Home अंतर्राष्ट्रीय 25 सितंबर को आमने सामने होंगे भारत पाकिस्‍तान

25 सितंबर को आमने सामने होंगे भारत पाकिस्‍तान

नई दिल्ली। अमरीका के न्यूयार्क शहर में आगामी 25 सितंबर को संयुक्त राष्ट्र महासभा के दौरान सार्क विदेश मंत्रियों की बैठक होगी। इस बैठक में भारत और पाकिस्तान के विदेश मंत्री भी शामिल होंगे। मगर एक ही छत के नीचे एक साथ होने के बाद भी दोनों नेताओं के बीच न तो शिष्टाचार मुलाकात होगी और न ही आपसी बातचीत।

25 सितंबर को होने वाली इस बैठक में भारत की ओर से विदेश मंत्री एस. जयशंकर और पाकिस्तान की ओर से विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी भी शामिल होंगे। लेकिन सूत्रों ने स्पष्ट कर दिया है कि सार्क बैठक के बीच भारत और पाकिस्तान के बीच कोई बातचीत या फिर किसी तरह की मुलाकात नहीं होगी। पिछले साल कोरोना महामारी की वजह से यह बैठक वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए हुई थी।

आधिकारिक सूत्रों की मानें तो सार्क बैठक के दौरान भारत के विदेश मंत्री एस. जयशंकर आतंकवाद मुद्दे पर पाकिस्तान का नाम लिए बिना अपनी चिंता से अवगत कराएंगे। साथ ही, अफगानिस्तान की सत्ता पर तालिबान के कब्जे के बाद सार्क के मंच से विदेश मंत्री भारत का रुख भी स्पष्ट करेगे। इससे पहले, शंघाई सहयोग संगठन यानी एससीओ के शिखर सम्मेलन में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा था कि अफगानिस्तान में सत्ता परिवर्तन और नई व्यवस्था की मान्यता पर फैसला अंतरराष्ट्रीय समुदाय को सोच-समझकर और मिलजुलकर लेना चाहिए। गत 17 सितंबर को आयोजित शंधाई सहयोग संगठन सम्मेलन में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा था कि अफगानिस्तान में सत्ता परिवर्तन बिना बातचीत के हुआ है। यह नई व्यवस्था की स्वीकृति पर सवाल खड़े करता है। प्रधानमंत्री मोदी ने शिखर सम्मेलन को संबोधित करते हुए कहा कि दुनियाभर में कट्टरपंथ तेजी से बढ़ रहा है। अफगानिस्तान में हाल ही में हुई घटनाओं ने इस चुनौती को और बढ़ा दिया है। जिस समय प्रधानमंत्री मोदी अफगानिस्तान के मुद्दे का जिक्र कर रहे थे, तब उस बैठक में पाकिस्तानी प्रधानमंत्री और चीन के राष्ट्रपति भी मौजूद थे।

प्रधानमंत्री मोदी ने अपने संबोधन में कहा कि यदि हम इतिहास पर नजर डालें तो देखते हैं कि मध्य एशिया का क्षेत्र मॉडरेट और प्रोग्रेसिव कल्चर और मूल्यों को गढ़ रहा है। उन्होंने कहा कि सूफीवाद जैसी परंपराएं यहां सदियों से पनपी और पूरे क्षेत्र तथा विश्व में फैली। इनकी छवि हम आज भी इस क्षेत्र की सांस्कृतिक विरासत में देख सकते हैं।

Previous articleवासिंगटन। संक्रामक रोग विज्ञान में संचारी रोगों की रोकथाम के स्तर की परिभाषाएं दी गई हैं। नियंत्रण का अर्थ है वैक्सीन जैसे जनस्वास्थ्य उपायों से किसी बीमारी को संचरण के कम स्तर पर ले आना। इसी प्रकार उन्मूलन से आशय है-क्षेत्र विशेष में रोग संबंधी मामले घट कर शून्य पर पहुंच जाना। समूल नष्ट करने का मतलब है समूची दुनिया में रोग के मामले शून्य पर आ जाना। और रोग के खत्म हो जाने का अर्थ है कि सुरक्षित प्रयोगशालाओं में बचे जीवाणु के अंश भी नष्ट हो गए। 1979 में चेचक रोग दुनिया में समूल नष्ट हुआ था। इसका कारण केवल वैक्सीन नहीं थी, बल्कि इसके लक्षण इतने स्पष्ट थे कि इन्हें पहचानना आसान था। इसका संक्रमण कुछ अवधि के लिए ही रहता था। साथ ही एक बार संक्रमण होने पर व्यक्ति में जिंदगी भर के लिए इसके प्रति रोग प्रतिरोधक क्षमता आ जाती थी। खसरा कभी समूल नष्ट नहीं किया जा सका। अत्यधिक संक्रामक श्वसन संबंधी यह वायरस 1963 में तब नियंत्रण में आया, जब इसकी वैक्सीन बनी। अमरीका में वैक्सीन लगवाने वालों की संख्या अत्यधिक रही, जिससे इसका तकनीकी रूप से उन्मूलन हो गया। कोविड-19 वायरस का अंत चेचक या खसरे जैसा नहीं होगा। अत्यधिक संक्रामक होने के साथ ही इसमें ऐसे लक्षण हैं, जो अन्य श्वसन संबंधी संक्रमण से मिलते-जुलते हैं। साथ ही एसिम्प्टोमैटिक मरीज लक्षण आने से पहले भी दूसरे को संक्रमित कर सकते हैं। जैसे-जैसे वैक्सीन लग रही है, वैसे-वैसे वायरस नियंत्रित हो रहा है। धीरे-धीरे यह वायरस स्थानीय बीमारी में बदल जाएगा। मतलब यह फैलेगा तो सही, लेकिन क्षेत्र विशेष में और काफी कम दर पर। जैसे इन्फ्लुएंजा या राइनोवायरस से सर्दी जुखाम होता है, ये मौसमी बीमारियां हो सकती हैं। आमतौर पर ये महामारी के स्तर तक नहीं फैलतीं। चूंकि वैक्सीन कोविड-19 की रोकथाम में प्रभावी है। वैक्सीन से बनी एंटीबॉडी स्वत: समाप्त हो जाती हैं, लेकिन शरीर में बी कोशिकाओं के तौर एक स्मृति विकसित होती है, जो वायरस या उसके वैरिएंट को दोबारा देखने पर एंटीबॉडी पैदा करती हैं। ये बी कोशिकाएं शरीर में लंबे समय तक रहती हैं। 2008 में नेचर के एक अध्ययन के मुताबिक 1918 के इन्फ्लुएंजा से जंग जीतने वालों में नब्बे साल बाद भी प्रतिरोधी बी कोशिकाएं सक्रिय पाई गईं। वैक्सीन से मानव शरीर को मिलने वाली टी कोशिकाएं भी गंभीर रोगों से बचाती हैं और ये वैरिएंट पर भी कारगर हैं। चूंकि वायरस का संचरण जारी है, ऐसे में बुजुर्गों और कम प्रतिरोधक क्षमता वाले लोगों को बूस्टर शॉट देने की जरूरत होगी। तो कोविड-19 का आम बीमारी वाला स्वरूप क्या होगा? अगर हम दुनिया भर में वायरस का संचरण निम्नतम स्तर पर ले आएं और वैक्सीनेशन से उसकी गंभीर रोग देने की क्षमता कम कर दें, तो दुनिया सच में पहले जैसी सामान्य हो जाएगी। फिर संक्रमण वहां फैलेगा,जहां लोग वैक्सीन नहीं लगवाना चाहते, जैसा खसरा रोग में हुआ। वैक्सीन की अनिवार्यता वैक्सीन लेने वालों की संख्या बढ़ा सकती है। इस तरह वैक्सीन के साथ स्वाभाविक रूप से आई रोग प्रतिरोधक क्षमता कोविड-19 को भी उसी तरह काबू में कर लेगी, जैस अन्य श्वास संबंधी वायरस को काबू में किया गया। भविष्य में अस्पतालों में श्वसन रोगियों की जांच में कोविड-19 जांच शामिल हो जाएगी, मरीज को आउटडोर में सर्दी-जुकाम वाले मरीज की तरह ही दवाएं दी जाएंगी। कोविड-19 कितना भी जटिल वायरस क्यों न हो, एक सत्य यह भी है कि कोई भी वायरस एक सीमा के बाद नए वैरिएंट विकसित नहीं कर सकता। एचआइवी एड्स के मामले में हम यह देख चुके हैं।
Next articleचकराता विधानसभा के इस गांव में 12 साल बाद पहुंची बस, ग्रामीण बोले जिलाधिकारी हो तो राजेश कुमार जैसा
RELATED ARTICLES

सोने की सबसे बड़ी चोरी में पुलिस को सफलता, पंजाबी युवक समेत छह आरोपी गिरफ्तार

ब्रैंपटन। एयर कनाडा के कार्गो सुविधा केंद्र से पिछले वर्ष हुई सोने और विदेशी मुद्रा (दोनों 1.6 करोड़ डालर) की चोरी के मामले में...

रेगिस्तानी मुल्क में बाढ़ जैसे हालात, बारिश से पानी-पानी हुआ दुबई

सडक़ों, घरों और मॉल में भरा पानी दुबई ।  संयुक्त अरब अमीरात के कई हिस्सों में भारी बारिश होने से हालात भयावह नजर आए।...

अफगानिस्तान में बाढ़ से मरने वालों की संख्या हुई 50

इस्लामाबाद। देश के राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन प्राधिकरण ने बताया कि अफगानिस्तान में पिछले चार दिनों में भारी बारिश के कारण आई बाढ़ में कम...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

दिल्ली में भगवान राम की तस्वीर वाली प्लेटों में परोसी गई बिरयानी, पुलिस ने लिया ये बड़ा एक्शन

नई दिल्ली।  जब भी कभी आप स्ट्रीट फूड खाते होंगे तो खाना परोसे जाने वाली प्लेट में कम ही ध्यान देते होंगे। लेकिन इस...

मुख्य सचिव राधा रतूड़ी ने जंगलों में आग लगाने वालों के खिलाफ सख्त कार्रवाई के दिए निर्देश 

वनाग्नि की अधिक घटनाएं होने वाले गांवों की सूची करें तैयार- मुख्य सचिव  देहरादून। मुख्य सचिव राधा रतूड़ी ने जंगलों में आग लगाने वाले लोगों...

मोदी राज में विश्व में फहरा रही है सनातन धर्म की पताका- महाराज

पंचायतीराज मंत्री ने देशवासियों को दी पंचायती दिवस की शुभकामनाएं दुर्ग (छत्तीसगढ़)/देहरादून। भाजपा के स्टार प्रचारक और उत्तराखंड के पंचायतीराज, ग्रामीण निर्माण, लोक निर्माण,...

आईपीएल 2024 के 40वे मैच में आज दिल्ली कैपिटल्स से होगी गुजरात टाइटंस की भिड़त

दिल्ली के अरुण जेटली स्टेडियम में होगा मुकाबला  नई दिल्ली।  आईपीएल 2024 का 40वां मैच दिल्ली कैपिटल्स और गुजरात टाइटंस के बीच खेला जाएगा। यह...

‘मतदाता वोट करने से पहले दो बार जरूर सोचें…’- प्रियंका गांधी

नई दिल्ली।  कांग्रेस की वरिष्ठ नेता प्रियंका गांधी ने कर्नाटक में एक जनसभा को संबोधित करते हुए भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) पर निशाना साधा।...

सिंघम अगेन का नया पोस्टर रिलीज, धांसू अंदाज में दिखी लेडी सिंघम दीपिका पादुकोण

रोहित शेट्टी के कॉप यूनिवर्स की पांचवी फिल्म सिंघम अगेन पिछले लंबे समय से चर्चा में बनी हुई है. फैंस इस मल्टीस्टारर फिल्म का...

सपा के गढ़ में मुख्यमंत्री योगी जनसभा को करेंगे संबोधित, इस तारीख को पहुचेंगे जसवंतनगर 

चार मई को मैनपुरी नगर में करेंगे जनसभा  कार्यक्रमों को सफल बनाने के लिए तेजी से तैयारी में जुटी भाजपा  मैनपुरी। सपा का गढ़ कही जाने...

महंगाई का झटका- प्रदेश में बिजली के दामों में 8 से 11 प्रतिशत तक बढ़ोतरी की संभावना

देहरादून।  प्रदेश में बिजली के दामों में 8 से 11 प्रतिशत तक बढ़ोतरी की संभावना है। यूपीसीएल ने 23 से 27 प्रतिशत बढ़ोतरी मांग...

पांव में पाउडर लगाकर सॉक्स पहनने से क्या पैरों को मिलता है आराम?

गर्मियों के दिनों में लोगों को पांव में मोजे पहनने से काफी दिक्कत होती हैं. कई लोग पैरों में फुंसियां, जलन जैसी चीजों से...

आज भारतीय वन सेवा परिवीक्षार्थियों के दीक्षांत समारोह में बतौर मुख्य अतिथि शामिल होंगी राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू 

देहरादून। इंदिरा गांधी राष्ट्रीय वन अकादमी का 54वां आरआर (2022-24 प्रशिक्षण पाठ्यक्रम) के भारतीय वन सेवा परिवीक्षार्थियों का दीक्षांत समारोह बुधवार को आयोजित किया...

Recent Comments