Home ब्लॉग चीन को खरी-खरी

चीन को खरी-खरी

आस्ट्रेलिया में संपन्न क्वाड देशों के विदेश मंत्रियों की बैठक में न केवल हिंद-प्रशांत क्षेत्र में चीन की आक्रामकता पर चिंता व्यक्त की गई बल्कि भारत-चीन सीमा पर उत्पन्न गतिरोध की भी चर्चा हुई। बैठक के बाद आस्ट्रेलिया के विदेश मंत्री के साथ आयोजित संयुक्त प्रेस वार्ता में विदेश मंत्री एस. जयशंकर ने दो-टूक शब्दों में कहा कि वास्तविक नियंत्रण रेखा पर मौजूदा तनाव के लिये चीन जिम्मेदार है। साथ ही कहा कि सीमा पर सैनिकों का जमावड़ा न करने के लिखित समझौते के बावजूद चीन ने सेना तैनात करके तनाव बढ़ाया है।

जयशंकर ने यह बात पूर्वी लद्दाख सीमा पर जारी गतिरोध के बाबत कही। हालिया, सैन्य वार्ताओं के बावजूद चीन द्वारा अडिय़ल रवैया दर्शाने के बाद  चीन पर भारत की  तरफ से दिया गया यह सख्त बयान है। एस. जयशंकर ने स्वीकारा कि क्वाड विदेश मंत्रियों की बैठक में भारत-चीन सीमा गतिरोध के मुद्दे पर भी चर्चा हुई। साथ ही कहा कि यह क्वाड देशों के पड़ोस में होने वाले घटनाक्रम की जानकारी एक-दूसरे को देने के तरीके का एक हिस्सा है। दरअसल, हिंद-प्रशांत इलाके के देशों पर लगातार दबाव बना रहे चीन के निरंकुश व्यवहार पर अंकुश लगाने के लिये ही अमेरिका, आस्ट्रेलिया, जापान व भारत क्वाड के रूप में एक साथ आये हैं। अमेरिका समेत क्वाड के सदस्य देश इस बात को मानते हैं कि चीन आर्थिक, सैन्य, कूटनीतिक और तकनीकी शक्ति के बूते हिंद-प्रशांत क्षेत्र में वर्चस्व स्थापित करने का प्रयास कर रहा है। हालांकि, यह चीनी आक्रामकता पूरी दुनिया में व्याप्त है, लेकिन हिंद-प्रशांत क्षेत्र में उसकी तीव्रता अधिक है।

वहीं जब आस्ट्रेलिया में क्वाड की बैठक चल रही थी, उसी दौरान बाइडन प्रशासन ने हिंद-प्रशांत पर अपनी पहली रणनीतिक रिपोर्ट जारी की। अमेरिका द्वारा जारी रिपोर्ट में कहा गया कि भारत वर्तमान में भू-राजनीतिक चुनौतियों से घिरा हुआ है। खासकर एलएसी पर चीन की ओर से मिल रही चुनौती से। इस रिपोर्ट में भारत-अमेरिका में बढ़ते सहयोग पर बल देते हुए चीन को निशाने पर लिया गया। रिपोर्ट में विश्वास जताया गया कि हिंद-प्रशांत क्षेत्र में भारत के सहयोग से अमेरिका को मजबूती मिलेगी। भारत से रणनीतिक साझेदारी बढ़ाने के अलावा स्वास्थ्य, साइबर स्पेस व अंतरिक्ष में मिलकर काम करने पर बल दिया गया। साथ ही दक्षिण एशिया की स्थिरता में भारत की भूमिका को स्वीकार करते हुए मुक्त हिंद-प्रशांत क्षेत्र की जरूरत बतायी गई।

रिपोर्ट में चीनी साम्राज्यवाद को आड़े हाथ लेते हुए आरोप लगाया गया कि चीन न केवल भारत के वास्तविक नियंत्रण रेखा पर संघर्ष के लिये आमादा है, बल्कि आस्ट्रेलिया पर आर्थिक दबाव बना रहा है। वहीं ताइवान समेत पूर्वी-दक्षिणी चीन सागर स्थित देशों को आतंकित करने का प्रयास कर रहा है। भारत को समान विचारधारा वाला साझेदार बताते हुए अमेरिका ने माना कि उसके सहयोगी देशों को चीन की आक्रामकता का शिकार होना पड़ रहा है। बहरहाल,क्वाड सम्मेलन के जरिये भारत चीन को स्पष्ट संदेश देने में कामयाब रहा है कि वह हमें हल्के में न ले।

RELATED ARTICLES

गरीब और पिछड़े वर्गों के हितों का ध्यान रखें

कार्यस्थल पर कोई भी निर्णय लेते समय देश के गरीब और पिछड़े वर्गों के हितों का ध्यान रखें। राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू ने भारतीय आर्थिक...

पर्यावरण संरक्षण आज के समय की बड़ी जरुरत

सुनील कुमार महला पर्यावरण संरक्षण आज के समय की एक बड़ी आवश्यकता है, क्योंकि पर्यावरण है तो हम हैं। आज भारत विश्व में सबसे अधिक...

राजमार्गों का विस्तार

वर्तमान वित्त वर्ष 2024-25 में बीते वित्त वर्ष की तुलना में पांच से आठ प्रतिशत अधिक राष्ट्रीय राजमार्गों के विस्तार की संभावना है। पिछले...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

दिल्ली में भगवान राम की तस्वीर वाली प्लेटों में परोसी गई बिरयानी, पुलिस ने लिया ये बड़ा एक्शन

नई दिल्ली।  जब भी कभी आप स्ट्रीट फूड खाते होंगे तो खाना परोसे जाने वाली प्लेट में कम ही ध्यान देते होंगे। लेकिन इस...

मुख्य सचिव राधा रतूड़ी ने जंगलों में आग लगाने वालों के खिलाफ सख्त कार्रवाई के दिए निर्देश 

वनाग्नि की अधिक घटनाएं होने वाले गांवों की सूची करें तैयार- मुख्य सचिव  देहरादून। मुख्य सचिव राधा रतूड़ी ने जंगलों में आग लगाने वाले लोगों...

मोदी राज में विश्व में फहरा रही है सनातन धर्म की पताका- महाराज

पंचायतीराज मंत्री ने देशवासियों को दी पंचायती दिवस की शुभकामनाएं दुर्ग (छत्तीसगढ़)/देहरादून। भाजपा के स्टार प्रचारक और उत्तराखंड के पंचायतीराज, ग्रामीण निर्माण, लोक निर्माण,...

आईपीएल 2024 के 40वे मैच में आज दिल्ली कैपिटल्स से होगी गुजरात टाइटंस की भिड़त

दिल्ली के अरुण जेटली स्टेडियम में होगा मुकाबला  नई दिल्ली।  आईपीएल 2024 का 40वां मैच दिल्ली कैपिटल्स और गुजरात टाइटंस के बीच खेला जाएगा। यह...

‘मतदाता वोट करने से पहले दो बार जरूर सोचें…’- प्रियंका गांधी

नई दिल्ली।  कांग्रेस की वरिष्ठ नेता प्रियंका गांधी ने कर्नाटक में एक जनसभा को संबोधित करते हुए भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) पर निशाना साधा।...

सिंघम अगेन का नया पोस्टर रिलीज, धांसू अंदाज में दिखी लेडी सिंघम दीपिका पादुकोण

रोहित शेट्टी के कॉप यूनिवर्स की पांचवी फिल्म सिंघम अगेन पिछले लंबे समय से चर्चा में बनी हुई है. फैंस इस मल्टीस्टारर फिल्म का...

सपा के गढ़ में मुख्यमंत्री योगी जनसभा को करेंगे संबोधित, इस तारीख को पहुचेंगे जसवंतनगर 

चार मई को मैनपुरी नगर में करेंगे जनसभा  कार्यक्रमों को सफल बनाने के लिए तेजी से तैयारी में जुटी भाजपा  मैनपुरी। सपा का गढ़ कही जाने...

महंगाई का झटका- प्रदेश में बिजली के दामों में 8 से 11 प्रतिशत तक बढ़ोतरी की संभावना

देहरादून।  प्रदेश में बिजली के दामों में 8 से 11 प्रतिशत तक बढ़ोतरी की संभावना है। यूपीसीएल ने 23 से 27 प्रतिशत बढ़ोतरी मांग...

पांव में पाउडर लगाकर सॉक्स पहनने से क्या पैरों को मिलता है आराम?

गर्मियों के दिनों में लोगों को पांव में मोजे पहनने से काफी दिक्कत होती हैं. कई लोग पैरों में फुंसियां, जलन जैसी चीजों से...

आज भारतीय वन सेवा परिवीक्षार्थियों के दीक्षांत समारोह में बतौर मुख्य अतिथि शामिल होंगी राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू 

देहरादून। इंदिरा गांधी राष्ट्रीय वन अकादमी का 54वां आरआर (2022-24 प्रशिक्षण पाठ्यक्रम) के भारतीय वन सेवा परिवीक्षार्थियों का दीक्षांत समारोह बुधवार को आयोजित किया...

Recent Comments