Home उत्तराखंड वरिष्ठ जनों और रक्तदाताओं के सम्मान के साथ महायज्ञ में आहुति डालकर...

वरिष्ठ जनों और रक्तदाताओं के सम्मान के साथ महायज्ञ में आहुति डालकर पूर्व सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत ने मनाया, जन्मदिन

ऋषिकेश। पूर्व मुख्यमंत्री व डोईवाला के विधायक त्रिवेंद्र् सिंह रावत ने सोमवार को अपना 61 वां जन्मदिवस हजारों कार्यकर्ताओं और समर्थकों के साथ मनाया। कार्यकर्ताओं और समर्थकों ने रक्तदान शिविर के माध्यम से करीब 70 यूनिट से अधिक रक्त संग्रहित किया। महायज्ञ कर प्रदेश के हर नागरिक की सुख समृद्धि की कामना की। वरिष्ठ नागरिकों और बुजुर्गों का सम्मान कर उनकी दुआएँ लेकर प्रदेश के हर क्षेत्र के विकास का संकल्प लिया। इस मौके पर पूर्व सीएम त्रिवेंद्र ने प्रदेश के नागरिकों और खासकर युवा पीढ़ी से अंगदान के लिए आगे आने का आह्वान किया।

पूर्व सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत ने सोमवार को सुबह अपने डिफेंस कालोनी स्थित आवास में परिजनों के साथ यज्ञ किया। इस मौके पर प्रदेश की खुशहाली और हर नागरिक के सुख -समृद्धि की कामना की। त्रिवेंद्र सिंह रावत को बधाई देने वाले कार्यकर्ताओं और समर्थकों का उनके आवास पर सुबह से ही तांता लगा रहा। इसके पश्चता जोगीवाला रिंग रोड स्थित एक वेडिंग प्वाइंट में कार्यकर्ताओं की ओर से आयोजित रक्तदान शिविर में पूर्व मुख्यमंत्री ने रक्तदाताओं का उत्साहवर्धन किया। शिविर में करीब 70 यूनिट से अधिक रक्त का संग्रह किया गया।

इसके बाद पंडित नत्थीलाल उनियाल की टीम की ओर वेडिंग प्वाइंट के प्रांगण में महायज्ञ का आयोजन किया। जिसमें त्रिवेंद्र जी के साथ कई दर्जाधारियों, पूर्व दर्जा मंत्रियों,  मेयर, पार्टी पदाधिकारियों ने पूर्ण आहुति में भाग लिया। महायज्ञ में प्रदेश की खुशहाली के साथ ही जनकल्याण, सर्व कल्याण के साथ ही पर्यावरण को शुद्ध रखने का संकल्प लिया गया। तत्पश्चात हजारों समर्थकों और कार्यकर्ताओं ने त्रिवेंद्र को जन्मदिन की शुभकामनाएं और आशीर्वाद दिया और उनके सुखी व सफल राजनीतिक-सामाजिक जीवन और दीर्घायु की कामना की।

   इस मौके पर पूर्व सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत ने सभी का हृदय से आभार व्यक्त किया। उन्होंने अपने समर्थकों और कार्यकर्ताओं से उम्मीद की कि उनका प्यार और आशीर्वाद उन्हें हमेशा मिलता रहेगा। इस मौके पर उन्होंने सीडीएस स्वर्गीय बिपिन सिंह रावत और उनके साथ हेलीकाप्टर दुर्घटना में शहीद हुए सभी जांबाजों और उनकी पत्नी को श्रद्धांजलि अर्पित की। उन्होंने कहा कि सीडीएस जनरल रावत एक असाधारण सैनिक थे। उन्होंने अपनी सैन्य सेवा के दौरान हमेशा सीमांत इलाकों में सेवा को प्राथमिकता दी। देश और भारतीय सेना के लिए उनका जाना अपूर्णीय क्षति तो है ही, उत्तराखंड के लिए उससे भी बड़ा सदमा है। जिसकी भरपाई शायद ही कभी हो सकेगी। सीडीएस जनरल रावत हमेशा हर उत्तराखंडी के दिल में जीवित रहेंगे।

उन्होंने कहा कि वे  हमेशा अपने जन्मदिन पर रक्तदान शिविर और वृक्षारोपण का आयोजन करते हैं। रक्तदान के लिए युवा जिस तरह से बढ़चढ़कर भाग लेते हैं उससे हमारे प्रदेश में कभी रक्त की कमी नहीं होगी। उन्होंने कहा कि आज समय बदल रहा है। रक्तदान से भी बढ़कर अब अंगदान करने की जरूरत महसूस की जा रही है। हमें अब अंगदान के लिए आगे आना चाहिए। इसमें आई डोनेशन महत्वपूर्ण हैं। यदि हम अपनी आँखे किसी को डोनेट करते हैं उससे वह इस दुनिया को देख सकता है। इसके बाद कार्यक्रम में हजारों बुजुर्ग और वरिष्ठ जनों को उनके स्थान पर जाकर पूर्व मुख्यमंत्री ने शाल और छड़ी देकर सम्मानित किया।

पूर्व सीएम को बधाई देने वाले प्रमुख लोगों में कैबिनेट मंत्री डा. धन सिंह रावत, मेयर सुनील उनियाल गामा, ऋषिकेश की मेयर मती अनिता ममगाईं, सहसपुर विधायक सहदेव सिंह पुंडीर, महानगर अध्यक्ष सीताराम भट्ट, जिलाध्यक्ष शमशेर सिंह पुंडीर, दर्जाधारियों में शमशेर सिंह सत्याल, सुरेश परिहार, बृजभूषण गैरोला, रिपुदमन सिंह रावत, राजकुमार पुरोहित, गजराज सिंह बिष्ट, राजेश शर्मा, राजपाल सिंह रावत, रविंद्र कटारिया, पिछड़ा आयोग की अध्यक्ष मति कल्पना सैनी, भाजपा प्रदेश उपाध्यक्ष अनिल गोयल, मधु भट्ट, ऋतु मित्रा, ब्रजलेश गुप्ता, उषा लखेड़ा, अशोक राज पंवार आदि थे तथा कार्यक्रम का संचालन सतेंद्र नेगी व संतोष सती कर रहे थे।

RELATED ARTICLES

उत्तराखण्ड में साइबर अपराधी ने, डीजीपी का सोशल साइट पर बना लिया फर्जी एकाउंट

देहरादून। उत्तराखंड डीजीपी अशोक कुमार का किसी ने फर्जी ट्विटर अकाउंट बनाया है। पुलिस मुख्यालय की सोशल मीडिया सेल प्रभारी को जैसे ही इसकी...

महाभारतकालीन समय से रहे हैं उत्तर-पूर्वी राज्यों से हमारे संबंध: महाराज

श्रीनगर। हमारा देश एक राष्ट्र, एक ध्वज और एक आत्मा है। प्रतिष्ठित उत्सव अक्टेव-2022 जिस धरती पर हो रहा है, यही वह स्थान है...

पर्यटकों की भीड़ से कम पड़ी रोडवेज की बसें

देहरादून। पर्यटकों की भीड़  को देखते हुए रोडवेज ने मसूरी के लिए बसों के फेर बढ़ाए, बावजूद इसके बसों की किल्लत कम नहीं हो...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

व्हाट्सएप यूजर्स के लिए खास सुविधा शुरू, Whatsapp पर डाउनलोड होगा DL और PAN

नई दिल्ली। इलेक्ट्रॉनिक्स और आईटी मंत्रालय ने व्हाट्सएप यूजर्स के लिए खास सुविधा शुरू की है। अब आप सिर्फ एक व्हाट्सएप मैसेज के जरिए...

कोरोना के बाद अब मंकीपॉक्स की दहशत ! मोदी सरकार ने राज्यों को किया अलर्ट, हरकत में आई उद्धव सरकार ने जारी की एडवाइजरी

नई दिल्ली। डब्लूएचओ के अनुसार मंकीपॉक्स एक वायरल जूनोटिक बीमारी है। यह जानवरों से मनुष्यों में फैलती है और फिर मनुष्य से मनुष्य में...

हिना खान ने बॉडीकॉन ड्रेस में फ्लॉन्ट किया फिगर, चौथे लुक ने आते ही मचा दिया कहर

बॉलीवुड की मशहूर एक्ट्रेस हिना खान इन दिनों कांस फिल्म फेस्टिवल 2022 में खूब धूम मचा रही हैं। हिना खान आए दिन कांस से...

भविष्य की आहट

राष्ट्रप्रेम की डींगों का धरातली आइना डा. रवीन्द्र अरजरिया दुनिया के सामने मातृभूमि की छवि धूमिल करने की एक कोशिश गोरों की धरती पर फिर हो...

उत्तराखण्ड में साइबर अपराधी ने, डीजीपी का सोशल साइट पर बना लिया फर्जी एकाउंट

देहरादून। उत्तराखंड डीजीपी अशोक कुमार का किसी ने फर्जी ट्विटर अकाउंट बनाया है। पुलिस मुख्यालय की सोशल मीडिया सेल प्रभारी को जैसे ही इसकी...

महाभारतकालीन समय से रहे हैं उत्तर-पूर्वी राज्यों से हमारे संबंध: महाराज

श्रीनगर। हमारा देश एक राष्ट्र, एक ध्वज और एक आत्मा है। प्रतिष्ठित उत्सव अक्टेव-2022 जिस धरती पर हो रहा है, यही वह स्थान है...

पर्यटकों की भीड़ से कम पड़ी रोडवेज की बसें

देहरादून। पर्यटकों की भीड़  को देखते हुए रोडवेज ने मसूरी के लिए बसों के फेर बढ़ाए, बावजूद इसके बसों की किल्लत कम नहीं हो...

हरकी पैड़ी पर गंगा आरती की अब हो सकेगी ऑनलाइन बुकिंग

देहरादून।  हरकी पैड़ी पर होने वाली गंगा की विश्व प्रसिद्ध मुख्य आरती को पहली बार ऑनलाइन बुक किया जा सकेगा। पहले तक श्रीगंगा सभा...

गोरीकुंड से केदारनाथ का सफ़र होगा और भी आसान, जानिए

देहरादून।  गौरीकुंड-केदारनाथ 16 किमी पैदल मार्ग पर ऑल टेरेन व्हीकल (एटीवी) चलाने की संभावनाएं तलाशी जाने लगी हैं। पर्यटन मंत्री ने लोक निर्माण विभाग...

95 साल के शख्स को 84 साल की महिला से हुआ प्यार, 40 मेहमानों की मौजूदगी में खाई साथ जीने-मरने की कसमें

लंदन। जरा सोचिए कि आप 95 साल की उम्र में क्या कर रहे होंगे? आप कहेंगे 95 साल की उम्र में कोई क्या कर...

Recent Comments