Home राष्ट्रीय सुप्रीम कोर्ट का बड़ा फैसला, सहमति से बने संबंध में पार्टनर के...

सुप्रीम कोर्ट का बड़ा फैसला, सहमति से बने संबंध में पार्टनर के खिलाफ नहीं लगा सकते रेप का आरोप

नई दिल्ली। सुप्रीम कोर्ट ने एक मामले में एक शख्स के खिलाफ लगाए गए बलात्कार के आरोप को खारिज करते हुए साफ कहा है कि आपसी सहमति से बने संबंध में पार्टनर के खिलाफ रेप का आरोप नहीं लगाया जा सकता है. इस मामले में एक महिला के शादी के पहले एक शख्स से संबंध थे और यहां तक ​​​​कि महिला ने इसके कारण तलाक ले लिया. महिला का तलाक होने के बाद भी उसके किसी इस शख्स से लंबे समय से आपसी सहमति के संबंध थे. बाद में जब पुरुष ने किसी और महिला से शादी कर ली और बार-बार दबाव डालने के बावजूद तलाक नहीं लिया तो उसके खिलाफ रेप के मामले की एफआईआर दर्ज कराई गई।

एक खबर के मुताबिक बलिया की शिकायतकर्ता महिला ने मजिस्ट्रेट के सामने अपने बयान में कहा था कि वह 2013 में उस व्यक्ति के संपर्क में आई थी और उनके बीच संबंध बन गए. उसने जून 2014 में एक अन्य पुरुष से शादी कर ली, लेकिन पिछले आदमी के साथ अपने रिश्ते को जारी रखा. उसने दावा किया कि उसने अपने प्रेमी के कहने पर तलाक ले लिया. तलाक लेने के बाद उसने अपने रिश्ते को आगे बढ़ाया. जबकि उस व्यक्ति ने दिसंबर 2017 में किसी और महिला से शादी कर ली. वादा करने के बावजूद जब शख्स ने अपनी शादी नहीं तोड़ी, तो उसने उस व्यक्ति पर शादी का वादा करके यौन उत्पीड़न करने का आरोप लगाते हुए शिकायत दर्ज कराई. पुलिस ने उस व्यक्ति के खिलाफ धारा 376 के तहत एफआईआर दर्ज की और फिर आरोप पत्र दायर किया।

निचली अदालत और इलाहाबाद उच्च न्यायालय में मामले को रद्द कर दिया गया, जिसके बाद महिला ने उच्चतम न्यायालय का रुख किया. न्यायमूर्ति डीवाई चंद्रचूड़ और न्यायमूर्ति एएस बोपन्ना की पीठ ने पिछले हफ्ते कहा कि उच्च न्यायालय इस बात की जांच करने में विफल रहा कि क्या महिला द्वारा दर्ज प्राथमिकी में प्रथम दृष्टया मामला बनता है. पीठ ने कहा कि बेशक आरोपी और महिला के बीच 2013 से दिसंबर 2017 तक सहमति से संबंध थे. वे दोनों शिक्षित बालिग हैं. इसी दौरान महिला ने जून 2014 में किसी और से शादी कर ली. महिला के आरोपों से संकेत मिलता है कि आरोपी के साथ उसका संबंध उसकी शादी से पहले, शादी के दौरान और तलाक के बाद भी जारी रहा।

पीठ ने कहा कि इस पृष्ठभूमि में और शिकायत में आरोपों को देखते हुए एफआईआर या चार्जशीट में धारा 376 आईपीसी के तहत रेप के अपराध के तत्व को पाना असंभव है. महत्वपूर्ण मुद्दा जिस पर विचार किया जाना है, वह यह है कि क्या आरोपों से संकेत मिलता है कि आरोपी ने महिला से शादी करने का वादा किया था जो कि शुरू में झूठा था और जिसके आधार पर उसे यौन संबंध बनाने के लिए प्रेरित किया गया था. जस्टिस चंद्रचूड़ और बोपन्ना ने एफआईआर और चार्जशीट की बारीकी से जांच की और कहा कि धारा 375 (बलात्कार) के तहत परिभाषित अपराध के महत्वपूर्ण तत्व शिकायत में मौजूद नहीं हैं. उन्होंने कहा कि दोनों के बीच संबंध विशुद्ध रूप से सहमति की प्रकृति के थे और मामले को रद्द कर दिया।

RELATED ARTICLES

मोदी राज में भारतीय सेना और सीमा दोनों ही सशक्त और सुरक्षित हुए- अनुराग ठाकुर

शिमला। केंद्रीय सूचना एवं प्रसारण और युवा एवं खेल मामलों के मंत्री अनुराग सिंह ठाकुर ने  हमीरपुर संसदीय क्षेत्र में जनसंपर्क अभियान के दौरान...

ईडी ने अब आम आदमी पार्टी पर लगाया ये बड़ा आरोप, गृह मंत्रालय को सौंपी रिपोर्ट

नई दिल्ली। प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने केंद्रीय गृह मंत्रालय को पत्र लिखकर दावा किया है कि दिल्ली और पंजाब में सत्तारूढ़ आम आदमी पार्टी...

पीएम मोदी आज मातृशक्ति को करेंगे संबोधित, कार्यक्रम में 25 हजार महिलाएं लेंगी हिस्सा 

कार्यक्रम में महिलाएं ही संभालेंगी संचालन, मंच, व्यवस्था समेत सभी जिम्मेदारियां  वाराणसी। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी शाम करीब 5:30 बजे डॉ. संपूर्णानंद संस्कृत विश्वविद्यालय में मातृशक्ति सम्मेलन...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

आज हेमकुंड साहिब के लिए ऋषिकेश से रवाना हुआ श्रद्धालुओं का पहला जत्था

25 मई को खुलेंगे हेमकुंड साहिब के कपाट राज्यपाल लेफ्टिनेंट जनरल गुरमीत सिंह ने श्रद्धालुओं के जत्थे को किया रवाना ऋषिकेश। हेमकुंड साहिब गुरुद्वारा ऋषिकेश से...

आईपीएल 2024- एलिमिनेटर मुकाबले में आज रॉयल चैलेंजर्स बैंगलुरु से भिड़ेगी राजस्थान रॉयल्स

अहमदाबाद। आईपीएल 2024 के एलिमिनेटर मैच में रॉयल चैलेंजर्स बैंगलुरु की भिड़ंत राजस्थान रॉयल्स के साथ है। यह मुकाबला अहमदाबाद के नरेंद्र मोदी स्टेडियम...

एफपीपीसीए नियम के तहत बिजली के बिल में छह पैसे प्रति यूनिट की होगी बढ़ोतरी

इसी माह से की जाएगी बिजली के बिल में बढ़ोत्तरी  पूरे देश में लागू है एफपीपीसीए का यह नियम  देहरादून। बिजली के दामों के माहवार...

मोदी राज में भारतीय सेना और सीमा दोनों ही सशक्त और सुरक्षित हुए- अनुराग ठाकुर

शिमला। केंद्रीय सूचना एवं प्रसारण और युवा एवं खेल मामलों के मंत्री अनुराग सिंह ठाकुर ने  हमीरपुर संसदीय क्षेत्र में जनसंपर्क अभियान के दौरान...

1 जुलाई से देशभर में लागू होने वाले तीन नए आपराधिक कानूनों के लिए उत्तराखंड पूरी तरह तैयार, जानिए क्या है यह तीन कानून  

 20 जून तक पूरे हो जाएंगे कानूनों की जानकारी के संबंध में सभी प्रशिक्षण देहरादून। पहली जुलाई से देशभर में लागू होने वाले तीन नए...

फिल्म मिस्टर एंड मिसेज माही का दूसरा गाना ‘अगर हो तुम’ जारी, जाह्नवी कपूर और राजकुमार राव की दिखी खूबसूरत केमिस्ट्री

फिल्म मिस्टर एंड मिसेज माही की रिलीज का काउंटडाउन शुरू हो गया है। जान्हवी कपूर और राजकुमार राव अभिनीत रोमांटिक स्पोर्ट्स ड्रामा इस महीने...

दिव्यांग विद्यार्थियों को परीक्षा में मिलेगा अतिरिक्त समय

श्रुत लेखक की भी ले सकेंगे मदद, सरकार ने दी मंजूरी शिक्षा मंत्री डा. रावत ने कहा, दिव्यांग छात्रों को मिलेगी सभी सुविधाएं देहरादून। राज्य सरकार...

हद से ज्यादा आम खाना सेहत के लिए हो सकता है नुकसानदायक

गर्मियों का मौसम आते ही स्वादिष्ट और रसीले फल मैंगो लवर्स की एक्साइटमेंट देखने लायक होती है. फलों का राजा आम अपनी खास तरह...

कैबिनेट मंत्री गणेश जोशी ने मनोज तिवारी की चुनाव रणनीति को दिया फाइनल टच 

नई दिल्ली/ देहरादून। कैबिनेट मंत्री गणेश जोशी ने उत्तर पूर्वी दिल्ली लोकसभा सीट से भाजपा प्रत्याशी मनोज तिवारी के प्रस्तावित कार्यक्रमों के संबंध में...

जेजेपी को वोट देने का मतलब अपने वोट को खराब करना- सीएम धामी

खट्टर के नेतृत्व में हरियाणा बहुत आगे बढ़ा- सीएम पानीपत/ देहरादून। उत्तराखण्ड के सीएम पुष्कर सिंह धामी ने करनाल से भाजपा प्रत्याशी मनोहर लाल खट्टर...

Recent Comments