Home उत्तराखंड कांवड़ यात्रा : उत्तराखंड के बैन के बाद आयोजन को लेकर क्या...

कांवड़ यात्रा : उत्तराखंड के बैन के बाद आयोजन को लेकर क्या है उत्तर प्रदेश का रुख?

देहरादून/लखनऊ। ‘इस बारे में पड़ोसी राज्यों से काफी बातचीत के बाद निष्कर्ष यही निकला कि उत्तराखंड में नया वैरिएंट दस्तक दे चुका है और अब हम नहीं चाहते कि हरिद्वार महामारी का केंद्र बन जाए। लोगों की ज़िन्दगी हमारी प्राथमिकता है और हम कोई जोखिम नहीं लेना चाहते।’ यह बात उत्तराखंड के मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने मंगलवार को पत्रकारों से कही। डेल्टा प्लस वैरिएंट केस राज्य में मिलने के बाद कांवड़ यात्रा को इस साल रद्द करने के फैसले के बारे में सीएम ने साफ कहा कि विशेषज्ञों की चेतावनियों के बाद उत्तराखंड तीसरी लहर का कारण नहीं बनना चाहता। इस बैन के बाद पड़ोसी राज्य उत्तर प्रदेश में नये सिरे से कांवड़ यात्रा को लेकर रणनीति बनने लगी है।

पिछले करीब डेढ़ हफ्ते से उत्तराखंड और उत्तर प्रदेश के बीच कांवड़ यात्रा के आयोजन को लेकर बातचीत चल रही थी। उप्र के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने सीएम धामी से एक से ज़्यादा बार फोन पर बातचीत भी की थी। इस बातचीत के बाद पिछले दिनों उत्तराखंड कांवड़ यात्रा पर लगभग सहमत भी हो गया था, लेकिन जानकारों की चिंताओं और चेतावनियों के बाद ताज़ा फैसले के तौर पर कांवड़ यात्रा को इस साल रद्द किया गया। हालांकि उप्र अब भी इस यात्रा के पक्ष में है और अपने स्तर पर आयोजन करवाने जा रहा है।

इस बार पश्चिमी उत्तर प्रदेश कांवड़ यात्रा का बड़ा केंद्र रहेगा।

प्रतिबंधों के साथ होगी उप्र में यात्रा

कांवड़ यात्रा वास्तव में उन श्रद्धालुओं की यात्रा है, जो गंगा के घाटों पर जाकर गंगाजल लेते हैं और अपने गांव या घर ले जाते हैं। वहां इस गंगाजल से देवी देवताओं का अभिषेक किया जाता है। 2019 में जब आखिरी बार यह यात्रा हुई थी, तब इसमें 3।5 करोड़ से ज़्यादा श्रद्धालु हरिद्वार पहुंचे थे। इस यात्रा का बड़ा केंद्र पारंपरिक तौर पर हरिद्वार रहा करता है, लेकिन इस साल उत्तराखंड के फिर इस यात्रा को निरस्त करने पर उप्र अपने स्तर पर आयोजन करवाएगा।

कानून व्यवस्था के लिए यूपी के एडीजी प्रशांत कुमार ने कहा कि इस साल 25 जुलाई से 6 अगस्त के बीच कांवड़ यात्रा होगी। अधिकारियों ने यह भी बताया कि 2019 में इस यात्रा के दौरान 2 से 3 करोड़ श्रद्धालु पश्चिमी उप्र के तीर्थ स्थानों पर पहुंचे थे। इस साल कोविड प्रोटोकॉल के पालन के साथ ही यात्रा को मंज़ूरी दिए जाने की बात कही गई है और उप्र सरकार ने दावा किया है कि सुनिश्चित करवाया जाएगा कि कोविड नियमों का अनुशासन बना रहे।

गौरतलब है कि इस बार हरिद्वार के बजाय उप्र के बागपत, मुजफ्फरनगर, गाजियाबाद, मेरठ, बुलंदशहर, हापुड़, अमरोहा, शामली, आगरा, अलीगढ़, सहारनपुर, बरेली, खेड़ी, बाराबंकी, अयोध्या, गोरखपुर, झांसी, संत कबीर नगर, बस्ती, वाराणसी, भदोही, मऊ, मिर्जापुर, सीतापुर और लखनऊ आदि ज़िलों में कां​वड़ियों का ट्रैफिक ज़्यादा रहेगा।

 

Source link

RELATED ARTICLES

चारधाम यात्रा में अव्यवस्थाओं पर भड़के यशपाल आर्य, बोले सिस्टम के नाकारापन के कारण पूरे देश में उत्तराखंड की छवि हो रही खराब

हल्द्वानी। चारधाम यात्रा की व्यवस्थाओं को लेकर नेता प्रतिपक्ष यशपाल आर्य ने सरकार पर सवाल उठाए। कहा कि सरकार यात्रियों को बुनियादी सुविधाएं तक...

देहरादून पहुंचा पहाड़ का रसीला खट्टा मीठा फल काफल, जानिए इसके फायदे

देहरादून। सीजन के अंतिम दिनों में ही सही पहाड़ का रसीला काफल देहरादून पहुंच गया है। यह पहाड़ी फल कैंसर समेत कई बीमारियों की रोकथाम...

फर्जी राशन कार्ड धारकों के ख़िलाफ़ खाद्य विभाग की महिमा, “अपात्र को ना और पात्र को हां”, 1967 टोल फ्री नंबर पर करें शिकायत

देहरादून। खाद नागरिक आपूर्ती व उपभोगता मामले मंत्री रेखा आर्या ने आज बनबसा से वर्चुअल माध्यम से खाद्य विभाग की समीक्षा बैठक ली। बैठक में...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

चारधाम यात्रा में अव्यवस्थाओं पर भड़के यशपाल आर्य, बोले सिस्टम के नाकारापन के कारण पूरे देश में उत्तराखंड की छवि हो रही खराब

हल्द्वानी। चारधाम यात्रा की व्यवस्थाओं को लेकर नेता प्रतिपक्ष यशपाल आर्य ने सरकार पर सवाल उठाए। कहा कि सरकार यात्रियों को बुनियादी सुविधाएं तक...

देहरादून पहुंचा पहाड़ का रसीला खट्टा मीठा फल काफल, जानिए इसके फायदे

देहरादून। सीजन के अंतिम दिनों में ही सही पहाड़ का रसीला काफल देहरादून पहुंच गया है। यह पहाड़ी फल कैंसर समेत कई बीमारियों की रोकथाम...

फर्जी राशन कार्ड धारकों के ख़िलाफ़ खाद्य विभाग की महिमा, “अपात्र को ना और पात्र को हां”, 1967 टोल फ्री नंबर पर करें शिकायत

देहरादून। खाद नागरिक आपूर्ती व उपभोगता मामले मंत्री रेखा आर्या ने आज बनबसा से वर्चुअल माध्यम से खाद्य विभाग की समीक्षा बैठक ली। बैठक में...

उत्तराखंड का आम बजट बनाने में आप भी दीजिये धामी सरकार को अपने अहम सुझाव, जानिए कैसे

देहरादून । उत्तराखंड सरकार आम बजट को लेकर राज्य के हर वर्ग से सुझाव लेगी। इसके लिए सरकार के स्तर से ईमेल आईडी जारी...

“मोक्ष” पर सियासत जारी, राजीव महर्षि ने लगाया भाजपा पर सनातन धर्म के अपमान का आरोप

देहरादून। चारधाम यात्रा पर लोग मोक्ष प्राप्ति के लिये आते हैं बयान के बाद उत्तराखंड की सियासत में उबाल है। भाजपा प्रवक्ता के बयान...

बद्रीनाथ हाईवे हनुमानचट्टी के बलदोड़ा में पत्थर गिरने से मार्ग हुआ अवरुध्द, विभिन्न स्थानों पर ठहरे यात्री

देहरादून। चमोली में बीती देर रात को तेज बारिश के चलते बद्रीनाथ राष्ट्रीय राजमार्ग के हनुमानचट्टी से आगे बलदोड़ा में चट्टान से पत्थर गिरने और...

शिक्षा विभाग में अपनी ढपली अपना राग, चहेतों के लिए एक्ट दरकिनार, बीमार शिक्षक कर रहे तबादलों का इंतजार

देहरादून। शिक्षा विभाग में शून्य सत्र के बावजूद पूरे साल तबादलों एवं शिक्षकों की संबद्धता का खेल चलता रहा, लेकिन बीमार शिक्षक तबादले का...

चारधाम यात्रा :- केदारनाथ और यमुनोत्री धाम में 31 मई तक पंजीकरण फुल, अब तक 2 लाख से अधिक श्रद्धालु कर चुके दर्शन

देहरादून। केदारनाथ और यमुनोत्री धाम में दर्शन करने के लिए 31 मई तक वहन क्षमता के अनुसार पंजीकरण फुल हो चुके हैं, जबकि बदरीनाथ...

विदेशी मुद्रा भंडार 1.8 अरब डॉलर घटकर 595.9 अरब डॉलर पर

मुंबई ।  देश का विदेशी मुद्रा भंडार 06 मई को समाप्त सप्ताह में लगातार नौवें सप्ताह गिरता हुआ 1.8 अरब डॉलर कम होकर 595.9 अरब...

जानिए गर्मी में दिन में कितनी बार धोना चाहिए चेहरा, बनी रहेगी नमी

गर्मी में ताजगी बने रहने के लिए लोग दिन में कई बार चेहरा धोते हैं। कुछ लोगों को लगता है कि बार-बार फेस वॉश...

Recent Comments