Monday, August 15, 2022
Home राष्ट्रीय लॉकडाउन का असर: वर्क फ्रॉम होम में काम के दबाव से उलझ...

लॉकडाउन का असर: वर्क फ्रॉम होम में काम के दबाव से उलझ रही रिश्तों की डोर

कोरोना लॉकडाउन में करीब डेढ़ साल से वर्क फ्रॉम होम के जरिये दफ्तर का दबाव घर पहुंचकर रिश्तों की दीवार में दरारें डालने लगा है। ऐसे घर जहां पति-पत्नी में से एक ही काम करता है वहां रिश्तों की डोर अधिक उलझ रही है। इससे जीवनसाथी और बच्चों के साथ संबंधों में चिड़चिड़ापन आ रहा है। नतीजतन भावनात्मक सलाह लेने वालों में पुरुषों की संख्या बढ़ रही है।

पुणे में लॉकडाउन के दौरान घरेलू विवाद को लेकर महिलाओं, बच्चों व वरिष्ठ नागरिकों की बढ़ती शिकायतें सुलझाने के लिए खुले ‘भरोसा सेल’ के मुताबिक पिछले साल जहां महिलाओं की शिकायतें अधिक थीं दूसरी लहर में पुरुषों की शिकायतें बढ़ी हैं। उनके काम के तनाव में जीवनसाथी की उनसे मदद की उम्मीद उनके रिश्तों को बिगाड़ रही है। ऐसे में उनके लिए इस तनाव से बाहर आना मुश्किल हो रहा है।

उन्होंने बताया कि वर्क फ्रॉम होम में अमूमन काम के घंटे बढ़ जाते हैं। इसके  अलावा ऑफिस की तरह सीटिंग नहीं होना या आरामदायक उपयुक्त फर्नीचर नहीं होने से शारीरिक जटिलताएं आती हैं। इन सब के बीच जब जीवनसाथी के साथ एक दूसरे को समझने में चूक होती है तो रिश्तों में इसका असर होता है।

पुरुषों की दलील, पत्नी काम का दबाव नहीं समझती
भरोसा सेल में काउंसिलिंग करने वाली वकील प्रार्थना बताती हैं कि पुरुषों की सबसे मुख्य शिकायत यह होती है कि उनकी पत्नी काम के दबाव को समझना ही नहीं चाहती है। उन्हें लगता है कि घर से काम करते वक्त हमें उनकी मदद भी करनी चाहिए। ऐसा नहीं करने पर तनाव की स्थिति बनती है। अधिकतर पुरुषों का मानना है कि उनकी पत्नी को लगता है कि वे कुछ खास काम नहीं करते बस कंप्यूटर के आगे बैठे रहते हैं।

कामकाजी दंपती अधिक समझते हैं काम का तनाव
प्रार्थना के मुताबिक जिन घरों में पति पत्नी दोनों पेशेवर हैं वहां मुश्किलें कम हैं। दोनों जीवनसाथी एक दूजे के काम के तनाव को भलीभांति समझते हैं और इनके बीच आपसी तालमेल भी बैठ जाता है। इससे वर्क फ्रॉम होम में इन्हें अधिक मुश्किलों का सामना नहीं करना पड़ता। उलटा समय मिलने पर ये एक दूसरे को बेहतर महसूस कराने की भी कोशिश करते हैं।

लॉकडाउन में महिलाएं हुईं थी ज्यादा परेशान 
राष्ट्रीय लॉकडाउन के दौरान पिछले साल महिलाओं की कई तरह की शिकायतें आईं थी। इसमें तनाव, मनोवैज्ञानिक मुश्किलें, घरेलू हिंसा, भावनात्मक तनाव समेत कई मुद्दे शामिल थे।

तनाव की इतनी शिकायतें आईं
2074 कुल शिकायतें आईं 2020 में पुणे की भरोसा सेल के पास
1283 इनमें महिलाओं की थीं और 791 पुरुषो की
266 शिकायतें पुरुषों ने कीं 2021 के चार महीनों में

ऐसे दूर करें तनाव 
एक दूसरे को सहानुभूति देने का प्रयास करें
अपने जीवनसाथी की प्रशंसा करें
एक दूसरे के काम की सराहना करें
सामने वाले को महसूस करायें कि उसके सहयोग के बिना आपका काम कर पाना मुश्किल है

Source Link

RELATED ARTICLES

आजादी के अमृत महोत्सव के तहत राम जन्म भूमि परिसर में फहराया गया तिरंगा

लखनऊ।  आजादी के अमृत महोत्सव के क्रम में राम जन्मभूमि परिसर में भी तिरंगा फहराया गया। परिसर में जगह-जगह राष्ट्रीय ध्वज लगाया गया है।...

शेयर बाजार के दिग्गज निवेशक राकेश झुनझुनवाला का हुआ निधन, पीएम मोदी ने किया शोक व्यक्त

दिल्ली।  शेयर बाजार के दिग्गज निवेशक राकेश झुनझुनवाला का निधन हो गया है। बताया जा रहा है कि उन्होंने रविवार सुबह मुंबई के ब्रीच कैंडी...

अद्भुत होगा सफर जब बादलों में से गुजरेगी आपकी ट्रेन, ये है दुनिया का सबसे ऊंचा चिनाब ब्रिज

नई दिल्‍ली । दुनिया के सबसे ऊंचे चिनाब रेलवे ब्रिज का शनिवार को शुभारंभ हुआ। इस पुल के साथ आजादी के बाद पहली बार श्रीनगर...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडन ने स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर दी भारत को बधाई

अमेरिका। अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडन ने 75वें स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर भारत को बधाई दी।  उन्होंने कहा कि भारतीय-अमेरिकी समुदाय ने अमेरिका को...

CM धामी स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर परेड ग्राउण्ड में ध्वजारोहण कर, पुलिस अधिकारियों और कर्मचारियों को विशिष्ट कार्यों के लिए सराहनीय सेवा...

देहरादून।  मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने स्वतंत्रता की 75वीं वर्षगांठ के अवसर पर परेड ग्राउण्ड देहरादून में राज्य के मुख्य कार्यक्रम में ध्वजारोहण किया।...

स्वतंत्रता दिवस की 76वीं वर्षगांठ के अवसर पर सीएम धामी ने ध्वजारोहण कर राष्ट्रीय एकता की दिलाई शपथ

देहरादून।  स्वतंत्रता दिवस की 76वीं वर्षगांठ के अवसर पर मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने सुबह सबसे पहले मुख्यमंत्री आवास में ध्वजारोहण किया। इस अवसर पर...

चोट के कारण विश्व चैंपियनशिप से बाहर हुईं सिंधु

 दिल्ली । पूर्व विश्व चैंपियन और भारत की शीर्ष शटलर पुसरला वेंकट सिंधु बाएं पैर में स्ट्रेस फ्रैक्चर होने के कारण विश्व बैडमिंटन चैंपियनशिप...

महिलाओं को चक्कर आने के पीछे हो सकते है ये 10 कारण, जानें और बरतें सावधानी

सिर में अचानक तेज दर्द होना या सिर घूमना, चक्कर आना कहलाता हैं जो कि एक एक सामान्य स्थिति है। कई बार नींद पूरी...

रुबीना दिलैक को माधुरी दीक्षित के सामने डांस करना थोड़ा मुश्किल लगता है

बिग बॉस 14 की विजेता अभिनेत्री रुबीना दिलैक अपने डांस को लेकर उत्साहित हैं लेकिन उतनी नर्वस भी हैं क्योंकि उन्हें बॉलीवुड की च्ीन...

संसद सत्र का बेहतर इस्तेमाल हो

अजीत द्विवेदी संसद का मॉनसून सत्र निर्धारित समय से चार दिन पहले ही समाप्त हो गया। सत्रहवीं लोकसभा में यानी मई 2019 के बाद से...

आजादी के अमृत महोत्सव के तहत राम जन्म भूमि परिसर में फहराया गया तिरंगा

लखनऊ।  आजादी के अमृत महोत्सव के क्रम में राम जन्मभूमि परिसर में भी तिरंगा फहराया गया। परिसर में जगह-जगह राष्ट्रीय ध्वज लगाया गया है।...

मुख्यमंत्री धामी ने विभाजन विभीषिका स्मृति दिवस’ कार्यक्रम में किया प्रतिभाग

विभाजन की विभीषिका का दर्द सहने वाले 400 सेनानियों को स्मृति चिन्ह देकर किया सम्मानित देहरादून। मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने रविवार को जेसिस पब्लिक स्कूल,...

राज्यपाल ने आईटीबीपी द्वारा आज़ादी के अमृत महोत्सव के अवसर पर आयोजित ‘‘वॉकथॉन’’ का किया फ़्लैग ऑफ़

देहरादून। राज्यपाल लेफ्टिनेंट जनरल गुरमीत सिंह (से नि) ने रविवार को आईटीबीपी द्वारा आज़ादी के अमृत महोत्सव के अवसर पर आयोजित ‘‘वॉकथॉन’’ का फ़्लैग ऑफ़...

Recent Comments