Tuesday, October 4, 2022
Home उत्तराखंड अनोखा मंदिर: जानिए आखिर कैसे माता अनसूया के दर्शन से निसंतान दंपतियों...

अनोखा मंदिर: जानिए आखिर कैसे माता अनसूया के दर्शन से निसंतान दंपतियों की भर जाती है गोद

चमोली। उत्तराखंड के चमोली की मंडल घाटी के घने जंगलों के बीच माता अनसूया का भव्य मंदिर है, जो कि अपनी खूबसूरती के साथ निसंतान दंपतियों की मनोकामना पूरी करने के लिए देशभर में पहचान रखता है। यही नहीं, संतानदायिनी के रूप में प्रसिद्ध माता अनसूया के दरबार में सालभर निसंतान दंपति संतान कामना के लिए पहुंचते हैं। माना जाता है कि शक्ति सिरोमणि माता अनसूया के दरबार से कोई खाली हाथ नहीं लौटता है।

माता अनसूया मंदिर के पुजारी प्रवीन सैमवाल के मुताबिक, माता न सिर्फ निसंतान लोगों की कामनापूर्ण करती है बल्कि देवता भी माता अनसूया को नमन करते हैं। बता दें कि प्रकृति की गोद में बसा यह स्थान चारों ओर से ऊंची-ऊंची पर्वत श्रृंखलाओं से सुशोभित है, जोकि हर किसी को मनमोह लेता है।

ब्रह्मा, विष्णु और महेश ने ली थी माता की परीक्षा

अनसूया मंदिर के पुजारी प्रवीन सैमवाल ने बताया कि यह स्‍थान बद्री और केदारनाथ के बीच स्थित है। उन्‍होंने बताया कि महर्षि अत्रि मुनि की पत्नी अनसूया की महिमा जब तीनों लोक में होने लगी तो पार्वती, लक्ष्मी और सरस्वती के अनुरोध पर परीक्षा लेने ब्रह्मा, विष्णु, महेश पृथ्वीलोक पहुंचे थे। इसके बाद साधु भेष में तीनों ने अनसूया के सामने निर्वस्त्र होकर भोजन कराने की शर्त रखी थी। दुविधा की इस घड़ी में जब माता ने अपने पति अत्रि मुनि का स्मरण किया तो सामने खड़े साधुओं के रूप में उन्हें ब्रह्मा, विष्णु और महेश खड़े दिखाई दिए। इसके बाद उन्‍होंने अपने कमंडल से जल निकालकर तीनों साधुओं पर छिड़का तो वह छह महीने के शिशु बन गए थे। इस बाद माता ने शर्त के मताबिक, न सिर्फ उन्‍हें भोजन कराया बल्कि स्‍तनपान भी कराया था। वहीं, पति के वियोग में तीनों देवियां दुखी होने के बाद पृथ्वीलोक पहुंचीं और माता अनसूया से क्षमा याचना की। इसके बाद तीनों देवों ने भी अपनी गलती को स्वीकार कर माता की कोख से जन्म लेने का आग्रह किया। इसके बाद तीनों देवों ने माता को दो वरदान दिए। इससे उन्‍हें दत्‍तात्रेय, दुर्वासा ऋषि और चंद्रमा का जन्‍म हुआ, तो दूसरा वरदान माता को किसी भी युग में निसंतान दंपित की कोख भरने का दिया। यही नहीं, वजह है कि यहां जो कोई भी संतान की कामना के लिए आता है, वह खाली हाथ नहीं रहता।

माता अनसूया मंदिर के प्रमुख पुजारी प्रवीन सैमवाल।

वहीं, अनसूया ट्रस्‍ट के उपाध्‍यक्ष विनोद राणा ने कहा कि मैं करीब 22 साल से मां की सेवा कर रहा हूं। माता के दरबार से कोई खाली हाथ लौटकर नहीं जाता। जबकि घने जंगलों के बीच बसे मंदिर परिसर को लेकर उन्‍होंने कहा कि यहां भालू और अन्‍य जंगली जानवर जरूर रहते हैं, लेकिन आज तक किसी भक्‍त के साथ कोई हादसा नहीं। जबकि मंदिर की सुरक्षा को लेकर कहा कि यहां क्षेत्रपाल की अहम भूमिका रहती है और उनके 50 से ज्‍यादा रूप हैं।

दत्‍तात्रेय देव भूमि सेवा ट्रस्‍ट के समाजसेवी ऋषि कुमार विश्‍नाई और अनसूया ट्रस्‍ट के उपाध्‍यक्ष विनोद राणा।

दत्‍तात्रेय देव भूमि सेवा ट्रस्‍ट ने की ये अपील

दत्‍तात्रेय देव भूमि सेवा ट्रस्‍ट चलाने वाले समाजसेवी ऋषि कुमार विश्‍नाई ने बताया कि माता के दरबार में वैसे तो हर किसी को आशीर्वाद मिलता है, लेकिन यहां की खास मान्‍यता निसंतान दंपति की गोद भरने के कारण है। उन्‍होंने कहा कि यहां जो भी आता है मां उसकी मुराद पूरी जरूर करती है। इसके अलावा विश्‍नाई ने बताया कि माता अनसूया परिसर में भक्‍तों के रुकने या आराम करने का कोई खास इंतजाम नहीं है, इसलिए हम धर्मशाला बनाने के साथ एक गौशाला का निर्माण भी कर रहे हैं, जो कि पूरा होने के करीब है। वहीं, उन्‍होंने देशभर के लोगों से अपील करते हुए कहा कि आप सब माता के दर्शन करने के लिए चमोली के मंडल घाटी के इस पावन मंदिर में जरूर पदारें।

जानें माता की पूजा की विधि

निसंतान दंपति की कोख भरने के लिए माता के मंदिर की पहचान है। यहां संतान की चाह रखने वालों को शाम तक पहुंचना होता है। इसके बाद उन्‍हें पूजापाठ के बाद रात भर मंदिर में ही बैठाना होता है। इस दौरान अनसूया माता महिला को दर्शन देती हैं। इसके बाद महिला वहां से उठकर स्‍नान वगैराह करती है और फिर सूर्यादय के बाद एक बार फिर पुजारी पूजा करवाते हैं। इस दौरान जो पूजा सामान आप चढ़ाते हैं, उसमें से श्रीफल समेत कुछ चीजें आपको वापस मिलती हैं,जिन्‍हें आप अपने घर में मंदिर में जगह देते हैं। यही नहीं, जब आपकी मुराद पूरी हो जाती है, तो आप फिर से माता के दर्शन करने जा सकते हैं।

ऐसे पहुंच सकते हैं माता के मंदिर

चमोली जिले की मंडल घाटी तक वाहन से आप पहुंच सकते हैं। इसके बाद अनसूया मंदिर तक पहुंचने के लिए आपको पैदल यात्रा करनी होगी। अगर आप उत्तराखंड के बाहर से आ रहे हैं तो ऋषिकेश तक ट्रेन से पहुंच सकते हैं। इसके बाद श्रीनगर के रास्‍ते गोपेश्वर से होते हुए मंडल तक बस और टैक्‍सी से पहुंच सकते हैं। फिर मंडल से माता के मंदिर तक पांच किलोमीटर की खड़ी चढ़ाई है। प्रकृति की गोद में बसा यह स्थान चारों ओर से ऊंची-ऊंची पर्वत श्रृंखलाओं से सुशोभित है, तो इसके नजदीक ही अत्रि मुनि आश्रम स्थित है, जो कि अमृत गंगा का उद्गम स्थल भी है।

Source link

RELATED ARTICLES

सीएम धामी ने प्रधानमंत्री आवास योजना (शहरी) के अंतर्गत 547 करोड़ रुपए लागत की 9 योजनाओं का किया शिलान्यास  

इन 9 योजनाओं में 7776 मकान बनाए जाएंगे प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में सभी गरीबों को घर का सपना हो रहा साकार: सीएम नैनीताल/उधम सिंह...

आखिर क्यों त्योहारी सीजन में हो सकती है लोगों को टैक्सियों की मारामारी, जानिए वजह

देहरादून।  त्योहारी सीजन में टैक्सियों की मारामारी हो सकती है। ऐसे में लोगों को परेशानी हो सकती है। परिवहन विभाग ने तीन साल पहले...

देहरादून में 8 और 9 अक्टूबर को होगा संजीवनी दीपावली मेले का आयोजन

मेले में ऐपण की साड़ियाँ, मिट्टी के बर्तन, रिंगाल के उत्पादों समेत उत्तराखंडी उत्पादों की दिखेगी झलक  देहरादून। राजधानी में पिछले सालों की भाँति इस...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

सीएम धामी ने प्रधानमंत्री आवास योजना (शहरी) के अंतर्गत 547 करोड़ रुपए लागत की 9 योजनाओं का किया शिलान्यास  

इन 9 योजनाओं में 7776 मकान बनाए जाएंगे प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में सभी गरीबों को घर का सपना हो रहा साकार: सीएम नैनीताल/उधम सिंह...

दुनिया की सबसे बड़ी दोपहिया वाहन निर्माता कंपनी हीरो ने सितंबर में बेचे 5,19,980 वाहन

नई दिल्ली। दुनिया की सबसे बड़ी दोपहिया वाहन निर्माता कंपनी हीरो मोटोकॉर्प ने मासिक आधार पर 12.4 प्रतिशत की वृद्धि के साथ सितंबर 2022 में...

आखिर क्यों त्योहारी सीजन में हो सकती है लोगों को टैक्सियों की मारामारी, जानिए वजह

देहरादून।  त्योहारी सीजन में टैक्सियों की मारामारी हो सकती है। ऐसे में लोगों को परेशानी हो सकती है। परिवहन विभाग ने तीन साल पहले...

देहरादून में 8 और 9 अक्टूबर को होगा संजीवनी दीपावली मेले का आयोजन

मेले में ऐपण की साड़ियाँ, मिट्टी के बर्तन, रिंगाल के उत्पादों समेत उत्तराखंडी उत्पादों की दिखेगी झलक  देहरादून। राजधानी में पिछले सालों की भाँति इस...

राज्यपाल गुरमीत सिंह पहुंचे केदारनाथ धाम, बाबा के दर्शन कर लिया आशीर्वाद

देहरादून। उत्तराखंड के राज्यपाल गुरमीत सिंह आज सुबह केदारनाथ धाम पहुंचे। उन्होंने बाबा केदार के दर्शन कर पूजा अर्चना की। इसके बाद राज्यपाल रुद्रप्रयाग पहुंचे।...

शरद ऋतु के शुरु होते ही सरोवर नगरी नैनीताल में उमड़ने लगी पर्यटकों की भीड़, अधिकांश होटलों में बुकिंग हुई फुल

नैनीताल। सरोवर नगरी नैनीताल में ऑटम सीजन यानी शरद ऋतु शुरू होते ही देशभर से भारी संख्या में सैलानी पहुंच रहे हैं। दिल्ली एनसीआर, गुजरात...

पानी पीकर भी हाई ब्लड प्रेशर को कंट्रोल कर सकते हैं आप, जानिए क्या है सही तरीका

पानी पीने से शरीर में ब्लड सर्कुलेशन सही रहता है। पानी शरीर को हाइड्रेट रखता है। हाई बीपी को कंट्रोल करने के लिए पानी...

अजय देवगन की मैदान की नई रिलीज डेट जारी, अगले साल 17 फरवरी को होगी रिलीज

अभिनेता अजय देवगन अपनी स्पोर्ट्स ड्रामा फिल्म मैदान को लेकर काफी समय से चर्चा में हैं। कई बार इस फिल्म की रिलीज डेट टल...

कांग्रेस की यही मुश्किल

रास्ता संभवत: यही है कि राहुल गांधी जनता के बीच जाकर पार्टी की प्रासंगिकता को फिर से जीवित करने के प्रयास में जुटे रहें।...

देहरादून मे संपन्न हुआ दो दिवसीय फिक्की फ्लोर बाजार 

देहरादून। फिक्की फ्लो उत्तराखण्ड चैप्टर का दो दिवसीय फिक्की फ्लो बाजार आज धूम धाम से समाप्त हुआ । आज विधानसभा स्पीकर ऋतु खंडूरी फिक्की...

Recent Comments