Home उत्तराखंड उत्तराखंड की पहली बस्ता पैक स्ट्रीट लाइब्रेरी को लोगों ने किया पसंद

उत्तराखंड की पहली बस्ता पैक स्ट्रीट लाइब्रेरी को लोगों ने किया पसंद

ऋषिकेश। बस्ता पैक एडवेंचर की पहल उत्तराखंड की पहली स्ट्रीट लाइब्रेरी को लोग खूब पसंद कर रहे हैं। ऋषिकेश में लक्ष्मण चौक के करीब साई घाट पर स्थित बस्ता पैक स्ट्रीट लाइब्रेरी के पास शहर के स्थानीय लोगों समेत बाहरी पर्यटक भी आकर किताबें पढ़ना और डोनेट करना पंसद कर रहे हैं। गौरतलब है कि बसंत पंचमी के दिन बस्ता पैक एडवेंचर ने शिक्षा की दिशा में एक नई पहल शुरू की थी। जिसके तहत बस्ता पैक की टीम ने उत्तराखंड की पहली स्ट्रीट लाइब्रेरी शुरू की थी। जिसका उद्घाटन पद्मश्री डॉक्टर योगी एरन ने किया था। मीडिया टीम से बातचीत के दौरान के एक स्थानीय व्यक्ति राजू रस्तोगी ने बताया कि हमारे शहर ऋषिकेश में उत्तराखंड की पहली स्ट्रीट लाइब्रेरी खुली है, जिसे शहर के आम नागरिकों समेत पर्यटक खूब पंसद कर रहे हैं।

उन्होंने कहा कि स्ट्रीट लाइब्रेरी के give a book और take a book नियम  के जरिए लोग पढ़ने के लिए किताबों की अदला-बदली भी कर सकते हैं। जिससे उन्हें फ्री में अपनी पसंद की किताबें पढ़ने को मिलेगा। वहीं नीदरलैंड से आई एक महिला पर्यटक ने मीडिया से बातचीत में बताया कि उन्हें बस्ता पैक स्ट्रीट लाइब्रेरी की ये पहल बहुत अच्छी लगी है। उन्होंने बताया कि अमेरिका यात्रा के दौरान उन्होंने कुछ शहरों में ये कॉन्सेप्ट देखा था। लेकिन भारत के ऋषिकेश शहर में ये कॉन्सेप्ट देखकर उनको अच्छा लगा है। उन्होंने आगे कहा कि खाली समय में वह किताब लेकर गंगा किनारे पढ़ती भी हैं। दिल्ली से आई एक बुजुर्ग महिला पर्यटक ने कहा कि इस पहल के जरिए बच्चों का ध्यान मोबाइल से निकलकर किताबों की तरफ बढेगा।

बस्ता पैक एडवेंटर के फाउंडर गिरिजांश गोपालन ने मीडिया से बातचीत में बताया कि उनके टीम की योजना है कि वह उत्तराखंड के दूर-दराज इलाकों में स्ट्रीट लाइब्रेरी शुरू करे, जिससे छात्र-छात्राओं तक आसानी से किताबें पहुंच सके। उन्होंने आगे कहा कि पहाड़ों में घूमने सभी लोग आते हैं, लेकिन पहाड़ पर जीवन यापन करने वालों परिवारों और छात्रों की दिक्कत कोई नहीं समझता है। किताबों के डोनेशन को लेकर गिरिजांश ने कहा कि देश-विदेश से लोग उन्हें किताब डोनेट कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि जल्द ही पौढ़ी जिले में दूसरी स्ट्रीट लाइब्रेरी छात्रों के लिए खुलेगी।

वहीं बस्ता पैक एडवेंचर के फाउंडर प्रदीप भट्ट ने बताया कि उनकी टीम पर्यावरण को बिना नुकसान पहुंचाए टूरिज्म के क्षेत्र में कार्य कर रही है। उन्होंने अपने छात्र जीवन को याद करते हुए बताया कि वह उत्तराखंड के रूद्रप्रयाग जिले के रहने वाले हैं। उन्होंन कहा कि छात्र जीवन के दौरान गरीबी और दूरी के कारण उन तक बहुत सारी किताबें नहीं पहुंच पाती थी। इसलिए उनकी कोशिश है कि बस्ता पैक टीम उत्तराखंड के दूर-दराज इलाकों तक किताबों की पहुंच बनाए। जिसके लिए टीम लगातार कार्य कर रही है। उन्होंने लोगों से अपील करते हुए कहा है कि अगर घर में पूरानी किताबें हैं, तो उसे कबाड़ी को ना बेचकर हमें भेजे। जिससे जरूरतमंद बच्चों तक किताबें पहुंच सके।

RELATED ARTICLES

उत्तराखण्ड में साइबर अपराधी ने, डीजीपी का सोशल साइट पर बना लिया फर्जी एकाउंट

देहरादून। उत्तराखंड डीजीपी अशोक कुमार का किसी ने फर्जी ट्विटर अकाउंट बनाया है। पुलिस मुख्यालय की सोशल मीडिया सेल प्रभारी को जैसे ही इसकी...

महाभारतकालीन समय से रहे हैं उत्तर-पूर्वी राज्यों से हमारे संबंध: महाराज

श्रीनगर। हमारा देश एक राष्ट्र, एक ध्वज और एक आत्मा है। प्रतिष्ठित उत्सव अक्टेव-2022 जिस धरती पर हो रहा है, यही वह स्थान है...

पर्यटकों की भीड़ से कम पड़ी रोडवेज की बसें

देहरादून। पर्यटकों की भीड़  को देखते हुए रोडवेज ने मसूरी के लिए बसों के फेर बढ़ाए, बावजूद इसके बसों की किल्लत कम नहीं हो...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

बड़ी झंझट खत्म..! व्हाट्सएप यूजर्स के लिए खास सुविधा शुरू, Whatsapp पर डाउनलोड होगा DL और PAN

नई दिल्ली। इलेक्ट्रॉनिक्स और आईटी मंत्रालय ने व्हाट्सएप यूजर्स के लिए खास सुविधा शुरू की है। अब आप सिर्फ एक व्हाट्सएप मैसेज के जरिए...

कोरोना के बाद अब मंकीपॉक्स की दहशत ! मोदी सरकार ने राज्यों को किया अलर्ट, हरकत में आई उद्धव सरकार ने जारी की एडवाइजरी

नई दिल्ली। डब्लूएचओ के अनुसार मंकीपॉक्स एक वायरल जूनोटिक बीमारी है। यह जानवरों से मनुष्यों में फैलती है और फिर मनुष्य से मनुष्य में...

हिना खान ने बॉडीकॉन ड्रेस में फ्लॉन्ट किया फिगर, चौथे लुक ने आते ही मचा दिया कहर

बॉलीवुड की मशहूर एक्ट्रेस हिना खान इन दिनों कांस फिल्म फेस्टिवल 2022 में खूब धूम मचा रही हैं। हिना खान आए दिन कांस से...

भविष्य की आहट

राष्ट्रप्रेम की डींगों का धरातली आइना डा. रवीन्द्र अरजरिया दुनिया के सामने मातृभूमि की छवि धूमिल करने की एक कोशिश गोरों की धरती पर फिर हो...

उत्तराखण्ड में साइबर अपराधी ने, डीजीपी का सोशल साइट पर बना लिया फर्जी एकाउंट

देहरादून। उत्तराखंड डीजीपी अशोक कुमार का किसी ने फर्जी ट्विटर अकाउंट बनाया है। पुलिस मुख्यालय की सोशल मीडिया सेल प्रभारी को जैसे ही इसकी...

महाभारतकालीन समय से रहे हैं उत्तर-पूर्वी राज्यों से हमारे संबंध: महाराज

श्रीनगर। हमारा देश एक राष्ट्र, एक ध्वज और एक आत्मा है। प्रतिष्ठित उत्सव अक्टेव-2022 जिस धरती पर हो रहा है, यही वह स्थान है...

पर्यटकों की भीड़ से कम पड़ी रोडवेज की बसें

देहरादून। पर्यटकों की भीड़  को देखते हुए रोडवेज ने मसूरी के लिए बसों के फेर बढ़ाए, बावजूद इसके बसों की किल्लत कम नहीं हो...

हरकी पैड़ी पर गंगा आरती की अब हो सकेगी ऑनलाइन बुकिंग

देहरादून।  हरकी पैड़ी पर होने वाली गंगा की विश्व प्रसिद्ध मुख्य आरती को पहली बार ऑनलाइन बुक किया जा सकेगा। पहले तक श्रीगंगा सभा...

गोरीकुंड से केदारनाथ का सफ़र होगा और भी आसान, जानिए

देहरादून।  गौरीकुंड-केदारनाथ 16 किमी पैदल मार्ग पर ऑल टेरेन व्हीकल (एटीवी) चलाने की संभावनाएं तलाशी जाने लगी हैं। पर्यटन मंत्री ने लोक निर्माण विभाग...

95 साल के शख्स को 84 साल की महिला से हुआ प्यार, 40 मेहमानों की मौजूदगी में खाई साथ जीने-मरने की कसमें

लंदन। जरा सोचिए कि आप 95 साल की उम्र में क्या कर रहे होंगे? आप कहेंगे 95 साल की उम्र में कोई क्या कर...

Recent Comments