Home अंतर्राष्ट्रीय नासा के मिशन के लिए चुना गया भारतीय मूल का डॉक्टर

नासा के मिशन के लिए चुना गया भारतीय मूल का डॉक्टर

न्यूयॉर्क। नासा ने निकट भविष्य के अपने अंतरिक्ष मिशनों के लिए 10 नए नामों की घोषणा की है, जिनमें एक भारतीय मूल के डॉक्टर भी शामिल हैं। ये लोग चांद और मंगल ग्रह पर जाने वाले मिशनों का हिस्सा बनेंगे।45 वर्षीय डॉक्टर अनिल मेनन स्पेसएक्स के पहले फ्लाइट सर्जन थे। उसके पहले वो नासा के लिए भी इसी भूमिका में अंतरिक्ष मिशन पर यात्रियों के स्वास्थ्य की देखभाल कर चुके हैं। वो इससे भी चार बार आवेदन कर चुके थे। उनका पांचवां आवेदन सफल रहा। अनिल के माता पिता भारत और यूक्रेन से अमेरिका जा कर बस गए थे। अनिल का जन्म अमेरिका में ही हुआ और वो वहीं पले बढ़े।

उन्हें आपात स्थितियों में भी काम करने का अनुभव है। 2010 में उन्होंने हैती में आये विध्वंसकारी भूकंप के बाद पीडि़त लोगों की मदद की थी। आर्टेमिस पीढ़ी फिर 2015 में वो संयोग से नेपाल में आए एक बड़े भूकंप से बस कुछ ही मिनटों पहले वहां पहुंचे थे। वहां भी उन्हें भूकंप पीडि़तों की मदद करने का मौका मिला। नवंबर में स्पेसएक्स के ड्रैगन कैप्सूल के सदस्य जब अंतरिक्ष में छह महीने बिता कर धरती पर वापस लौटे थे, तब फ्रांसीसी अंतरिक्ष यात्री थॉमस पेस्के को अनिल ने ही समुद्र में तैर रहे उनके कैप्सूल से बाहर निकाला था। उन्होंने कहा, इसे खुद महसूस करना एक अविश्वसनीय अनुभव होगा अनिल और बाकी नौ लोग जिस टीम में शामिल होंगे उसे नासा आर्टेमिस पीढ़ी कहती है। इसका नाम संस्था के आर्टेमिस कार्यक्रम के नाम पर रखा गया है जिसका उद्देश्य है कुछ ही सालों में चांद पर और फिर मंगल ग्रह पर कदम रखना।

इन 10 लोगों को 12,000 आवेदकों में से चुना गया। यह सब विविध पृष्ठभूमि के हैं और इन्हें मानव इतिहास के अभी तक से सबसे कठिन खोजी मिशनों को पूरा करने के लक्ष्य को ध्यान में रखते हुए चुना गया है। दो साल लंबा प्रशिक्षण इनमें उच्च स्तरीय वैज्ञानिक भी शामिल हैं। 38 साल के क्रिस विलियम्स एक मेडिकल फिजिसिस्ट और हार्वर्ड विश्वविद्यालय में असिस्टेंट प्रोफेसर हैं। उनका शोध कैंसर के इलाज के लिए इमेज गाइडेंस के तरीके ईजाद करने पर केंद्रित था। 35 वर्षीय क्रिस्टीना बर्च ने एमआईटी से बायोलॉजिकल इंजीनियरिंग में डॉक्टरेट की है। अंतरिक्ष के जाने की प्रेरणा उन्हें अपने ही उस काम से मिलीं जो वो अपनी प्रयोगशाला में कर रही थीं।

वो एक सफल ट्रैक साइक्लिस्ट भी रह चुकी हैं। उन्होंने ओलंपिक्स के लिए क्वालीफाई भी कर लिया था और विश्व कप में मेडल भी जीते हैं। नासा का लक्ष्य है 2025 में अंतरिक्ष यात्रियों को चांद पर उतारना। लेकिन अपोलो युग की तरह इस बार संस्था यह काम अकेले नहीं करेगी और स्पेसएक्स जैसी निजी कंपनियों की भी मदद लेगी। जनवरी में सभी लोग टेक्सास के ह्यूस्टन स्थित जॉनसन अंतरिक्ष केंद्र पहुंचेंगे और उसके बाद वहां उनका दो साल लंबा प्रशिक्षण शुरू होगा। उन्हें अंतरराष्ट्रीय अंतरिक्ष स्टेशन को चलाने और उसकी देखरेख करने, स्पेसवॉक करने, रोबॉटिक कौशल, एक ट्रेनिंग जेट को सुरक्षित तरीके से चलाने और अपने रूसी सहयोगियों से बात करने के लिए रूसी भाषा का प्रशिक्षण दिया जाएगा

RELATED ARTICLES

फिलीपींस के 17वें राष्ट्रपति के रूप में फर्डिनेंड मार्कोस जूनियर ने ली शपथ

मनीला। दिवंगत नेता फर्डिनेंड मार्कोस के बेटे फर्डिनेंड मार्कोस जूनियर ने मनीला के नेशनल म्यूजियम में फिलीपींस के 17वें राष्ट्रपति के रूप में शपथ ली।...

उदयपुर की घटना पर भडक़े डच सांसद गिर्ट विल्डर्स, बोले- जिहादियों से बचाओ हिंदुत्व

ऐम्सटर्डम। उदयपुर में कन्हैया की दिनदहाड़े हत्या के बाद न केवल देश के अंदर बल्कि बाहर भी इसका विरोध हो रहा है। नीदरलैंड के...

अमेरिकी महिलाएं अब कैसे कराएंगी गर्भपात, प्रग्नेंसी को खत्म करने के लिए बढ़ेगा पिल्स का इस्तेमाल?

वॉशिंगटन। अमेरिका के उच्चतम न्यायालय ने रो बनाम वेड मामले में दिए गए फैसले को पलटते हुए गर्भपात के लिए संवैधानिक संरक्षण को समाप्त...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

उत्तराखंड में मौसम विभाग ने जारी किया 4 जुलाई तक कई जिलों में बारिश का यलो और ऑरेंज अलर्ट

देहरादून। प्रदेश में मानसून की घोषणा होने के साथ ही उत्तराखंड में बारिश के सिलसिले में भी तेजी आई है। गुरुवार को राज्य के अनेक...

भारतीय कप्तान रोहित शर्मा की कोविड रिपोर्ट एक बार फिर से आई पॉजि़टिव

भारतीय कप्तान रोहित शर्मा की कोरोना रिपोर्ट फिर से पॉजि़टिव आई है, इससे उनके एजबेस्टन टेस्ट में खेलने पर संशय बरकरार है। प्राप्त जानकारी...

फिलीपींस के 17वें राष्ट्रपति के रूप में फर्डिनेंड मार्कोस जूनियर ने ली शपथ

मनीला। दिवंगत नेता फर्डिनेंड मार्कोस के बेटे फर्डिनेंड मार्कोस जूनियर ने मनीला के नेशनल म्यूजियम में फिलीपींस के 17वें राष्ट्रपति के रूप में शपथ ली।...

सिर पर कांटों का ताज, चलना होगा अग्निपथ पर, 100 दिन सफलता के बीते, चुनौतियों के 1725 दिन बाकी

अवधेश नौटियाल देहरादून । मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी के 100 दिन हनीमून पीरियड रहे हैं। वक्त की नजाकत और मतदाताओं के मूड को भांपते हुए...

मानसून के दृष्टिगत सभी व्यवस्थाएं चाक-चौबंद: महाराज

केन्द्रीय बाढ़ नियंत्रण कक्ष का दूरभाष नंबर हुआ जारी देहरादून। मानसून के दृष्टिगत प्रदेश में सिंचाई एवं लोक निर्माण विभाग द्वारा सभी व्यवस्थाएं चाक-चौबंद कर...

जानें प्रेशर कुकर के 3 हैक्स, खाना बनेगा जल्दी

प्रेशर कुकर का इस्तेमाल हमेशा ही बहुत लाभदायक होता है और अगर आपको इससे जुड़े कुछ हैक्स पता हों तब तो ये और भी...

‘तमाशा लाइव’ का प्रमोशन करते हुए टीवी जर्नलिस्ट बनीं सोनाली कुलकर्णी

मराठी फिल्म ‘तमाशा लाइव’ में पत्रकार के रूप में नजर आने वाली अभिनेत्री सोनाली कुलकर्णी को वास्तविक जीवन में समाचार बुलेटिन पढऩे वाली टीवी...

प्रतीक और प्रतिनिधित्व

किसी समुदाय के विशेष के व्यक्ति को ऊंचे पद पर बैठा देने का यह कतई मतलब नहीं होता है कि उस समुदाय का सामाजिक...

रुड़की में मां और उसकी छह साल की बेटी के साथ दुष्कर्म करने वाले पांच आरोपियों को किया पुलिस ने गिरफ्तार

रुड़की। मां और उसकी छह साल की बेटी के साथ सामूहिक दुष्कर्म के मामले में पुलिस ने पांच आरोपियों को गिरफ्तार किया है। आरोपियों से...

CM धामी ने सरकार के 100 दिन पूरे होने के अवसर पर 100 दिन विकास के, समर्पण और प्रयास के , पुस्तक का किया...

देहरादून। मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने गुरुवार को मुख्य सेवक सदन, मुख्यमंत्री आवास, देहरादून में सरकार के 100 दिन पूर्ण होने के अवसर पर सूचना...

Recent Comments