Tuesday, June 28, 2022
Home ब्लॉग उत्तराखंड सरकार को उत्तराखंड के बेहतर भविष्य के लिए पब्लिक प्राइवेट पार्टनरशिप...

उत्तराखंड सरकार को उत्तराखंड के बेहतर भविष्य के लिए पब्लिक प्राइवेट पार्टनरशिप (पीपीपी) मॉडल को अपनाना चाहिए- श्री जगदीश भट्ट

उत्तराखंड में जिस उद्देश्य से गढ़वाल मंडल विकास निगम एवं कुमाऊँ मंडल विकास निगम की स्थापना की गई थी उस उद्देश्य में कहीं न कहीं हम अब पिछड़ चुके हैं। जब इस मंडल की स्थापना की गई थी तब यही उम्मीद की गई थी कि इस जीएमवीएन एवं केएमवीएन के माध्यम से प्रदेश में पर्यटन के क्षेत्र में रोजगार बढ़ेगा एवं बाहरी पर्यटकों के आवश्यकता अनुसार हर प्रकार के इन्फ्रास्ट्रक्चर डिवेलप किया जाएगा जहां पर पर्यटक आराम से पर्वतीय क्षेत्रों का भ्रमण करें।

जीएमवीएन एवं केएमवीएन के माध्यम से सरकार ने यह भी उम्मीद की थी कि इससे उत्तराखंड के लोगों को अधिक से अधिक रोजगार मिलेगा एवं उत्तराखंड के किसानों के लिए फल -सब्जी, जड़ी – बूटियां एवं अन्य उत्पादों के लिए एक अच्छी मार्केटिंग की व्यवस्था हो जाएगी और उनके उत्पाद के खपत बढ़ जाएगा जिससे उत्तराखंड के लोगों को आर्थिक लाभ मिलेगा। कुल मिलाकर देखे तो सरकार को एक ऐसी इकोसिस्टम का निर्माण करना था जो कि प्रदेशवासियों के लिए लाभप्रद हो एवं अन्य प्रदेशों से आए पर्यटकों के लिए भी लुभावनी एवं व्यवस्थित हो।

 वर्तमान समय में अगर हम गढ़वाल मंडल विकास निगम एवं कुमाऊँ मंडल विकास निगम की बात करें तो पूरे प्रदेश में हम यह देख सकते हैं कि जितने भी गेस्ट हाउस इन निगमो के है उनकी स्थिति अच्छी नहीं है और ना ही उनका अच्छी तरह से रखरखाव किया जा रहा है। जो भी स्टाफ नियुक्त किए जा रहे हैं उनकी ट्रेनिंग प्रोफेशनल नहीं है। वहीं पर आप देख सकते हैं कि जितने भी उत्तराखंड के अंदर प्राइवेट गेस्ट हाउस एवं होमस्टे है वहां पर पर्यटकों को उच्च कोटि की व्यवस्थाएं मिलती है एवं उच्च गुणवत्ता वाले हाइजीन भोजन भी खाने को मिलता है। वही जितने भी बावर्ची प्राइवेट गेस्ट हाउस एवं होमस्टे के है वे सब प्रोफेशनल हैं। जो उत्तराखंड आए पर्यटकों को अच्छी सुविधा देते हैं एवं उनका दिल जीत लेते हैं।

हमारे गढ़वाल मंडल विकास निगम एवं कुमाऊँ मंडल विकास निगम के कुछ ऐसे प्रॉपर्टी है जहां पर वर्तमान व्यवस्था को सुधारकर और अच्छा किया जा सकता है एवं मुनाफा भी अधिक कमाया जा सकता है। अगर राज्य सरकार चाहे तो गढ़वाल मंडल विकास निगम एवं कुमाऊँ मंडल विकास निगम का कुछ अंश “पीपीपी“ पब्लिक प्राइवेट पार्टनरशिप मॉडल के आधार पर एक पायलट प्रोजेक्ट के तहत कुछ इच्छुक संस्थानों को दे जो इस काम को प्रोफेशनल तरिके के करना चाहते है और यह सुनिश्चित करे कि उन प्रोजेक्ट का रखरखाव एवं संचालन व्यवस्था भी वही संस्था अच्छे से करें।

इसमें कोई शक की बात नहीं है कि जितना जगह गढ़वाल मंडल विकास निगम एवं कुमाऊँ मंडल विकास निगम के गेस्ट हाउस के पास है वह अन्य प्राइवेट संस्थानों के पास नहीं है। हमें इन सभी जगहों का सौ फिसदी फायदा उठाकर एक ऐसे मॉडल का निर्माण करना चाहिए जिसके माध्यम से गढ़वाल मंडल विकास निगम एवं कुमाऊँ मंडल विकास निगम के सालाना आय को दोगुनी करनी चाहिए जो आने वाले 5 से 10 सालों में कई गुना भि हो सकता है।

 उत्तराखंड जन विकास सहकारी समिति के सदस्यों ने विगत वर्षों के दौरान कई ऐसे गेस्ट हाउसों का दौरा किया है और पाया है कि इन जगहों पर डेवलपमेंट कि जरूरत है एवं आकलन किया है कि  इन जगहों पर व्यवस्थाओं को सुव्यवस्थित किया जा सकता है और निगम के आय को कई गुना बढ़ाया जा सकता है। गढ़वाल मंडल विकास निगम एवं कुमाऊँ मंडल विकास निगम के कई गेस्ट हाउसों ऐसे हैं जहा  पर रोजगार को और बढ़ावा दिया जा सकता है साथ ही साथ लोकल जो किसान हैं उनकी भी आयो को बढ़ाया जा सकता है एवं एक ऐसा इकोसिस्टम का निर्माण किया जा सकता है जिससे परस्पर सभी वर्ग के लोगों को लाभ पहुंचे एवं आने वाले पर्यटकों को भी अच्छी सुविधा मुहैया हो।

उत्तराखंड जन विकास सहकारी समिति ने इन क्षेत्रों के लिए जो विकास का मॉडल बनाया है उसके अंतर्गत गढ़वाल मंडल विकास निगम एवं कुमाऊँ मंडल विकास निगम के अंतर्गत अन्य सैकड़ों लोगों को रोजगार मिल सकता है साथ ही साथ लघु एवं कुटीर उद्योग से जुड़े हुए लोगों के लिए मार्केटिंग की अच्छी व्यवस्था की जा सकती है एवं जो हमारे स्थानीय लोक कलाकार हैं उन सब के लिए भी रोजगार के नये रास्ते खुल सकते है। फलों एवं सब्जी की खेती करने वाले किसान एवं जड़ी बूटी की खेती करने वाले किसान के साथ-साथ हथकरघा एवं हस्तशिल्प से जुड़े हुए लोगों को भी रोजगार का अच्छा अवसर प्राप्त होगा। पर्यटन से जुड़े हुए लोगों के लिए भी यह मील का पत्थर साबित होगा जहां पर राष्ट्रीय एवं अंतर्राष्ट्रीय स्तर की ट्रेनिंग मुहैया कराई जाएगी। वहीं  वर्तमान में कार्यरत जो भी बावर्ची है उन सभी को अंतरराष्ट्रीय स्तर के बावर्ची के साथ ट्रेनिंग कराना एवं उन्हें अंतरराष्ट्रीय स्तर की सुविधा उत्तराखंड के आए हुए लोगों को मुहैया कराना भी शामिल है।

 वर्तमान में जो लोग पर्यटन व्यवसाय से जुड़े हुए लोग हैं उन सभी को देश-विदेश से आए हुए पर्यटकों के लिए अंतरराष्ट्रीय स्तर की सुविधा उपलब्ध करना एवं एक ऐसा नेटवर्क विकसित करना भी शामिल है जिसके माध्यम से उत्तराखंड में जो भी पर्यटक आए वह अपना वक्त ज्यादा से ज्यादा हमारे प्रदेश में बिताए। पर्यटकों को ज्यादा से ज्यादा उत्तराखंड के संस्कृति, कला, परंपरा एवं पारंपरिक भोजन से रूवरू कराया जाए एवं उत्तराखंड के साअंदरूनी भागों को एक्सप्लोर करने के लिए कहा जाए ताकि पर्यटकों को उत्तराखंड के अंदर ज्यादा से ज्यादा वक्त बिताने का मौका मिले एवं प्रदेश के लोगों की आय बढ़े। यह सब एक इको सिस्टम डिवेलप करने के बाद ही प्रभावी रूप से चलाया जा सकता है और उत्तराखंड जन विकास सहकारी समिति की जो टीम है उनको अंतरराष्ट्रीय स्तर का एक्सपोजर प्राप्त है जिसके माध्यम से वह उत्तराखंड में पर्यटकों के लिए कई ऐसे मॉडल का विकास करने का प्रयास कर रहे हैं जिससे उत्तराखंड के लोगों को ज्यादा से ज्यादा रोजगार मिल सके।

 अगर सरकार इजाजत दे तो उत्तराखंड जन विकास सहकारी समिति पब्लिक प्राइवेट पार्टनरशिप मॉडल के आधार पर कुछ गेस्ट हाउस को समिति अपने अधिन कर मुनाफे में ला सकती है एवं समिति यह साबित करेगी कि इस तरह के मॉडल को अपनाने से उत्तराखंड के अंदर न्ये रोजगार को बढाया जा सकता है साथ ही साथ पर्यटन एवं अन्य पेशे से जुड़े हुए लोगों को स्वरोजगार से जोड़ा जा सकता है।

लेखक श्री जगदीश भट्ट उत्तराखंड के एक जाने माने एंटरप्रेन्योर है एवं उत्तराखंड जन विकास सहकारी समिति के महासचिव हैं।

RELATED ARTICLES

महंगाई के लिए कौन दोषी

आरबीआई समय पर मुद्रास्फीति पर काबू पाने के कदम उठाता, तो आज स्थिति बेहतर होती। लेकिन वह महंगाई नियंत्रण की अपनी मुख्य जिम्मेदारी भूल...

कश्मीर अब पूरी तरह हमारा है…

विष्णुदेव साय जम्मू कश्मीर को देश के संविधान के दायरे में लाने सबसे पहले आवाज उठाने वाले महान विचारक डॉ. श्यामा प्रसाद मुखर्जी के बलिदान...

बुलडोजर का इंजन चलता रहेगा

हरिशंकर व्यास उत्तर प्रदेश सरकार बुलडोजर का चुनिंदा इस्तेमाल कर रही है। उत्तर प्रदेश की देखा-देखी राजधानी दिल्ली में भी बुलडोजर से न्याय किया गया...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

यमकेश्वर के हेवंल नदी में आधी रात को बंधक बनाकर गाड़ी में किडनेप करके ले गए खनन माफिया, ऋषिकेश में की मारपीट

यमकेश्वर। जोगियाणा में खनन माफियाओं का आतंक इतना बढ़ गया है खुले आम स्थानीय लोगो के साथ मार पीट व जान लेने पर उतारू...

CM धामी ने LBS अकादमी में अमृत महोत्सव डिजिटल प्रदर्शनी का किया उद्घाटन

देहरादून। मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने सोमवार को मसूरी स्थित लाल बहादुर शास्त्री राष्ट्रीय प्रशासनिक अकादमी में आयोजित अमृत महोत्सव डिजिटल प्रदर्शनी एवं आजादी का...

महाराष्ट्र में सरकार बनाने के काफी करीब पहुंची भाजपा, शिंदे गुट बोला वह भाजपा को ही देंगे समर्थन !

नई दिल्ली। महाराष्ट्र की सियासत अब उफान पर पहुंच गई है। लड़ाई अब सुप्रीम कोर्ट पहुंच चुकी है। इस बीच कहा जा रहा है...

हेल्थ सेक्टर में डिजिटल होता उत्तराखंड, आयुष्मान भारत डिजिटल मिशन के तहत अब तक बन चुकी हैं 22.44 लाख से अधिक डिजिटल हेल्थ आईडी

देहरादून । आयुष्मान भारत डिजिटल मिशन के अंतर्गत बन रही हेल्थ आईडी के महत्व को लेकर प्रदेशवासी काफी जागरूक हैं। इसी का नतीजा है...

राष्ट्रपति पद के लिए विपक्ष के उम्मीदवार यशवंत सिन्हा ने दाखिल किया अपना नामांकन,

नई दिल्ली। राष्ट्रपति पद के लिए विपक्ष के उम्मीदवार यशवंत सिन्हा ने संसद भवन पहुंचकर नामांकन दाखिल कर दिया है। सिन्हा के नामांकन पत्र...

उत्तराखंड के सरकारी और प्राइवेट डॉक्टरों के लिए मेडिकल काउंसिल की सख्त गाइडलाइन, एथिक्स कमेटी की बैठक में लगी मुहर

देहरादून। उत्तराखंड मेडिकल काउंसिल एथिक्स कमेटी की बैठक में सरकारी और प्राइवेट डॉक्टरों के लिए सख्त गाइडलाइन पर मुहर लगी है। एथिक्स कमेटी की...

उत्तराखंड से दिल्ली जाने वाली रोडवेज की 250 में से 200 बसों पर 1 अक्तूबर से लग जाएंगे ब्रेक, जानिए क्या है वजह

देहरादून। दिल्ली सरकार ने उत्तराखंड सरकार को सिर्फ बीएस-6 बसों को ही एंट्री देने का पत्र भेजा है। इस पत्र मिलने के बाद विभाग...

भारतीय कप्तान रोहित शर्मा कोविड-19 से हुए संक्रमित

लीसेस्टर। इंग्लैंड के खिलाफ बर्मिघम के एजबेस्टन में एक जुलाई से शुरू होने वाले पांच दिवसीय टेस्ट मैच से पहले भारतीय टीम के कप्तान...

जीएसटी परिषद की बैठक: दरों में बदलाव पर चर्चा संभव, राज्यों को क्षतिपूर्ति शीर्ष एजेंडा

नयी दिल्ली। इस सप्ताह चंडीगढ़ में होने वाली जीएसटी परिषद की बैठक में कुछ वस्तुओं की जीएसटी दरों में बदलाव किया जा सकता है,...

यूक्रेन से लौटे मेडिकल छात्रों, परिजनों ने अनशन शुरू किया, आत्मदाह की चेतावनी दी

नई दिल्ली। यूक्रेन से करीब 3 महीने पहले लौटे भारतीय छात्र अपनी आगे कि पढ़ाई को लेकर काफी चिंतित हैं, उनके साथ उनके माता-पिता...

Recent Comments