Wednesday, June 29, 2022
Home ब्लॉग भारतीय राजनीति के सच्चे कर्मयोगी बी.एन. मण्डल

भारतीय राजनीति के सच्चे कर्मयोगी बी.एन. मण्डल

गनेशी लाल

भारतीय राजनीति में अनेक विचारक हुए, बड़े-बड़े राजनेता हुए, राज किया और चले गए परंतु कुछ लोग ऐसे व्यक्तित्व के धनी रहे जिनको भूलना आदमी के बस में नहीं है। डॉक्टर अंबेडकर , डॉ राम मनोहर लोहिया, रामस्वरूप वर्मा इत्यादि की ईमानदार परंपरा में भूपेंद्र नारायण मंडल का भी नाम आता है जिन्होंने संपूर्ण जीवन समाज सुधार और देश की राजनीतिक गतिविधियों में सक्रिय भूमिका निभाया। तथा देश हित में  सम्पूर्ण जीवन न्योछावर कर दिया। बिहार के मधेपुरा में जन्मे भूपेंद्र नारायण मंडल समाजवादी राजनीति के एक प्रमुख हस्ताक्षर थे जिन्होंने राजनीति में जो करके दिखाया वह असंभव सा लगता है डॉ राम मनोहर लोहिया भूपेंद्र नारायण मंडल को बड़े प्यार से भूपेंद्र बाबू कहा करते थे तथा देश के प्रति उनकी विचार और चरित्र पर गर्व करते थे तथा उन्हें अपने खेमे की शान समझते थे। भूपेंद्र बाबू 1954-55 में बिहार प्रजा सोशलिस्ट पार्टी के सचिव नियुक्त हुए तथा 1955 में बिहार सोशलिस्ट पार्टी के प्रांतीय सचिव भी बनाए गए 1957 में बिहार विधान सभा का आम चुनाव हुआ जिसमें 1962 तक विधायक रहे इस अवधि में राष्ट्रीय महत्व की समस्याओं लोकहित के विषय दलितों शोषित हो तथा अल्पसंख्यकों के मामलों को विधानसभा में उठाया पंचवर्षीय योजना की असफलता बढ़ती चोरी डकैती राजस्व नीति तथा हिंदी भाषा के प्रयोग इत्यादि के लिए वे लगातार लड़ते रहे।

लोहिया के बेहद कऱीबी रहे भूपेन्द्र बाबू की रुचि कभी सत्ता-समीकरण साधने में नहीं रही, बल्कि सामाजिक न्याय के लिए जनांदोलन खड़ा करने में उनकी दिलचस्पी रही। आज के पोस्टरब्वॉय पॉलिटिक्स के लोकप्रियतावादी चलन व रातोरात नेता बनकर भारतीय राजनीति के क्षितिज पर छा जाने के उतावलेपन के समय में बी एन मंडल का जीवनवृत्त इस बात की ताकीद करता है कि उनमें बुद्ध की करुणा, लोहिया के कर्म व उसूल की कठोरता एवं कबीर का फक्कड़पन था।
चुनावी तंत्र की शुचिता व जनहित में नेताओं की मितव्ययिता पर ज़ोर देते हुए चुनाव के दौरान वे बैलगाड़ी से क्षेत्र भ्रमण करते थे जो सिलसिला जीवनपर्यंत चला। हर दौर में चुनाव लडऩे के लिए पैसे की ज़रूरत पड़ती रही है। पर, संचय-संग्रह की प्रवृत्ति, दिखावे और फिज़ूलखर्ची की प्रकृति न हो, तो कम पैसे में भी चुनाव लड़ा और जीता जा सकता है। इसके लिए नेता का अंदर-बाहर एक होना ज़रूरी है। तभी वह अपने कार्यकर्ताओं को भी मितव्ययिता के लिए तैयार कर पाएगा। एक समय वह था और एक समय आज का है जहां ‘नेता’ और ‘राजनीतिÓ यह दोनों शब्द इतने अर्थहीन हो गए हैं कि इन शब्दों का अर्थ आज पूर्ण रूप से दूषित हो चुका है, नेता या राजनीति जैसे शब्द बोलते या सुनते ही हमारे मन मस्तिष्क में जो भाव कौंधता है उसके गंध कैसी होती है यह कहने की आवश्यकता नहीं प्रतीत होती। आज की व्यक्तिवादी राजनीति के दौर में जब हम भूपेंद्र नारायण मंडल को याद करते हैं तो विशेष रूप से हम यह पाते हैं कि वह जाति कि नहीं बल्कि जमात की राजनीति करते थे देश के बहुसंख्यक वर्ग या कहें कि श्रमशील समाज के नेतृत्वकर्ता के रूप में सामने आते हैं भूपेंद्र नारायण मंडल! इस अर्थ में वे देश के सच्चे कर्मयोगी थे।

भूपेंद्र बाबू कि जो विशेषता उन्हें और लोगों से अलग करती है वह उनका करनी और कथनी में एकमेक हो जाना है। वे राजनीति को कुछ अलग नहीं समझते थे, राजनीति उनके लिए अपने घर का वह जरूरी काम था जिसे वे पूरी ईमानदारी व मेहनत से करते थे। आज के नेताओं की भांति वे अपना घर भरने में लगे रहने वालों में नहीं थे बल्कि अगर देश के लिए कुछ जरूरत पड़े तो अपने घर से दे देने वालों में से थे। उन्होंने अपने चिंतन में देश की आम जनता को केंद्र में रखा देश की जनता के हित में जो होगा वह वे स्वीकार करते थे देश की जनता के अतिरिक्त उनके लिए कोई और देश नहीं , उनका देश, उनका समाजवाद देश के अंतिम व्यक्ति से शुरू होता है देश के श्रमशील वर्ग के हित में उन्होंने अपना संपूर्ण जीवन समर्पित कर दिया भूपेंद्र बाबू अर्जक संघ के व्यक्ति थे आमजन के हित के लिए उन्होंने त्रिवेणी संघ, पिछड़ा वर्ग संघ तथा अन्य जन आंदोलनों के समूह में शामिल रहे और निरंतर समाज सुधार में अपनी सक्रिय भूमिका निभाते रहे। विचारणीय बात यह है कि आज हम में से, हमारी नई पीढ़ी में से कितने लोग भूपेंद्र नारायण मंडल को जानते हैं अथवा जानते हैं तो कितने लोग ऐसे हैं जो उनको समझने का प्रयास करते हैं राजनीति और राजनेताओं की हो रही निरंतर अवनति यह सूचित करती हैं कि हमने अपने महापुरुषों को न पढ़ा है, न समझा है और न ही धारण किया है भूपेंद्र नारायण मंडल जैसे महापुरुषों का लक्ष्य आज भी अधूरा है जिसे पूरा करना हमलोगों की जिम्मेदारी है उनके रास्ते पर चलकर हम एक बेहतर लोकतांत्रिक समाज का निर्माण कर सकते है अपने सपनों का भारत बना सकते हैं।
( लेखक- महात्मा गांधी अंतरराष्ट्रीय हिंदी विश्वविद्यालय वर्धा से संबंध है।)

RELATED ARTICLES

महंगाई के लिए कौन दोषी

आरबीआई समय पर मुद्रास्फीति पर काबू पाने के कदम उठाता, तो आज स्थिति बेहतर होती। लेकिन वह महंगाई नियंत्रण की अपनी मुख्य जिम्मेदारी भूल...

कश्मीर अब पूरी तरह हमारा है…

विष्णुदेव साय जम्मू कश्मीर को देश के संविधान के दायरे में लाने सबसे पहले आवाज उठाने वाले महान विचारक डॉ. श्यामा प्रसाद मुखर्जी के बलिदान...

बुलडोजर का इंजन चलता रहेगा

हरिशंकर व्यास उत्तर प्रदेश सरकार बुलडोजर का चुनिंदा इस्तेमाल कर रही है। उत्तर प्रदेश की देखा-देखी राजधानी दिल्ली में भी बुलडोजर से न्याय किया गया...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

कार्बेट टाइगर रिजर्व में अब नहीं आएंगे असम से 10 गैंडे, प्रस्ताव किया गया रद्द

देहरादून।  पूर्व सीएम त्रिवेन्द्र सिंह रावत की सरकार में कार्बेट टाइगर रिजर्व में असम से 10 गैंडे लाने का प्रस्ताव जारी किया गया था,...

मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने प्रशासनिक भवन, क्वार्टरगार्द एवं बैरक का शिलान्यास कर पुलिस प्रशासन को दी बधाई

देहरादून। मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने मंगलवार को पुलिस लाईन रेस कोर्स , देहरादून में आयोजित कार्यक्रम में प्रतिभाग करते हुए प्रशासनिक भवन, क्वार्टर गार्द...

केदारनाथ धाम में मानसून में भी जारी रहेंगी हेली सेवाएं 

30 जून के बाद हिमालयन कंपनी की ओर से मानसून के दौरान केदारनाथ में दी जाएंगी हेली सेवाएं देहरादून । मानसून के मौसम में हेली...

जुलाई में 14 दिन बंद रहेंगे बैंक, चेक करें छुट्टियों की पूरी लिस्ट

नई दिल्ली। अगले महीने जुलाई में रथ यात्रा और बकरीद जैसे बड़े त्योहार पड़ रहे हैं, ऐसे में अगर आपको बैंक संबंधित कोई जरूरी...

प्रदेशवासियों को जल्द मिलेगी ई-एफआईआर की सुविधा, घर बैठे ही कराई जाएगी एफआईआर दर्ज 

देहरादून।  प्रदेशवासियों को जल्द ही ई-एफआईआर की सुविधा मिलेगी। इसमें घर बैठे ही एफआईआर दर्ज कराई जा सकेगी। प्रारम्भ में वाहन चोरी और गुमशुदा...

अग्निपथ योजना के विरोध में कॉंग्रेस का सत्याग्रह सत्य से मुंह फेरने और युवाओं को बरगलाने वाला:- मनवीर चौहान

देहरादून। भाजपा ने अग्निपथ योजना के विरोध में कॉंग्रेस के सत्याग्रह को सत्य से मुंह फेरने और युवाओं को बरगलाने वाला बताया है ।...

मायावती का फॉर्मूला रहा हिट, आजमगढ़ में हार कर भी कैसे जीत गई बसपा?

लखनउ। लोकसभा उपचुनावों में समाजवादी पार्टी का गढ़ माने जाने वाले आज़मगढ़ में भाजपा के प्रत्याशी निरहुआ की जीत और अखिलेश के चचेरे भाई...

रेलवे में अग्निवीरों को रोजगार देने का खाका तैयार, रेल मंत्री की हरी झंडी इंतजार, जानिए क्या है पूरा प्लान

नई दिल्‍ली । सेना में अग्निपथ योजना को लेकर देशभर में मचे बवाल के बीच केंद्र सरकार इस योजना के तहत सेना में 4...

श‍िवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे के खास स‍िपहसालार संजय राउत पर लटक रही है गिरफ्तारी की तलवार, जानिए क्या है 1034 करोड़ का चॉल घोटाला 

मुम्बई। श‍िवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे के खास स‍िपहसालार संजय राउत के ख‍िलाफ प्रवर्तन निदेशालय ने समन जारी क‍िया है। ईडी ने संजय राउत को...

सावधान..! फोन में छिपकर आपकी जासूसी कर रहा है यह App..! Google बोला- ‘तुरंत कर दें Delete’

स्मार्टफोन्स का इस्तेमाल तेजी से बढ़ता जा रहा है. हाल के दिनों में सुरक्षा संबंधी चिंताएं बढ़ रही हैं क्योंकि फर्मों द्वारा विभिन्न ऐप...

Recent Comments