Sunday, October 2, 2022
Home ब्लॉग महिलाओं को लाना है राजनीति के केंद्र में

महिलाओं को लाना है राजनीति के केंद्र में

जस्मिन शाह, अक्षय मराठे

राज्यों में चल रहे चुनावों का सबसे महत्वपूर्ण पहलू मुद्दों का चयन है। ‘दिल्ली मॉडल’ के बल पर लड़ते हुए आम आदमी पार्टी ने अपने चुनाव अभियान को शिक्षा और स्वास्थ्य जैसे मुद्दों पर केंद्रित रखा है, जिन्हें भारतीय राजनीति में लंबे समय से वर्जित माना जाता रहा है और जो बीजेपी-कांग्रेस की राजनीतिक शब्दावली में भी नहीं आता। ऐसा ही एक मुद्दा जिसे लंबे समय तक राजनीतिक अभियानों में अनदेखा किया गया, वह है भारत की महिलाओं की दयनीय स्थिति। विश्व आर्थिक मंच के अनुसार 2021 में लिंग अंतर सूचकांक में 156 देशों में से भारत 140 वें स्थान पर है। पिछली बार के मुकाबले 28 स्थानों की गिरावट है। 2022 के विधानसभा चुनावों के लिए ‘आप’ द्वारा किए गए वादे महिलाओं की स्थिति में सुधार का एक शक्तिशाली अजेंडा पेश करते हैं।

भारतीय महिलाओं का जीवन आसान नहीं है। महिलाओं की श्रम शक्ति की भागीदारी 2005 में 31.8 फीसदी के अपने चरम पर पहुंचने के बाद पिछले कुछ वर्षों से लगातार गिर रही है। महामारी की चपेट में आने के बाद यह अब तक के सबसे निचले 9.4 फीसदी पर आ गई है। महिलाओं में बेरोजगारी भी पुरुषों की तुलना में कहीं अधिक है। शहरी महिला बेरोजगारी दर 21.9 फीसदी और पुरुष बेरोजगारी दर 11.7 फीसदी है।
महामारी से पहले के सरकारी स्कूलों के नामांकन के आंकड़े बताते हैं कि भारत के सरकारी स्कूलों में लडक़ों की तुलना में लड़कियां अधिक हैं। एनुअल स्टेटस ऑफ एजुकेशन रिपोर्ट (्रस्श्वक्र) 2020 से पता चला है कि 6-8 वर्ष की लड़कियों में से 62 फीसदी सरकारी स्कूलों में जाती हैं और बाकी निजी स्कूलों में। लडक़ों में आंकड़ा 52.1 फीसदी है। इसका एक कारण यह भी है कि परिवार लड़कियों की तुलना में लडक़ों की शिक्षा को प्राथमिकता देते हैं।

सरकारी स्कूलों में लड़कियों की संख्या अधिक होने का अर्थ यह भी है कि सार्वजनिक शिक्षा पर खर्च किया गया रुपया लडक़ों की तुलना में लड़कियों को अधिक लाभ पहुंचाता है। दिल्ली में ‘आप’ सरकार अपने राज्य के बजट का एक चौथाई शिक्षा पर खर्च करती है। किसी भी अन्य राज्य सरकार की तुलना में यह अधिक है। चुनावी राज्यों में आम आदमी पार्टी ने सरकारी स्कूलों में मुफ्त और उच्च गुणवत्ता वाली शिक्षा का वादा किया है।
इसी तरह आम आदमी पार्टी की सरकार की तरफ से महिलाओं के लिए मुफ्त बस यात्रा योजना ने उनके लिए पहले से कहीं अधिक अवसर खोले हैं। महिलाओं के लिए 2019 के अंत में बसें मुफ्त करने के बाद महिला सवारियों में 33 फीसदी की वृद्धि हुई, जिसका अर्थ है कि महामारी से पहले महिलाओं द्वारा प्रति दिन 5 लाख और हर महीने 1.5 करोड़ अतिरिक्त यात्राएं की गईं। सार्वजनिक बस परिवहन पर अधिक निर्भर रहने वाले शहर के लिए यह कोई छोटी उपलब्धि नहीं है।

आम आदमी पार्टी ने 18 वर्ष से अधिक उम्र की प्रत्येक महिला को 1 हजार रुपये मासिक गारंटी आय देने का वादा किया है। इससे न केवल घरों के भीतर बल्कि समाज में भी महिलाओं की स्थिति में बदलाव आएगा। महिलाओं के पास रुपये पहुंचने से निर्णय लेने की शक्तियों का विस्तार होगा। इससे घरेलू खर्च को महिलाओं की जरूरतों जैसे शिक्षा, पोषण, स्वास्थ्य देखभाल आदि पर केंद्रित किया सकेगा।
आम आदमी पार्टी की ओर से महिलाओं के लिए किए गए वादे किसी भी तरह से एक आमूलचूल योजना नहीं बल्कि सिर्फ शुरुआत है। हमारी राजनीति की त्रासदी यह रही है कि महिलाओं को सशक्त बनाने के ऐसे बुनियादी कदमों को भी अतिवादी माना जाता है, क्योंकि कोई अन्य पार्टी इसमें दिलचस्पी नहीं दिखा रही है।

RELATED ARTICLES

नड्डा चुनाव तक बने रहेंगे!

भारतीय जनता पार्टी के अध्यक्ष के मामले में पिछला इतिहास दोहराए जाने की संभावना है। जिस तरह पिछले लोकसभा चुनाव से पहले अमित शाह...

तीसरा चुनाव आयुक्त है ही नहीं!

चुनाव आयोग के सामने बहुत बड़ा मामला लंबित है। सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद उसे शिव सेना के बारे में फैसला करना है।...

विपक्षी एकता कितनी संभव?

अजीत द्विवेदी भारतीय जनता पार्टी 2024 के लोकसभा चुनाव की तैयारियों में जुट गई है। पार्टी एक-एक लोकसभा सीट पर काम कर रही है। पंजाब...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

बीजेपी राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा और केंद्रीय गृह मंत्री अनुराग ठाकुर पहुंचे ऊना, आगामी विधानसभा चुनाव को लेकर की बैठक

हिमाचल प्रदेश।  भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जगत प्रकाश नड्डा और केंद्रीय मंत्री अनुराग ठाकुर रविवार को ऊना पहुंचे। नड्डा ने लालसिंगी में भाजपा कार्यालय का...

राज्यपाल ने टी.बी. एसोसिएशन ऑफ उत्तराखण्ड के टी.बी. के प्रति जनजागरूकता अभियान ‘‘टी.बी. सील’’ का किया अनावरण

देहरादून। राज्यपाल लेफ्टिनेंट जनरल गुरमीत सिंह (से नि) ने राजभवन में टी.बी. एसोसिएशन ऑफ उत्तराखण्ड के टी.बी. के प्रति जनजागरूकता अभियान ‘‘टी.बी. सील’’ का...

उत्तरकाशी में महसूस किए गए भूकंप के झटके, नुकसान होने की कोई सूचना नहीं

उत्तरकाशी। जिला मुख्यालय और आसपास के क्षेत्रों में रविवार सुबह भूकंप का तेज झटका आया। भूकंप का झटका इतनी तेज था कि लोग घरों...

 राज्य स्तरीय समान नागरिक संहिता विशेषज्ञ समिति के सदस्यों ने गोपेश्वर मुख्यालय और जनपद रुद्रप्रयाग के अगस्त्यमुनि में लोगों से मिलकर सुने उनके सुझाव 

चमोली। जनपद के मुख्यालय गोपेश्वर में जनसामान्य के साथ बैठक का आयोजन महाविद्यालय परिसर में किया गया। इस बैठक में महिलाओं व युवाओं ने...

स्किन को नुकसान पहुंचा सकती हैं ये मेकअप रिमूविंग मिसटेक्स, जानें और बचें इनसे

मेकअप आज के समय में महिलाओं के दैनिक जीवन का हिस्सा बन चुका हैं। महिलाएं अपनी नेचुरल स्किन को और भी ज्यादा ब्यूटीफुल दिखाने...

वरुण धवन और कृति सैनन की भेडिय़ा का टीजर जारी, डरावने हैं दृश्य

वरुण धवन और कृति सैनन हॉरर फिल्म भेडिय़ा में जल्द नजर आएंगे। फिल्म 25 नवंबर को बड़े पर्दे पर आएगी। इसका निर्देशन अमर कौशिक...

CM धामी ने राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की जयंती के अवसर पर गांधी पार्क में उनकी मूर्ति पर माल्यार्पण कर दी श्रद्धांजलि

देहरादून।  मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की जयंती के अवसर पर गांधी पार्क, देहरादून में उनकी मूर्ति पर माल्यार्पण कर श्रद्धांजलि...

CM धामी ने शहीद स्थल कचहरी में उत्तराखंड राज्य आन्दोलनकारी शहीदों को अर्पित की श्रद्धांजलि

देहरादून।  मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने रविवार को शहीद स्थल कचहरी में उत्तराखंड राज्य आन्दोलनकारी शहीदों को श्रद्धांजलि अर्पित की। मुख्यमंत्री ने कहा कि...

नड्डा चुनाव तक बने रहेंगे!

भारतीय जनता पार्टी के अध्यक्ष के मामले में पिछला इतिहास दोहराए जाने की संभावना है। जिस तरह पिछले लोकसभा चुनाव से पहले अमित शाह...

CM धामी से की फिल्म अभिनेता नाना पाटेकर ने शिष्टाचार भेंट

देहरादून।  मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी से मुख्यमंत्री कैम्प कार्यालय में फिल्म अभिनेता नाना पाटेकर ने शिष्टाचार भेंट की। इस अवसर पर मुख्यमंत्री ने नाना...

Recent Comments