Home ब्लॉग सुरक्षा कवच का साल

सुरक्षा कवच का साल

एक वैश्विक महामारी के खिलाफ स्वदेशी व देश में निर्मित टीकों की मदद से टीकाकरण का कामयाब साल पूरा करना हमारी उपलब्धि है। इतने कम समय में वैज्ञानिकों ने टीका हासिल किया, राजसत्ता ने इच्छाशक्ति दिखायी और चिकित्सकों, स्वास्थ्यकर्मियों तथा फ्रंट लाइन वर्करों ने उसे अंजाम तक पहुंचाया। सब कुछ जीरो से शुरू करने जैसा था, फिर भी देश ने न केवल सवा अरब से ज्यादा आबादी का ख्याल रखा बल्कि दूसरे देशों की भी मदद की। हम याद रखें कि देश की आर्थिक स्थिति कैसी है, हमारा चिकित्सा तंत्र किस हाल में था और संसाधनों की क्या स्थिति है। दूसरी लहर के दौरान कई बड़े देशों ने वैक्सीन की कच्ची सामग्री देने में आनाकानी की और चीन ने कई तरह के व्यवधान पैदा किये।

इतने बड़े व भौगोलिक जटिलताओं के देश के गांव-देहात में जाकर टीके लगाना निस्संदेह कठिन था। टीकों का उत्पादन और फिर सुरक्षित तापमान में लक्षित आबादी तक पहुंचाना आसान नहीं था। जब राज्यों को टीकाकरण का दायित्व दिया गया तो उस दौरान जो राजनीतिक कोलाहल हुआ, उसे देश ने देखा। सुप्रीम कोर्ट की तल्खी भी देखी। सुखद है कि देश की सत्तर फीसदी वयस्क आबादी को दोनों टीके लगे हैं। करीब 157 करोड़ खुराक दी जा चुकी हैं। वह भी तब जब खुद स्वास्थ्यकर्मियों की जान को भी खतरा था। इनकी प्रतिबद्धता के प्रति कृतज्ञता व्यक्त करते हुए राष्ट्र ने डाक टिकट जारी किया। लेकिन ऐसे वक्त में जब रोज नये संक्रमण के मामले दो लाख से अधिक आ रहे हैं और सक्रिय मामलों का आंकड़ा दस लाख पार कर गया है, तो सतर्क रहने की जरूरत है। नये वेरिएंट का खतरा टला नहीं है और वायरस के रूप बदलने की आशंका बनी हुई है। कहा जा रहा है कि ओमीक्रोन के कम घातक होने के कारण केवल अस्पताल में भर्ती होने वाले तथा मरने वालों का ही आंकड़ा जारी किया जाये। साथ ही अनावश्यक प्रतिबंधों में तार्किक ढंग से ढील दी जाये ताकि समाज के अंतिम व्यक्ति के लिये रोजी-रोटी का संकट पैदा न हो। सख्ती एक नई मानवीय त्रासदी को जन्म दे सकती है।

वहीं, यह अच्छी बात है कि केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय मार्च से बारह से पंद्रह साल के बच्चों के टीकाकरण की दिशा में बढ़ रहा है। निस्संदेह, इससे जहां अभिभावकों की चिंता दूर होगी, वहीं स्कूलों को सामान्य ढंग से खोलने में मदद मिलेगी। विकसित देश पहले ही इस दिशा में आगे बढ़ चुके हैं। बल्कि सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर करके बारह साल से छोटे बच्चों के टीकाकरण के लिये सरकार को निर्देश देने की मांग की गई है। वहीं दिव्यांगों के टीकाकरण के बाबत दायर याचिका की सुनवाई के दौरान सरकार ने हलफनामा दायर किया है कि किसी को जबरन टीका लगाने को बाध्य नहीं किया जाएगा। साथ ही दिव्यांगों को टीकाकरण का प्रमाणपत्र दिखाने की बाबत कहा कि किसी मानक प्रक्रिया के तहत यह अनिवार्य नहीं है। बहरहाल, इतना जरूर है कि दिव्यांगों की दिक्कतों के चलते उनके घर-घर जाकर टीका लगाने की जरूरत है। लेकिन जब भारत में कोरोना संक्रमण के मामले अमेरिका के बाद दूसरे नंबर पर हैं तो नागरिकों से सजग-सतर्क व्यवहार की उम्मीद है। हम न भूलें कि इतने बड़े अभियान के बाद करोड़ों लोग ऐसे भी हैं जो आज भी टीका लगाने से बच रहे हैं। तीसरी लहर के आंकड़े बता रहे हैं कि अस्पताल में भर्ती होने वालों व मरने वालों में वे ही लोग ज्यादा हैं, जिन्होंने टीका नहीं लगवाया।

निस्संदेह, दोनों टीके लगाने के बाद भी कुछ लोगों को संक्रमण हुआ है, लेकिन यह कम घातक रहा और अस्पताल में भर्ती होने की नौबत नहीं आयी। बहरहाल, एक अनजानी महामारी से फौरी तौर पर लोगों को सुरक्षा कवच तो मिला ही है। जिन लोगों के लिये पहली-दूसरी लहर में संक्रमण घातक हुआ उनमें से अधिकांश लोग पहले से ही गंभीर रोगों से ग्रस्त थे। बहरहाल, जो टीकाकरण से रह गये हैं उन्हें जल्दी से जल्दी टीका लगवाना चाहिए। तभी महामारी का खात्मा संभव है।

RELATED ARTICLES

मानव बुद्धि: पहले पंखज्फिर पिंजरे!

हरिशंकर व्यास त्रासद सत्य है जो पृथ्वी के आठ अरब लोग अपना स्वत्व छोड़ते हुए घोषणा करते हैं कि हम फलां-फलां बाड़े (195 देश) के...

सबको पसंद है राजद्रोह कानून

अजीत द्विवेदी भारतीय दंड संहिता की धारा 124ए यानी राजद्रोह कानून पर सुप्रीम कोर्ट का फैसला ऐतिहासिक है लेकिन यह अंतिम जीत नहीं है। यह...

विश्व-विमर्श श्रीलंका : सियासत, विक्रमसिंघे और कांटों का ताज

डॉ. सुधीर सक्सेना अपरान्ह करीब पौने दो बजे कोलंबो से वरिष्ठ राजनयिक व वकील शरत कोनगहगे ने खबर दी-‘रनिल विक्रमसिंघे सायं साढ़े छह बजे श्रीलंका...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

चारधाम यात्रा में अव्यवस्थाओं पर भड़के यशपाल आर्य, बोले सिस्टम के नाकारापन के कारण पूरे देश में उत्तराखंड की छवि हो रही खराब

हल्द्वानी। चारधाम यात्रा की व्यवस्थाओं को लेकर नेता प्रतिपक्ष यशपाल आर्य ने सरकार पर सवाल उठाए। कहा कि सरकार यात्रियों को बुनियादी सुविधाएं तक...

देहरादून पहुंचा पहाड़ का रसीला खट्टा मीठा फल काफल, जानिए इसके फायदे

देहरादून। सीजन के अंतिम दिनों में ही सही पहाड़ का रसीला काफल देहरादून पहुंच गया है। यह पहाड़ी फल कैंसर समेत कई बीमारियों की रोकथाम...

फर्जी राशन कार्ड धारकों के ख़िलाफ़ खाद्य विभाग की महिमा, “अपात्र को ना और पात्र को हां”, 1967 टोल फ्री नंबर पर करें शिकायत

देहरादून। खाद नागरिक आपूर्ती व उपभोगता मामले मंत्री रेखा आर्या ने आज बनबसा से वर्चुअल माध्यम से खाद्य विभाग की समीक्षा बैठक ली। बैठक में...

उत्तराखंड का आम बजट बनाने में आप भी दीजिये धामी सरकार को अपने अहम सुझाव, जानिए कैसे

देहरादून । उत्तराखंड सरकार आम बजट को लेकर राज्य के हर वर्ग से सुझाव लेगी। इसके लिए सरकार के स्तर से ईमेल आईडी जारी...

“मोक्ष” पर सियासत जारी, राजीव महर्षि ने लगाया भाजपा पर सनातन धर्म के अपमान का आरोप

देहरादून। चारधाम यात्रा पर लोग मोक्ष प्राप्ति के लिये आते हैं बयान के बाद उत्तराखंड की सियासत में उबाल है। भाजपा प्रवक्ता के बयान...

बद्रीनाथ हाईवे हनुमानचट्टी के बलदोड़ा में पत्थर गिरने से मार्ग हुआ अवरुध्द, विभिन्न स्थानों पर ठहरे यात्री

देहरादून। चमोली में बीती देर रात को तेज बारिश के चलते बद्रीनाथ राष्ट्रीय राजमार्ग के हनुमानचट्टी से आगे बलदोड़ा में चट्टान से पत्थर गिरने और...

शिक्षा विभाग में अपनी ढपली अपना राग, चहेतों के लिए एक्ट दरकिनार, बीमार शिक्षक कर रहे तबादलों का इंतजार

देहरादून। शिक्षा विभाग में शून्य सत्र के बावजूद पूरे साल तबादलों एवं शिक्षकों की संबद्धता का खेल चलता रहा, लेकिन बीमार शिक्षक तबादले का...

चारधाम यात्रा :- केदारनाथ और यमुनोत्री धाम में 31 मई तक पंजीकरण फुल, अब तक 2 लाख से अधिक श्रद्धालु कर चुके दर्शन

देहरादून। केदारनाथ और यमुनोत्री धाम में दर्शन करने के लिए 31 मई तक वहन क्षमता के अनुसार पंजीकरण फुल हो चुके हैं, जबकि बदरीनाथ...

विदेशी मुद्रा भंडार 1.8 अरब डॉलर घटकर 595.9 अरब डॉलर पर

मुंबई ।  देश का विदेशी मुद्रा भंडार 06 मई को समाप्त सप्ताह में लगातार नौवें सप्ताह गिरता हुआ 1.8 अरब डॉलर कम होकर 595.9 अरब...

जानिए गर्मी में दिन में कितनी बार धोना चाहिए चेहरा, बनी रहेगी नमी

गर्मी में ताजगी बने रहने के लिए लोग दिन में कई बार चेहरा धोते हैं। कुछ लोगों को लगता है कि बार-बार फेस वॉश...

Recent Comments