Home उत्तराखंड उत्तराखंड के जंगल उत्सर्जित कार्बन को सोखने में बेहद कारगर: आईआईआरएस

उत्तराखंड के जंगल उत्सर्जित कार्बन को सोखने में बेहद कारगर: आईआईआरएस

देहरादून।  इंडियन इंस्टीट्यूट आफ रिमोट सेंसिंग देहरादून के विज्ञानियों के शोध में इसकी पुष्टि हुई है कि उत्तराखंड के जंगल उत्सर्जित कार्बन को सोखने में बेहद कारगर हैं। प्रदेश और देश के लिए यहां के जंगल कार्बन सिंक की तरह काम कर रहे हैं। इन जंगलों के आधार पर देश संयुक्त राष्ट्र जैसे मंच पर पर्यावरण संरक्षण के अपने लक्ष्यों को मजबूती से पेश करने के साथ पारिस्थितिक मुआवजा भी हासिल कर सकता है। आईआईआरएस के विज्ञानी पिछले दस साल से उत्तराखंड के वनों की कार्बन उत्सर्जन एवं अवशोषण क्षमता पर शोध कर रहे हैं।

शोध के पहले चरण में विज्ञानियों ने देहरादून में जौलीग्रांट के समीप बडक़ोट रेंज और हल्द्वानी में तराई केंद्र वन प्रभाग में दो कार्बन फ्लक्स टावर (कार्बन प्रवाह टावर) लगाए हैं। इनकी मदद से दोनों वन क्षेत्रों में कार्बन उत्सर्जन एवं अवशोषण की क्षमता मापी जा रही है। शोध की अगुआई कर रहे आईआईआरएस  के वन एवं पारिस्थितिक विभाग के अध्यक्ष डा. हितेंद्र पड़लिया ने बताया कि वर्ष 2009 में शुरू हुई राष्ट्रीय कार्बन परियोजना के तहत यह शोध चल रहा है। इस प्रोजेक्ट का नाम कार्बन सीक्वेटे्रेशन पोटेंशियल आफ हिमालयन फोरेस्ट है। दून में लगा टावर 5730.33 किलोमीटर स्क्वायर आद्र्र पर्णपाती वन और हल्द्वानी में लगा टावर 2784.56 किलोमीटर स्क्वायर तराई वन का डाटा एकत्रित करने में मददगार साबित हो रहा है।

अब तक के शोध में यह जानकारी सामने आई है कि दोनों ही क्षेत्रों के वन बिल्कुल भी कार्बन उत्सर्जन नहीं करते, बल्कि हर वर्ष दून के वन प्रति एक मीटर स्क्वायर में 750 ग्राम और हल्द्वानी के वन प्रति एक मीटर स्क्वायर में 480 ग्राम कार्बन सोख रहे हैं। यह आंकड़ा श्वसन, जंगल की आग व अन्य हानियों के बाद का है। डा. पड़लिया ने बताया कि गंगा के मैदान समेत कई अन्य क्षेत्रों में वनों की कमी के चलते कार्बन उत्सर्जन हो रहा है। ऐसी जगहों पर मिश्रित वन तैयार करने की जरूरत है, वरना आने वाले समय में जलवायु में परिवर्तन और तेजी से होगा। शोध में मृदा विज्ञानी डा. एनआर पटेल, डा. सुब्रतो नंदी समेत अन्य लोग काम कर रहे हैैं।

डा. हितेंद्र पड़लिया ने बताया कि पेड़-पौधों की कार्बन सोखने की क्षमता उनकी सेहत पर निर्भर करती है। अगर पत्तियां हरी हैं और पेड़ बूढ़े नहीं हैं, तब तो वह अपने आसपास से कार्बन अवशोषण करते हैं। जबकि, यह सब नहीं होने पर कार्बन उत्सर्जन को बढ़ावा देते हैं। इसलिए जरूरी है कि सभी वनों की निगरानी हो। समय-समय पर वनों में मिश्रित रूप से पौधों का रोपण किया जाए। बताया कि कार्बन सोखने में मौसम भी विशेष योगदान निभाता है। शोध में यह भी सामने आया है कि बरसात के मौसम में पेड़-पौधों की कार्बन सोखने की क्षमता बढ़ जाती है, जबकि सर्दियों में घट जाती है।

RELATED ARTICLES

आज हेमकुंड साहिब के लिए ऋषिकेश से रवाना हुआ श्रद्धालुओं का पहला जत्था

25 मई को खुलेंगे हेमकुंड साहिब के कपाट राज्यपाल लेफ्टिनेंट जनरल गुरमीत सिंह ने श्रद्धालुओं के जत्थे को किया रवाना ऋषिकेश। हेमकुंड साहिब गुरुद्वारा ऋषिकेश से...

एफपीपीसीए नियम के तहत बिजली के बिल में छह पैसे प्रति यूनिट की होगी बढ़ोतरी

इसी माह से की जाएगी बिजली के बिल में बढ़ोत्तरी  पूरे देश में लागू है एफपीपीसीए का यह नियम  देहरादून। बिजली के दामों के माहवार...

1 जुलाई से देशभर में लागू होने वाले तीन नए आपराधिक कानूनों के लिए उत्तराखंड पूरी तरह तैयार, जानिए क्या है यह तीन कानून  

 20 जून तक पूरे हो जाएंगे कानूनों की जानकारी के संबंध में सभी प्रशिक्षण देहरादून। पहली जुलाई से देशभर में लागू होने वाले तीन नए...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

आज हेमकुंड साहिब के लिए ऋषिकेश से रवाना हुआ श्रद्धालुओं का पहला जत्था

25 मई को खुलेंगे हेमकुंड साहिब के कपाट राज्यपाल लेफ्टिनेंट जनरल गुरमीत सिंह ने श्रद्धालुओं के जत्थे को किया रवाना ऋषिकेश। हेमकुंड साहिब गुरुद्वारा ऋषिकेश से...

आईपीएल 2024- एलिमिनेटर मुकाबले में आज रॉयल चैलेंजर्स बैंगलुरु से भिड़ेगी राजस्थान रॉयल्स

अहमदाबाद। आईपीएल 2024 के एलिमिनेटर मैच में रॉयल चैलेंजर्स बैंगलुरु की भिड़ंत राजस्थान रॉयल्स के साथ है। यह मुकाबला अहमदाबाद के नरेंद्र मोदी स्टेडियम...

एफपीपीसीए नियम के तहत बिजली के बिल में छह पैसे प्रति यूनिट की होगी बढ़ोतरी

इसी माह से की जाएगी बिजली के बिल में बढ़ोत्तरी  पूरे देश में लागू है एफपीपीसीए का यह नियम  देहरादून। बिजली के दामों के माहवार...

मोदी राज में भारतीय सेना और सीमा दोनों ही सशक्त और सुरक्षित हुए- अनुराग ठाकुर

शिमला। केंद्रीय सूचना एवं प्रसारण और युवा एवं खेल मामलों के मंत्री अनुराग सिंह ठाकुर ने  हमीरपुर संसदीय क्षेत्र में जनसंपर्क अभियान के दौरान...

1 जुलाई से देशभर में लागू होने वाले तीन नए आपराधिक कानूनों के लिए उत्तराखंड पूरी तरह तैयार, जानिए क्या है यह तीन कानून  

 20 जून तक पूरे हो जाएंगे कानूनों की जानकारी के संबंध में सभी प्रशिक्षण देहरादून। पहली जुलाई से देशभर में लागू होने वाले तीन नए...

फिल्म मिस्टर एंड मिसेज माही का दूसरा गाना ‘अगर हो तुम’ जारी, जाह्नवी कपूर और राजकुमार राव की दिखी खूबसूरत केमिस्ट्री

फिल्म मिस्टर एंड मिसेज माही की रिलीज का काउंटडाउन शुरू हो गया है। जान्हवी कपूर और राजकुमार राव अभिनीत रोमांटिक स्पोर्ट्स ड्रामा इस महीने...

दिव्यांग विद्यार्थियों को परीक्षा में मिलेगा अतिरिक्त समय

श्रुत लेखक की भी ले सकेंगे मदद, सरकार ने दी मंजूरी शिक्षा मंत्री डा. रावत ने कहा, दिव्यांग छात्रों को मिलेगी सभी सुविधाएं देहरादून। राज्य सरकार...

हद से ज्यादा आम खाना सेहत के लिए हो सकता है नुकसानदायक

गर्मियों का मौसम आते ही स्वादिष्ट और रसीले फल मैंगो लवर्स की एक्साइटमेंट देखने लायक होती है. फलों का राजा आम अपनी खास तरह...

कैबिनेट मंत्री गणेश जोशी ने मनोज तिवारी की चुनाव रणनीति को दिया फाइनल टच 

नई दिल्ली/ देहरादून। कैबिनेट मंत्री गणेश जोशी ने उत्तर पूर्वी दिल्ली लोकसभा सीट से भाजपा प्रत्याशी मनोज तिवारी के प्रस्तावित कार्यक्रमों के संबंध में...

जेजेपी को वोट देने का मतलब अपने वोट को खराब करना- सीएम धामी

खट्टर के नेतृत्व में हरियाणा बहुत आगे बढ़ा- सीएम पानीपत/ देहरादून। उत्तराखण्ड के सीएम पुष्कर सिंह धामी ने करनाल से भाजपा प्रत्याशी मनोहर लाल खट्टर...

Recent Comments