Monday, August 15, 2022
Home राष्ट्रीय 2024 में नरेंद्र मोदी के रथ को रोकने से पहले विपक्षी पार्टियों...

2024 में नरेंद्र मोदी के रथ को रोकने से पहले विपक्षी पार्टियों को जीतनी होगी ये ‘जंग’

नई दिल्ली। लुटियंस दिल्ली में विपक्षी नेताओं की मीटिंग का एक ही एजेंडा था- 2024 के लोकसभा चुनाव  में नरेंद्र मोदी के विजयी रथ को रोकना, लेकिन उससे पहले विपक्षी पार्टियों को एकजुट होकर 2022 के यूपी विधानसभा चुनाव में योगी आदित्यनाथ की सत्ता में दोबारा वापसी को रोकना होगा, क्योंकि यूपी जीते बिना विपक्ष के लिए मोदी को रोक पाना संभव नहीं लगता। इस दलील पर बहस हो सकती है, लेकिन अभी तक ‘एकजुट विपक्ष’ के पास उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव को लेकर कोई प्लान नहीं है। यूपी चुनाव मात्र 6 महीने दूर है, और विपक्ष को उम्मीद है कि अखिलेश यादव की अगुवाई वाली समाजवादी पार्टी बीजेपी को सत्ता विरोधी लहर के सहारे हराने में कामयाब रहेगी।

दूसरी ओर अखिलेश यादव ने साफ कर दिया है कि वह बेहद कमजोर कांग्रेस या मायावती की बसपा के साथ कोई गठबंधन नहीं करना चाहते हैं। ऐसे में यूपी चुनाव में त्रिकोणीय मुकाबला देखने को मिलेगा, और यह बीजेपी के लिए बेहद मुफीद साबित हो सकता है। अखिलेश यादव, कांग्रेस के वरिष्ठ नेता कपिल सिब्बल की मेजबानी में हुई विपक्ष के वरिष्ठ नेताओं की मीटिंग में भी शामिल हुए थे, जहां यूपी चुनाव में अखिलेश यादव को समर्थन देने और उनके हाथों को मजबूत करने पर भी चर्चा हुई। लेकिन, अखिलेश यादव कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी की ओर से बुलाई गई विपक्षी नेताओं की हाई-प्रोफाइल मीटिंग में शामिल नहीं हुए… सपा नेता का इशारा साफ है कि बीजेपी के खिलाफ यूपी चुनाव उनकी अकेली लड़ाई है।

दूसरी ओर बसपा सुप्रीमो मायावती को मीटिंग के लिए निमंत्रित भी नहीं किया गया था, शायद उत्तर प्रदेश की प्रभारी और कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी के साथ
उनके रिश्तों में असहजता और राजस्थान में कांग्रेस द्वारा बसपा के विधायकों को तोड़ने के बाद से मायावती के साथ कांग्रेस के रिश्ते में कड़वाहट देखने को मिली है।

यूपी चुनाव में जीत का समीकरण
राजनीतिक तर्कों को देखें तो उत्तर प्रदेश के त्रिकोणीय मुकाबले में एक पार्टी को सत्ता में आने के लिए तकरीबन 34 फीसदी वोट चाहिए होते हैं, जिससे कि वह बहुमत के आंकड़े (202 सीट) को पार कर जाती है। 2017 के यूपी चुनाव में बीजेपी को तकरीबन 40 फीसदी वोट मिले थे, और पार्टी अपने बलबूते पर 312 सीटों के आंकड़े तक पहुंच गई थी। यूपी में मतदाताओं के वर्ग की बात करें तो ये मुख्य तौर पर 6 हैं- सवर्ण वोटर, यादव, मुस्लिम, गैर-यादव ओबीसी, दलित और अत्यंत पिछड़ा वर्ग का वोटर, राजनीतिक दलील ये है कि यूपी में जो भी पार्टी मतदाताओं के दो समूह का वोट हासिल कर लेती है, उसे जीत मिल जाती है।

2017 के चुनाव में बीजेपी तीन से ज्यादा वोटर समूह के मत हासिल करने में सफल रही थी- इनमें गैर यादव ओबीसी, सवर्ण और अत्यंत पिछड़ा समुदाय के वोटरों ने बीजेपी को अपना समर्थन दिया। वहीं बीजेपी को दलित वर्ग से काफी संख्या में वोट मिले, जोकि चौंकाने वाला था। मुस्लिम वोट सपा-कांग्रेस गठबंधन और बसपा के बीच बंट गया, जबकि सपा के साथ गठबंधन के चलते कांग्रेस का सवर्ण वोटबैंक बीजेपी को चला गया।

इस बार ऐसी स्थितियां दिख रही हैं कि मुस्लिम वोटर सपा के पीछे एकजुट हो रहा है, शायद बिहार और बंगाल के चुनाव परिणाम से इस वर्ग ने सबक लिया है। बिहार में असदुद्दीन ओवैसी ने अपने उम्मीदवार खड़े करके मुस्लिम वोटों को बांट दिया, जिसके चलते आरजेडी-कांग्रेस को कई सीटों पर हार का सामना करना पड़ा, परिणाम स्वरूप बिहार में नीतीश और बीजेपी ने सत्ता में वापसी कर ली। वहीं बंगाल में मुस्लिम वोटरों ने कांग्रेस को छोड़ टीएमसी का साथ दिया।

अखिलेश का गणित
2022 के यूपी चुनाव में यादव और मुस्लिम वोटरों के सपोर्ट ने अखिलेश यादव की उम्मीदों को नए पंख दिए हैं, लिहाजा उन्होंने अकेले दम पर चुनाव लड़ने का फैसला किया है। सपा नेता की सोच है कि वह बीजेपी से गैर यादव वोटर को अपने पाले में खींच पाने में सफल रहेंगे। इसके लिए उन्होंने यूपी में छोटी-छोटी पार्टियों के साथ गठबंधन का फैसला किया है। वहीं मायावती को इस बात का एहसास हो गया है कि मुस्लिम वोटर उनके साथ नहीं है, लिहाजा बसपा ने ब्राह्मणों को अपने पाले में करने के लिए अभियान शुरू कर दिया है।

वहीं कांग्रेस के साथ गठबंधन नहीं करने का फायदा भी अखिलेश यादव को मिल सकता है, क्योंकि कमजोर कांग्रेस भी बीजेपी के सवर्ण वोट बेस में सेंध लगा सकती है, जोकि अभी तक बीजेपी के साथ दिख रहा है। अखिलेश यादव कांग्रेस को बहुत ज्यादा सीटें देना भी पसंद नहीं करते। सपा के एक नेता ने न्यूज18 को बताया, “कांग्रेस के साथ यूपी में गठबंधन नहीं करना ही असली गठबंधन है।” यह एक तरीके से बंगाल में टीएमसी और कांग्रेस के बीच अप्रत्यक्ष सहयोग की तरह है, जहां दोनों पार्टियां मुकाबले में थीं।

आश्वस्त दिख रही है बीजेपी
दूसरी ओर यूपी की सत्ता में काबिज बीजेपी के लिए टुकड़ों में बंटे विपक्ष से लड़ना आसान है, और इस चुनाव में गहरा ध्रुवीकरण देखने को भी मिलेगा। राम मंदिर निर्माण के चलते सूबे की बहुसंख्यक आबादी के बीजेपी का समर्थन करने की उम्मीद है। बीजेपी ने पहले से ही मुस्लिमों के समर्थन को लेकर समाजवादी पार्टी पर निशाना साधना शुरू कर दिया है, योगी आदित्यनाथ ने मुलायम सिंह यादव को अब्बाजान करार दिया, वहीं बीजेपी कह रही है कि अखिलेश यादव कल्याण सिंह को श्रद्धांजलि देने इसलिए नहीं आए क्योंकि वे अपने मुस्लिम वोटरों को नाराज नहीं करना चाहते थे।

बीजेपी को लगता है कि मुस्लिम वोट एकजुट किसी एक पार्टी नहीं जाएगा, क्योंकि यह सूबे के विभिन्न हिस्सों में बंटा हुआ है। योगी आदित्यनाथ ने हाल ही में लगातार प्रियंका गांधी और मायावती का जिक्र किया है, ताकि दोनों पार्टियों को मुख्य विपक्षी पार्टी के तौर पर दर्शाया जा सके। बीजेपी की कोशिश है कि सत्ता विरोधी वोट एकमुश्त समाजवादी पार्टी को ना मिले, बल्कि सभी विपक्षी पार्टियों में बंट जाए। बीजेपी को उम्मीद है कि उसके सहयोगी अपना दल और निषाद पार्टी अपने ओबीसी वोटबैंक को एकजुट बनाए रखेंगे।

एक बीजेपी नेता ने न्यूज18 को बताया, “हमें कुछ सीटों का नुकसान (एनडीए की 325 सीटों में कमी) हो सकता है, लेकिन आसानी से जीत हासिल कर लेंगे। विपक्षी पार्टियों बतौर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की लोकप्रियता को कम आंक रही हैं।” 2022 के यूपी चुनाव में बीजेपी को जीत, 2024 के लिए विपक्षी एकता के मंसूबों को ध्वस्त कर देगी!

Source link

RELATED ARTICLES

आजादी के अमृत महोत्सव के तहत राम जन्म भूमि परिसर में फहराया गया तिरंगा

लखनऊ।  आजादी के अमृत महोत्सव के क्रम में राम जन्मभूमि परिसर में भी तिरंगा फहराया गया। परिसर में जगह-जगह राष्ट्रीय ध्वज लगाया गया है।...

शेयर बाजार के दिग्गज निवेशक राकेश झुनझुनवाला का हुआ निधन, पीएम मोदी ने किया शोक व्यक्त

दिल्ली।  शेयर बाजार के दिग्गज निवेशक राकेश झुनझुनवाला का निधन हो गया है। बताया जा रहा है कि उन्होंने रविवार सुबह मुंबई के ब्रीच कैंडी...

अद्भुत होगा सफर जब बादलों में से गुजरेगी आपकी ट्रेन, ये है दुनिया का सबसे ऊंचा चिनाब ब्रिज

नई दिल्‍ली । दुनिया के सबसे ऊंचे चिनाब रेलवे ब्रिज का शनिवार को शुभारंभ हुआ। इस पुल के साथ आजादी के बाद पहली बार श्रीनगर...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडन ने स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर दी भारत को बधाई

अमेरिका। अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडन ने 75वें स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर भारत को बधाई दी।  उन्होंने कहा कि भारतीय-अमेरिकी समुदाय ने अमेरिका को...

CM धामी स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर परेड ग्राउण्ड में ध्वजारोहण कर, पुलिस अधिकारियों और कर्मचारियों को विशिष्ट कार्यों के लिए सराहनीय सेवा...

देहरादून।  मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने स्वतंत्रता की 75वीं वर्षगांठ के अवसर पर परेड ग्राउण्ड देहरादून में राज्य के मुख्य कार्यक्रम में ध्वजारोहण किया।...

स्वतंत्रता दिवस की 76वीं वर्षगांठ के अवसर पर सीएम धामी ने ध्वजारोहण कर राष्ट्रीय एकता की दिलाई शपथ

देहरादून।  स्वतंत्रता दिवस की 76वीं वर्षगांठ के अवसर पर मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने सुबह सबसे पहले मुख्यमंत्री आवास में ध्वजारोहण किया। इस अवसर पर...

चोट के कारण विश्व चैंपियनशिप से बाहर हुईं सिंधु

 दिल्ली । पूर्व विश्व चैंपियन और भारत की शीर्ष शटलर पुसरला वेंकट सिंधु बाएं पैर में स्ट्रेस फ्रैक्चर होने के कारण विश्व बैडमिंटन चैंपियनशिप...

महिलाओं को चक्कर आने के पीछे हो सकते है ये 10 कारण, जानें और बरतें सावधानी

सिर में अचानक तेज दर्द होना या सिर घूमना, चक्कर आना कहलाता हैं जो कि एक एक सामान्य स्थिति है। कई बार नींद पूरी...

रुबीना दिलैक को माधुरी दीक्षित के सामने डांस करना थोड़ा मुश्किल लगता है

बिग बॉस 14 की विजेता अभिनेत्री रुबीना दिलैक अपने डांस को लेकर उत्साहित हैं लेकिन उतनी नर्वस भी हैं क्योंकि उन्हें बॉलीवुड की च्ीन...

संसद सत्र का बेहतर इस्तेमाल हो

अजीत द्विवेदी संसद का मॉनसून सत्र निर्धारित समय से चार दिन पहले ही समाप्त हो गया। सत्रहवीं लोकसभा में यानी मई 2019 के बाद से...

आजादी के अमृत महोत्सव के तहत राम जन्म भूमि परिसर में फहराया गया तिरंगा

लखनऊ।  आजादी के अमृत महोत्सव के क्रम में राम जन्मभूमि परिसर में भी तिरंगा फहराया गया। परिसर में जगह-जगह राष्ट्रीय ध्वज लगाया गया है।...

मुख्यमंत्री धामी ने विभाजन विभीषिका स्मृति दिवस’ कार्यक्रम में किया प्रतिभाग

विभाजन की विभीषिका का दर्द सहने वाले 400 सेनानियों को स्मृति चिन्ह देकर किया सम्मानित देहरादून। मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने रविवार को जेसिस पब्लिक स्कूल,...

राज्यपाल ने आईटीबीपी द्वारा आज़ादी के अमृत महोत्सव के अवसर पर आयोजित ‘‘वॉकथॉन’’ का किया फ़्लैग ऑफ़

देहरादून। राज्यपाल लेफ्टिनेंट जनरल गुरमीत सिंह (से नि) ने रविवार को आईटीबीपी द्वारा आज़ादी के अमृत महोत्सव के अवसर पर आयोजित ‘‘वॉकथॉन’’ का फ़्लैग ऑफ़...

Recent Comments