Home ब्लॉग बांग्लादेश को बचाए भारत

बांग्लादेश को बचाए भारत

वेद प्रताप वैदिक
श्रीलंका और पाकिस्तान की विकट आर्थिक स्थिति पिछले कुछ माह से चल ही रही है और अब बांग्लादेश भी उसी राह पर चलने को मजबूर हो रहा है। जिस बांग्लादेश की आर्थिक प्रगति दक्षिण एशिया में सबसे तेज मानी जा रही थी, वह अब अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोश के सामने पाकिस्तान की तरह झोली फैलाने को मजबूर हो रहा है। चीन के विदेश मंत्री वांग यी ने भी ढाका का खाली चक्कर लगा लिया लेकिन इस समय बांग्लादेश इतने बड़े कर्ज में डूब गया है कि 13 हजार करोड़ रु. का कर्ज चुकाने के लिए उसके पास कोई इंतजाम नहीं है।

प्रधानमंत्री शेख हसीना ने ताइवान के मसले पर चीन को मक्खन लगाने के लिए कह दिया कि वह ‘एक चीन नीति’ का समर्थन करता है लेकिन वांग यी ने अपनी जेब जरा भी ढीली नहीं की। अंतरराष्ट्रीय कर्ज चुकाने और विदेशी माल खरीदने के लिए हसीना सरकार ने तेल पर 50 प्रतिशत टेक्स बढ़ा दिया है। रोजमर्रा के इस्तेमाल की चीज़ों के दाम कम से कम 10 प्रतिशत बढ़ गए हैं।

लोगों की आमदनी काफी घट गई है। कोरोना की महामारी ने बांग्लादेश के विदेश व्यापार को भी धक्का पहुंचाया है। बांग्ला टका याने रुपए का दाम 20 प्रतिशत गिर गया है। इस देश में 16-17 करोड़ लोग रहते हैं लेकिन टैक्स भरनेवाले की संख्या सिर्फ 23 लाख है। इस साल तो वह और भी घटेगी। अभी तक ऐसा लग रहा था कि पूरे दक्षिण एशिया में भारत के अलावा बांग्लादेश ही आर्थिक संकट से बचा है लेकिन अब वहां भी श्रीलंका की तरह जनता ने बगावत का झंडा थाम लिया है।

ढाका के अलावा कई शहरों में हजारों लोग सडक़ों पर उतर आए हैं। इसमें शक नहीं कि विरेाधी नेता इन प्रदर्शनों को खूब हवा दे रहे हैं लेकिन असलियत यह है कि श्रीलंका और पाकिस्तान की तरह बांग्ला जनता भी अपने ही दम पर अपना गुस्सा प्रकट कर रही है। बांग्लादेश की मदद के लिए उससे गाढ़ी मित्रता गांठनेवाला चीन भी दुबका हुआ है लेकिन शेख हसीना की सही सहायता इस समय भारत ही कर सकता है।

पिछले 30 साल में अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष से पाकिस्तान ने 12 बार, श्रीलंका ने 6 बार और बांग्लादेश ने सिर्फ 3 बार कर्ज लिया है। भारत ने इन तीन दशकों में उससे कभी भी कर्ज नहीं मांगा है। भारत के पास विदेशी मुद्रा कोश पर्याप्त मात्रा में है।

वह चाहे तो पाकिस्तान, श्रीलंका और बांग्लादेश को अराजकता से बचा सकता है। इस समय इन देशों को धार्मिक आधार पर अपने परिवार का बतानेवाले कई मुस्लिम और बौद्ध राष्ट्र भी कन्नी काट रहे हैं। ऐसी विकट स्थिति में भारत इनका त्राता सिद्ध हो जाए तो पूरे दक्षिण और मध्य एशिया के 16 राष्ट्रों को एक बृहद् परिवार में गूंथने का काम भारत कर सकता है।

RELATED ARTICLES

पेड़ों के बिना बेमानी है वन्यजीव संरक्षण का दावा

 सुमित परासर हमारी सरकार देश में राष्ट्रीय पशु बाघ की संख्या में बढ़ोतरी का दावा करते नहीं थकती। देश में एक समय विलुप्ति के कगार...

ग्रामीण क्षेत्रों में रहने वाली 81.1 फीसदी गर्भवती महिलाएं एनीमिया से पीड़ित

गीता यादव गर्भवती महिलाओं पर किए एक अध्ययन से पता चला है कि ग्रामीण क्षेत्रों में रहने वाली 81.1 फीसदी गर्भवती महिलाएं एनीमिया से पीड़ित...

चुनावों में महिला मतदाताओं की होगी अहम भूमिका

-डॉ. राजेन्द्र प्रसाद शर्मा विश्व के सबसे बड़े लोकतांत्रिक देश भारत  में 18 वीं लोकसभा की तस्वीर 4 जून को दोपहर बाद तक साफ हो...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

स्टार प्रचारक प्रियंका गांधी के उत्तराखण्ड दौरे से गर्माएगा चुनावी माहौल

प्रियंका गांधी 13 अप्रैल को रामनगर व रुड़की में करेंगी चुनावी जनसभा देहरादून। अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी की महासचिव प्रियंका गांधी 13 अप्रैल को रामनगर...

भाजपा ने मोदी को फिर पीएम बनाने और विकसित भारत के अलाप को दी गति

2019 के हार के अंतर को कम करने में जुटी कांग्रेस का उलटफेर का भी दावा भाजपा के चुनावी मुद्दे के केंद्र में पीएम मोदी...

आईपीएल 2024- लखनऊ सुपर जाएंट्स और दिल्ली कैपिटल्स के बीच मुकाबला आज 

नई दिल्ली।  आईपीएल 2024 के 26वें मैच में आज लखनऊ सुपर जाएंट्स का सामना दिल्ली कैपिटल्स से है। मौजूदा अंक तालिका में जहां लखनऊ...

मुख्यमंत्री ने भाजपा प्रत्याशी अजय टम्टा को जिताने की अपील की

प्रधानमंत्री के नेतृत्व में देश नए कीर्तिमान स्थापित कर रहा है- मुख्यमंत्री राज्य सरकार विकास के लिए समर्पित है और आगे भी समर्पित रहेगी- मुख्यमंत्री कांग्रेस...

जूनियर एनटीआर की ‘देवरा’ की रिलीज तारीख टली, अब 10 अक्टबूर को सिनेमाघरों में दस्तक देगी फिल्म

दर्शक जूनियर एनटीआर की आने वाली फिल्म देवरा का बेसब्री से इंतजार कर रहे है।इस फिल्म में जूनियर की जोड़ी अभिनेत्री जाह्नवी कपूर के...

यह है नरेंद्र मोदी का नया भारत, जहां महिलाओं को मिलता है उनका हक और सम्मान- कंगना रनौत 

मनाली के माल रोड पर भाजपा प्रत्याशी कंगना रनौत का किया गया भव्य स्वागत  अभिनेत्री ने अपने पहनावे से जीता जनता का दिल   हिमाचल।  प्रदेश के...

कोलकाता में बोली ममता बनर्जी – बंगाल में एनआरसी और सीएए नहीं होने दूंगी लागू 

मैं देश के लिए अपना खून देने को हूं तैयार- ममता बनर्जी मुझे सर्वधर्म समभाव चाहिए, नो एनआरसी, नो सीएए- मुख्यमंत्री ममता बनर्जी  कोलकाता। पश्चिम...

उत्तराखंड आने की हिम्मत नहीं जुटा पा रहे राहुल गांधी- बीजेपी 

देहरादून। भाजपा ने नेताओं के दौरे को बाधित करने के कांग्रेसी आरोपों को सिरे खारिज करते हुए , हार की बहानेबाजी करार दिया है...

मौसमी बुखार से सुरक्षित रहने के लिए अपनाएं ये असरदार टिप्स

सर्दियों से गर्मियां आने पर मौसमी बुखार का खतरा काफी बढ़ जाता है क्योंकि गर्मी और आर्द्रता में तेजी से वायरस हमला करते हैं।इसका...

पीएम मोदी के अब यह दो दिग्गज उत्तराखंड में गरमाएंगे प्रचार का माहौल 

आज रक्षामंत्री राजनाथ सिंह गौचर, लोहाघाट और काशीपुर में करेंगे रैली  रविवार को सीएम योगी पहुंचेंगे देहरादून  देहरादून। उत्तराखंड में भाजपा प्रत्याशियों के समर्थन में रक्षामंत्री...

Recent Comments