Home ब्लॉग बचा रहेगा अपना हिंदुस्तान, शर्त बस इतनी है...

बचा रहेगा अपना हिंदुस्तान, शर्त बस इतनी है…

सौरभ श्रीवास्तव
लता मंगेश्कर को श्रद्धांजलि देते शाहरुख खान और उनकी मैनेजर पूजा डडलानी की तस्वीर वायरल हुई। तस्वीर में शाहरुख दुआ पढऩे की मुद्रा में हाथ जोड़े हुए हैं, हथेलियां खुली हैं और उनके चेहरे की ओर हैं। जबकि पूजा के हाथ प्रार्थना के लिए जुड़े हुए हैं। लोगों ने इसे ‘असली हिंदुस्तान’, ‘बचा रहे ऐसा हिंदुस्तान’ बताते हुए सोशल मीडिया पर खूब शेयर किया।

मैंने भी अपने एक दोस्त को यह तस्वीर भेजी। उसने पूछा, इसमें खास क्या है? सामान्य सी तस्वीर है। मैंने कहा कि दो धर्मों के लोग अपने-अपने तरीके से लताजी को श्रद्धांजलि दे रहे हैं, यह खास नहीं लग रहा तुम्हें? नहीं- दोस्त ने सपाट सा जवाब दिया। बोला, ‘क्या तुम्हारे किसी जलसे या गम में मुसलमान दोस्त या पड़ोसी शामिल नहीं होते? होते होंगे तो अपने ही तौर तरीकों से दुआ पढ़ते होंगे और तुम अपने।’

यह सामान्य हमें क्यों खास लगने लगा मैं सोच ही रहा था कि वॉट्सऐप पर एक विडियो आया। विडियो में शाहरुख दुआ पढऩे के बाद चेहरे से मास्क हटाते हैं और लताजी के पार्थिव शरीर की ओर फूंकते हैं। फातिहा पढऩे के बाद ऐसा करने की रवायत है। हिंदू धर्म में भी मंत्र पढऩे के बाद फूंकने की परंपरा है। लेकिन अलग रंग का चश्मा पहनने वालों को कुछ और ही दिखा। उन्हें लगा कि शाहरुख थूक रहे हैं। असलियत की पड़ताल किए बिना शुरू हो गया दुष्प्रचार का सिलसिला। मन बेचैन हुआ तो सबने एक ही बात समझाई, ‘ऐसे लोगों को इग्नोर करो। हर मौके पर ये ऐसा तरीका तलाश ही लेते हैं।’

इस घटना से एक बात बहुत साफ समझ में आई। समाज में नॉर्मल और स्पेशल के ध्रुव पूरी तरह से उलट गए है। हिंसा, सांप्रदायिकता, एक-दूसरे को बर्दाश्त न करना, बहसों के दौरान हिंसक हो जाना वगैरह को अब समाजशास्त्री न्यू नॉर्मल बता रहे हैं और इसके खतरों को भी रेखांकित कर रहे हैं। लेकिन न्यू स्पेशल की ओर लोगों का ध्यान कम जा रहा है। बीस साल पहले तक जो सामाजिक समरसता हमारे जीवन का हिस्सा थी, अब वह कहीं दिखती है तो हमें सुखद आश्चर्य दे जाती है। ऐसा क्यों हुआ?

सोशल मीडिया के लोकप्रिय होने से पहले के वक्त पर नजर डालिए। समाज को वैचारिक दिशा देने का काम कौन लोग करते थे? लेखक, साहित्यकार, शोधकर्ता, विश्वविद्यालयों के अध्यापक, समाजशास्त्री आदि। इनके लेख अखबार, पत्रिकाओं, किताबों आदि में प्रकाशित होते थे। प्रकाशित होने से पहले इन लेखों के तमाम पहलुओं पर गंभीरता से विचार किया जाता था। संपादक इन लेखों पर नजर रखते थे, जरूरत होने पर परिमार्जन भी करते थे। एक ऐसा निगरानी तंत्र था, जो वैमनस्य बढ़ाने वाली चीजों पर नजर रखता था।

न्यू मीडिया के आने के बाद से यह निगरानी तंत्र काफी हद तक हाशिए पर चला गया है। यहां हर व्यक्ति लेखक है। वह अपना लिखा सोशल मीडिया पर पोस्ट करता है, उसके फॉलोअर उस पर कॉमेंट करते हैं और शेयर भी करते हैं। सोशल मीडिया प्लैटफॉर्म का एलगोरिदम भी सिर्फ लाइक्स और कॉमेंट्स गिनता है। यह नहीं देखता कि कॉमेंट्स में बात क्या कही जा रही है। वायरल होने वाली टिप्पणियों, फोटो, विडियो की रीच आम तौर पर अखबारों और पत्रिकाओं के सर्कुलेशन से ज्यादा होती है। जाहिर है, इनका असर भी ज्यादा लोगों पर होता है। कुछ सोशल मीडिया प्लैटफॉर्म ने परिमार्जन का काम शुरू किया है पर वह बहुत ही सीमित है। ज्यादातर केसों में किसी यूजर के रिपोर्ट करने पर ही पोस्ट की जांच की जाती है। तब तक सांप्रदायिकता या हिंसा को बढ़ावा देने वाली पोस्टें अपना काम कर चुकी होती हैं।
इन पोस्टों का शोर इतना ज्यादा है कि हमें सामान्य सी सही और नैतिक बातें स्पेशल लगने लगी हैं। यह हमारे वक्त का न्यू स्पेशल है। अनूठी भाषा वाले कवि विनोद कुमार शुक्ल बहुत ही सादगी से इसे रेखांकित करते हैं, ‘यह चेतावनी है/ कि एक छोटा बच्चा है। यह चेतावनी है कि चार फूल खिले हैं। यह चेतावनी है कि खुशी है और घड़े में भरा हुआ पानी पीने के लायक है, हवा में सांस ली जा सकती है। यह चेतावनी है कि दुनिया है बची दुनिया मेंज्’।

RELATED ARTICLES

राजमार्गों का विस्तार

वर्तमान वित्त वर्ष 2024-25 में बीते वित्त वर्ष की तुलना में पांच से आठ प्रतिशत अधिक राष्ट्रीय राजमार्गों के विस्तार की संभावना है। पिछले...

हमारे रिश्तों के दुश्मन बनते मोबाइल फोन

-प्रियंका सौरभ फोन लोगों को आपस में जोड़े रखते हैं और संबंध बनाए रखने में मदद करते हैं। लेकिन कुछ मामलों में वे अवरोध भी...

उम्मीदों का संकल्प पत्र

लोकसभा चुनाव के लिए भारतीय जनात पार्टी (भाजपा) ने अपना घोषणा पत्र जारी कर दिया, जिसे वे ‘संकल्प पत्र’ कहते हैं। यह युवाओं, महिलाओं,...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

मुख्य सचिव ने केदारनाथ धाम के कार्यों का लिया जायजा

देहरादून। मुख्य सचिव श्रीमती राधा रतूड़ी ने सोमवार को केदारनाथ धाम पहुंचकर केदारनाथ पुनर्निर्माण एवं पुन:विकास कार्यों के मास्टर प्लान के फेस 2 के...

जोमैटो से खाना मंगाना हुआ महंगा, जानिए कितना प्रतिशत बढ़ा चार्ज

नई दिल्ली। ऑनलाइन फूड डिलीवरी कंपनी जोमैटो ने प्लेटफॉर्म चार्ज 25 प्रतिशत बढ़ा दिया है। इसका मतलब है कि अब जोमैटो से खाना मंगाना थोड़ा...

लोकसभा चुनाव के लिए कांग्रेस ने एक और लिस्ट की जारी, जानें- किसे कहां से दिया टिकट

नई दिल्ली। कांग्रेस ने आंध्र प्रदेश और झारखंड के लिए लोकसभा उम्मीदवारों की सूची जारी की है. कांग्रेस (Congress) ने झारखंड के गोड्डा से...

आईपीएल 2024 के 38वें मैच में आज राजस्थान रॉयल्स से भिड़ेगी मुंबई इंडियंस

जयपुर के सवाई मानसिंह क्रिकेट स्टेडियम में होगी दोनों टीमे आमने- सामने  जयपुर। आईपीएल 2024 के 38वें मैच में राजस्थान रॉयल्स की भिड़ंत मुंबई इंडियंस...

चारधाम यात्रा – सात दिन में 12.48 लाख पहुंची पंजीकरण की संख्या

केदारनाथ के लिए 4,22,129 श्रद्धालुओं ने किया पंजीकरण  देहरादून। चारधाम यात्रा के लिए इस बार तीर्थयात्रियों के पंजीकरण का रिकॉर्ड टूट रहा है। सात दिन...

पीरियड्स से पहले और बाद में क्यों होते हैं फेस पर पिंपल्स? क्या है इसकी वजह

पीरियड्स के दौरान हारमोंस चेंज होने लगते हैं. ऐसे में महिलाओं में कई सारे बदलाव देखे जाते हैं। पीरियड्स आने के पहले और बाद...

देश के इन 12 राज्यों में पड़ रही भीषण गर्मी, आगामी 4 दिनों तक हीटवेव का अलर्ट जारी

नई दिल्ली। उत्तर प्रदेश, बिहार, मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़, महाराष्ट्र, पश्चिम बंगाल समेत देश के 12 राज्यों में भीषण गर्मी पड़ रही है। मौसम विभाग ने...

मिस्टर एंड मिसेज माही का पहला पोस्टर आया सामने, भारतीय जर्सी में दिखे राजकुमार राव और जान्हवी कपूर

राजकुमार राव और जान्हवी कपूर एक बार फिर स्क्रीन साझा करेंगे। दोनों कलाकार स्पोर्ट्स ड्रामा फिल्म मिस्टर एंड मिसेज माही में एक साथ नजर...

उत्तराखंड में सेब उत्पादन की अपार संभावनाएं- डा0 धन सिंह रावत

सहकारिता विभाग के ‘एप्पल मिशन’ से जोड़े जायेंगे सेब काश्तकार जम्मू-कश्मीर व हिमाचल की तर्ज पर विकसित किये जायेंगे बगीचे पौड़ी/देहरादून। उत्तराखंड में उद्यान के क्षेत्र में...

मुख्यमंत्री धामी ने हिन्दू नव वर्ष महोत्सव में लिया हिस्सा

उत्तराखंड में समान नागरिक संहिता लागू करने के साथ कई अहम निर्णय लिए - धामी नई दिल्ली/देहरादून। मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने नई दिल्ली में...

Recent Comments