Home ब्लॉग दिग्गजों को नहीं भा रहा कांग्रेस का घर-घर चलो अभियान

दिग्गजों को नहीं भा रहा कांग्रेस का घर-घर चलो अभियान

अरुण पटेल
रस्सी जल गई लेकिन बल नहीं गए की तर्ज पर कहा जा सकता है कि पूरे देश की तरह मध्यप्रदेश में भी कांग्रेस पार्टी  गुटबंदी के दलदल से उबरती  नजर आने के स्थान पर उसमें और गहरे तक धंसती नजर आ रही है। मध्यप्रदेश में 2018 के विधानसभा के चुनाव में किसी भी राजनीतिक दल को स्पष्ट बहुमत नहीं मिला था। सीटों के लिहाज से सबसे बड़े राजनीतिक दल के तौर पर कांग्रेस को सरकार बनाने का मौका मिला था। लेकिन अपने अंतर्विरोधों के चलते ही पंद्रह माह में कमलनाथ सरकार गिर गई। इसका कारण गुटबंदी और कुछ नेताओं का अपना अहं भी था और उसके कारण जो असंतोष पैदा हो रहा था उसकी परिणिति अंतत: कमलनाथ सरकार के गिर जाने में हुई। इसके बाद भी पार्टी में गुटबाजी थमती दिखाई नहीं दे रही है। पूर्व मुख्यमंत्री और प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कमलनाथ द्वारा 1 फरवरी से शुरू किए गए ‘घर चलो, घर-घर चलो अभियान ‘ से पार्टी के बड़े नेताओं की दूरी नेताओं के बढ़े हुए अहं को जाहिर करने वाली है। इससे लगता है कि दिग्गजों को यह अभियान नहीं भा रहा है ।
राज्य में विधानसभा के चुनाव अगले साल के आखिर में होना है और लगता है कि शायद अभी भी गुटबंदी से पीछा छुड़ाने के स्थान पर नेताओं की अपने निजी महत्वाकांक्षाएं उन पर ज्यादा हावी हैं। इसमें दो राय नहीं हो सकती है कि गुटबाजी के चलते ही पंद्रह साल सत्ता से बाहर रही कांग्रेस 15 माह में ही अपनी सरकार गवां बैठी थी। यदि यह कहा जाए कि राष्ट्रीय फलक पर राजनीतिक दलों में कांग्रेस अकेली ऐसी पार्टी है, जिसमें हर स्तर पर इस कदर गुटबाजी को देखा जा सकता है। गुटबाजी के कारण ही पूर्व में कई दिग्गज नेताओं ने कांग्रेस को छोडक़र अपनी अलग पार्टी बनाई। शरद पवार और ममता बनर्जी का नाम इनमें प्रमुख है। अर्जुन सिंह और माधवराव सिंधिया जैसे बड़े नेता भी कांग्रेस पार्टी छोडऩे के लिए मजबूर हुए थे। हालांकि माधवराव सिंधिया ने अपनी पार्टी मध्य प्रदेश विकास कांग्रेस बनाई थी और किसी स्थापित राजनीतिक दल में नहीं गए थे तथा बाद में कांग्रेस में लौट आए। अर्जुन सिंह भी कांग्रेस में वापस लौटे। उस समय अविभाजित मध्यप्रदेश था। मध्यप्रदेश कांग्रेस में अर्जुन सिंह और माधवराव सिंधिया की गुट की लड़ाई कई सालों तक चली थी। श्यामाचरण शुक्ल और विद्याचरण शुक्ल का भी अपना गुट रहा है। गुटबाजी के कारण ही कांग्रेस नब्बे के दशक से ही लोकसभा सीटों पर अपनी पकड़ कमजोर करती हुई नजर आई थी। पिछले लोकसभा चुनाव में कांग्रेस केवल एक छिंदवाड़ा की  ही सीट जीतने में सफल रही थी। 2019 के लोकसभा चुनाव में गुना में ज्योतिरादित्य सिंधिया की हार में कांग्रेस की गुटबाजी को भी एक बड़ी वजह माना जाता है। मार्च 2020 में सिंधिया भाजपा में शामिल हो गए। इसके बाद यह माना जा रहा था कि पूर्व मुख्यमंत्री द्वय दिग्विजय सिंह और कमलनाथ के बीच आपसी समन्वय में गुटबाजी दिखाई नहीं देगी। परंतु ऐसा आभास मिलता है कि दोनों के बीच आपसी समन्वय कुछ लडख़ड़ा रहा है। 2018 के विधानसभा चुनाव में से पहले कांग्रेस पंद्रह साल प्रदेश में सत्ता से बाहर रही। इसकी वजह केवल क्षत्रपों का अहं रहा।
कमलनाथ एक साथ दो महत्वपूर्ण पदों पर हैं। प्रदेश अध्यक्ष और विधायक दल के नेता का पद उनके पास है। कमलनाथ को वर्ष 2018 के विधानसभा चुनाव से ठीक पहले प्रदेश कांग्रेस कमेटी का अध्यक्ष बनाया था। विधायक दल के नेता का पद उन्होंने सरकार गिर जाने के बाद भी नहीं छोड़ा। दिग्विजय  सिंह इस पद पर अपने समर्थक को बैठाना चाहते थे। कमलनाथ प्रदेश कांग्रेस की राजनीति में प्रमुख पदों का बंटवारा करने के पक्ष में दिखाई नहीं दे रहे हैं। कांग्रेस के महत्वपूर्ण पदों पर वे धीरे-धीरे अपने समर्थकों को बैठाते जा रहे हैं। 1 फरवरी को देवास में घर चलो, घर घर चलो अभियान की शुरुआत जब कमलनाथ ने की तो उस समय  वही अधिकांश चेहरे नजर आए जो कमलनाथ के निजी समर्थक हैं। आजकल कांग्रेस के महत्वपूर्ण कार्यक्रमों में भी बड़े नेता नजर नहीं आ रहे हैं। राज्य विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष रहे अजय सिंह जरूर अपने प्रभाव वाले इलाके में इस अभियान के पहले से ही सक्रिय हैं और दिसंबर से ही उन्होंने घर वापसी अभियान छेड़ दिया था और भाजपा के अनेक लोगों को कांग्रेस में शामिल कराया तथा जो रूठ कर चले गए थे उन्हें भी पार्टी में वापस लाए। लेकिन फिलहाल दिग्विजय सिंह कांतिलाल भूरिया अरुण यादव विवेक तंखा अभी तक इस अभियान से दूरी बनाए हुए हैं। सुरेश पचौरी स्वास्थ्य कारणों से फिलहाल किसी भी कार्यक्रम में भाग लेने की स्थिति में नहीं हैं। इस सिलसिले में प्रदेश कांग्रेस महामंत्री मीडिया के के मिश्रा का कहना है कि पूर्व प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष अरुण यादव कोरोना पॉजिटिव है और कांतिलाल भूरिया अपने क्षेत्र झाबुआ में इस अभियान को चला रहे हैं। दिग्विजय सिंह और विवेक तंखा संसद का सत्र होने के कारण उसमें व्यस्त है और पार्टी में अब किसी भी स्तर पर कोई गटबंदी नहीं है। कांग्रेस प्रवक्ता योगेश यादव कहते हैं कि यह कार्यक्रम 28 फरवरी तक चलना है। हर नेता अपने-अपने प्रभाव क्षेत्र में कांग्रेस की मजबूती के लिए काम करते दिखाई देंगे।
दरअसल प्रदेश कांग्रेस कमेटी पर पूरी तरह से कमलनाथ का दबदबा है क्योंकि वह प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष के साथ ही राज्य विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष भी हैं। कुछ कांग्रेस नेताओं का कहना है कि घर-घर चलो अभियान कार्यक्रम की सूचना जिलों के कई पुराने कांग्रेसियों को दी ही नहीं गई। दिग्विजय सिंह के भाई चाचौड़ा विधायक लक्ष्मण सिंह जरूर अपने विधानसभा क्षेत्र में सक्रिय दिखाई दिए।
अजय सिंह ने चला रखा है घर वापसी अभियान
अजय सिंह अपने प्रभाव वाले विंध्य क्षेत्र में अलग  कांग्रेस में वापसी का अभियान चला रखा है। लेकिन,इस अभियान को पार्टी मान्यता नहीं दे रही। कमलनाथ समर्थक पूर्व मंत्री सज्जन सिंह वर्मा कहते हैं कि पार्टी के दरवाजे उन सभी के लिए खुले हैं,जो दूसरे दल में जाने के बाद भी कांग्रेस पार्टी की विचारधारा से जुड़े रहे। वर्मा ने साफ तौर पर कहा कि पार्टी ने घर वापसी का कोई अभियान शुरू नहीं किया है। इसके बावजूद भी अजय सिंह ने सज्जन सिंह वर्मा के कथन को कोई अहमियत ना देते हुए घर चलो घर चलो अभियान के तहत अपनी सक्रियता विंध्याचल में बना रखी है। प्रदेश कांग्रेस कमेटी के पूर्व अध्यक्ष अरुण यादव भी लंबे समय से उपेक्षित चल रहे हैं। वे कई बार सार्वजनिक तौर कमलनाथ के फैसलों पर सवाल भी खड़े कर चुके हैं। खंडवा लोकसभा के उपचुनाव के बाद कमलनाथ ने जिला कांग्रेस कमेटी के महत्वपूर्ण पदों पर बैठे यादव समर्थकों को हटा दिया था। जाहिर है कि निचले स्तर का  कार्यकर्ता  अभियान से जुडऩे के लिए अपने- अपने नेता के निर्देश का इंतजार कर रहा है।
कमलनाथ के नेतृत्व में ही लड़ा जाएगा अगला चुनाव
2018 के विधानसभा चुनाव में कांग्रेस की पंद्रह साल बाद सत्ता में वापसी हुई थी। इस वापसी में दिग्गज नेताओं की एकजुटता बेहद महत्वपूर्ण रही थी। ज्योतिरादित्य सिंधिया का चेहर स्टार प्रचारक के तौर पर सामने था। दिग्विजय सिंह ने मैदानी कार्यकर्ताओं को एकजुट किया। लेकिन,सरकार बनने के बाद गुटबाजी फिर हावी हो गई। यह तय माना जा रहा है कि विधानसभा का अगला चुनाव कमलनाथ के नेतृत्व में ही लड़ा जाएगा। कमलनाथ की रणनीति भी इसी ओर इशारा कर रही है।   शिवराज सिंह चौहान की सरकार और भाजपा के प्रति सबसे अधिक आक्रामक मुद्रा में केवल दिग्विजय सिंह ही नजर आ रहे हैं। अजय सिंह भी अपनी दावेदारी को मजबूत करने में लगे हुए हैं। पिछले विधानसभा चुनाव में कांग्रेस को सबसे ज्यादा नुकसान विंध्य क्षेत्र में ही हुआ  था। अजय सिंह खुद भी विधानसभा का चुनाव हार गए थे। इसके बाद लोकसभा चुनाव में हुई सिंधिया की हार से कमलनाथ का आत्म विश्वास स्वाभाविक तौर बढ़ा। उनके समर्थक लोकप्रिय चेहरा होने का दावा भी कर रहे हैं।
और यह भी
प्रदेश कांग्रेस के प्रवक्ता रहे और अब ज्योतिरादित्य सिंधिया के साथ भाजपा में जाने के बाद उसके प्रवक्ता बने पंकज चतुर्वेदी कमलनाथ की शैली पर व्यंग्य करते हुए कहते हैं कि कमलनाथ जी आपके चलो चलो अभियान के चलते ही आप व आपकी पार्टी सडक़ पर है। कोई घर ठिकाना बचा नहीं। वैसे भी जनता जनार्दन ने आपको घर बिठा रखा है। अब कौन से घर चलो अभियान की बात आप कर रहे हैं। देवास में इस अभियान के आगाज के समय का उल्लेख करते हुए चतुर्वेदी कहते हैं कि वैसे भी आप हेलीकॉप्टर एवं गाड़ी में बैठकर घर चलो अभियान कर रहे हैं जो आपकी इस अभियान के प्रति गंभीरता को प्रदर्शित करता है।जब कांग्रेस का नेता प्रतिपक्ष और अध्यक्ष ऐसा कर रहा है तो बाक़ी कार्यकर्ता भी आपका ही अनुसरण कर रहे हैं वे इसको अभियान नहीं अभिनय कहते हैं नाथ जी।

RELATED ARTICLES

विपक्ष भले मरा हो पर वोट ज्यादा

हरिशंकर व्यास भारत के लोकतंत्र का अभूतपूर्व तथ्य है जो 1952 से अभी तक के लोकसभा चुनावों में कभी भी, किसी भी सत्तारूढ़ पार्टी को...

ट्रंप को हराना क्यों मुश्किल?

श्रुति व्यास डोनान्ड ट्रंप ने फिर साबित किया है कि वे अजेय हैं। 24 फरवरी को ट्रंप ने प्रतिस्पर्धी निकी हैली के गृहराज्य साऊथ केरोलाइना...

विपक्ष के गढ़ में क्या खिलेगा कमल?

हरिशंकर व्यास यह भी अहम सवाल है कि क्या भाजपा किसी ऐसे राज्य में चुनाव जीत पाएगी, जहां इससे पहले वह कभी नहीं जीती है?...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

सहायक समाज कल्याण अधिकारियों व छात्रावास अधीक्षकों को मिले नियुक्ति-पत्र

अपनी सेवाओं के माध्यम से अंत्योदय के सिद्धांत को पूर्ण करें - मुख्यमंत्री प्रतिभावान एवं क्षमतावान अभ्यर्थी ही परीक्षाओं में हो रहे सफल- मुख्यमंत्री देहरादून। मुख्यमंत्री...

सेब कास्तकरों का एक माह के भीतर शेष भुगतान किया जाएगा

कृषि मंत्री गणेश जोशी ने अधिकारियों को दिए निर्देश देहरादून। प्रदेश के कृषि एवं कृषक कल्याण मंत्री गणेश जोशी से आज हाथीबड़कला स्थित उनके कैंप...

प्रकृति से जुड़ने का संदेश देती है पुष्प प्रदर्शनी- महाराज

राज भवन में महाराज ने किया बसंतोत्सव में प्रतिभाग देहरादून। राज भवन में बसंतोत्सव 2024 "संकल्प से सिद्धि, फूलों से समृद्धि" तीन दिवसीय पुष्प प्रदर्शनी...

सीएचसी चौण्ड प्रकरण में इलाज नहीं मिलने पर कार्यवाही के निर्देश

स्वास्थ्य महानिदेशक को लापरवाह चिकित्सकों पर एक्शन लेने के निर्देश कहा, प्रत्येक अस्पताल में चिकित्सकों की लगेगी बायोमेट्रिक उपस्थिति देहरादून। टिहरी के सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र चौण्ड...

केएल राहुल इंग्लैंड के खिलाफ पांचवें टेस्ट मैच से हुए बाहर  

बीसीसीआई ने की पुष्टि नई दिल्ली।  भारत के स्टार बल्लेबाज केएल राहुल इंग्लैंड के खिलाफ पांचवें टेस्ट से भी बाहर हो गए हैं। बीसीसीआई ने...

शासन ने उपनल कर्मचारियों का 10 प्रतिशत मानदेय बढ़ाने के बाद दी एक ओर राहत भरी खबर 

देहरादून। शासन ने उपनल कर्मचारियों का 10 प्रतिशत मानदेय बढ़ाने के बाद अब हटाए गए उपनल कर्मचारियों को एक महीने के भीतर फिर से...

कियारा आडवाणी डॉन 3 में लगाएंगी एक्शन का तड़का, रणवीर सिंह के साथ जमेगी जोड़ी

डॉन 3 के निर्माता, रितेश सिधवानी और फरहान अख्तर ने कल एक बड़ी घोषणा की तरफ इशारा करते हुए दर्शकों को बड़ा सरप्राइज़ दिया...

उत्तराखंड विधानसभा में चार दिन के बजट सत्र में ये विधेयक हुए पारित

देहरादून। उत्तराखंड विधानसभा में चार दिन के बजट सत्र में सदन की कार्यवाही 28 घंटे 25 मिनट चली। सदन में कुल 304 प्राप्त प्रश्नों...

ढाका में 7 मंजिला रेस्तरां में लगी आग, 43 की मौत; दर्जनों घायल

ढाका। बांग्लादेश के ढाका में एक 7 मंजिला इमारत में आग लगने से कम से कम 43 लोगों की मौत हो गई है। स्थानीय...

नाबालिग लड़की का संदिग्ध परिस्थितियों में मिला शव 

यशपाल आर्य के साथ ही कांग्रेस के विधायकों ने थाने में किया हंगामा आरोपियों को तत्काल गिरफ्तार कर कार्रवाई की मांग की देहरादून। रेसकोर्स में एक...

Recent Comments