Monday, February 26, 2024
Home ब्लॉग सांस में फांस

सांस में फांस

दीपावली के बाद दिल्ली व हरियाणा-उत्तर प्रदेश स्थित राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र में जो प्रदूषण खतरे के गंभीर स्तर तक जा पहुंचा, उसके मूल में पटाखे जलाने, मौसम, हवा का रुख के साथ जो अन्य प्रमुख कारण बताया जा रहा है, वह है किसानों द्वारा खेतों में पराली जलाया जाना। यह अध्ययन का विषय है कि वास्तव में पराली जलाने की इस प्रदूषण बढ़ाने में कितनी भूमिका रही, लेकिन यह एक ऐसी समस्या है, जिसका फौरी उपायों के बावजूद कारगर समाधान नहीं निकाला जा सका है। हालांकि, पंजाब में इस साल प्रदूषण का स्तर पिछले साल के मुकाबले कम रहा। लेकिन यह हकीकत है कि किसानों व प्रशासनिक अधिकारियों के बीच असहायता की सामान्य भावना के चलते खेतों में फिलहाल पराली जलाने का संकट बरकरार है। निस्संदेह, धान की कटाई के बाद खेत में छोड़े गये अवशेष यानी पराली जलाना कानूनन प्रतिबंधित है। लेकिन इस समस्या के जो भी समाधान प्रस्तुत किये गये, वे सभी कारगर साबित नहीं हुए हैं। पराली के निस्तारण के लिये एक मशीन के उपयोग हेतु सब्सिडी योजना को भी सीमित सफलता ही मिल पायी है। दरअसल, छोटे, सीमांत और मध्यम किसानों का एक बड़ा वर्ग इसकी लागत जुटाने में सक्षम नजर नहीं आया। वहीं आर्थिक दंड के प्रावधान भी कारगर साबित नहीं हुए। वास्तव में पंजाब आदि में खरीफ के बाद रबी की फसल बोने के लिये किसानों को कम ही समय मिल पाता है।

ऐसे में वे दूसरी फसल बोने की जल्दी में आनन-फानन पराली को ठिकाने लगाने के सरल उपाय के बारे में सोचते हैं, जिसमें सबसे आसान उसे खेत में ही पराली जलाना नजर आता है क्योंकि उसे श्रमिकों को पराली ढोने के लिए मजदूरी देने में बचत होती है। कुछ साल पहले सुप्रीम कोर्ट ने किसानों को प्रोत्साहित करने के लिये नकद इनाम योजना का सुझाव दिया था, लेकिन इससे जुड़ी व्यावहारिक दिक्कतों की वजह से यह योजना सिरे नहीं चढ़ सकी।

दरअसल, वक्त की नजाकत और पराली जलाने पर अंकुश लगाने के प्रयासों में निराशाजनक रूप से धीमी प्रगति को देखते हुए आवश्यकता महसूस की जा रही है कि किसी व्यावहारिक व्यावसायिक मॉडल को अपनाया जाये। जो सही मायनों में बदलावकारी कदम साबित हो। विदेशों में पराली के व्यावसायिक उपयोग के जरिये जहां इस समस्या का समाधान किया गया, वहीं किसानों की आय में भी वृद्धि की गई है। पंजाब में कुछ निजी फर्मों ने बायोगैस संयंत्रों में गैस उत्पादन तथा कुछ उत्पादों के निर्माण के लिये पराली खरीदने का बीड़ा उठाया है। निस्संदेह केंद्र व राज्य सरकारों को ऐसी सार्थक पहल करने वाले उद्यमियों को प्रोत्साहित करने की जरूरत है, जो व्यर्थ जलायी जाने वाली पराली को उत्पादकता बढ़ाने और किसानों को आर्थिक लाभ देने का प्रयास कर रहे हैं। दिल्ली की आम आदमी सरकार ने भी जैव अपघटकों के जरिये पराली निस्तारण में सफलता का दावा किया है। दावा किया जा रहा है कि खेत में एक रासायनिक स्प्रे से बीस से पच्चीस दिन के भीतर अधिकांश पराली को खेत की उर्वरकता बढ़ाने में तब्दील कर दिया जाता है।

लेकिन पंजाब मे जहां खरीफ की फसल के बाद रबी की फसल बोने के समय का अंतर बहुत कम है, यह प्रयोग किसानों के अनुकूल साबित नहीं हुआ और इसे सकारात्मक प्रतिसाद नहीं मिल पाया। दरअसल, इस मुद्दे पर सियासी घमासान के बीच शहरी लोगों की यह सोच बनी है कि इस समस्या के लिये किसान ही दोषी है। यह भी कि किसान को देश व पर्यावरण की चिंता नहीं है। जबकि एक हकीकत यह भी है कि पराली जलाये जाने से होने वाले प्रदूषण का पहला शिकार किसान व उसका परिवार ही होता है। इस मुद्दे पर शासन-प्रशासन द्वारा कारगर विकल्प न दिये जाने और किसानों की सोच के दायरे में पहल न होने से भी समस्या जटिल बनी है। दरअसल, उसके सामने पराली को ठिकाने लगाने के सीमित विकल्प हैं। वास्तव में यह समस्या बेहतर व व्यावहारिक प्रबंधन व तार्किक समाधान की मांग करती है। महज दोषारोपण से समस्या का कारगर समाधान निकलने वाला नहीं है।

RELATED ARTICLES

लंबी अस्थिरता की ओर

पाकिस्तान की सेना ने ऐसा ड्रामा रचा है, जिसमें मंच पर मौजूद पात्र उसके लिखे संवाद ही बोलें। यह खेल पाकिस्तानी आवाम के साथ-साथ...

पेपर लीक पर सख्त कानून

अजय दीक्षित पिछले दिनों लोकसभा में डॉ. जितेन्द्र ने परीक्षाओं में पेपर लीक पर एक सख्त कानून बनाने का विधेयक पेश किया था । वह...

प्रियंका राज्यसभा नहीं मिलने से नाराज

कांग्रेस के जानकार सूत्रों का कहना है कि प्रियंका गांधी वाड्रा नाराज हैं। वे राज्यसभा से अपनी पारी की शुरुआत करना चाहती थीं लेकिन...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

वन्य जीवों के बढ़ रहे हमलों के बाद वन अधिकारियों के विदेश दौरे पर लगी रोक

मानव-वन्य जीव संघर्ष मामले पर सीएम धामी ने अधिकारियों को लगाई फटकार देहरादून। प्रदेश में गुलदार समेत अन्य जंगली जानवरों के बढ़ रहे हमलों के...

बजट अभिभाषण- पुलिस के आधुनिकीकरण व महिला सुरक्षा पर विशेष फोकस

कैदियों के बेहतर जीवन के लिए जेल विकास बोर्ड का गठन प्रत्येक थाने में महिला डेस्क बनी राज्यपाल के अभिभाषण में देखने को मिली इसकी प्रतिबद्धता देहरादून।...

टनकपुर, काशीपुर व कोटद्वार रेलवे स्टेशन होंगे अत्याधुनिक सुविधाओं से लैस

40 करोड़ से अधिक की लागत से होगा उत्तराखंड के तीन रेलवे स्टेशनों का पुनर्विकास- सीएम मुख्यमंत्री ने देहरादून से टनकपुर, काशीपुर व कोटद्वार रेलवे...

अरुणाचल प्रदेश में कांग्रेस को लगा झटका, भाजपा में शामिल हुए पूर्व केंद्रीय मंत्री निनोंग ईरिंग

नई दिल्ली। लोकसभा चुनाव से पहले कांग्रेस को नार्थ ईस्ट में भी बड़ा झटका लगा है। अरुणाचल प्रदेश में कांग्रेस और नेशनल पीपुल्स पार्टी...

सत्यापन न कराना 19 मकान मालिकों को पड़ा भारी, पौड़ी पुलिस ने लाखों का जुर्माना लगाकर निभायी जिम्मेदारी

आपराधिक गतिविधियों पर अंकुश लगाने हेतु पौड़ी पुलिस का सत्यापन अभियान जारी पौड़ी। वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक पौड़ी श्रीमती श्वेता चौबे द्वारा समस्त थाना प्रभारियों को...

भारत ने इंग्लैंड को चौथे टेस्ट मैच में पांच विकेट से हराया 

नई दिल्ली।  भारत ने चौथे टेस्ट में इंग्लैंड को पांच विकेट से हरा दिया है। इस जीत के साथ टीम इंडिया ने पांच मैचों...

बस्ती में खेल रहे 10 साल के मासूम को गुलदार ने मार डाला 

गुलदार को पकड़ने के लिए कांबिंग में जुटी वन विभाग की टीम  बच्चे को गुलदार के जबड़ों से छीना, नहीं बच पायी जान  देहरादून। ग्रामीण क्षेत्रों में...

बजट सत्र- राज्यपाल ने सरकार की प्राथमिकता व विकास योजनाओं का ब्यौरा किया पेश

राज्यपाल ने अभिभाषण में विकसित उत्तराखंड पर दिया जोर समान नागरिक संहिता का किया उल्लेख देखें, राज्यपाल का मूल अभिभाषण देहरादून। राज्यपाल गुरमीत सिंह ने सोमवार को...

अगर आप भी पिंपल और ऑयली स्किन से हैं परेशान तो कर लीजिए इन चीजों से परहेज

ऑयली स्किन के लोगों को अपनी त्वचा का विशेष ख्याल रखना होता है। ऐसी स्किन सेंसिटिव होती है और रिएक्शन के आसार जल्दी होते...

पीएम मोदी की ‘मन की बात’ का प्रसारण अगले तीन महीने तक बंद, जानिए वजह 

नई दिल्ली। रविवार को प्रधानमंत्री मोदी के ‘मन की बात’ मासिक रेडियो कार्यक्रम का 110वां एपिसोड प्रसारित हुआ। इस मौके पर मोदी ने कहा...

Recent Comments