Home ब्लॉग मन के सौंदर्य से निखरी हरनाज

मन के सौंदर्य से निखरी हरनाज

अरुण नैथानी

पिछले दिनों दक्षिण अफ्रीका से एक सुकून देने वाली मीठी बयार-सी खबर आई कि 21 साल की हरनाज संधू ने देश को 21 साल बाद 21वीं सदी के 21वें साल में ब्रह्माण्ड सुंदरी का खिताब सौंपा है। वैसे वे इस खिताब को जीतने वाली तीसरी भारतीय सौंदर्य प्रतिभा हैं, लेकिन संयोग देखिये 21 साल पहले जब लारा दत्ता ने मिस यूनिवर्स का खिताब जीता था, तब हरनाज का जन्म हुआ था। बहरहाल, बाह्य सुंदरता के साथ सुंदर मन की धनी हरनाज पर हर भारतीय को नाज है। हरनाज की सबसे बड़ी खूबसूरती यह है कि वह भारतीय जीवन दर्शन और मूल्यों की सशक्त पक्षधर है। वह उस भारतीय मेधा की धनी है, जिसके बूते भारतीय प्रतिभाएं पूरी दुनिया में धूम मचा रही हैं। उसके पास एक स्पष्ट दृष्टि, गहरे मानवीय सरोकार हैं, सकारात्मक दृष्टिकोण है और परिवार के प्रति असीम प्रेम। उसकी जीवन शैली पश्चिमी देशों के मूल्यों के अनुरूप नहीं है। वैचारिक रूप से इतनी सशक्त है कि जब अंत में उससे युवाओं की चुनौतियों को लेकर सवाल पूछा गया तो उसने इतने तार्किक ढंग से अपनी बात कही कि 79 देशों से आई सुंदरियां परास्त हो गईं।

पंजाब के गुरदासपुर के एक गांव में जन्मी और चंडीगढ़ में पली-बढ़ी हरनाज अपने शुरुआती सालों में बेहद अंतर्मुखी और दुबली-पतली लडक़ी थी। उसको दुबलेपन की वजह से हीनता का बोध कराया जाता था। लेकिन कालांतर में उसने अपने को बदला और आंतरिक रूप से खुद को मजबूत किया। ग्लैमर की दुनिया में उसकी दस्तक ज्यादा पुरानी नहीं है। लोक प्रशासन में स्नातकोत्तर की पढ़ाई करने वाली हरनाज जब कालेज के रैंप पर चली तो उसका रुझान सौंदर्य प्रतियोगिताओं की तरफ बढ़ा। वह विज्ञापन के साथ फिल्में भी करने लगी। दो फिल्में की हैं लेकिन अभी रिलीज होना बाकी है।

दरअसल, हरनाज के व्यक्तित्व में उसकी परवरिश की गहरी छाप है। कभी उसे उसके विधायक व वकील नाना के व्यक्तित्व ने प्रभावित किया तो कभी सरकारी अस्पताल में महिला रोग विशेषज्ञ मां ने। उसने कोविड महामारी के दौरान अपनी मां को जूझते देखा। रियल स्टेट का कारोबार करने वाले पिता का भी अनुसरण किया जो अक्सर उसे शेरनी कहा करते थे। पिता की वह सीख उसे याद रही कि खाना बनाना और गाड़ी चलाना हर किसी को आना चाहिए। कोरोना काल में जब मां की सख्त ड्यूटी होती थी, वह शौक से खाना बनाया करती थी। खाने को लेकर हरनाज की सोच बड़ी आध्यात्मिक है। वह बताती है कि मां कहती है कि खाना अरदास करते हुए बनाओ। आपके सकारात्मक भाव खाने वाले तक भी पहुंचे। उसे इसका लाभ पहुंचेगा और उसकी सेहत ठीक रहेगी। सात साल बड़ा भाई सदा मददगार ही रहा।

संवेदनशील व मानवीय दृष्टिकोण से भरपूर हरनाज कविताएं भी लिखती रही हैं और डायरी पर नियमित कुछ न कुछ दर्ज करती रही है। पढऩे-लिखने का भी शौक था। खूब खाने का भी। एक पंजाबी लडक़ी की तरह उसे सरसों का साग व मक्की की रोटी खूब पसंद है। राजमा चावल का अलग शौक है। वह भारतीय लड़कियों को सलाह देती है कि भूखे रहकर शरीर बनाने का शौक नहीं होना चाहिए। जो मन आये उसे खाओ, मगर वर्क आउट जरूर करें। हरनाज मानसिक रूप से जो इतनी सशक्त है तो उसमें योग की भी बड़ी भूमिका है। वह नियमित रूप से योग करती है।

सकारात्मक सोच और प्यारी-सी मुस्कान हरनाज का गहना है। वह बताती है कि कोरोना महामारी ने हमें हमारे जीवन मूल्यों का अहसास कराया। हमें फिर प्यार से एकसाथ रहना सिखाया। युवाओं से हरनाज कहती है कि सकारात्मक सोच के साथ हम परिवार के संबल से हर लक्ष्य हासिल कर सकते हैं। वह देश में मानसिक स्वास्थ्य, लैंगिक समानता व जलवायु परिवर्तन के संकट को दूर करने के लिये काम करना चाहती है।
वैचारिक रूप से हरनाज कितनी सशक्त है, इस बानगी अंतिम चरण के उसके उद्वेलित करने वाले विचारों से पता चलता है। इस जवाब ने उसे सभी प्रतियोगियों में नंबर वन बनाकर ताज सौंप दिया। मौजूदा दौर में दबाव का सामना करने वाली युवतियों के बारे में उसने कहा कि ‘वे खुद पर भरोसा करना सीखें। अपनी विशिष्टता का अहसास आपको खूबसूरत बनाता है। दूसरों से तुलना नहीं होनी चाहिए। दुनिया के घटनाक्रम पर नजर रखें और अपनी प्रतिक्रिया दें। खुद के लिये बोलिये। अपने नेता आप हैं। आपका आत्मविश्वास आपको सफलता दिलाता है।’

जब हरनाज से विश्व की सबसे बड़ी चुनौती जलवायु संकट पर राय पूछी गई तो उसने कहा, ‘आज प्रकृति की दशा देखकर मैं व्यथित हूं। प्रकृति की इस दशा के मूल में हमारा गैर-जिम्मेदाराना व्यवहार ही है। जरूरी है कि हम बात करने के बजाय ठोस काम करें। प्रकृति हमारी सकारात्मक पहल से बचेगी। प्रकृति को हो रही क्षति को रोकना व संरक्षण देना वक्त की जरूरत है।
हरनाज का सुंदरता को लेकर नजरिया भारतीय दर्शन व योग के अनुरूप ही है। उसका मानना है कि सुंदरता हमारी दृष्टि व महसूस करने पर निर्भर है। मन के सुंदर व्यक्ति को मैं सुंदर मानती हूं। जो प्रकृति व मानवता से प्रेम करते हैं वे सुंदर होते हैं। भगवान ने सभी को बनाया है, सुंदरता-असुंदरता शब्द हमने गढ़े हैं। यदि हम किसी को असुंदर कहते हैं तो यह विधि के विधान का अपमान ही कहा जायेगा। वह हर पल खुश रहने की वकालत करती है क्योंकि आंतरिक खुशी हमारे चेहरे को सुंदर बनाती है।

RELATED ARTICLES

राजमार्गों का विस्तार

वर्तमान वित्त वर्ष 2024-25 में बीते वित्त वर्ष की तुलना में पांच से आठ प्रतिशत अधिक राष्ट्रीय राजमार्गों के विस्तार की संभावना है। पिछले...

हमारे रिश्तों के दुश्मन बनते मोबाइल फोन

-प्रियंका सौरभ फोन लोगों को आपस में जोड़े रखते हैं और संबंध बनाए रखने में मदद करते हैं। लेकिन कुछ मामलों में वे अवरोध भी...

उम्मीदों का संकल्प पत्र

लोकसभा चुनाव के लिए भारतीय जनात पार्टी (भाजपा) ने अपना घोषणा पत्र जारी कर दिया, जिसे वे ‘संकल्प पत्र’ कहते हैं। यह युवाओं, महिलाओं,...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

मुख्य सचिव ने केदारनाथ धाम के कार्यों का लिया जायजा

देहरादून। मुख्य सचिव श्रीमती राधा रतूड़ी ने सोमवार को केदारनाथ धाम पहुंचकर केदारनाथ पुनर्निर्माण एवं पुन:विकास कार्यों के मास्टर प्लान के फेस 2 के...

जोमैटो से खाना मंगाना हुआ महंगा, जानिए कितना प्रतिशत बढ़ा चार्ज

नई दिल्ली। ऑनलाइन फूड डिलीवरी कंपनी जोमैटो ने प्लेटफॉर्म चार्ज 25 प्रतिशत बढ़ा दिया है। इसका मतलब है कि अब जोमैटो से खाना मंगाना थोड़ा...

लोकसभा चुनाव के लिए कांग्रेस ने एक और लिस्ट की जारी, जानें- किसे कहां से दिया टिकट

नई दिल्ली। कांग्रेस ने आंध्र प्रदेश और झारखंड के लिए लोकसभा उम्मीदवारों की सूची जारी की है. कांग्रेस (Congress) ने झारखंड के गोड्डा से...

आईपीएल 2024 के 38वें मैच में आज राजस्थान रॉयल्स से भिड़ेगी मुंबई इंडियंस

जयपुर के सवाई मानसिंह क्रिकेट स्टेडियम में होगी दोनों टीमे आमने- सामने  जयपुर। आईपीएल 2024 के 38वें मैच में राजस्थान रॉयल्स की भिड़ंत मुंबई इंडियंस...

चारधाम यात्रा – सात दिन में 12.48 लाख पहुंची पंजीकरण की संख्या

केदारनाथ के लिए 4,22,129 श्रद्धालुओं ने किया पंजीकरण  देहरादून। चारधाम यात्रा के लिए इस बार तीर्थयात्रियों के पंजीकरण का रिकॉर्ड टूट रहा है। सात दिन...

पीरियड्स से पहले और बाद में क्यों होते हैं फेस पर पिंपल्स? क्या है इसकी वजह

पीरियड्स के दौरान हारमोंस चेंज होने लगते हैं. ऐसे में महिलाओं में कई सारे बदलाव देखे जाते हैं। पीरियड्स आने के पहले और बाद...

देश के इन 12 राज्यों में पड़ रही भीषण गर्मी, आगामी 4 दिनों तक हीटवेव का अलर्ट जारी

नई दिल्ली। उत्तर प्रदेश, बिहार, मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़, महाराष्ट्र, पश्चिम बंगाल समेत देश के 12 राज्यों में भीषण गर्मी पड़ रही है। मौसम विभाग ने...

मिस्टर एंड मिसेज माही का पहला पोस्टर आया सामने, भारतीय जर्सी में दिखे राजकुमार राव और जान्हवी कपूर

राजकुमार राव और जान्हवी कपूर एक बार फिर स्क्रीन साझा करेंगे। दोनों कलाकार स्पोर्ट्स ड्रामा फिल्म मिस्टर एंड मिसेज माही में एक साथ नजर...

उत्तराखंड में सेब उत्पादन की अपार संभावनाएं- डा0 धन सिंह रावत

सहकारिता विभाग के ‘एप्पल मिशन’ से जोड़े जायेंगे सेब काश्तकार जम्मू-कश्मीर व हिमाचल की तर्ज पर विकसित किये जायेंगे बगीचे पौड़ी/देहरादून। उत्तराखंड में उद्यान के क्षेत्र में...

मुख्यमंत्री धामी ने हिन्दू नव वर्ष महोत्सव में लिया हिस्सा

उत्तराखंड में समान नागरिक संहिता लागू करने के साथ कई अहम निर्णय लिए - धामी नई दिल्ली/देहरादून। मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने नई दिल्ली में...

Recent Comments