Home ब्लॉग खेल प्रतिभाएं तराशने के लिए वैश्विक सम्मान

खेल प्रतिभाएं तराशने के लिए वैश्विक सम्मान

अरुण नैथानी

यह सवाल हर व्यक्ति को चौंकाता है कि यदि कोई खिलाड़ी डेढ़ दशक से अंतर्राष्ट्रीय खेलों में भारत का प्रतिनिधित्व नहीं कर रहा हो तो उसे इस साल वर्ल्ड एथलेटिक्स की ओर से ‘वुमन ऑफ द ईयर अवार्ड’ कैसे मिल सकता है? जाहिर है उस खिलाड़ी ने कुछ ऐसा खास किया होगा, जिसको पूरी दुनिया ने नोटिस किया। बीते दिनों 44 साल की उम्र में मोहक व्यक्तित्व व खेल प्रतिभा की धनी अंजू बॉबी जॉर्ज को यह सम्मान मिला तो खेल-प्रेमियों में आश्चर्य मिश्रित खुशी देखी गई। निश्चित रूप से यह अंजू के ऋषिकर्म का ही प्रतिफल था कि उन्हें देश-विदेश में सक्रिय खेलों को अलविदा कहने के डेढ़ दशक बाद भी इतना प्यार और सम्मान मिल रहा है।

दरअसल, आज वह लड़कियों के लिये प्रेरणापुंज बन गई हैं। वे न केवल खेलों के लिये प्रोत्साहित कर रही हैं, उन्हें प्रशिक्षित भी कर रही हैं बल्कि खेलों में लैंगिग समानता के लिये भी मुहिम की अग्रदूत हैं। यह किसी आश्चर्य से कम नहीं है कि एक किडनी होने और स्वास्थ्य संबंधी चुनौतियों के बावजूद अंजू ने विश्वस्तरीय स्पर्धाओं में भारत का प्रतिनिधित्व किया और पदक भी जीते। दरअसल, अंजू बॉबी जॉर्ज लॉन्ग जंप की खिलाड़ी हैं और वे विश्व चैंपियनशिप में भारत के लिये पदक जीतने वाली इकलौती खिलाड़ी हैं। उन्होंने वर्ष 2003 में पेरिस में आयोजित हुई वर्ल्ड चैंपियनशिप में यह कामयाबी हासिल की थी।

दरअसल, अंजू को ‘वुमन ऑफ द ईयर खिताब’ मिलने में लैंगिक समानता के लिये उनकी मुहिम का भी बड़ा योगदान है। उन्होंने देश में महिला खिलाडिय़ों के लिये खेल का वातावरण तैयार करने और उन्हें खेलों में भाग लेने के लिये प्रेरित किया। वर्तमान में इंडियन एथलेटिक्स फेडरेशन की सीनियर वाइस प्रेसिडेंट अंजू ने स्कूल में खेल प्रतिभाओं को तलाशने और उन्हें निखारने का काम किया। अंजू ने वर्ष 2016 में लड़कियों के लिये एक ट्रेनिंग अकादमी खोली, जिसके जरिये अंडर-20 पदक विजेताओं को तैयार किया। उनकी मेहनत का ही फल है कि उनकी अकादमी ने देश को पहले ही विश्व अंडर-20 का पदक विजेता दे दिया। दरअसल, एक किडनी होने और उसके चलते होने वाली शारीरिक दिक्कतों के बावजूद अंजू का खेल करिअर चमकदार रहा। उन्होंने पेरिस में हुई वर्ल्ड चैंपियनशिप 2003 में कांस्य, वर्ल्ड एथलेटिक्स 2005 में स्वर्ण पदक जीता और वर्ष 2004 के ओलंपिक में पांचवें स्थान पर रहीं। अब वर्षों से वह खेल प्रतिभाओं को निखारने का काम कर रही हैं। सम्मान मिलने पर उनकी प्रतिक्रिया थी कि हर रोज जागने और खेल को बढ़ावा देने से बेहतर कोई अहसास नहीं है, जिससे युवा लड़कियों को सक्षम और सशक्त बनाया जा सके।

दरअसल, अंजू बॉबी जार्ज के लिये खेल की दुनिया में संघर्ष भी कम नहीं था, लेकिन वह मुश्किलों में डटी रहीं और कभी हार नहीं मानी। उनके पास एक ही किडनी थी और खेलों के लिये उन्हें अतिरिक्त ऊर्जा जुटानी थी। उन्हें दवाओं से एलर्जी थी। इतना ही नहीं, दौड़ के दौरान उनके एक पैर में दर्द रहा करता था। एक बार पैर के टखने की चोट की वजह से उन्हें कई वैश्विक स्पर्धाओं से नाम वापस लेना पड़ा। इसके बावजूद उन्होंने हार न मानते हुए विश्व खेलों के मानचित्र में अपना नाम दर्ज कराया। वह 2003 में पेरिस की कामयाबी के अलावा 2005 के वर्ल्ड एथलेटिक्स में स्वर्ण, 2002 बुसान एशियाड में स्वर्ण, 2006 के दोहा एशियाई खेलों में रजत, 2005 एशियन चैंपियनशिप में स्वर्ण तथा 2007 की एशियन चैंपियनशिप में रजत पदक तथा 2006 के साउथ एशियन गेम्स में स्वर्ण पदक जीतने में कामयाब रहीं। आज तमाम महिला एथलीट उनके पथ का अनुसरण करते हुए देश का नाम रोशन कर रही हैं।

केरल के कोट्टायम जनपद के चंगनाशेरी कस्बे में 19 अप्रैल, 1977 को जन्मी अंजू को उनके पिता के.टी. मार्कोस व मां ग्रेसी ने उसके प्रतिभाशाली छात्रा होने के बावजूद खेलों के लिये प्रोत्साहित किया। अंजू का सौभाग्य था कि खेलों के लिये प्रोत्साहित करने वाले माता-पिता के अलावा खेलों के अनुकूल अच्छा स्कूल व प्रेरित करने वाले खेल शिक्षक मिले। तब भी केरल में खेल प्रतिभाओं को संवारने के लिये संसाधन व अनुकूल वातावरण मौजूद था। उन दिनों केरल की ही फर्राटा धाविका पी.टी. ऊषा की कामयाबी लड़कियों को खेल की दुनिया में आने के लिये प्रेरित करती थी। शुरुआत में अंजू ने सौ मीटर की बाधा दौड़, ऊंची कूद व लंबी कूद में अपनी किस्मत आजमाई। लेकिन कालांतर में लंबी कूद ही उनका पसंदीदा खेल बना। स्कूल एथलेटिक्स प्रतिस्पर्धा से शुरू हुआ उनके खेल का सफर जूनियर एशियन चैंपियनशिप से होता हुआ एशियाई खेलों, विश्व चैंपियनशिप तथा ओलंपिक तक जा पहुंचा। इसी बीच खेलों की दुनिया में एथलीट व मॉडल बॉबी जार्ज, अंजू के जीवन में सपनों के राजुकमार के रूप में आये। उन्होंने अंजू की प्रतिभा को निखारा और मुश्किल वक्त में उनका हौसला बढ़ाया। दोनों जीवनभर के रिश्ते में बंध गये। बॉबी ने उस वक्त अंजू को संबल व ट्रेनिंग दी जब टखने की चोट की वजह से अंजू का खेल करिअर समाप्ति की कगार पर था। तब अंजू सिडनी ओलंपिक के अलावा दो वर्ष तक किसी विश्व खेल स्पर्धा में भाग नहीं ले सकी थीं। बहरहाल, एक किडनी के साथ डेढ़ दशक तक खेलों में दमखम दिखाने वाली अंजू आज भी खेलों में किस्मत आजमाने वाली लाखों लड़कियों के लिये प्रेरणापुंज बनी हुई हैं।

RELATED ARTICLES

भ्रामक विज्ञापनों की रोकथाम

भ्रामक विज्ञापनों की रोकथाम के लिए सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि प्रख्यात व सार्वजनिक हस्तियों को जिम्मेदार व्यवहार करना चाहिए। अदालत ने निर्देश दिया...

अर्थव्यवस्था मजबूत करते सार्वजनिक क्षेत्र के उपक्रम

सतीश सिंह कुछ क्षेत्र अत्यंत पिछड़े थे, जैसे- आधारभूत संरचना व शिक्षा, स्वास्थ्य, सड़क, बिजली, पानी, आवास जैसी बुनियादी सुविधाएं।  चूंकि निजी क्षेत्र सुधारात्मक पहल...

पीओके में बढ़ता जा रहा है जनता का गुस्सा

विवेक शुक्ला जब हमारी कश्मीर घाटी में लोकसभा चुनाव का प्रचार जारी है, तब पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर (पीओके) के बहुत बड़े हिस्से में अवाम सड़कों...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

जानें सनग्लासेस चुनने का सही तरीका, अलग-अलग चेहरे के हिसाब से चुनना चाहिए धूप के चश्मे

सनग्लासेज केवल फैशन के लिए ही नहीं बल्कि जरूरत के भी पहनने की सलाह दी जाती है. अगर फेस शेप के मुताबिक सही धूप...

25 मई को खुलेंगे हेमकुंड साहिब के कपाट, श्रद्धालुओं के पहुंचने की सीमा की तय

प्रतिदिन 3500 श्रद्धालु ही जा सकेंगे हेमकुंड साहिब इस वेबसाइट से करे रजिस्ट्रेशन चमोली। हेमकुंड साहिब के कपाट इस वर्ष आगामी 25 मई को खुलने जा...

पुलिस महानिदेशक अभिनव कुमार पहुंचे श्री केदारनाथ धाम, सुरक्षा व्यवस्थाओं का जायजा लेकर दिए आवश्यक दिशा-निर्देश

देहरादून। आज अभिनव कुमार पुलिस महानिदेशक उत्तराखण्ड केदारनाथ धाम की सुरक्षा व्यवस्थाओं का जायजा लेने हेतु पहुंचे। इस दौरान उनके द्वारा ड्यूटी पर नियुक्त...

1 जून को पर्यटकों के लिए खुलेगी विश्व प्रसिद्ध फूलों की घाटी, ये रहेगा शुल्क

500 से अधिक प्रजाति के मिलेंगे फूल गोपेश्वर। विश्व प्रसिद्ध फूलों की घाटी पर्यटकों के लिए इस वर्ष एक जून को खोल दी जाएगी। नंदा...

मित्रता, सेवा सुरक्षा के भाव को सिद्ध करती दून पुलिस

चार धाम यात्रा में आयी श्रद्धालु की त्वरित सहायता कर लौटाई उनके चेहरे की मुस्कान चार धाम यात्रा में उत्तर प्रदेश से आई महिला श्रद्धालु...

जाह्नवी कपूर ने ब्लू और रेड प्रिंट शेड में साड़ी पहने सोशल मीडिया का पारा किया हाई

बी-टाउन की खूबसूरत हसीना जाह्नवी कपूर हमेशा अपने बोल्ड फैशन स्टेटमेंट्स के कारण चर्चाओं में रहती हैं। उनका हर एक लुक सोशल मीडिया पर...

नए बेलआउट पैकेज पर बातचीत करेंगे पाकिस्तान और आईएमएफ

इस्लामाबाद। मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक आईएमएफ से 6 अरब अमेरिकी डॉलर से 8 अरब अमेरिकी डॉलर के नए ऋण पैकेज की मांग कर रहा...

बद्रीनाथ हाईवे पर यात्रियों से भरा टेंपो ट्रैवलर पलटने से हुआ हादसा, चालक की सूझबूझ से बची सवारियों की जान 

अहमदाबाद गुजरात के 18 यात्री थे सवार  चमोली। बद्रीनाथ हाईवे पर देर रात यात्रियों से भरा एक टेंपो ट्रैवलर पलटने से हादसा हो गया। वाहन के...

स्वाति मालीवाल से मारपीट के आरोपी बिभव कुमार सीएम आवास से अरेस्ट

नई दिल्ली। दिल्ली के मुख्यमंत्री केजरीवाल के निजी सचिव बिभव कुमार को दिल्ली पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है. आम आदमी पार्टी (आप) की...

भ्रामक विज्ञापनों की रोकथाम

भ्रामक विज्ञापनों की रोकथाम के लिए सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि प्रख्यात व सार्वजनिक हस्तियों को जिम्मेदार व्यवहार करना चाहिए। अदालत ने निर्देश दिया...

Recent Comments