी दूसरे को संक्रमित कर सकते हैं। जैसे-जैसे वैक्सीन लग रही है, वैसे-वैसे वायरस नियंत्रित हो रहा है। धीरे-धीरे यह वायरस स्थानीय बीमारी में बदल जाएगा। मतलब यह फैलेगा तो सही, लेकिन क्षेत्र विशेष में और काफी कम दर पर। जैसे इन्फ्लुएंजा या राइनोवायरस से सर्दी जुखाम होता है, ये मौसमी बीमारियां हो सकती हैं। आमतौर पर ये महामारी के स्तर तक नहीं फैलतीं। चूंकि वैक्सीन कोविड-19 की रोकथाम में प्रभावी है। वैक्सीन से बनी एंटीबॉडी स्वत: समाप्त हो जाती हैं, लेकिन शरीर में बी कोशिकाओं के तौर एक स्मृति विकसित होती है, जो वायरस या उसके वैरिएंट को दोबारा देखने पर एंटीबॉडी पैदा करती हैं। ये बी कोशिकाएं शरीर में लंबे समय तक रहती हैं। 2008 में नेचर के एक अध्ययन के मुताबिक 1918 के इन्फ्लुएंजा से जंग जीतने वालों में नब्बे साल बाद भी प्रतिरोधी बी कोशिकाएं सक्रिय पाई गईं। वैक्सीन से मानव शरीर को मिलने वाली टी कोशिकाएं भी गंभीर रोगों से बचाती हैं और ये वैरिएंट पर भी कारगर हैं। चूंकि वायरस का संचरण जारी है, ऐसे में बुजुर्गों और कम प्रतिरोधक क्षमता वाले लोगों को बूस्टर शॉट देने की जरूरत होगी। तो कोविड-19 का आम बीमारी वाला स्वरूप क्या होगा? अगर हम दुनिया भर में वायरस का संचरण निम्नतम स्तर पर ले आएं और वैक्सीनेशन से उसकी गंभीर रोग देने की क्षमता कम कर दें, तो दुनिया सच में पहले जैसी सामान्य हो जाएगी। फिर संक्रमण वहां फैलेगा,जहां लोग वैक्सीन नहीं लगवाना चाहते, जैसा खसरा रोग में हुआ। वैक्सीन की अनिवार्यता वैक्सीन लेने वालों की संख्या बढ़ा सकती है। इस तरह वैक्सीन के साथ स्वाभाविक रूप से आई रोग प्रतिरोधक क्षमता कोविड-19 को भी उसी तरह काबू में कर लेगी, जैस अन्य श्वास संबंधी वायरस को काबू में किया गया। भविष्य में अस्पतालों में श्वसन रोगियों की जांच में कोविड-19 जांच शामिल हो जाएगी, मरीज को आउटडोर में सर्दी-जुकाम वाले मरीज की तरह ही दवाएं दी जाएंगी। कोविड-19 कितना भी जटिल वायरस क्यों न हो, एक सत्य यह भी है कि कोई भी वायरस एक सीमा के बाद नए वैरिएंट विकसित नहीं कर सकता। एचआइवी एड्स के मामले में हम यह देख चुके हैं।

RELATED ARTICLES

खटीमा से ही चुनाव लडेंगे मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी, कोर ग्रुप की बैठक के बाद किया ऐलान, भाजपा जल्‍द करेगी प्रत्‍याशियों की लिस्‍ट जारी

देहरादून। उत्तराखंड भाजपा मुख्यालय में पार्टी के प्रदेश कोर ग्रुप की बैठक हुई। बैठक में विधानसभा चुनाव के मद्देनजर प्रत्याशी चयन को दावेदारों के...

सूरज पंचोली की अगली फिल्म पेश करेंगे सलमान, जैकलीन हो सकती हैं हीरोइन

सलमान खान ने अपने प्रोडक्शन हाउस के बैनर तले 2015 में आदित्य पंचोली के बेटे सूरज पंचोली को बॉलीवुड में लॉन्च किया था। हालांकि,...

सनी देओल और अमीषा पटेल ने शुरू की गदर 2 की शूटिंग

गदर: एक प्रेम कथा के पार्ट 2 के लिए सनी देओल और अमीषा पटेल 20 साल बाद फिर से एक साथ काम कर रहे...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

ऑनलाइन लर्निंग के दौरान बच्चों को स्वस्थ रखने के लिए अपनाएं ये तरीके

जहां कोरोना के बढ़ते मामलों के कारण कई ऑफिस ने अपने कर्मचारियों को वर्क फ्रॉम होम दे रखा है। वहीं, कई स्कूल ने भी...

नेहा कक्कड़ पर भी चढ़ा फिल्म पुष्प का जादू, रेत पर बैठकर किया डांस

मशहूर सिंगर नेहा कक्कड़ का एक वीडियो इस समय तेजी से वायरल हो रहा है। वैसे नेहा ऐसी सिंगर हैं जिन्हे सोशल मीडिया सेंसेशन...

आरक्षण और योग्यता

नीट पीजी परीक्षा में आरक्षण को दो सप्ताह पूर्व झंडी दे चुके सुप्रीम कोर्ट ने इस फैसले की तार्किक व्याख्या व्यापक संदर्भों में की...

आ गई हस्ताक्षरित अधिकृत कॉंग्रेस की दूसरी सूची, पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत इस सीट से लड़ेंगे चुनाव,

देहरादून:  आज कोंग्रेस ने 11 उम्मीदवारो कि दूसरी सूची जारी कर दी है। पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत रामनगर से औऱ अनुकृति गुसाईं को लैंसडाउन...

छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने मोदी सरकार पर बोला हमला, कहा उत्तराखंड में सरकार बनी तो 500 से कम में देंगे घरेलू गैस...

उत्तराखंड कांग्रेस कमेटी का कैंपेन थीम, कैंपेन सांग और उत्तराखंड स्वभिमान चारधाम, चार काम के विमोचन कार्यक्रम में देहरादून पहुंचे थे भूपेश बघेल देहरादून। छत्तीसगढ़...

जिला सड़क सुरक्षा समिति की हुई बैठक

नई टिहरी। जिला मजिस्ट्रेट व अध्यक्ष जिला सड़क सुरक्षा समिति इवा श्रीवास्तव ने विकास भवन सभागार में जिला सड़क सुरक्षा समिति की बैठक ली।...

खुलासा : अमेरिका के अफगान में छूटे हथियार पकिस्तान को बेच रहा तालिवान

कश्मीर। पाकिस्तानी के आतंकी गिरोह अपने को मजबूत व दहशत फैलाने से कभी चुकते नहीं है। अब खुद को मजबूत बनाने के लिए पाकिस्तानी गिरोह...

गणतन्त्र दिवस से पूर्व सुप्रीम कोर्ट को आया अज्ञात फोन, दिल्ली में कश्मीरी झंडा फहराने की दी धमकी

दिल्ली। गणतंत्र दिवस को लेक सुरक्षा बल और ज्यादा सतर्क हो गया है। सीमाओं पर हो रही आतंकी हलचलों के बाद अब सुप्रीम कोर्ट के...

खुशखबर- 12वीं बाद भारतीय सेना के तकनीकी कोर में शामिल होने के लिए आवेदन शुरू

दिल्ली। भारतीय सेना में शामिल होना हर युवा का सबसे बड़ा सपना होता है। जिसकी तैय्यारी करने में वह जुटा रहता रहता है। युवाओ के...

जोमेटो के गिरते भाव से निवेशको को 26000करोड़ का नुक्सान , पेटीएम के भी कम हुए शेयर

दिल्ली। ऑनलाइन फ़ूड डिलीवर करने में जोमेटो सबी पसंद बना था। लेकिन अब यह घाटा झेलने को मजबूर है।  जुलाई 2021 में सूचीबद्ध होने के...

Recent Comments