Sunday, August 14, 2022
Home उत्तराखंड उत्तराखंड में पलायन के नासूर दर्द को बयां करेगी गढ़वाली फ़िल्म “ब्यखुनी...

उत्तराखंड में पलायन के नासूर दर्द को बयां करेगी गढ़वाली फ़िल्म “ब्यखुनी कू छैल”, मल्टीपलैक्स, सिनेमा हॉल के साथ ओटीटी पर भी रिलीज होगी फिल्म

देहरादून। प्रज्ञा आर्ट्स की सीनियर थिएटर डायरेक्टर लक्ष्मी रावत एक बार फिर चर्चा में हैं। लक्ष्मी रावत को उनके नाटकों, उत्तराखंड में समय-समय पर आयोजित थिएटर वर्कशॉप, उत्तराखंडी और हिंदी फिल्मों और विज्ञापनों में उनके प्रदर्शन के लिए जाना जाता है। इस बार वह अपनी फिल्म “ब्यखुनी कू छैल” को लेकर चर्चा में हैं। जिसमें लक्ष्मी रावत न केवल अभिनय कर रही हैं बल्कि फिल्म का निर्देशन भी खुद कर रही हैं। 2020 में लक्ष्मी रावत द्वारा उत्तराखंड की शौर्यगाथों को समर्पित एक कलेन्डर बनाया गया था जिसकी चारों तरफ तारीफ हुई। उसमें उत्तराखंड के उभरते युवा फोटोग्राफर एंड सिनेमेटोग्राफर प्रणेश असवाल ने फोटोग्राफी की थी। इस फिल्म में एक बार फिर प्रणेश कैमरा करते दिखेंगे।

लक्ष्मी रावत के अनुसार मैंने हिंदी नाटकों से अभिनय शुरू किया और गढ़वाली नाटकों के साथ निर्देशन करना शुरू किया और आज मैं ज्यादातर नाटक उत्तराखंडी पृष्ठभूमि से करती हूँ। मैं थिएटर में आई और देखा कि थिएटर उन चीजों को दूर करने में मदद नहीं करता है जो आपको असहज महसूस कराती हैं, लेकिन यह सिखाती है कि अगर आप कड़ी मेहनत करते हैं, तो आप वह कर सकते हैं जो आप उन सभी असहज चीजों के साथ करना चाहते हैं।

लक्ष्मी रावत ने कहा रंगमंच की एक सुंदरता है – यहां सभी के लिए एक जगह है। आप कई अलग-अलग चीजों में प्रतिभाशाली हो सकते हैं। अगर आपको मंच पर रहना पसंद नहीं है, तो हमारे पास बैक स्टेज है। अगर आप चमकना चाहते हैं तो मंच है। सबके लिए कुछ न कुछ है। आप यहां हर किसी से प्यार करते हैं, चाहे आप कोई भी हों या कुछ भी करते हों।

मैं अपने छात्रों को स्टेज एक्टिंग के साथ-साथ कैमरा एक्टिंग के बारे में भी बताना चाहती थी, इसलिए मैंने शॉर्ट फिल्मों की ओर रुख किया और अब मैं फीचर फिल्म की तैयारी कर रही हूं। साथ ही लक्ष्मी रावत इस साल भी कैलेण्डर बनाने जा रही हैं। इस वर्ष उनका विषय पलायन होगा मगर वो उसे एक अलग ही अंदाज़ में दिखाने की तैयारी में हैं।

कैलेंडर और फिल्म दोनों ही प्रज्ञा आर्ट्स, असवाल एसोसिएट और दामोदर हरी फाउंडेशन के बैनर तले संयुक्त प्रयासों से बन रही है। असवाल एसोसिएट के मालिक रतन असवाल उत्तराखंड के एक जाने माने चिंतक हैं एवं दामोदर हरी फाउंडेशन के संस्थापक संदीप शर्मा दिल्ली में रहने वाले उत्तराखंड के लोगों के बीच एक जाने माने चेहरे हैं। फिल्म और कैलेंडर दोनों ही उत्तराखंड में शूट होंगे। जल्द ही लोकेशन फाइनल करने टीम प्रज्ञा आर्ट उत्तराखंड के अलग-अलग हिंस्सों में जायेगी।

जहाँ कैलेंडर में पलायन को आप एक अलग रूप में देखेंगे। वहीँ फिल्म की कहानी उत्तराखंड में नई पीढ़ी के पलायन और पीछे रह जाने वाली उनकी पुरानी पीढ़ी के अकेलेपन पर प्रश्न करती है। नई पीढ़ी की तरक्की देखने की ललक हमें बहुत आगे तक तो ले जाती है मगर पीछे छोड़ जाती है। कुछ ऐसी नाकामयाबी जो ज़ख्म बन जाती है और कभी-कभी तो नासूर और नासूर कभी ठीक नहीं होते। उन ठीक ना होने वाले नासूर का दर्द बयां करेगी यह फिल्म। फ़िल्म बहुत कुछ पाने के लिए बहुत कुछ को छोड़कर जाने वाले लोगों के लिए एक प्रश्न होगी जिसका जवाब देखने वाले को खुद खोजना होगा। हमारी कोशिश रहेगी की हम इसे ओटीटी प्लेटफार्म पर दिखाएँ।

RELATED ARTICLES

उत्तराखण्ड पर्यटन क्षेत्र में जितनी चुनौतियां हैं उससे कई गुना इस क्षेत्र में संभावनाएं : जी किशन रेड्डी

देहरादून। केंद्रीय पर्यटन एवं संस्कृति मंत्री जी किशन रेड्डी ने उत्तराखण्ड पर्यटन विभाग के अधिकारियों के साथ राज्य में केंद्र के सहयोग से चल...

आईएचएम के छात्र-छात्राओं ने राष्ट्र के प्रति समर्पण भाव को प्रदर्शित कियाः महाराज

75वें स्वतंत्रता दिवस पर आई० एच० एम० ने बनाये तीन रंगो से निर्मित 75 प्रकार के व्यंजन देहरादून। प्रदेश के पर्यटन, पंचायतीराज, ग्रामीण निर्माण, लोक...

देशभक्ति गीतों की धुन पर कैबिनेट मंत्री रेखा आर्या ने निकाली शहीद स्मारक कचहरी से पुलिस लाइन तक तिरंगा जनजागरण पदयात्रा

कचहरी स्थित शहीद स्मारक पहुंचकर शहीदों को श्रद्धा सुमन अर्पित कर निकाली तिरंगा पदयात्रा आजादी की 75वी वर्षगांठ के उपलक्ष्य में देश भर में मनाया...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

उत्तराखण्ड पर्यटन क्षेत्र में जितनी चुनौतियां हैं उससे कई गुना इस क्षेत्र में संभावनाएं : जी किशन रेड्डी

देहरादून। केंद्रीय पर्यटन एवं संस्कृति मंत्री जी किशन रेड्डी ने उत्तराखण्ड पर्यटन विभाग के अधिकारियों के साथ राज्य में केंद्र के सहयोग से चल...

आईएचएम के छात्र-छात्राओं ने राष्ट्र के प्रति समर्पण भाव को प्रदर्शित कियाः महाराज

75वें स्वतंत्रता दिवस पर आई० एच० एम० ने बनाये तीन रंगो से निर्मित 75 प्रकार के व्यंजन देहरादून। प्रदेश के पर्यटन, पंचायतीराज, ग्रामीण निर्माण, लोक...

देशभक्ति गीतों की धुन पर कैबिनेट मंत्री रेखा आर्या ने निकाली शहीद स्मारक कचहरी से पुलिस लाइन तक तिरंगा जनजागरण पदयात्रा

कचहरी स्थित शहीद स्मारक पहुंचकर शहीदों को श्रद्धा सुमन अर्पित कर निकाली तिरंगा पदयात्रा आजादी की 75वी वर्षगांठ के उपलक्ष्य में देश भर में मनाया...

रुद्रपुर में बाइक सवार को स्कूल बस ने मारी टक्कर, मौके पर हुई युवक की मौत

रुद्रपुर। तेज रफ्तार जेसीज पब्लिक स्कूल की बस ने बाइक में टक्कर मार दी। हादसे में बाइक सवार युवक की मौत हो गई, जबकि...

उत्तराखण्ड अधीनस्थ सेवा चयन आयोग से सन्तोष बडोनी की छुट्टी, संयुक्त सचिव सुरेन्द्र सिंह रावत को जिम्मेदारी

देहरादून।  उत्तराखण्ड अधीनस्थ सेवा चयन आयोग देहरादून में कार्यालय आदेश संख्या 99/XXX(4)/2017–03(05)/2015 दिनांक 30 मार्च, 2017 के माध्यम से सेवा स्थानान्तरण के आधार पर सचिव...

आजादी का अमृत महोत्सव कार्यक्रम के तहत जिलाधिकारी मयूर दीक्षित के निर्देशन पर आज केदारनाथ में किया गया तिरंगा रैली का आयोजन

रुद्रप्रयाग।  आजादी के 75 वर्ष पूर्ण होने के उपलक्ष्य में आजादी का अमृत महोत्सव कार्यक्रम के तहत स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर 13 से 15...

CM धामी ने चंपावत में पूजा अर्चना कर, किया मुख्यमंत्री कार्यालय का उद्घाटन

चंपावत।  मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने शनिवार को गौरल चौड़ मैदान मार्ग, चंपावत में मुख्यमंत्री कैंप कार्यालय, का विधिवत पूजा अर्चना कर उद्घाटन किया। इस...

राम बिलास यादव की पत्नी को विजिलेंस ने आय से अधिक संंपत्ति मामले में बनाया आरोपी, किसी भी वक्त हो सकती है गिरफ्तारी

देहरादून।  आय से अधिक संपत्ति अर्जित करने के मामले में जेल में बंद सेवानिवृत्त आइएएस राम बिलास यादव की पत्नी कुसुम बिलास को विजिलेंस...

पूर्व अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के घर से एफबीआई के हाथ लगे परमाणु हथियारों से जुड़े दस्तावेज

अमेरिका।  फ्लोरिडा राज्य में पूर्व अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के घर से फेडरल ब्यूरो ऑफ इन्वेस्टीगेशन (एफबीआई) ने कुछ 'टॉप सीक्रेट' सरकारी दस्तावेज बरामद किए...

बदलती जीवनशैली का हिस्सा बन चुका हैं फ्रोजन फूड, सेहत के लिए हैं बहुत नुकसानदायक

वर्तमान समय की बदलती जीवनशैली में लोगों के पास पर्याप्त समय नहीं हैं जिसे मैनेज करने के लिए आजकल घरों में फ्रोजन फूड का...

Recent Comments