Wednesday, May 18, 2022
Home राष्ट्रीय कौन है वह उग्रवादी जिसकी मौत के बाद पूरे मेघालय में भड़की...

कौन है वह उग्रवादी जिसकी मौत के बाद पूरे मेघालय में भड़की हिंसा, गृह मंत्री तक को देना पड़ा इस्तीफा

शिलांग। मेघालय के पूर्वी खासी पर्वतीय जिले में शुक्रवार को तड़के पुलिस के साथ मुठभेड़ में एक खूंखार उग्रवादी मारा गया जिसने पूर्व में आत्मसमर्पण किया था। अधिकारियों ने बताया कि राज्य में हाल में हुए सिलसिलेवार धमाकों के संबंध में जब उसके घर पर छापेमारी की गई तब यह मुठभेड़ हुई। प्रतिबंधित हाइनीट्रेप नेशनल लिबरेशन काउंसिल (एचएनएलसी) के पूर्व महासचिव चेस्टरफील्ड थांगखिव ने 2018 में उपमुख्यमंत्री प्रेस्टोन त्यसोंग के समक्ष आत्मसमर्पण किया था। पुलिस महानिदेशक आर चंद्रनाथन के मुताबिक पुलिस की एक टीम ने राज्य में हाल में हुए आईईडी हमलों के सिलसिले में मवलाई में थांगखिव के किनटोन मसार आवास पर छापेमारी की। उन्होंने बताया, “थांगखिव खिलहेरियाट में आईईडी हमले में वांछित था। हमारे पास सबूत थे। पुलिस की एक टीम ने तड़के उसके घर पर छापेमारी की। पुलिस के घर में घुसते ही, उसने एक चाकू लहराया और चार में से एक कॉन्स्टेबल पर हमला किया, जिसने जवाब में गोली चलाई।”

अधिकारी ने बताया कि थांगखिव को सिविल अस्पताल ले जाया गया जहां उसे मृत घोषित कर दिया गया। चंद्रनाथन ने बताया कि उसके दो साथियों को पूछताछ के लिए हिरासत में लिया गया और पुलिस ने बंदूक, उसके लैपटॉप में डिजिटल दस्तावेज और मोबाइल फोन जब्त किया। एचएनएलसी मंगलवार को शिलांग में भीड़-भाड़ वाले बाजार में हुए आईईडी विस्फोट की जिम्मेदारी ले चुका है जिसमें दो लोग घायल हो गए थे। पिछले महीने, खिलहेरियाट में पुलिस बैरक में आईईडी विस्फोट हुआ था जिसमें एक पुलिसकर्मी घायल हो गया था और इमारतें क्षतिग्रस्त हो गईं थी। मामले की जांच से जुड़े एक अधिकारी ने पीटीआई-भाषा को बताया कि विस्फोट के सिलसिले में तीन लोगों को गिरफ्तार किया गया है और उनमें से दो ने हमले में थांगखिव की सीधी संलिप्तता के साक्ष्य दिए थे।

चेस्टरफील्ड थांगखिव को जानिए
बता दें कि हाइनीट्रेप नेशनल लिबरेशन काउंसिल (एचएनएलसी) खासी जैंतिया ट्राइबल कम्युनिटी के लिए भारत के दूसरे राज्यों से आने वालों लोगों के खिलाफ लड़ने का दावा करती है। चेस्टरफील्ड थांगखिव एचएनएलसी के संस्थापक सदस्यों में एक था।

हिंदुस्तान टाइम्स ने HNLC के महासचिव कम प्रवक्ता साइनकूपर नोंगट्रा के हवाले से लिखा है कि थांगखिव केंद्रीय एजेंसी और प्रतिबंधित संगठन के बीच बातचीत का जरिया था और मध्यस्थ की भूमिका निभा रहा था।

नोंगट्रा ने आरोप लगाते हुए कहा, “आईबी और एसबी को भेजे गए सारे संदेश थांगखिव से होकर गए थे। हरमन पेकिन्टीन और ट्रेंग सा के साथ HNLC के जिन काडर ने सरेंडर किया था, वे लगातार थांगखिव को धमकी देते थे। और दोनों ने पुलिस के साथ मिलकर पूर्व महासचिव की हत्या की साजिश रची थी।’

HNLC की स्थापना 1987 में हुई थी और 54 वर्षीय थांगखिव को चेयरमैन जूलियस डोरफैंग और कमांडर इन चीफ बॉबी मरवीन के साथ सबसे खतरनाक उग्रवादियों में से एक माना जाता था। जूलियस डोरफैंग ने 24 जुलाई 2007 को सरेंडर कर दिया था। थांगखिव ने भी 18 अक्टूबर 2018 को मेघालय के डिप्टी सीएम प्रेस्टोन त्यसोंग के समक्ष आत्मसमर्पण कर दिया था।

HNLC को नागालैंड के उग्रवादी समूह NSCN (IM) और त्रिपुरा के एनएलएफटी का करीबी माना जाता है। HNLC की स्थापना 1992 में हाइनीट्रेप अचिक लिबरेशन काउंसिल (HALC) में हुई टूट के चलते हुई थी। इसे मेघालय का पहला उग्रवादी ट्राइबल संगठन माना जाता है।

Source link

RELATED ARTICLES

केंद्र जल्द करेगा वेद आधारित बोर्ड का निर्माण

नई दिल्ली।  देश में वैदिक शिक्षा को लेकर जल्द ही एक नई और बड़ी पहल की जा सकती है। केंद्रीय शिक्षा मंत्रालय वेद आधारित...

योगी सरकार का बड़ा फैसला, यूपी के मदरसों में राष्ट्रगान हुआ अनिवार्य, जानिए फैसले की पीछे की असली वजह

लखनऊ। यूपी के मदरसों में पढ़ने वाले बच्चों को अब रोजाना राष्ट्रगान गाना होगा. सीएम योगी आदित्यनाथ की सरकार ने राज्य के सभी मदरसों...

चक्रवात असानी : आंध्र प्रदेश में समुद्र से निकला रहस्यमयी सोने का रथ

श्रीकाकुलम। चक्रवात असानी के बीच समुद्र से अचानक निकले सोने का रथ देखकर सभी हैरान रह गए। आंध्र प्रदेश के श्रीकाकुलम जिले के सुन्नापल्ली...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

सिपाही की फर्जी पत्‍नी बनी फालोवर की बेटी, सिपाही हुआ सस्‍पेंड

हरिद्वार। रोशनाबाद पुलिस लाइंस में भर्ती के दौरान सिपाही की पत्नी की जगह लंबी कूद लगाने वाली महिला पुलिस लाइन में ही तैनात एक...

ज्ञानवापी मस्जिद को लेकर जारी विवाद के बीच साक्षी महाराज बोले- भगवान विष्णु के मंदिर को तोड़कर बनी है दिल्ली की जामा मस्जिद

ऋषिकेश। उन्नाव सांसद साक्षी महाराज आज मंगलवार को ऋषिकेश में स्थित अपने भगवान आश्रम पहुंचे। पत्रकारों से बातचीत करते हुए साक्षी महाराज ने कहा...

दिल्ली हाईकोर्ट के जज जस्टिस विपिन सांघी होंगे नैनीताल हाईकोर्ट के नए चीफ जस्टिस

नैनीताल। सुप्रीम कोर्ट की कोलेजियम ने दिल्ली हाईकोर्ट के जज न्यायमूर्ति विपिन सांघी को नैनीताल हाईकोर्ट का मुख्य न्यायाधीश नियुक्त करने की सिफारिश की...

सीएम पुष्कर सिंह धामी ने आरटीओ पर मारा छापा, आरटीओ दिनेश पठोई को किया सस्पेंड

सीएम के आर टी ओ कार्यालय में पहुंचने की सूचना से मचा हड़कंप लेटलतीफी और कामों को लटकाने की शिकायतों के बाद सीएम ने किया...

खाई में गिरा वाहन, एसडीआरएफ ने चलाया सर्च एंड रेस्क्यू ऑपरेशन

देहरादून। आज दिनांक 18 मई 2022 को एसडीआरएफ टीम को जिला नियंत्रण कक्ष टिहरी से सूचना मिली की देवप्रयाग से 2 किलोमीटर पीछे एक...

गर्मियों में बचना है लू से तो जरूर अपनाएं ये आसान घरेलू उपाय

गर्मी अकेले नहीं आती, बल्कि अपने साथ-साथ हमें परेशान करने के लिए अन्य कई तरह की समस्याएं भी ले आती है। इन समस्याओं में...

ए.आर. रहमान की पहली फिल्म ले मस्क का कान एक्सआर में होगा प्रीमियर

ग्रैमी विजेता भारतीय संगीतकार ए.आर. रहमान की पहली फीचर फिल्म ले मस्क का कान फिल्म मार्केट के कान एक्सआर प्रोग्राम में वल्र्ड प्रीमियर होगा।...

मौद्रिक उपाय पर सवाल

भारतीय रिजर्व बैंक ने बढ़ती मुद्रास्फीति पर काबू पाने के लिए मौद्रिक उपाय का सहारा लिया है। पहले कदम के तौर पर उसने ब्याज...

चारधाम यात्रा में अव्यवस्थाओं पर भड़के यशपाल आर्य, बोले सिस्टम के नाकारापन के कारण पूरे देश में उत्तराखंड की छवि हो रही खराब

हल्द्वानी। चारधाम यात्रा की व्यवस्थाओं को लेकर नेता प्रतिपक्ष यशपाल आर्य ने सरकार पर सवाल उठाए। कहा कि सरकार यात्रियों को बुनियादी सुविधाएं तक...

देहरादून पहुंचा पहाड़ का रसीला खट्टा मीठा फल काफल, जानिए इसके फायदे

देहरादून। सीजन के अंतिम दिनों में ही सही पहाड़ का रसीला काफल देहरादून पहुंच गया है। यह पहाड़ी फल कैंसर समेत कई बीमारियों की रोकथाम...

Recent Comments