Home ब्लॉग बचपने बिन बचपन

बचपने बिन बचपन

साधना वैद

समस्या गंभीर है और गंभीर परिणाम भुगतने पड़ सकते हैं। ऐसा क्यों है कि बच्चों में मासूमियत और बचपना गुम होता जा रहा है। समस्या का सबसे पहला कारण है संयुक्त परिवारों का टूटना। पहले जब समाज की बुनियाद संयुक्त परिवार पर टिकी हुई थी बच्चों के सामने कभी अकेले रहने की समस्या ही नहीं आती थी। दादी, बाबा की कहानियां सुनते उनके साथ बोलते-बतियाते बच्चे सदैव प्रसन्न रहते और उनके अन्दर सामाजिकता और सद्गुणों का खूब विकास होता। दादी-नानी कहानियों के साथ-साथ खूब पहेलियां भी पूछतीं, जिनसे बच्चों का बौद्धिक विकास भी होता और मनोरंजन भी। लेकिन संयुक्त परिवारों के टूटने से अब यह सब कहां? बच्चों को घर में खुल कर हंसते-चहकते हुए देखना अब बहुत ही विरल वस्तु हो गयी है।

दरअसल, माता-पिता बच्चों की सुरक्षा के प्रति इतने सचेत हो गए हैं कि अब पार्क में खेलने वाले बच्चों के समूह कम ही देखने को मिलते हैं। इसकी भरपाई के रूप में माता-पिता उन्हें वीडियो गेम्स दिला देते हैं या महंगे वाले मोबाइल फोन दिला देते हैं। इससे बच्चे एकान्तप्रिय होते जाते हैं। एक तो वैसे ही आजकल के बच्चे अकेले रहना पसंद करने लगे हैं उस पर कोरोना की इस आपदा ने बच्चों को बिल्कुल अकेला कर दिया। जब इतनी छोटी-सी उम्र में बच्चे ऐसी वर्जित बातों की तरफ आकृष्ट होने लगेंगे तो उनमें बचपना, मासूमियत और भोलापन कहां रह जाएगा।

बच्चों में सुसाहित्य के प्रति कम होती रुचि भी इसका एक बड़ा कारण है। बच्चों की पत्रिकाएं अब कहां इतनी लोकप्रिय रह गयी हैं। हमारे समय में नंदन, चंपक, पराग जैसी कई पत्रिकाएं आती थीं, जिसमें मनोरंजन, ज्ञान आदि सब कुछ होता था। आज या तो बच्चों की पत्रिकाएं आती ही नहीं, आती हैं तो मां-बाप के साथ-साथ बच्चों का भी उनके प्रति कोई लगाव नहीं है।

उधर, मनोरंजन के दूसरे साधन टेलीविजन का भी हाल बुरा है। चैनल तो हजारों हैं, लेकिन ढंग की सामग्री गिने-चुने ही देते हैं। टेलीविजन पर भी ज्यादातर सीरियल बेतुके आते हैं। ऊटपटांग डायलॉग और अजीब-सा पारिवारिक माहौल दिखाया जाता है इन सीरियल्स में। जब हमने इसे ही मनोरंजन का पर्याय समझ लिया है तो फिर बच्चों के मन से मासूमियत को खरोंच कर फेंकने का इलज़ाम हम किस पर थोपें। हमें खुद अपनी सोच, अपने व्यवहार और अपनी महत्वाकांक्षाओं का आकलन नए सिरे से करना होगा कि अपनी इच्छाओं की पूर्ति के लिए हम अपने बच्चों के जीवन से किस तरह से खिलवाड़ कर रहे हैं। क्या यह वास्तव में उचित है?

RELATED ARTICLES

मनुष्य का किंगडम एनिमेलिया!

हरिशंकर व्यास पृथ्वी के ह्यूमन बाड़े मतलब पशुवाद और पशुताएं। बाड़ों में वैयक्तिक तौर पर बिना व्यक्तित्व के व्यक्ति वक्त काटता है। अधिकतम लोग बिना...

खाद्य सुरक्षा बनाम किसान का हित

अजीत द्विवेदी केंद्र सरकार ने गेहूं के निर्यात पर पाबंदी लगाई तो खाद्य सुरक्षा बनाम किसान के हित की सनातन बहस फिर छिड़ गई। निर्यात...

गेहूं बना सिरदर्द

वेद प्रताप वैदिक अभी महिना भर पहले तक सरकार दावे कर रही थी कि इस बार देश में गेहूं का उत्पादन गज़ब का होगा। उम्मीद...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

25 मई तक चारधाम यात्रा रजिस्ट्रेशन बंद, तीर्थ यात्रियों की बढ़ी मुश्किलें

हरिद्वार। उत्तराखंड सरकार ने चारधाम यात्रा के लिए किए जा रहे पंजीकरण को 25 मई तक बंद कर दिया है। सरकार चारों धामों में...

पूर्व डीजीपी के उपान्यास का लोकार्पण, पत्नी एसीएस राधा रतूड़ी ने गाया मांगल गीत

देहरादून। मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने शनिवार को सर्वे चौक स्थित आईआरडीटी सभागार में आयोजित कार्यक्रम में उत्तराखंड के पूर्व  पुलिस महानिदेशक अनिल रतूड़ी...

राज्यपाल ने आज सेंट जोसेफ एकेडमी के अलंकरण समारोह में किया प्रतिभाग

देहरादून। राज्यपाल लेफ्टिनेंट जनरल गुरमीत सिंह ने शनिवार को सेंट जोसेफ एकेडमी के अलंकरण समारोह में बतौर मुख्य अतिथि प्रतिभाग किया। उन्होंने युवा छात्रों को...

नहीं थम रहा चारधाम यात्रियों की मौत का सिलसिला, 18 दिन में हो चुकी है 54 यात्रियों की मौत

देहरादून। चारधाम यात्रा में हृदयगति रुकने से यात्रियों की मौत का सिलसिला नहीं थम रहा है। एक दिन पहले शुक्रवार को केदारनाथ व बदरीनाथ में...

केदारनाथ हैलीकॉप्टर यात्रा सेवा देने के नाम पर धोखाधड़ी करने वाला गिरोह हुआ गिरफ्तार

देहरादून। चारधाम हैली टिकट बुकिंग के नाम पर धोखाधड़ी करने वाले साइबर अपराधियों के खिलाफ उत्तराखंड पुलिस की स्पेशल टास्क फोर्स ने बड़ी कार्रवाई की...

राष्ट्रपति पुतिन का दावा- पश्चिमी देशों की ओर से हो रहे हैं साइबर हमले

रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने कहा कि यूक्रेन पर सैन्य कार्रवाई के मद्देनजर उनके देश को पश्चिम की ओर से साइबर हमलों का...

बिना ATM कार्ड के निकाल सकेंगे पैसा RBI ने किया नया नियम लागू

अब आप किसी भी बैंक एटीएम (Bank ATM) से बिना कार्ड के पैसा निकाल पाएंगे। रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया (RBI) ने बिना कार्ड के...

ज्ञानवापी विवाद:- सुप्रीम कोर्ट ने Places of Worship Act पर कही बड़ी बात, कैसे हिंदू पक्ष के लिए राहत

नई दिल्ली। सुप्रीम कोर्ट ने ज्ञानवापी मस्जिद के मामले को वाराणसी जिला अदालत को ट्रांसफर कर दिया है। कोर्ट ने कहा कि ज्ञानवापी के...

सोफे को साफ और नया बनाए रखने के लिए अपनाएं ये तरीके

सोफा काफी महंगा आता है, इसलिए एक बार इसे खरीदने के बाद हम सालों-साल इसे बदलने पर विचार नहीं करते। इसके लिए जरूरी है...

जल्द शादी रचाएंगे अभिनेता अभय देओल

बॉलीवुड अभिनेता अभय देओल हाल के दिनों में फिल्मों से अधिक निजी जिंदगी को लेकर सुर्खियों में रहे हैं। सोशल मीडिया पर वह अपने...

Recent Comments