Sunday, February 5, 2023
Home राष्ट्रीय कौन है वह उग्रवादी जिसकी मौत के बाद पूरे मेघालय में भड़की...

कौन है वह उग्रवादी जिसकी मौत के बाद पूरे मेघालय में भड़की हिंसा, गृह मंत्री तक को देना पड़ा इस्तीफा

शिलांग। मेघालय के पूर्वी खासी पर्वतीय जिले में शुक्रवार को तड़के पुलिस के साथ मुठभेड़ में एक खूंखार उग्रवादी मारा गया जिसने पूर्व में आत्मसमर्पण किया था। अधिकारियों ने बताया कि राज्य में हाल में हुए सिलसिलेवार धमाकों के संबंध में जब उसके घर पर छापेमारी की गई तब यह मुठभेड़ हुई। प्रतिबंधित हाइनीट्रेप नेशनल लिबरेशन काउंसिल (एचएनएलसी) के पूर्व महासचिव चेस्टरफील्ड थांगखिव ने 2018 में उपमुख्यमंत्री प्रेस्टोन त्यसोंग के समक्ष आत्मसमर्पण किया था। पुलिस महानिदेशक आर चंद्रनाथन के मुताबिक पुलिस की एक टीम ने राज्य में हाल में हुए आईईडी हमलों के सिलसिले में मवलाई में थांगखिव के किनटोन मसार आवास पर छापेमारी की। उन्होंने बताया, “थांगखिव खिलहेरियाट में आईईडी हमले में वांछित था। हमारे पास सबूत थे। पुलिस की एक टीम ने तड़के उसके घर पर छापेमारी की। पुलिस के घर में घुसते ही, उसने एक चाकू लहराया और चार में से एक कॉन्स्टेबल पर हमला किया, जिसने जवाब में गोली चलाई।”

अधिकारी ने बताया कि थांगखिव को सिविल अस्पताल ले जाया गया जहां उसे मृत घोषित कर दिया गया। चंद्रनाथन ने बताया कि उसके दो साथियों को पूछताछ के लिए हिरासत में लिया गया और पुलिस ने बंदूक, उसके लैपटॉप में डिजिटल दस्तावेज और मोबाइल फोन जब्त किया। एचएनएलसी मंगलवार को शिलांग में भीड़-भाड़ वाले बाजार में हुए आईईडी विस्फोट की जिम्मेदारी ले चुका है जिसमें दो लोग घायल हो गए थे। पिछले महीने, खिलहेरियाट में पुलिस बैरक में आईईडी विस्फोट हुआ था जिसमें एक पुलिसकर्मी घायल हो गया था और इमारतें क्षतिग्रस्त हो गईं थी। मामले की जांच से जुड़े एक अधिकारी ने पीटीआई-भाषा को बताया कि विस्फोट के सिलसिले में तीन लोगों को गिरफ्तार किया गया है और उनमें से दो ने हमले में थांगखिव की सीधी संलिप्तता के साक्ष्य दिए थे।

चेस्टरफील्ड थांगखिव को जानिए
बता दें कि हाइनीट्रेप नेशनल लिबरेशन काउंसिल (एचएनएलसी) खासी जैंतिया ट्राइबल कम्युनिटी के लिए भारत के दूसरे राज्यों से आने वालों लोगों के खिलाफ लड़ने का दावा करती है। चेस्टरफील्ड थांगखिव एचएनएलसी के संस्थापक सदस्यों में एक था।

हिंदुस्तान टाइम्स ने HNLC के महासचिव कम प्रवक्ता साइनकूपर नोंगट्रा के हवाले से लिखा है कि थांगखिव केंद्रीय एजेंसी और प्रतिबंधित संगठन के बीच बातचीत का जरिया था और मध्यस्थ की भूमिका निभा रहा था।

नोंगट्रा ने आरोप लगाते हुए कहा, “आईबी और एसबी को भेजे गए सारे संदेश थांगखिव से होकर गए थे। हरमन पेकिन्टीन और ट्रेंग सा के साथ HNLC के जिन काडर ने सरेंडर किया था, वे लगातार थांगखिव को धमकी देते थे। और दोनों ने पुलिस के साथ मिलकर पूर्व महासचिव की हत्या की साजिश रची थी।’

HNLC की स्थापना 1987 में हुई थी और 54 वर्षीय थांगखिव को चेयरमैन जूलियस डोरफैंग और कमांडर इन चीफ बॉबी मरवीन के साथ सबसे खतरनाक उग्रवादियों में से एक माना जाता था। जूलियस डोरफैंग ने 24 जुलाई 2007 को सरेंडर कर दिया था। थांगखिव ने भी 18 अक्टूबर 2018 को मेघालय के डिप्टी सीएम प्रेस्टोन त्यसोंग के समक्ष आत्मसमर्पण कर दिया था।

HNLC को नागालैंड के उग्रवादी समूह NSCN (IM) और त्रिपुरा के एनएलएफटी का करीबी माना जाता है। HNLC की स्थापना 1992 में हाइनीट्रेप अचिक लिबरेशन काउंसिल (HALC) में हुई टूट के चलते हुई थी। इसे मेघालय का पहला उग्रवादी ट्राइबल संगठन माना जाता है।

Source link

RELATED ARTICLES

उत्तर प्रदेश के गोरखपुर जिले में पति- पत्नी समेत दो बच्चों की मौत, आसपास मचा कोहराम, घटना की जानकारी जुटाने में लगी पुलिस

उत्तर प्रदेश। गोरखपुर जिले के गोला थाना इलाके के देवकली गांव में शनिवार की देर रात पति-पत्नी और दो बच्चों की जलने से मौत हो...

फिर बजा पीएम मोदी का डंका, दुनियाभर के नेताओं में रहे टॉप पर- बाइडेन और सुनक काफी पीछे

नई दिल्ली। पिछले साल की तरह इस साल भी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को दुनिया के सबसे लोकप्रिय नेता के तौर पर चुना गया है। अमेरिकी...

पंजाब में चंडीगढ़, हरियाणा और हिमाचल से महंगा हुआ पेट्रोल, जानिए आम आदमी की जेब पर कितना पड़ा असर

पंजाब। पेट्रोल चंडीगढ़, हरियाणा और हिमाचल से महंगा हो गया है। हिमाचल प्रदेश के मुकाबले पंजाब में प्रति लीटर डीजल के अब अतिरिक्त 3.19 रुपये...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

सरकार द्वारा सभी महापुरूषों की जयंतियों को मनाया जा रहा है ,सरकारी तौर पर- रेखा आर्या

दुनिया को एकता के सूत्र में पिरोने का कार्य किया 'संत रविदास' ने- रेखा आर्या देहरादून। आज प्रदेश की कैबिनेट मंत्री रेखा आर्या संत रविदास की...

पाकिस्तान के पूर्व राष्ट्रपति परवेज मुशर्रफ का दुबई के अस्पताल में हुआ निधन, 79 साल की उम्र में ली अंतिम सांस

नई दिल्ली। पाकिस्तान के पूर्व राष्ट्रपति परवेज मुशर्रफ का निधन हो गया है। पाकिस्तान मीडिया के हवाले से यह खबर सामने आई है। मुशर्रफ लंबे...

बगीचे को साफ रखने के लिए इस्तेमाल करें ये 5 टिप्स

घर पर एक अच्छा और सुंदर बगीचा बनाए रखना पर्यावरण के लिए काफी अच्छा होता है। इसके साथ ही यह आपके मानसिक स्वास्थ्य के...

भारत के सबसे हैंडसम मुख्यमंत्री का खिताब पुष्कर सिंह धामी के नाम, जानिए सर्वे में कौन मुख्यमंत्री छूटे पीछे

देहरादून। उत्तराखण्ड के मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी अपनी सरल और सौम्य छवि के लिए काफी लोकप्रिय हैं। लोगों के बीच जाकर उनकी समस्याओं को सुनना...

बैंक ऑफ बड़ौदा के तीसरी तिमाही के शुद्ध लाभ में 75 प्रतिशत का उछाल

नयी दिल्ली।  सार्वजनिक क्षेत्र के बैंक ऑफ बड़ौदा ने वर्ष 2022-23 में गत दिसंबर को समाप्त तीसरी तिमाही में 75 प्रतिशत की वृद्धि के साथ...

उत्तर प्रदेश के गोरखपुर जिले में पति- पत्नी समेत दो बच्चों की मौत, आसपास मचा कोहराम, घटना की जानकारी जुटाने में लगी पुलिस

उत्तर प्रदेश। गोरखपुर जिले के गोला थाना इलाके के देवकली गांव में शनिवार की देर रात पति-पत्नी और दो बच्चों की जलने से मौत हो...

धाकड़ ध्यानी के दमदार फैसलों पर सीएम धामी की मुहर, पिटकुल MD पद पर मिला एक साल का सेवा विस्तार

ईमादार और पारदर्शी फैसलों से पीसी ध्यानी ने जीता सबका दिल देहरादून। ऊर्जा क्षेत्र में पारदर्शिता और स्वस्थ कार्यप्रणाली प्रबंधन विकसित करने की कवायद में जुटे...

बॉलीवुड के स्टार कपल रितेश देशमुख और जेनेलिया डिसूजा अपनी शादी की सालगिरह मनाने पहुंचे मसूरी

मसूरी। बॉलीवुड के स्टार कपल रितेश देशमुख और जेनेलिया डिसूजा देशमुख अपनी शादी की सालगिरह मनाने पहाड़ों की रानी मसूरी पहुंचे। ये कपल चार दिन...

फिर बजा पीएम मोदी का डंका, दुनियाभर के नेताओं में रहे टॉप पर- बाइडेन और सुनक काफी पीछे

नई दिल्ली। पिछले साल की तरह इस साल भी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को दुनिया के सबसे लोकप्रिय नेता के तौर पर चुना गया है। अमेरिकी...

सरकार में फेरबदल का क्या हुआ?

भाजपा संगठन में जिस तरह फेरबदल की चर्चा थम गई है वैसे ही नरेंद्र मोदी की सरकार में बदलाव और विस्तार की चर्चा भी...

Recent Comments