Home ब्लॉग सेना को वक्त की चाल में ढालेगी समृद्ध विरासत

सेना को वक्त की चाल में ढालेगी समृद्ध विरासत

ले. जनरल प्रदीप बाली (अप्र)

जनरल बिपिन रावत 8 दिसम्बर को इतिहास के नायकों में शामिल हो गए। बतौर चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ और पूर्व सेनाध्यक्ष रहते, वे सैन्य बलों की सोच और ढांचे में परिवर्तन का प्रतीक बने, जिसका वह नेतृत्व कर रहे थे। देश के पहले सीडीएस का व्यथित करने वाला निधन बहुत बड़ा हादसा है, तथापि उनके द्वारा शुरू आधुनिकीकरण की प्रक्रिया और सेना के तीनों अंगों की संयुक्त कमान तंत्र बनाने का काम जारी रहेगा। आधिकारिक और निजी तौर पर उनको पास से जानने की वजह से मैं उनकी विलक्षण खूबियों और पीछे छोड़ी विरासत पर रोशनी डालना चाहूंगा।

जनरल बिपिन रावत पूर्व उप-सेनाध्यक्ष ले. जनरल लक्ष्मण सिंह रावत के पुत्र थे, वर्दी में उन्होंने अपने करिअर को सर्वोच्च ऊंचाइयों पर पहुंचाया। जिसकी शुरुआत सोर्ड ऑफ ऑनर पाने से हुई, जो भारतीय सैनिक अकादमी में सब विषयों में सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करने वाले जेंटलमैन कैडेट को सेना में कमीशन प्राप्त करने वाले समारोह में प्रदान की जाती है। प्रशिक्षण के सभी महत्वपूर्ण कोर्सों में खास मुकाम पाने और पढ़ाई में डॉक्टरेट स्तर की योग्यता पाने वाले बिपिन रावत ने थल सेना की विभिन्न वाहिनियों में काम करते हुए, जिनमें कुछ तैनातियां सबसे विकट एवं चुनौतीपूर्ण जगहों पर थीं, अपने नेतृत्व और सैन्य माद्दे का लोहा मनवाया। उन्होंने कांगों में संयुक्त राष्ट्र बल में भारत की ओर से तैनात ब्रिगेड ग्रुप का नेतृत्व भी किया था। इन नियुक्तियों में जो विशेषता उन्हें औरों से जुदा करती है, वह है किसी भी परिस्थिति को तुरंत आंकना और उस पर काबू पाने की क्षमता, अपने जवानों की अगुवाई करने वाले किसी में यह खूबी होना नितांत जरूरी है।

उच्च स्तर पर उनके सैन्य नेतृत्व क्षमता की बात करें, तो वह ऐसे नायक थे जो जरूरत आन पडऩे पर निर्णय लेते और उसे अंतिम ध्येय तक पहुंचाते थे। उनके नेतृत्व में मैंने एक वाहिनी (कोर) की अगुवाई की है, एक बार उन्हें यकीन हो जाए कि चुनी गई डगर सही है, तो चाहे कुछ हो जाए, मंजिल पाने को उनकी निर्णायक प्रतिबद्धता की कोई भी कसम उठा सकता है। उनके विलक्षण गुणों में एक यह भी था कि किसी प्रस्ताव को सुनते वक्त या पेश की गई प्रस्तुति के वक्त अपना ध्यान केंद्रित रखते हुए दोगुणी तेजी से फैसला लेना। हमारी पूरी सीमा रेखा पर तमाम दुरूह जगहों पर खुद तैनात रह चुके जनरल रावत के ज़हन में दूरस्थ इलाकों में फर्ज निभा रहे जवानों और फील्ड कमांडरों का ध्यान बना रहता था।

सितम्बर, 2016 में जनरल रावत सेना मुख्यालय में बतौर उप-सेनाध्यक्ष नियुक्त होकर आए थे और महत्वपूर्ण दफ्तरी कामकाज में जिस तरह तुरंत बदलाव आया, वह देखते बनता था। सभी मातहतों की अपने तक पहुंच आसान बनाकर और जटिल विषयों को तन्मयता से सुलझाने के उनके विशिष्ट तरीके ने बहुत बड़ा फर्क लाया। बतौर डायरेक्टर जनरल ऑफ पर्सपेक्टिव प्लानिंग का मुखिया रहते मुझे भविष्य के पर्सपेक्टिव प्लान पर उनका सकारात्मक दखल आज भी याद है। उनमें किसी की बात सुनने की सहनशीलता गजब की थी और व्यवहार अधिकांशत: मिलनसार था। लेकिन मजाल है कोई विषय उनकी प्रबुद्ध परख से गुजरे बिना रह जाए।
जनवरी, 2017 में सेनाध्यक्ष का पद संभालने के बाद मानेकशॉ सभागार में होने वाले रिवायती पत्रकार वार्ता वाले क्षण परिभाषित करने वाले थे। संवाद बेलाग था और यह एकदम साफ हो गया था कि अब ऐसा सेनाध्यक्ष है, जो अपनी धारणा पर अडिग है, जरूरत पडऩे पर कडक़ होने से नहीं टलेगा और अपने मन की बात सीधे और बेधडक़ होकर कहने में हिचकेगा नहीं। सेना का आधुनिकीकरण और तंत्र की पुनर्संरचना को आकार देने और मार्गदर्शन में उनके दूरदृष्टिपूर्ण गुण सदा आगे रहे।

अब देश का ऐसा सेनाध्यक्ष भी था, जिसे सही को सही और गलत को गलत कहने में कोई गुरेज नहीं था और जो गलत आचरण की गुंजाइश देने वाले तौर-तरीके बदलने को सुधारों का हामी था। वैसे तो इतने उच्च पद पर आसीन किसी व्यक्ति से शुचिता की उम्मीद सबको रहती है, लेकिन उनके आने पर यह बात एकदम साफ हो गई थी कि किसी प्रकार की नैतिक अथवा वित्तीय गड़बड़ी के प्रति सहनशीलता शून्य है। सुरक्षा बलों में सद्चरित्र बनाने की दिशा में सेनाप्रमुख की यह विशेषता काफी गहरे तक असरअंदाज होती है। हो सकता है उनका यह अंदाज़ कुछ असंतुष्ट तत्वों-सेवारत और सेवानिवृत्त को रास न आया हो और उन्होंने पर्दे के पीछे रहते हुए सोशल मीडिया को अपनी बेजा भड़ास निकालने का जरिया बनाया। तथापि जनरल रावत ऐसे बंदे नहीं थे जो ऐसे किसी दुष्प्रचार से डिग जाते।

जब डोकलाम संकट जोरों पर था, तब जनरल रावत की निगरानी में मुझे सिक्किम स्थित 33 कोर की कमान सौंपी गई। अपने स्टाइल के अनुरूप उन्होंने करारे और स्पष्ट शब्दों में कहा ‘तुम्हें भागते घोड़े पर सवार होना है’, हालांकि जो उन्होंने नहीं कहा किंतु शारीरिक भंगिमा व्यक्त कर रही थी ‘और मुझे तुम पर यकीन है’। यही वह विशिष्ट खासियत है जो जनरल रावत को न केवल एक फौजी का जनरल बल्कि कमांडर का जनरल भी बनाती है! उस मौके पर मुझे उनके अंदर वह क्षमता देखने को मिली जो फील्ड में तैनात कोर कमांडर को स्पष्ट निर्देश भी देती है और उसका हाथ भी मजबूत करती है।
जनरल रावत महत्वपूर्ण सैन्य मामलों पर विमर्श, चाहे विषय कार्यकारी हो या प्रशासनिक, में शामिल किसी को भी अपने खोजपूर्ण और तीखे सवालों से निढाल कर देते थे। लेकिन एक बार यकीन होने के बाद संगठनात्मक हितों को सबसे आगे रखकर लिए उनके निर्णय एकदम सुस्पष्ट हुआ करते थे।

नियति ने उनके लिए और बहुत कुछ तय कर रखा था, जब देश के पहले सीडीएस का ऊंचा ओहदा मिला। उनके करिअर ग्राफ, दिमागी और दिली खूबियों को देखते हुए इस कष्टसाध्य नियुक्ति के लिए कोई और उनसे बेहतर पात्र था भी नहीं। यहां फिर, जनरल रावत ने सम्मुख चुनौतियों और लंबित कार्य पर पकड़ बनाई। सशस्त्र बलों के लिए युद्धक व्यूह-तंत्र की पुनर्संचरना की खातिर मिशनरी लगन होना वक्त का तकाज़ा था और पिछले दो सालों से इस दिशा में उनके अनवरत प्रयासों से काफी हासिल हुआ है। बहुत जल्द थल-नभ-वायुसेना की संयुक्त कमान का वजूद एक हकीकत होगी और जनरल रावत की विरासत इसके जरिए जिंदा रहेगी। भारत ने एक महान योद्धा और सबसे वरिष्ठ सैन्य कमांडर खोया है, लेकिन उनकी गाथा प्रेरणा का स्रोत और दृष्टिकोण सशस्त्र बलों के तंत्र-आधुनिकीकरण के रूप में अमर रहेगा।
लेखक सिक्किम स्थित 33वीं कोर के कमांडर रहे हैं।

RELATED ARTICLES

ट्रंप को हराना क्यों मुश्किल?

श्रुति व्यास डोनान्ड ट्रंप ने फिर साबित किया है कि वे अजेय हैं। 24 फरवरी को ट्रंप ने प्रतिस्पर्धी निकी हैली के गृहराज्य साऊथ केरोलाइना...

विपक्ष के गढ़ में क्या खिलेगा कमल?

हरिशंकर व्यास यह भी अहम सवाल है कि क्या भाजपा किसी ऐसे राज्य में चुनाव जीत पाएगी, जहां इससे पहले वह कभी नहीं जीती है?...

लंबी अस्थिरता की ओर

पाकिस्तान की सेना ने ऐसा ड्रामा रचा है, जिसमें मंच पर मौजूद पात्र उसके लिखे संवाद ही बोलें। यह खेल पाकिस्तानी आवाम के साथ-साथ...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

सरकार ने रेलवे यात्रियों को दी बड़ी राहत, 50 प्रतिशत तक घटा दिया ट्रेनों का किराया 

नई दिल्ली।  लोकसभा चुनाव से पहले सरकार ने रेलवे यात्रियों को बड़ी राहत दी है। रेलवे द्वारा पैसेंजर ट्रेन के किरायों को प्री-कोविड स्तर...

अनुपयोगी घाटियां व जमीनों में उगायी जाएगी मंडुआ, झंगोरा एवं चौलाई

सीएस ने क्षेत्र विस्तार की कार्ययोजना तैयार करने के निर्देश दिए देहरादून।  मुख्य सचिव श्रीमती राधा रतूड़ी ने मंडुआ, झंगोरा व चौलाई का उत्पादन बढ़ाने...

भाई के सिर पर सब्बल से हमला कर की हत्या, पिता को भी किया घायल, आरोपी गिरफ्तार

पंजाब। खन्ना के गांव पूनिया में छोटे भाई ने अपने बड़े भाई के सिर पर सब्बल (औजार) से हमला कर उसकी हत्या कर दी।...

उत्तराखंड पुलिस ने वाहनों के चालान से 43.52 करोड़ कमाए

सी.पी.यू ने 1.14 लाख व अन्य ने 7.28 लाख  चालान काटे काशीपुर। बीते साल 2023 में उत्तराखंड पुलिस ने 8 लाख 42 हजार वाहन चालान...

देश के ताकतवर हस्तियों की रेस में सीएम धामी ने लगाई लंबी छलांग

देश के सौ सबसे ताकतवर प्रमुख व्यक्तियों में सीएम धामी 61 वें पायदान पर देहरादून। लोकसभा चुनाव के दावेदारों के दिल्ली में जारी मंथन के...

उच्च शिक्षा में शोध, छात्रवृत्ति व निःशुल्क कोचिंग का मिलेगा अवसर

सरकार ने वर्ष 2024-25 के बजट में किया 7.64 करोड़ का प्रावधान देहरादून। सूबे की शिक्षा व्यवस्था में गुणात्मक सुधार के लिये सरकार ने बजट...

केआइएसएस मानवतावादी सम्मान से सम्मानित किए गए माइक्रोसॉफ्ट के सह संस्थापक बिल गेट्स

भुवनेश्वर। माइक्रोसॉफ्ट के सह संस्थापक तथा वैश्विक समाज सेवी, बिल एंड मेलिंडा गेट्स फाउंडेशन के सह-अध्यक्ष बिल गेट्स को उनके सामाजिक कार्यों के लिए...

उत्तराखण्ड के सात लोक कलाकारों को संगीत नाटक अकादमी पुरुस्कार

वर्ष 2022-23 के लिए संगीत नाटक अकादमी सम्मान की घोषणा देहरादून।  संगीत नाटक अकादमी ने अपने पुरस्कारों की घोषणा कर दी है। ये पुरस्कार राष्ट्रपति...

ऊनी कपड़े रखते समय जरूर रखें इन बातों का ध्यान, हमेशा दिखेंगे नए जैसे

जैसे ही सर्दियां खत्म होने वाली होती हैं, हम लोग अब अपने गर्म कपड़े, खासकर ऊनी कपड़े, संभाल कर रखने की सोचते हैं. ये...

पंचायतों के सशक्तिकरण के लिए पंचायत मंत्री ने सदन में प्रस्तुत किया संकल्प पत्र

महाराज ने कहा सबसे पहले पंचायतों को अपने विभागों का करेंगे स्थानांतरण देहरादून। पंचायतीराज मंत्री सतपाल महाराज ने सदन में भारत के संविधान की...

Recent Comments