Home ब्लॉग मंजि़लो के गम में रोने से मंजिलें नहीं मिलती

मंजि़लो के गम में रोने से मंजिलें नहीं मिलती

जगदीश सिह सम्पादक
देश के बदलते वातावरण में लगातार सियासी वादा का चीर हरण हो रहा है। लोकतन्त्र के आसमान पर वादा फरोशी के बादल उमड़ घुमड़ रहे हैं। जहां बरस रहे हैं वहां सिर्फ बर्बादी का नजारा देखने को मिल रहा है! जनमत से नही ताल तिकड़म से कमल खिल रहा ह?।बिपक्षी यही दुष्प्रचार कर जनता को गुमराह कर रहे हैं? जगह जगह झंझावात करती हवा में इलेक्शन के समय भयंकर रियेक्सन हो रहा है।कहा तो जा रहा है आने वाली बहुमत की सरकार है! मगर इस बार कौरव सेना कर रही भयंकर हूंकार है।

राम रहीम की धरती पर बैमनश्यता की फसल लहलहा रही है! कश्मीर से कन्या कुमारी तक अदृश्य सरस्वती के तरह उन्मादी शक्तियां प्रवाहित हो रही है! समय समय पर उनका प्रादुर्भाव होता रहा है?आजाद भारत के स्वाभिमान के तिजारत में लगी सियासी पार्टीयां मन माफिक वरासत के आस में दिन रात इसी तरह के आसुरी शक्तियों से हाथ मिलाकर देश में विखन्डन का बीज बोती रही है! आज उसी कड़ी के देश द्रोहीयो को सबक सिखाने का काम अदालतें कर रही है! गुजरात में आज से एक दशक पहले देश को थरथराने का काम करने वालों को फांसी की सजा मुकर्रर कर दी गयी है?देश का हर नागरिक जानता है यह सोच समाज के उस वर्ग का है जिसका

विखन्डन में अटूट विश्वास है!वही दुसरी तरफ एक वर्ग सोच के समन्दर आस्था की लहरों से खेल रहा है।यह सच है इधर एक दशक से बृहद भारत का पुरातन नक्सा दिखने लगा है! आतंक की खेती करने वाली जमात के आकाओं पर कानून का शिकंजा कसा तो इनका सारा समाज सिसकने लगा है! कश्मीर की तकदीर में खुशहाली आयी! तो देश के नसीब में सदियों बाद अयोध्या मे राम राज वाली दीवाली आयी! बदलाव के बहाव में ठहराव समभाव लिये ब्यवस्था के परिसीलन मे आस्था के पुल से गुजरा तो हलचल मच गया! सम्भावनाओ के बाजार में समरसता का सूचकांक तेजी उछाल मारने लगा।

काशी विश्वनाथ कारीडोर निर्माण के समय बिन मांगे बगल की मस्जिद मे अवैध रुप से कब्जाई गई जमीन वापस मिल! न कोई सियासत न विरासत न किसी ने दिखाई टकराने की हिमाकत हर काम में शराफत न कोई दंगा न फसाद यही तो दस वर्षों में मिला है सनातनी समाज को अमृत तुल्य प्रसाद? विकृत हो चुकी ब्यवस्था में जब केवल विषमता के जहरीले तालाबो का सत्तर साल तक निर्माण होता रहा!उसको पाटने में समय तो लगेगा ही।अपराधियो! माफियाओं! का साम्राज्य खतम हो रहा है!जेल की सलाखों में उनके जिन्दगी का आखरी सफर पूरा हो रहा है!

बीबीसी के विख्यात पत्रकार मार्क टुली नें ब्यान दिया है, कि “मोदी इस देश के उस बडे बरगद को उखाड़ कर गिरा रहे हैं!जिसमें वर्षों से विषैले कीड़े लगे हुए हैं ! इसके लिए उन्हे लगातार महा संघर्ष करना होगा !मोदी नें देश में छुपे सारे जहरीले नागों के बिल में एक साथ हाथ डाल दिया है?, इसी लिये ये विषैले नाग एक साथ हमलावर होकर फूफकार रहें हैं,! आतंकी, वामपंथी जेहादी, नक्सली, धर्म परिवर्तन कराती मिशनरी पत्थर बाजों, दंगाईयों सहित हर तरह के नागों को कांग्रेस अपने पीटारे में पालती रही है! उसका खामियाजा भी जान गंवा कर भुगतती रही है?

अपना वजूद बचाने के लिये आज मशक्कत कर रही है!समय के साथ इन नागों को नाथने के लिये शानदार सपेरा मिल गया!जिसके बीन के धुन पर आज ये जहरीले नाग नाच रहे हैं या बिल में छिप कर जिन्दगी की सलामती की दुआ मांग रहे हैं।जिस तरह सियासी नागों की तमाम प्रजातियां समय समाज में फब्तियां कस रही थी! आनें वाले समय में इस धरा के सद्भाव को निगल जाती। आनें वाली नश्लो के पास एक विकृत विषमता घुटन पैदा करता समाज रह जाता! आज देश के परिवेश में परिवर्तन का खेल शुरु है! पांच राज्यों में चुनाव चल रहा है।

सारे सियासी महारथी कमल को उखाड़ फेंकने के लिये एक साथ हमलावर है!एक साथ हो गये सारे कद्दावर है! खास कर यूपी में योगी सरकार को दरकिनार करने के लिये विदेशी ताकतें भी नजर लगाये हुये है।तीसरे चरण का भी चुनाव सम्पन्न हो गया ! अटकल साथीयों का बाजार गर्म है! किन्तु परन्तु के बीच मतदाता इस बार कहीं नहीं कर रहा है तकरार! वह जान चुका है किसकी बनेगी सरकार!जमकर कर रहा है मतदान चला रखा है आसुरी शक्तियों को उखाड़ फेंकने का अभियान !अपनें लिये नहीं, बल्कि आनें वाली पीढियों और भारत के उज्जवल भविष्य के लिए हर कदम सोचकर उठा रहा है!परिणाम क्या होगा! यह तो समय बतायेगा!

अभी तो देश के परिवेश में फैले जहरीले दरख्तो को काटा जा रहा तो बिरानी नजर आ रही! हल्ला मच गया है! जब हरियाली के लिये बट बृक्ष वजूद में आयेगे तब छाया का अहसास होगा!हर तरफ खुशहाली होगीएक दुसरे में बिश्वास बढ़ेगा?योगी सरकार के कारनामों के साथ बिपक्ष उसके सापेक्ष उनसे बेहतर ब्यवस्था के ऐलान के साथ मतदान का आह्वान कर रही है देखना है इस बार किसकी बनती है सरकार! राष्ट्रवादी वजूद में आते हैं या जातिवादी!

RELATED ARTICLES

मानव बुद्धि: पहले पंखज्फिर पिंजरे!

हरिशंकर व्यास त्रासद सत्य है जो पृथ्वी के आठ अरब लोग अपना स्वत्व छोड़ते हुए घोषणा करते हैं कि हम फलां-फलां बाड़े (195 देश) के...

सबको पसंद है राजद्रोह कानून

अजीत द्विवेदी भारतीय दंड संहिता की धारा 124ए यानी राजद्रोह कानून पर सुप्रीम कोर्ट का फैसला ऐतिहासिक है लेकिन यह अंतिम जीत नहीं है। यह...

विश्व-विमर्श श्रीलंका : सियासत, विक्रमसिंघे और कांटों का ताज

डॉ. सुधीर सक्सेना अपरान्ह करीब पौने दो बजे कोलंबो से वरिष्ठ राजनयिक व वकील शरत कोनगहगे ने खबर दी-‘रनिल विक्रमसिंघे सायं साढ़े छह बजे श्रीलंका...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

“मोक्ष” पर सियासत जारी, राजीव महर्षि ने लगाया भाजपा पर सनातन धर्म के अपमान का आरोप

देहरादून। चारधाम यात्रा पर लोग मोक्ष प्राप्ति के लिये आते हैं बयान के बाद उत्तराखंड की सियासत में उबाल है। भाजपा प्रवक्ता के बयान...

बद्रीनाथ हाईवे हनुमानचट्टी के बलदोड़ा में पत्थर गिरने से मार्ग हुआ अवरुध्द, विभिन्न स्थानों पर ठहरे यात्री

देहरादून। चमोली में बीती देर रात को तेज बारिश के चलते बद्रीनाथ राष्ट्रीय राजमार्ग के हनुमानचट्टी से आगे बलदोड़ा में चट्टान से पत्थर गिरने और...

शिक्षा विभाग में अपनी ढपली अपना राग, चहेतों के लिए एक्ट दरकिनार, बीमार शिक्षक कर रहे तबादलों का इंतजार

देहरादून। शिक्षा विभाग में शून्य सत्र के बावजूद पूरे साल तबादलों एवं शिक्षकों की संबद्धता का खेल चलता रहा, लेकिन बीमार शिक्षक तबादले का...

चारधाम यात्रा :- केदारनाथ और यमुनोत्री धाम में 31 मई तक पंजीकरण फुल, अब तक 2 लाख से अधिक श्रद्धालु कर चुके दर्शन

देहरादून। केदारनाथ और यमुनोत्री धाम में दर्शन करने के लिए 31 मई तक वहन क्षमता के अनुसार पंजीकरण फुल हो चुके हैं, जबकि बदरीनाथ...

विदेशी मुद्रा भंडार 1.8 अरब डॉलर घटकर 595.9 अरब डॉलर पर

मुंबई ।  देश का विदेशी मुद्रा भंडार 06 मई को समाप्त सप्ताह में लगातार नौवें सप्ताह गिरता हुआ 1.8 अरब डॉलर कम होकर 595.9 अरब...

जानिए गर्मी में दिन में कितनी बार धोना चाहिए चेहरा, बनी रहेगी नमी

गर्मी में ताजगी बने रहने के लिए लोग दिन में कई बार चेहरा धोते हैं। कुछ लोगों को लगता है कि बार-बार फेस वॉश...

जॉन अब्राहम की फिल्म अटैक : पार्ट-1 27 मई को रिलीज के लिए तैयार

अभिनेता जॉन अब्राहम की साइंस-फिक्शन एक्शन फिल्म अटैक: पार्ट 1 ओटीटी प्रीमियर 27 मई से शुरु होगा। अटैक पहली भारतीय सुपर सैनिक फिल्म है,...

मानव बुद्धि: पहले पंखज्फिर पिंजरे!

हरिशंकर व्यास त्रासद सत्य है जो पृथ्वी के आठ अरब लोग अपना स्वत्व छोड़ते हुए घोषणा करते हैं कि हम फलां-फलां बाड़े (195 देश) के...

दिल्ली से आए तीन ‌दोस्त बोले आसानी से मिली सुविधाओं ने केदारनाथ धाम यात्रा को बनाया आसान

देहरादून। दिल्ली से आए तीन ‌दोस्तों की श्री केदारनाथ धाम की यात्रा और भी आसान तब हो गई जब उन्हें आसानी से सभी सुविधाएं...

अवैध खनन एवं खनन के अवैध परिवहन पर राजस्व विभाग एवं सम्बन्धित विभागों की छापेमारी

देहरादून। माननीय मुख्यमंत्री उत्तराखंड सरकार पुष्कर सिंह धामी द्वारा अवैध खनन पर कड़ी कार्रवाई करने के निर्देश दिए गए हैं। माननीय मुख्यमंत्री  द्वारा दिए...

Recent Comments