Thursday, December 1, 2022
Home ब्लॉग बेटियों को खुले विचारों की उन्मुक्त उड़ान दीजिए

बेटियों को खुले विचारों की उन्मुक्त उड़ान दीजिए

लक्ष्मीकांता चावला

कर्नाटक के एक स्कूल में हिजाब को यूनिफार्म का हिस्सा मानने से इनकार करने पर विवाद उठा तो राजनीतिक दलों को वोट की राजनीति करने का मौका मिल गया। इसे कहते हैं बिल्ली के भाग्य से छींका टूटना। निस्संदेह यह विषय तो शिक्षा क्षेत्र का था-विद्यार्थी क्या चाहते हैं, स्कूल प्रबंधन ने क्या तय किया और हिजाब पहनने वाले माता-पिता की राय क्या है, पर पांच राज्यों के चुनाव के बीच राजनेता कैसे चुप रहते? कर्नाटक से निकलकर हिजाब से लाभ उठाने का मुद्दा पूरे देश में फैल गया।?बयानबाजी भी शुरू हो गई। धर्मगुरु भी इसमें पीछे नहीं रहे।

अफसोस तो यह है कि जिस कांग्रेस की एक वरिष्ठ नेता ‘लडक़ी हूं, लड़ सकती हूं’ का नारा लिये यूपी से लेकर पंजाब तक घूम रही हैं, उसी कांग्रेस के कर्नाटक के प्रधान जमीर अहमद ने यह घोषणा की कि बच्चियों की सुंदरता को छिपाकर रखने के लिए बुर्का, हिजाब जरूरी हैं। इसके साथ उन्होंने बहुत कुछ ऐसा कहा जो न महिलाओं के सम्मान को बढ़ाने वाले वक्तव्य हैं और न ही पार्टी के। आज हमारा देश, हमारा समाज उस मध्ययुगीन काल में नहीं है जब विदेशी आक्रांता आकर हमारी बहू-बेटियों से क्रूरता करते थे और उन्हें लूट का मामला समझकर ले जाते थे। घूंघट या बुर्का उसी वातावरण में पैदा हुए जब विदेशियों से देश जूझ भी रहा था और समाज त्रस्त भी था। मेरा एक प्रश्न जमीर साहब से है कि क्या उन्हें ऐसा लगता है कि लडक़ी की सुंदरता को देखकर कुछ पुरुष गिद्ध झपट लेंगे। अगर यह सच भी है तो कुछ पथभ्रष्टों के अनाचार के कारण सारी महिलाओं को क्यों आवरण दिया जाये। निस्संदेह जो अनैतिक लोग हैं, उन्हें कानूनन सजा दी जाए।

मैं यह मानती हूं कि बुर्का और घूंघट दोनों ही महिलाओं के साथ अन्याय हैं। भले ही इसके लिये सामाजिक, सांस्कृतिक तर्क दिये जाएं और धर्म का सहारा लिया जाये। एक बार पुन: मैं यह कहती हूं कि विदेशी मुस्लिम आक्रमणों से पहले देश में न बुर्का था, न घूंघट। हमारे देश की बेटियां महारानी झांसी, महारानी कर्मावती, जवाहर बाई, चन्ना मां किसी घूंघट में बंद होकर शत्रुओं से लोहा नहीं लेती रहीं। युगों पहले तक स्वयंवर की प्रथा इस देश में थी। सैकड़ों वीर समर्थ पुरुष, राजा पंक्तिबद्ध सामाजिक अनुशासन में बैठते थे। उनमें से एक पुरुष को पति के रूप में चुनकर जयमाला डालने का केवल हमारे देश में ही प्रचलन था। यह स्वयंवर बुर्के और घूंघट में नहीं होता था।

आज प्रश्न केवल हिजाब का नहीं, प्रश्न यह है कि बहुत-सी लड़कियां, कुछ धर्म के ठेकेदारों से प्रभावित, इन बंधनों की वकालत करने के लिए सडक़ों पर आ जाती हैं। वर्षों पहले राजा राममोहन राय जी ने जब सती प्रथा बंद करवाई थी, उस समय भी हमारे समाज के एक भाग ने विरोध किया था। आज 21वीं शताब्दी में भी जब लड़कियां हिजाब या शबरीमाल मंदिर में महिलाओं को प्रवेश न देने के समर्थन में निकलती हैं तो बहुत अफसोस होता है। उनकी मानसिकता अभी भी उनसे प्रभावित है जो महिलाओं को बेडिय़ों में बांधकर रखना चाहते हैं। शायद मन ही मन उनकी उन्नति से आहत भी होंगे।

सत्य यह है कि जब तक पीडि़त अपनी पीड़ा से मुक्ति नहीं चाहता तब तक कानून और राजनीति कुछ नहीं कर सकती। वर्तमान केंद्रीय सरकार ने मुस्लिम महिलाओं को तीन तलाक और हलाला से मुक्ति दिलाई। यह स्वीकार करना होगा कि भारत सरकार का तीन तलाक बंद करने वाला कानून उस बल से ही पारित हुआ जो शक्ति लाखों मुस्लिम महिलाओं ने आगे बढक़र तीन तलाक के विरुद्ध आवाज उठाकर दी थी। अभी पुरानी बात नहीं जब शिगनापुर श्रीशनि मंदिर में महिलाओं के प्रवेश के विरुद्ध एक महिला के नेतृत्व में ही आंदोलन हुआ और सफल भी हुआ। बात हिजाब की हो, घूंघट की हो या फिर मंदिर या मस्जिद में किसी बंधन की, जो इन असंवैधानिक आदेशों से प्रभावित हैं जब तक वे आगे नहीं आएंगे तब तक मुक्ति भी नहीं मिलेगी।

जो घूंघट के प्रबल समर्थक हैं वे उन महिलाओं को देखें जो लंबा घूंघट निकालकर सडक़ों पर मजदूरी करती हैं, बच्चा गोद में उठाकर सिर पर पानी के तीन-तीन घड़े उठाकर काम कर रही हैं, और भी बहुत कुछ। याद रखिए घायल की गति घायल जानता है, उपदेश देने वाले नहीं। आज उस मानसिकता को बदलना होगा, जिसमें एक घूंघट समर्थक और एक बुर्का समर्थक यह कहता है कि औरत और दौलत दोनों को ढक कर रखना चाहिए। हमारे देश की संस्कृति तो यह है कि दौलत घर में बढ़ जाए तो दोनों हाथों से बांटिए, ढक कर नहीं रखिए। महिलाएं घर में बंद रखी गईं तो आधा समाज पक्षाघात का शिकार होकर क्षीण-दीन हो जाएगा। भारत की बेटी सिंहवाहिनी है। 1400 वर्ष पहले तक जब महिलाओं पर इस तरह के प्रतिबंध नहीं थे, तब भी हम दुनिया में भारती मिश्र की तरह शास्त्रार्थ करती थीं। वेद मंत्रों की रचयिता थीं और अपने बच्चों को शेरों के साथ खिलाती थीं।

RELATED ARTICLES

गुजरात को ऐसे जीतना क्या जीतना?

हरिशंकर व्यास नरेंद्र मोदी गुजरात जीतेंगे लेकिन योगी आदित्यनाथ के बूते यदि जीते तो मोदी-शाह के लिए क्या डूबने वाली बात नहीं? यदि आम आदमी...

गुटबाजी के साइडइफेक्ट

उत्कर्ष गहरवार राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत का गुरुवार को कांग्रेस नेता सचिन पायलट के खिलाफ दिया गया आक्रामक बयान न तो अचानक आया है...

भारत में हैं असीम संभावनाएं

प्रभात सिन्हा अमेरिकी प्रशासन ने चीन के साथ उच्च गुणवत्ता वाले सेमीकंडक्टरचिप्स के आयात, निर्यात, वितरण सहित बौद्धिक संपदा के आदान-प्रदान पर भी प्रतिबंध लगा...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

विधानसभा में बैकडोर नियुक्तियों पर हाईकोर्ट ने सरकार से मांगा जवाब

देहरादून। हाईकोर्ट ने राज्य विधानसभा में बैकडोर नियुक्तियों का संज्ञान लेते हुए सरकार का जवाब तलब किया है। देहरादून निवासी समाजसेवी अभिनव थापर ने जनहित...

सदन में अपने जवाबों व तर्कों से आज छाई रही मंत्री रेखा आर्या, विधायक सवालों के जवाब से आये सन्तुष्ट नजर

शीतकालीन सत्र का दूसरा दिन कैबिनेट मंत्री रेखा आर्या के नाम कैबिनेट मंत्री रेखा आर्या ने महिलाओं को 30 प्रतिशत क्षेतिज आरक्षण के फैसले को...

रूस में बढ़ी भारतीय सामान की मांग, उत्तर प्रदेश से किया जाएगा फल और सब्जियों का निर्यात

उत्तर प्रदेश।  रूस एवं यूक्रेन के बीच हो रहे युद्ध और विश्व के अनेक देशों द्वारा प्रतिबंध लगाए जाने के कारण रूस में भारतीय सामान...

उत्तराखंड में महिलाओं को 30 प्रतिशत क्षैतिज आरक्षण, धामी ने जो कहा वो कर दिखाया

देश के सबसे युवा मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी कर रहे हैं वादे पूरे देहरादून । उत्तराखंड सरकार ने राजकीय सेवाओं में महिलाओं को 30 प्रतिशत...

देहरादून में नौवीं कक्षा में पढ़ने वाली छात्रा पर हुआ जानलेवा हमला, आरोपियों की जांच में जुटी पुलिस

देहरादून। कारगी चौक पर अज्ञात नकाबपोशों ने एक छात्रा को गोली मारने का प्रयास किया। छात्रा ने हौसला दिखाते हुए आरोपितों का डटकर सामना किया।...

सर्दी-खांसी होने पर तुरंत खा लेते हैं एंटीबायोटिक दवाएं? स्वास्थ्य के लिए है खतरा

सर्दी-खांसी से लेकर कई ऐसी छोटी-छोटी समस्याएं हैं, जिनसे तुरंत आराम पाने के चक्कर में ज्यादातर लोग डॉक्टरी सलाह के बिना ही धड़ल्ले से...

पर्वतारोहण व ट्रैकिंग के लिए प्रसिद्ध गंगोत्री नेशनल पार्क और गर्तांगली के गेट शीतकाल के लिए कल किए जाएंगे बंद

उत्तरकाशी। पर्वतारोहण व ट्रैकिंग के लिए प्रसिद्ध गंगोत्री नेशनल पार्क और गर्तांगली की सैर के लिए पर्यटकों को अब अगले वर्ष एक अप्रैल तक का...

रणवीर सिंह की सर्कस का टीजर जारी, डबल रोल में दिखे अभिनेता

अभिनेता रणवीर सिंह की कॉमेडी फिल्म सर्कस जल्द सिनेमाघरों में दस्तक देगी। फिल्म क्रिसमस के अवसर पर 23 दिसंबर को दर्शकों के बीच आ...

सीएम धामी आज दिल्ली में भाजपा प्रत्याशियों के पक्ष में एक रोड शो और तीन जनसभाओं को करेंगे संबोधित

देहरादून। दिल्ली नगर निगम चुनाव में मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी की मांग लगातार बढ़ती जा रही है। वह बुधवार को दिल्ली में भाजपा प्रत्याशियों के...

गुजरात को ऐसे जीतना क्या जीतना?

हरिशंकर व्यास नरेंद्र मोदी गुजरात जीतेंगे लेकिन योगी आदित्यनाथ के बूते यदि जीते तो मोदी-शाह के लिए क्या डूबने वाली बात नहीं? यदि आम आदमी...

Recent Comments