Tuesday, January 31, 2023
Home राजनीति हिमाचल में पांच साल बाद सरकार बदलने का रिवाज इस बार भी...

हिमाचल में पांच साल बाद सरकार बदलने का रिवाज इस बार भी रहा कायम

शिमला। हिमाचल प्रदेश में विधानसभा की कुल 68 सीटें हैं और बहुमत के लिए 35 सीटों की आवश्यकता रहती होती है। अभी तक के चुनाव नतीजों पर नजर दौड़ाए तो कांग्रेस ने बहुमत का आंकड़ा हासिल कर दिया है । वहीं 18 सीटों पर जीत के साथ भाजपा 25 पर आगे हैं। तीन निर्दलीय चुनाव जीते हैं। नतीजों से साफ है कि पांच साल बाद सरकार बदलने का रिवाज इस बार भी कायम रहने वाला है। लेकिन, इस चुनाव में ऐसे कई कारण रहे, जिनकी वजह से कांग्रेस सत्ता वापसी की तैयारी में है।

प्रदेश के विधानसभा चुनाव में पांच साल भाजपा और पांच वर्ष कांग्रेस ही सत्ता में रही है। 1982 से 1985 के बीच कांग्रेस की सरकार रही। इसके बाद 1985 से 1990 तक फिर कांग्रेस की सरकार बनी और वीरभद्र सिंह दूसरी बार मुख्यमंत्री बने। 1990 से 1992 के बीच भाजपा की सरकार बनी और शांता कुमार सीएम रहे। इसके बाद 1993 से 1998 तक वीरभद्र सिंह के मुख्यमंत्रित्व में फिर कांग्रेस की सरकार बनी। 1998 से 2003 तक तत्कालीन मुख्यमंत्री प्रेम कुमार धूमल के नेतृत्व में भाजपा, 2003 से 2007 तक वीरभद्र के नेतृत्व में कांग्रेस, 2007-2012 तक फिर धूमल के नेतृत्व में भाजपा 2012-2017 तक वीरभद्र सिंह के नेतृत्व वाली कांग्रेस और वर्तमान में 2017 से 2022 तक जयराम ठाकुर के नेतृत्व में भाजपा सरकार बनी।

हिमाचल प्रदेश के लगभग 2.25 लाख कर्मचारी तथा 1.90 लाख पेंशनर हैं। सरकारी कर्मचारी पुरानी पेंशन की मांग कर रहे हैं। इसको लेकर कर्मचारियों ने विधानसभा का घेराव भी किया। लेकिन सीएम जयराम ने बयान दिया कि यदि पेंशन चाहिए तो चुनाव कर्मचारी भी चुनाव लड़े। इससे कर्मचारी और पेंशनर नाराज हो गए। कांग्रेस ने इस मुद्दे को भुनाते हुए सरकार बनने की स्थिति में पहली की कैबिनेट में छत्तीसगढ़ व राजस्थान की तर्ज पर हिमाचल में सरकारी कर्मचारियों को पुरानी पेंशन देने की गारंटी दी। सोलन में हुए रैली में कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने इसका एलान किया था। इसके अलावा आउटसोर्स व अस्थायी कर्मचारियों के लिए  पॉलिसी नहीं बनने का मुद्दा भी अहम रहा।

इसके अलावा बेरोजगारी व महंगाई भी एक बड़ा मुद्दा रहा। कांग्रेस ने इसको भुनाते हुए एलान किया कि सत्ता में आने पर पांच साल में पांच लाख रोजगार देने और पहली कैबिनेट में एक लाख नौकरियां देने की गारंटी दी। इसके अलावा महिलाओं को 1500 रुपये प्रति माह, घरेलू उपभोक्ताओं को 300 यूनिट निशुल्क बिजली, हर विधानसभा क्षेत्र में चार अंग्रेजी माध्यम वाले स्कूल खोलने जैसे वादे किए। कांग्रेस ने पूर्व मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह की ओर से किए से किए गए विकास कार्यों को भी इस चुनाव में भुनाया।

 माना जा रहा है कि निचले हिमाचल में अग्निवीर भर्ती एक महत्वपूर्ण मुद्दा रहा। अग्निवीर भर्ती को लेकर लोगों में नाराजगी रही। कांग्रेस ने इसे बेरोजगारों के साथ खिलवाड़ बताया। प्रियंका गांधी ने एक रैली में कहा था कि अगर केंद्र में कांग्रेस की सत्ता आई तो अग्निवीर को खत्म कर पुरानी भर्ती प्रक्रिया बहाल की जाएगी। इस बार के चुनाव में भाजपा के 21 और कांग्रेस के सात बागी नेता मैदान में थे। यह भी कांग्रेस की जीत का एक बड़ा कारण माना जा रहा है। माना जा रहा है कि चुनाव के दौरान भाजपा में दो गुट चल रहे थे। भाजपा में अंतर्कलह व बागियों का फायदा कांग्रेस को हुआ। अनदेखी से धूमल गुट नाराज चल रहा था। वहीं, विपक्ष सीएम जयराम पर अफसरशाही पर कमजोर पकड़ का आरोप लगाकर बार-बार इसे मुद्दा बनाती रही। प्रदेश की पांच हजार करोड़ रुपये की सेब आर्थिकी भी चुनाव में बड़ा मुद्दा माना जा रहा है। कार्टन पर जीएसटी बढ़ाने, कीटनाशकों की सब्सिडी व विदेशी सेब पर आयात शुल्क बढ़ाने के मामला हल नहीं होने से किसान-बागवान नाराज चल रहे थे। इसका भी कांग्रेस को फायदा हुआ।

RELATED ARTICLES

हाईकोर्ट ने समलैंगिक विवाहों को मान्यता देने की मांग वाली याचिकाओं को सुप्रीम कोर्ट में किया स्थानांतरित

नई दिल्ली।  दिल्ली उच्च न्यायालय ने सोमवार को विशेष विवाह अधिनियम, हिंदू विवाह अधिनियम और विदेशी विवाह के तहत अपने विवाह को मान्यता देने की...

दो दिवसीय दौरे पर आज गोरखपुर आएंगे सीएम योगी आदित्यनाथ, जनता दरबार में फरियादियों की समस्याएं भी सुनेंगे

उत्तर प्रदेश। दो दिवसीय दौरे पर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ मंगलवार को गोरखपुर आएंगे। उनके यहां दोपहर बाद पहुंचने की उम्मीद है। मंदिर में रात्रि विश्राम...

उत्तर भारत में और गिरेगा तापमान, तेज बारिश और तूफान के साथ बदलेगा दिल्ली-एनसीआर का मौसम

नई दिल्ली। दिल्ली और एनसीआर के लोगों को सप्ताह के पहले दिन भी मौसम के बदले मिजाज से राहत मिलती दिख नहीं रही है। मौसम...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

हाईकोर्ट ने समलैंगिक विवाहों को मान्यता देने की मांग वाली याचिकाओं को सुप्रीम कोर्ट में किया स्थानांतरित

नई दिल्ली।  दिल्ली उच्च न्यायालय ने सोमवार को विशेष विवाह अधिनियम, हिंदू विवाह अधिनियम और विदेशी विवाह के तहत अपने विवाह को मान्यता देने की...

जानें, सेहत के लिए कितनी फायदेमंद हैं फूलगोभी की पत्तियां और कैसे करें सेवन

सर्दी के मौसम में खाने के लिए मौसमी फल और सब्जियां मिलती हैं। फूल गोभी भी इसी मौसम में मिलती है। इसे सर्दियों की...

रुड़की के कलियर क्षेत्र में हैवान पिता ने किया रिश्‍तों को तार- तार, 13 साल की मासूम के साथ दुष्कर्म कर हुआ फरार

रुड़की। कलियर क्षेत्र में एक हैवान पिता ने रिश्‍तों को तार-तार कर दिया। उसने अपनी 13 साल की बेटी के साथ दुष्‍कर्म किया और फरार...

उत्तरकाशी जिले के राना गांव में तीन आवासीय मकानों में लगी आग, सारा सामान जलकर हुआ खाक

देहरादून। उत्तराखंड के उत्तरकाशी जिले के बड़कोट में मध्य रात्रि को तहसील के राना गांव में तीन आवासीय मकानों में आग लग गई। सूचना पर...

दो दिवसीय दौरे पर आज गोरखपुर आएंगे सीएम योगी आदित्यनाथ, जनता दरबार में फरियादियों की समस्याएं भी सुनेंगे

उत्तर प्रदेश। दो दिवसीय दौरे पर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ मंगलवार को गोरखपुर आएंगे। उनके यहां दोपहर बाद पहुंचने की उम्मीद है। मंदिर में रात्रि विश्राम...

उत्तराखंड बोर्ड परीक्षा- एक फरवरी से 28 फरवरी तक होंगी हाईस्कूल और इंटरमीडिएट की प्रयोगात्मक परीक्षाएं

देहरादून। उत्तराखंड विद्यालयी शिक्षा परिषद की ओर से संचालित हाईस्कूल, इंटरमीडिएट की प्रयोगात्मक परीक्षाएं एक फरवरी से 28 फरवरी तक होंगी। बोर्ड सचिव डॉ. नीता...

उर्वशी रौतेला ने फिल्म में तीन मिनट के गाने के लिए 2 करोड़ रुपये

सुपरस्टार चिरंजीवी की फिल्म वाल्टर वीरैया 13 जनवरी, 2023 को सिनेमाघरों में रिलीज हुई थी। इस फिल्म में उर्वशी रौतेला ने आइटम सॉन्ग बॉस...

उत्तर भारत में और गिरेगा तापमान, तेज बारिश और तूफान के साथ बदलेगा दिल्ली-एनसीआर का मौसम

नई दिल्ली। दिल्ली और एनसीआर के लोगों को सप्ताह के पहले दिन भी मौसम के बदले मिजाज से राहत मिलती दिख नहीं रही है। मौसम...

जोशीमठ में त्रासदी – कौन जिम्मेदार

अजय दीक्षित उत्तराखण्ड के जोशीमठ में हजारों मकानों में दरारों की प्राकृतिक आपदा के लिए प्रकृति कम और शासन तंत्र ज्यादा जिम्मेदार है। प्रकृति से...

राजधानी दिल्ली में हुआ भीषण सड़क हादसा, चार स्कूली बसों के आपस में टकराने से कई छात्र घायल

दिल्ली-एनसीआर। राजधानी दिल्ली से सोमवार सुबह एक भीषण सड़क हादसे की खबर सामने आ रही है, जिसमें कई बच्चे घायल हो गए हैं। जानकारी के...

Recent Comments