Home राष्ट्रीय हिमाचल में अडाणी की कपंनी ने कम किए सेब खरीद के दाम,...

हिमाचल में अडाणी की कपंनी ने कम किए सेब खरीद के दाम, बागवानों में नाराजगी

शिमला। हिमाचल प्रदेश में मौजूदा समय में सीजन शुरू हुआ है। ऐसे में मंडियों में सेब लाया जा रहा है, लेकिन दाम कम मिलने से बागवान नाखुश हैं।  कारोबारी अडाणी की कंपनी ने सेबों की कीमत में कमी की है और इससे बागवान नाराज हैं। सेब खरीद करने वाली अडानी की कंपनी ने इस साल 10 साल पुराने रेट खोले हैं। 2011 में अडानी ने 65 रुपये प्रति किलो रेट पर सेब खरीद की थी। इस साल भी कंपनी करीब इसी रेट पर सेब खरीद कर रही है।

क्या रेट तय किया है?

बीते साल के मुकाबले इस बार प्रतिकिलो के हिसाब से 16 रुपये कम रेट तय किए गए हैं। कंपनी 26 अगस्त से सेब खरीद शुरू कर देगी। कंपनी ने मंगलवार को सेब खरीद मूल्य सार्वजनिक कर दिए थे। 80 से 100 फीसदी रंग वाला एक्स्ट्रा लार्ज सेब 52 रुपये प्रति किलो, जबकि लार्ज, मीडियम और स्मॉल सेब 72 रुपये प्रति किलो की दर पर खरीदेगी। इस साल प्रदेश में करीब साढ़े चार करोड़ पेटी सेब उत्पादन का अनुमान है। करीब 3 करोड़ पेटी सेब अभी मंडियों में जाना बाकी है। सरकार की ओर से भी कोई राहत न मिलने से बागवान निराश हैं।ओलावृष्टि और बेमौसम बर्फबारी के कारण इस साल फसल बुरी तरह प्रभावित हुई है। बीते साल एक्स्ट्रा लार्ज सेब 68 जबकि लार्ज, मीडियम और स्मॉल सेब 88 रुपये प्रति किलो निर्धारित किया गया था। मंडियों के बाद अदानी के रेट भी कम होने से बागवान असंतुष्ट हैं। अदानी कंपनी के लिए बागवानों को अपना सेब क्रेटों में अदानी के कलेक्शन सेंटर तक लाना होगा। कंपनी ने 26 से 29 अगस्त तक के लिए यह रेट जारी किए हैं। 29 अगस्त के बाद रेट में बदलाव हो सकता है। शिमला के ठियोग के सैंज, रोहड़ू के मेहंदली और रामपुर के बिथल में अदानी के कलेक्शन सेंटर हैं।

सेब के गिरते दामों पर भड़की कांग्रेस

हिमाचल में सेब सीजन जोरों पर है लेकिन बागवान दाम सही मिलने को लेकर परेशान है। इस मुद्दे पर कांग्रेस ने सरकार को जमकर घेरा। मंगलवार को शिमला में कांग्रेस प्रदेशाध्यक्ष कुलदीप राठौर सेब के गिरते दामों पर भड़क गए। कांग्रेस प्रदेशाध्यक्ष बागवानी मंत्री महेंद्र सिंह ठाकुर पर इतना भड़के कि उन्हें नालायक तक कह डाला और उन्हें पद से हटाने की मांग की। बागवानी मंत्री चुनावों को लेकर दौरा कर रहे हैं, लेकिन बागवानों से मिलने का उनके पास समय नहीं है और न ही उनकी सुध ली है। कुलदीप राठौर ने कहा कि बागवानी मंत्री नालायक हैं और उन्हे हर सिर्फ पैसा ही दिखता है। राठौर ने कहा कि सरकार की मिलीभगत से सेब के दाम गिराए गए हैं। उन्होंने आरोप लगाया कि लदानी,अदानी को सरकार का पूरा सरंक्षण है और पूरे मामले की जांच की मांग की। साथ ही गिरते दामों को लेकर सरकार से हस्तक्षेप की मांग की। उन्होंने कहा कि आज एक पेटी की लागत 450 से 500 रुपए के बीच पड़ रही है जबकि वह मार्किट में 600 रुपए के आसपास बिक रही है, सरकार प्रदेश में  1984 से कृषि उपकरणों के साथ साथ कीट नाशको,फफूंद नाशक व अन्य दवाओं पर सब्सिडी,अनुदान देती थी पर अब दुर्भाग्यवश भाजपा सरकार ने इन सब पर रोक लगा दी है। बागवानी मंत्री 1135 करोड़ के बागवानी प्रोजेक्ट पर कुंडली मारकर बैठे हुए हैं, बागवानों से जो अन्याय किया है लोग उसका चुनावों में पूरा बदला देंगे।

क्या बोले सीएम जयराम

विपक्ष के आरोपों पर सीएम ने कुछ नहीं कहा लेकिन इतना जरूर कहा कि सेब लगातार गिर रहे दामों से न केवल बागवान परेशान है, बल्कि सरकार की चिंतित है। मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर ने कहा कि मार्किट में एकाएक गिरावट आई है। उन्होंने कहा कि कुछ समय तक बागवान अपने सेब मार्किट में न भेजें तो कुछ राहत मिल सकती है। सीएम ने कहा कि उम्मीद है कुछ समय समय बाद मार्केट की स्थिती में सुधार होगा। उन्होंने कहा सेब को स्टोर करने के लिए कोल्ड स्टोर करने वाली कंपनियों से बात की जाएगी, उनसे स्टोर में सेब रखने की कीमत को कम करने को लेकर बातचीत की जाएगी। एमएसपी के मुद्दे पर सीएम ने कहा कि प्रदेश की आर्थिक स्थिति फिलहाल सही नहीं है, फिलहाल इसकी गुंजाइश नहीं है।

Source link

RELATED ARTICLES

हिमाचल में पांच साल बाद सरकार बदलने का रिवाज इस बार भी रहा कायम

शिमला। हिमाचल प्रदेश में विधानसभा की कुल 68 सीटें हैं और बहुमत के लिए 35 सीटों की आवश्यकता रहती होती है। अभी तक के...

हिमाचल विधानसभा चुनाव: रिवाज बदलेगा या राज, कड़े मुकाबले के बीच होगा कल फैसला

हिमाचल। हिमाचल प्रदेश विधानसभा के चुनावी नतीजे गुरुवार 8 दिसंबर को आएंगे। इसके लिए भाजपा और कांग्रेस दोनों ही दलों की धुकधुकी बढ़ गई है।...

दिल्ली एम्स में जल्द शुरु हो सकती है ऑनलाइन सेवाएं, ट्रायल रहा सफल

दिल्ली। अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स), दिल्ली में ऑनलाइन सेवाएं जल्द शुरू हो सकती हैं। 23 दिसंबर से प्रभावित हुईं ऑनलाइन सेवाओं को फिर से...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू ने सिविल सेवा के 97वें कॉमन फाउंडेशन कोर्स के समापन समारोह को किया संबोधित

मसूरी । राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू ने शुक्रवार को लाल बहादुर शास्त्री राष्ट्रीय प्रशासन अकादमी मसूरी में सिविल सेवा के 97वें कॉमन फाउंडेशन कोर्स के...

शादी के 10 दिन बाद हुई विवाहिता की संदिग्ध परिस्थितियों में मौत, जानिए पूरा मामला

देहरादून। शादी के 10 दिन बाद एक विवाहिता की संदिग्ध परिस्थितियों में मौत हो गई। उसका शव पति की मौसी के घर फंदे पर...

एयरटेल ने 184 देशों में यात्रा के लिये लांच किया ‘वर्ल्ड पास’ पैक

नयी दिल्ली । दूरसंचार सेवा कंपनी एयरटेल ने अंतरराष्ट्रीय यात्रियों की सेवाओं को चालू रखने के लिये ‘एयरटेल वर्ल्ड पास’ लॉन्च किया है। एयरटेल ने...

राष्ट्रपति ने नक्षत्र वाटिका का उद्धाटन कर किया पलाश पौधे का रोपण

देहरादून। महामहिम राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मु ने शुक्रवार को उत्तराखण्ड प्रवास के दूसरे दिन प्रातः राजभवन स्थित राज प्रज्ञेश्वर महादेव मंदिर में विधिवत पूजा अर्चना...

शादी समारोह में तमंचे पर डिस्को करना पड़ा युवकों को भारी, पढ़िए पूरी खबर

हरिद्वार। हरिद्वार के श्यामपुर क्षेत्र में एक विवाह समारोह में दो युवकों को तमंचे लहराकर डिस्को करना भारी पड़ गया। एसएसपी अजय सिंह को भेजे...

युवक ने रचाईं तीन शादियां तो पत्नियों ने किया चौकी में हंगामा, जानिए पूरा मामला

कोटद्वार। कोतवाली में एक ऐसा दिलचस्प मामला सामने आया है जिसमें एक युवक ने बिना तलाक लिए दूसरी शादी कर ली। इसके बाद उसने दूसरी...

रेट्रो वॉकिंग क्या है और इससे कौन से 5 बड़े फायदे मिलते हैं?

रेट्रो वॉकिंग का मतलब पीछे की ओर यानी उल्टा चलना है और इसे रिवर्स वॉकिंग भी कहते हैं। नॉर्मल वॉकिंग की तुलना में यह...

हिमाचल में पांच साल बाद सरकार बदलने का रिवाज इस बार भी रहा कायम

शिमला। हिमाचल प्रदेश में विधानसभा की कुल 68 सीटें हैं और बहुमत के लिए 35 सीटों की आवश्यकता रहती होती है। अभी तक के...

कंगना रनौत ने चंद्रमुखी 2 की शूटिंग की शुरू, तस्वीर शेयर कर दी जानकारी

अभिनेत्री कंगना रनौत पिछले कुछ समय से चंद्रमुखी 2 को लेकर चर्चा में हैं। यह 2005 में आई तमिल फिल्म चंद्रमुखी का सीक्वल है।...

जीएम फसलों को ना कहना होगा

भारत डोगरा हाल के वर्षो में किसानों के संकट का एक बड़ा कारण यह है कि उनकी आत्मनिर्भरता और स्वावलंबिता में भारी गिरावट आई है...

Recent Comments