Monday, February 26, 2024
Home उत्तराखंड यह तो हद हो गई! कोरोना योद्धा कर्ज में डूबे,छह महीने से...

यह तो हद हो गई! कोरोना योद्धा कर्ज में डूबे,छह महीने से तनख्वाह को तरसे

देहरादून। कोरोना संक्रमण के दौरान अपनी जान की परवाह किए बिना लोगों की सेवा करने वाले कोरोना योद्धा कर्ज में डूबे हुए हैं। पिछले कई महीनों से तनख्वाह नहीं मिलने की वजह से योद्धाओं की आर्थिक स्थिति भी ठीक नहीं है। हजारों लोगों को कोरोना संक्रमण से उबारने, बचाने और जागरूक करने वाले कोरोना योद्धा खुद बदहाली में जी रहे हैं। सरकारी सुस्ती और अनदेखी का आलम यह है कि कोरोनाकाल में जिन कोरोना योद्धाओं ने दिन-रात नहीं देखा, उन्हें छह महीने से तनख्वाह तक के लिये तरसा दिया गया है। कोरोना योद्धा कर्ज में डूब गये हैं, मकान का किराया, राशन का खर्चा तक कर्ज लेकर देना पड़ रहा है। कोरोना संक्रमण के दौरान जब लोग अपने परिजनों तक से दूरी बनाने लगे थे, तब नैनीताल जिले में 50 से ज्यादा कोरोना योद्धा व्यवस्थाएं बनाने, मरीजों की देखभाल तक का काम करने में डटे थे।

ठेके पर रखे गये इन कर्मचारियों के जिम्मे कोरोना मरीजों की सैंपलिंग, कांटेक्ट ट्रेसिंग, आइसोलेशन, कोविड सेंटर की जिम्मेदारी, ब्लड टेस्ट जैसे काम सौंपे गये थे। अपनी और अपने परिजनों की सेहत की परवाह किये बिना ये कर्मचारी महीनों तक लगातार 24-24 घंटे काम करते रहे। लेकिन, संक्रमण कम होते ही जैसे इन लोगों को भुला दिया गया। हालात यह है कि पिछले छह माह से इन कर्मचारियों को निर्धारित वेतन तक नहीं दिया गया है। हालांकि, ये कर्मचारी आज भी सिर्फ इस आस में काम कर रहे हैं कि शायद एक दिन उनका वेतन जारी हो जायेगा। घर का किराया, राशन, बच्चों की फीस जैसे खर्चों के लिये वे लगातार कर्ज में डूब रहे हैं।

हैरत की बात यह है कि वेतन मांगने पर इन्हें नौकरी से ही निकालने का आदेश दे दिया गया है। कर्मचारियों का कहना है कि कोरोना ड्यूटी करने पर उन्हें प्रमाण पत्र और इन्सेंटिव देने का वादा किया गया था। वादा पूरा करना तो दूर उन्हें पिछले छह माह से सैलरी तक नहीं दी गई है। लेकिन अब तीसरी लहर की लगातार बढ़ती आशंकाओं के बीच उन्हें डर सताने लगा है। बिना वेतन बढ़ते काम के दबाव और कर्ज के साथ वे कैसे काम करेंगे यह चिंता उन्हें खाये जा रही है। उस पर डर यह भी है कि अगर वेतन की मांग की और नौकरी से निकाल दिया गया तो वे कोरेाना के बीच कैसे अपने परिवार का गुजारा करेंगे। न इंश्योरेंस, न इलाज की कोई सुविधा कर्मचारियों ने बताया कि उन्हें न तो बीमा योजना का लाभ मिलता है, न ही उनके लिये इलाज की कोई ठोस व्यवस्था है। हालत यह है कि अस्पतालों, कांटेक्ट ट्रेसिंग के काम के बाद वे सीधे अपने घर लौटते हैं। इससे उनके परिजनों पर भी खतरा बना रहता है। कभी आशंका लगती है तो वे खुद ही एक-दूसरे की जांच कर लेते हैं। एनएचएम भर्ती में प्राथमिकता दी जाये इन कर्मचारियों की मांग है कि राज्य में जारी एनएचएम भर्ती में उन्हें प्राथमिकता दी जाये। उनका कहना है कि वे जान जोखिम में डाल कर कोरोना शुरू होने के बाद से ही ठेके पर ड्यूटी कर रहे हैं। अब जब एनएचएम की भर्ती हो रही है तो अन्य जगह से स्वास्थ्य कर्मचारियों को रखा जा रहा है जिससे सभी में रोष है। इन स्वास्थ्य कर्मियों के वेतन की व्यवस्था विशेष मद से की जाती है। उनके वेतन का मसला शासन स्तर पर रखा गया है। कर्मचारियों को जल्द से जल्द वेतन दिलाने के पूरे प्रयास किए जा रहे हैं।
डॉ. तृप्ति बहुगुणा, स्वास्थ्य महानिदेशक, स्वास्थ्य विभाग उत्तराखंड

RELATED ARTICLES

वन्य जीवों के बढ़ रहे हमलों के बाद वन अधिकारियों के विदेश दौरे पर लगी रोक

मानव-वन्य जीव संघर्ष मामले पर सीएम धामी ने अधिकारियों को लगाई फटकार देहरादून। प्रदेश में गुलदार समेत अन्य जंगली जानवरों के बढ़ रहे हमलों के...

बजट अभिभाषण- पुलिस के आधुनिकीकरण व महिला सुरक्षा पर विशेष फोकस

कैदियों के बेहतर जीवन के लिए जेल विकास बोर्ड का गठन प्रत्येक थाने में महिला डेस्क बनी राज्यपाल के अभिभाषण में देखने को मिली इसकी प्रतिबद्धता देहरादून।...

टनकपुर, काशीपुर व कोटद्वार रेलवे स्टेशन होंगे अत्याधुनिक सुविधाओं से लैस

40 करोड़ से अधिक की लागत से होगा उत्तराखंड के तीन रेलवे स्टेशनों का पुनर्विकास- सीएम मुख्यमंत्री ने देहरादून से टनकपुर, काशीपुर व कोटद्वार रेलवे...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

वन्य जीवों के बढ़ रहे हमलों के बाद वन अधिकारियों के विदेश दौरे पर लगी रोक

मानव-वन्य जीव संघर्ष मामले पर सीएम धामी ने अधिकारियों को लगाई फटकार देहरादून। प्रदेश में गुलदार समेत अन्य जंगली जानवरों के बढ़ रहे हमलों के...

बजट अभिभाषण- पुलिस के आधुनिकीकरण व महिला सुरक्षा पर विशेष फोकस

कैदियों के बेहतर जीवन के लिए जेल विकास बोर्ड का गठन प्रत्येक थाने में महिला डेस्क बनी राज्यपाल के अभिभाषण में देखने को मिली इसकी प्रतिबद्धता देहरादून।...

टनकपुर, काशीपुर व कोटद्वार रेलवे स्टेशन होंगे अत्याधुनिक सुविधाओं से लैस

40 करोड़ से अधिक की लागत से होगा उत्तराखंड के तीन रेलवे स्टेशनों का पुनर्विकास- सीएम मुख्यमंत्री ने देहरादून से टनकपुर, काशीपुर व कोटद्वार रेलवे...

अरुणाचल प्रदेश में कांग्रेस को लगा झटका, भाजपा में शामिल हुए पूर्व केंद्रीय मंत्री निनोंग ईरिंग

नई दिल्ली। लोकसभा चुनाव से पहले कांग्रेस को नार्थ ईस्ट में भी बड़ा झटका लगा है। अरुणाचल प्रदेश में कांग्रेस और नेशनल पीपुल्स पार्टी...

सत्यापन न कराना 19 मकान मालिकों को पड़ा भारी, पौड़ी पुलिस ने लाखों का जुर्माना लगाकर निभायी जिम्मेदारी

आपराधिक गतिविधियों पर अंकुश लगाने हेतु पौड़ी पुलिस का सत्यापन अभियान जारी पौड़ी। वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक पौड़ी श्रीमती श्वेता चौबे द्वारा समस्त थाना प्रभारियों को...

भारत ने इंग्लैंड को चौथे टेस्ट मैच में पांच विकेट से हराया 

नई दिल्ली।  भारत ने चौथे टेस्ट में इंग्लैंड को पांच विकेट से हरा दिया है। इस जीत के साथ टीम इंडिया ने पांच मैचों...

बस्ती में खेल रहे 10 साल के मासूम को गुलदार ने मार डाला 

गुलदार को पकड़ने के लिए कांबिंग में जुटी वन विभाग की टीम  बच्चे को गुलदार के जबड़ों से छीना, नहीं बच पायी जान  देहरादून। ग्रामीण क्षेत्रों में...

बजट सत्र- राज्यपाल ने सरकार की प्राथमिकता व विकास योजनाओं का ब्यौरा किया पेश

राज्यपाल ने अभिभाषण में विकसित उत्तराखंड पर दिया जोर समान नागरिक संहिता का किया उल्लेख देखें, राज्यपाल का मूल अभिभाषण देहरादून। राज्यपाल गुरमीत सिंह ने सोमवार को...

अगर आप भी पिंपल और ऑयली स्किन से हैं परेशान तो कर लीजिए इन चीजों से परहेज

ऑयली स्किन के लोगों को अपनी त्वचा का विशेष ख्याल रखना होता है। ऐसी स्किन सेंसिटिव होती है और रिएक्शन के आसार जल्दी होते...

पीएम मोदी की ‘मन की बात’ का प्रसारण अगले तीन महीने तक बंद, जानिए वजह 

नई दिल्ली। रविवार को प्रधानमंत्री मोदी के ‘मन की बात’ मासिक रेडियो कार्यक्रम का 110वां एपिसोड प्रसारित हुआ। इस मौके पर मोदी ने कहा...

Recent Comments