Monday, October 3, 2022
Home ब्लॉग नौकरियों में आरक्षण खत्म हो

नौकरियों में आरक्षण खत्म हो

वेद प्रताप वैदिक
सर्वोच्च न्यायालय में आजकल आरक्षण पर बहस चल रही है। उसमें मुख्य मुद्दा यह है कि आर्थिक आधार पर लोगों को नौकरियों और शिक्षा-संस्थानों में आरक्षण दिया जाए या नहीं? 2019 में संसद ने संविधान में 103 वाँ संशोधन करके यह कानून बनाया था कि गरीबी की रेखा के नीचे जो लोग हैं, उन्हें 10 प्रतिशत तक आरक्षण दिया जाए। यह आरक्षण उन्हीं लोगों को मिलता है, जो अनुसूचित और पिछड़ों को मिलनेवाले आरक्षण भी शामिल नहीं हैं। याने सामान्य श्रेणी या अनारक्षित जातियों को भी यह आरक्षण मिल सकता है। उसका मापदंड यह है कि उस गरीब परिवार की आमदनी 8 लाख रु. साल से ज्यादा न हो। याने लगभग 65 हजार रु. प्रति माह से ज्यादा न हो।

एक परिवार में यदि चार लोग कमाते हों तो उनकी आमदनी 16-17 हजार से कम ही हो। ऐसा माना जाता है कि गरीबी रेखा के नीचे जो लोग हैं, उनकी संख्या 25 प्रतिशत के आस-पास है याने लगभग 30 करोड़ है। इन लोगों को आरक्षण देने का विरोध इस तर्क के आधार पर किया जाता है कि देश के ज्यादातर गरीब तो अनुसूचित लोग ही हैं। यदि ऊँची जातियों के लोगों को गरीबी के नाम पर आरक्षण दिया जाएगा तो जो असली गरीब हैं, उनका हक मारा जाएगा। इसके जवाब में जजों ने पूछा है कि यदि इस आरक्षण में आरक्षितों और पिछड़ों को भी जोड़ लिया जाए तो आरक्षण की सारी मलाई ये वर्ग ही साफ कर लेंगे। अभी तक कानून यह है कि 50 प्रतिशत से अधिक आरक्षण नहीं दिया जाए।

ऐसे में एक तर्क यह भी है कि गरीबों को दिया गया आरक्षण अनुसूचितों के लिए नुकसानदेह होगा। वास्तव में सरकारी और गैर-सरकारी संस्थानों की नौकरियों में किसी भी आधार पर आरक्षण देना उचित नहीं है। ऐसे आरक्षणों में योग्यता दरकिनार कर दी जाती है और अयोग्य लोगों को कुर्सियां थमा दी जाती हैं। इसके फलस्वरुप सारा प्रशासन अक्षम हो जाता है और भ्रष्टाचार को बढ़ावा मिलता है। नौकरियों में भर्ती का पैमाना सिर्फ एक ही होना चाहिए। वह है, योग्यता! देश के प्रशासन को सक्षम और सफल बनाना हो तो जाति और गरीबी, दोनों के नाम पर नौकरियों में दिए जानेवाले आरक्षणों को तुरंत खत्म किया जाना चाहिए।

उसकी जगह सिर्फ शिक्षा में आरक्षण दिया जाए और वह भी 60-70 प्रतिशत हो तो भी उसमें भी कोई बुराई नहीं है। इस आरक्षण का सिर्फ एक ही मानदंड हो और वह हो गरीबी की रेखा! इसमें सभी जातियों के लोगों को समान सुविधा मिलेगी। समस्त आरक्षित छात्र-छात्राओं को निशुल्क शिक्षा और संभव हो तो भोजन और निवास की सुविधा भी मिलनी चाहिए। जो बच्चे परिश्रमी और योग्य होंगे, वे नौकरियों में आरक्षण की भीख क्यों मांगेंगे? वे स्वाभिमानपूर्वक काम करेंगे। वे हीनताग्रंथि से मुक्त होंगे।

RELATED ARTICLES

कांग्रेस की यही मुश्किल

रास्ता संभवत: यही है कि राहुल गांधी जनता के बीच जाकर पार्टी की प्रासंगिकता को फिर से जीवित करने के प्रयास में जुटे रहें।...

नड्डा चुनाव तक बने रहेंगे!

भारतीय जनता पार्टी के अध्यक्ष के मामले में पिछला इतिहास दोहराए जाने की संभावना है। जिस तरह पिछले लोकसभा चुनाव से पहले अमित शाह...

तीसरा चुनाव आयुक्त है ही नहीं!

चुनाव आयोग के सामने बहुत बड़ा मामला लंबित है। सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद उसे शिव सेना के बारे में फैसला करना है।...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

अजय देवगन की मैदान की नई रिलीज डेट जारी, अगले साल 17 फरवरी को होगी रिलीज

अभिनेता अजय देवगन अपनी स्पोर्ट्स ड्रामा फिल्म मैदान को लेकर काफी समय से चर्चा में हैं। कई बार इस फिल्म की रिलीज डेट टल...

कांग्रेस की यही मुश्किल

रास्ता संभवत: यही है कि राहुल गांधी जनता के बीच जाकर पार्टी की प्रासंगिकता को फिर से जीवित करने के प्रयास में जुटे रहें।...

देहरादून मे संपन्न हुआ दो दिवसीय फिक्की फ्लोर बाजार 

देहरादून। फिक्की फ्लो उत्तराखण्ड चैप्टर का दो दिवसीय फिक्की फ्लो बाजार आज धूम धाम से समाप्त हुआ । आज विधानसभा स्पीकर ऋतु खंडूरी फिक्की...

‘‘वेटरन सोल्जर्स सम्मान समारोह‘‘ में मुख्यमंत्री ने पूर्व सैनिकों को किया सम्मानित

सेवानिवृत्त लेफ्टिनेंट जनरल अनिल चौहान को देश का दूसरा चीफ ऑफ़ डिफेंस स्टाफ बनाया जाना देवभूमि के लिए गौरव का क्षण- मुख्यमंत्री। देहरादून। मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह...

बीजेपी राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा और केंद्रीय गृह मंत्री अनुराग ठाकुर पहुंचे ऊना, आगामी विधानसभा चुनाव को लेकर की बैठक

हिमाचल प्रदेश।  भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जगत प्रकाश नड्डा और केंद्रीय मंत्री अनुराग ठाकुर रविवार को ऊना पहुंचे। नड्डा ने लालसिंगी में भाजपा कार्यालय का...

राज्यपाल ने टी.बी. एसोसिएशन ऑफ उत्तराखण्ड के टी.बी. के प्रति जनजागरूकता अभियान ‘‘टी.बी. सील’’ का किया अनावरण

देहरादून। राज्यपाल लेफ्टिनेंट जनरल गुरमीत सिंह (से नि) ने राजभवन में टी.बी. एसोसिएशन ऑफ उत्तराखण्ड के टी.बी. के प्रति जनजागरूकता अभियान ‘‘टी.बी. सील’’ का...

उत्तरकाशी में महसूस किए गए भूकंप के झटके, नुकसान होने की कोई सूचना नहीं

उत्तरकाशी। जिला मुख्यालय और आसपास के क्षेत्रों में रविवार सुबह भूकंप का तेज झटका आया। भूकंप का झटका इतनी तेज था कि लोग घरों...

 राज्य स्तरीय समान नागरिक संहिता विशेषज्ञ समिति के सदस्यों ने गोपेश्वर मुख्यालय और जनपद रुद्रप्रयाग के अगस्त्यमुनि में लोगों से मिलकर सुने उनके सुझाव 

चमोली। जनपद के मुख्यालय गोपेश्वर में जनसामान्य के साथ बैठक का आयोजन महाविद्यालय परिसर में किया गया। इस बैठक में महिलाओं व युवाओं ने...

स्किन को नुकसान पहुंचा सकती हैं ये मेकअप रिमूविंग मिसटेक्स, जानें और बचें इनसे

मेकअप आज के समय में महिलाओं के दैनिक जीवन का हिस्सा बन चुका हैं। महिलाएं अपनी नेचुरल स्किन को और भी ज्यादा ब्यूटीफुल दिखाने...

वरुण धवन और कृति सैनन की भेडिय़ा का टीजर जारी, डरावने हैं दृश्य

वरुण धवन और कृति सैनन हॉरर फिल्म भेडिय़ा में जल्द नजर आएंगे। फिल्म 25 नवंबर को बड़े पर्दे पर आएगी। इसका निर्देशन अमर कौशिक...

Recent Comments