Home ब्लॉग प्रगति का मंत्र

प्रगति का मंत्र

निस्संदेह नदियों को जोडऩे वाली परियोजनाएं यदि विस्थापन और पर्यावरणीय चिंताओं से मुक्त हों तो वे सूखे व जीविका के संकट से जूझ रही बड़ी आबादी के लिये वरदान साबित हो सकती हैं। परियोजना सूखे क्षेत्रों में समृद्धि की बयार ला सकती हैं। कभी पूर्व प्रधानमंत्री स्व. अटल बिहारी वाजपेयी की महत्वाकांक्षी नदी जोड़ योजना को तब अमलीजामा पहनाया जा सका जब यमुना की सहायक नदियों केन-बेतवा लिंक परियोजना को अंतत: केंद्रीय मंत्रिमंडल द्वारा हरी झंडी दे दी गई। यह परियोजना यदि समय रहते सिरे चढ़ती है तो दशकों से पानी के संकट से जूझ रहे बुंदेलखंड में हरियाली की बयार आएगी और इस क्षेत्र से होने वाले पलायन पर रोक लगेगी। उम्मीद की जा रही है कि उत्तर प्रदेश व मध्य प्रदेश के 13 जिलों में फैले बुंदेलखंड के लोगों को अगले दशक में हरियाली के चरागाह देखने को मिल सकते हैं।

दरअसल, लंबे समय से यह परियोजना कई बाधाओं का सामना कर रही थी क्योंकि दोनों राज्यों की सरकारें सहमति के आधार नहीं खोज पायी थी। बताया जा रहा है कि इस परियोजना पर करीब 44,605 करोड़ लागत का अनुमान है, जिसमें से अधिकांश राशि केंद्र सरकार से अनुदान के रूप में प्राप्त होगी। दरअसल, केन नदी से बेतवा नदी में जलराशि स्थानांतरित होने से करीब 10.62 लाख हेक्टयर भूमि की सिंचाई हो सकेगी तथा करीब 62 लाख लोगों को पेयजल उपलब्ध कराया जा सकेगा। इसके अलावा परियोजना का लक्ष्य 103 मेगावाट की जलविद्युत परियोजना को अंजाम देना भी है। साथ ही सालाना 27 मेगावाट सौर ऊर्जा पैदा करने में इससे मदद मिलेगी। दरअसल, भारत में नदियों को जोडऩे की पुरानी महत्वाकांक्षी योजना रही है। यदि इतिहास पर नजर डालें तो नदियों को जोडऩे की शुरुआत 19वीं शताब्दी में हो गई थी। लेकिन उल्लेखनीय तथ्य यह है कि शुरुआती परियोजनाओं का लक्ष्य अंतर्देशीय नेगिवेशन के उद्देश्यों को लेकर था। इसी कड़ी में पेरियार परियोजना को सन् 1895 में लागू किया गया था। इस परियोजना के अंतर्गत पेरियार बेसिन, जो आज केरल राज्य में है, से तमिलनाडु के बैगई बेसिन में जल स्थानांतरित किया जाता था।

दरअसल, कालांतर जनसंख्या वृद्धि के चलते यह परियोजना पानी संकट के चलते सिंचाई व पेयजल भंडारण की योजनाओं का आधार बनी। निस्संदेह, आज ग्लोबल वार्मिंग के खतरे के बीच लगातार बढ़ते बाढ़ व सूखे के संकट में ऐसी परियोजनाएं कारगर समाधान प्रतीत होती हैं। दरअसल, इन विशाल परियोजनाओं की लागत, लाभ-हानि का विश्लेषण और लोगों के विस्थापन की चिंता के कारण समय-समय पर ऐसी परियोजनाओं को अमलीजामा पहनाने में संकोच होता रहा है। वहीं राज्यों की नदियों से जुड़ी लोगों की अस्मिता और राजनीतिक कारण भी ऐसी परियोजना को अंतिम रूप देने में बाधक बने हैं। कभी इनका समय आगे बढ़ाया गया तो कभी कदम पीछे खींचे गये। पानी की हिस्सेदारी को लेकर राज्यों में मतभेद भी इसमें बाधक बने हैं। हालिया उदाहरण के रूप में देखें तो दो साल पूर्व महाराष्ट्र सरकार ने पानी के बंटवारे पर असहमति के चलते गुजरात के साथ दो नदी जोड़ परियोजनाओं से हाथ पीछे खींच लिए थे। विडंबना यह है कि राज्य में गुजरात व केंद्र की तरह भाजपा सरकार होने के बावजूद योजना सिरे न चढ़ सकी।

ऐसे में केन-बेतवा परियोजना को केंद्र के सहयोग से उत्तर प्रदेश व मध्य प्रदेश सरकारों द्वारा सिरे चढ़ाना देश के अन्य राज्यों के लिये अनुकरणीय पहल है। जिसका अनुसरण करके अन्य राज्य बड़ी आबादी के जीवन में बड़े बदलाव ला सकते हैं। लेकिन यहां विचारणीय पहलू यह है कि ऐसी बड़ी परियोजनाओं को क्रियान्वित करते वक्त नागरिकों के विस्थापन, पर्यावरणीय चुनौतियों तथा वन्यजीव संरक्षण को प्राथमिकता के आधार पर देखा जाये। इन चिंताओं को दूर करते हुए विकास की राह चुनी जानी चाहिए। कह सकते हैं कि नदियां जुडेंगी, तो देश आगे बढ़ेगा क्योंकि सूखे व पेयजल का संकट देश में पलायन को बढ़ावा देता है। सही मायनो में यह देश की प्रगति का नया मंत्र है, क्योंकि जहां एक बड़े इलाके के लोगों को सूखे-बाढ़ से मुक्ति मिलेगी, वहीं कृषि उत्पादन बढऩे से क्षेत्र व देश में खुशहाली आयेगी।

RELATED ARTICLES

साइबर सुरक्षा में लचर

एक ताजा रिपोर्ट के मुताबिक अब हर महीने हजारों साइबर हमले हो रहे हैं। इसे देखते हुए प्राइवेट सेक्टर में साइबर बीमा एक बड़े...

गुजरात चुनाव में भाजपा का चेहरा नरेन्द्र मोदी

अजय दीक्षित पहली दिसम्बर को गुजरात में पहले चरण का मतदान हुआ । उस दिन देश के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने 70 किलोमीटर का एक...

गलत रास्ता, गलत नतीजा

ब्रेग्जिट के हक में वोट करने वाले हर पांच में से एक व्यक्ति को अब लगता है कि उसका फैसला गलत था। तो अब...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

दो दिवसीय दौरे पर देहरादून पहुंचीं राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू, नौ परियोजनाओं का करेंगी लोकार्पण और शिलान्यास

देहरादून। राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू आज बृहस्पतिवार को दो दिवसीय प्रवास पर देहरादून पहुंच गई हैं। उनके आगमन के दौरान सुरक्षा के कड़े प्रबंध  किए गए।...

हरिद्वार में खेल मंत्री रेखा आर्या ने किया जिला स्तरीय खेल महाकुंभ का शुभारंभ

खेल सिखाता अनुशाशन व टीम भावना-रेखा आर्या खेलों में भी हैं बेहतर भविष्य की संभावनाएं-रेखा आर्या हरिद्वार। आज प्रदेश की खेल एवं युवा कल्याण मंत्री रेखा...

स्पा सेंटर की आड़ में चल रहे जिस्मफरोशी के धंधे का किया पुलिस ने भंडाफोड़

पंतनगर। पुलिस ने एंटी ह्यूमन ट्रैफिकिंग यूनिट के सहयोग से एक स्पा सेंटर में छापा मारकर वहां चल रहे अनैतिक कार्य का भंडाफोड़ किया है।...

उत्तर कोरिया में अमेरिकी फिल्म देखना छात्रों को पड़ा भारी, सरेआम दी गई फांसी

सियोल । उत्तर कोरिया ने दक्षिण कोरियाई और अमेरिकी फिल्में देखने के लिए हाई स्कूल के दो छात्रों को भीड़ के सामने मौत के घाट...

उत्तराखंड सरकार में कैबिनेट मंत्री के निजी सचिव के खिलाफ मुकदमा दर्ज, विदेश दौरे पर गए सतपाल महाराज के किए फर्जी सिग्नेचर, जानिए क्या...

देहरादून। कैबिनेट मंत्री सतपाल महाराज के निजी सचिव आईपी सिंह और पीडब्ल्यूडी के विभागाध्यक्ष अयाज अहमद के खिलाफ डालनवाला थाने में मुकदमा दर्ज किया...

एप्पल म्यूजिक जल्द ही कराओके मोड करेगा रोलआउट  

सैन फ्रांसिस्को। एप्पल म्यूजिक ने ‘एप्पल म्यूजिक सिंग’ नाम से एक नया कराओके मोड शुरू करने की योजना की घोषणा की है। कंपनी ने...

दो दिवसीय प्रवास पर आज देहरादून पहुंचेंगी राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू

देहरादून। राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू आज बृहस्पतिवार को दो दिवसीय प्रवास पर देहरादून पहुंचेंगी। उनके स्वागत की तैयारियां पूरी हो गई हैं। उनके आगमन के दौरान...

सुबह के समय खाली पेट इन 5 पेय का करें सेवन, मिलेंगे कई फायदे

सुबह का खान-पान आपके पूरे दिन के ऊर्जा स्तर पर प्रभाव डालता है। यही कारण है कि पोषण विशेषज्ञ लोगों को सलाह देते कि...

रणबीर की ब्रह्मास्त्र हॉटस्टार पर भारत में सबसे ज्यादा देखी जाने वाली फिल्म बनी

रणबीर कपूर और आलिया भट्ट अभिनीत फिल्म ब्रह्मास्त्र की रिलीज को महीनों बीत चुके हैं, लेकिन रिलीज के बाद भी यह लगातार सुर्खियों में...

दिल्ली के दंगल में दिखा धामी का दम, मुख्यमंत्री ने दिल्ली में जिन तीन सीटों पर किया रोड शो, तीनों पर जीते भाजपा उम्मीदवार

-पर्वतीय बाहुल्य वोटर वाली अधिकांश सीटों पर जीते भाजपाई -मुख्यमंत्री धामी को दिल्ली चुनाव में दी गई थी स्टार प्रचारक की जिम्मेदारी देहरादून। दिल्ली नगर निगम...

Recent Comments