Home उत्तराखंड धाकड़ धामी ने तोड़ा मिथक, जिस आवास में रहकर दूसरों ने गंवाई...

धाकड़ धामी ने तोड़ा मिथक, जिस आवास में रहकर दूसरों ने गंवाई सत्‍ता, वहां रहते हुए फिर सीएम बन रहे पुष्‍कर धामी

देहरादून। अब इसे संयोग कहें या फिर उत्‍तराखंड में पीएम मोदी की प्रचंड लहर की भाजपा ने लगातार दोबारा पूर्ण बहुमत प्राप्‍त किया। इस विधानसभा चुनाव में कई मिथक टूटे हैं। जिनमें से एक मिथक यह भी था कि जो भी मुख्‍यमंत्री न्यू कैंट रोड स्थित नए मुख्यमंत्री आवास में रहने आया, वह कुर्सी पर ज्यादा दिन टिक नहीं पाया। हालांकि पुष्‍कर सिंह धामी खटीमा सीट से हार गए थे, लेकिन भाजपा विधायक दल की बैठक में उन्‍हें नेता चुना गया। जिसके बाद आज बुधवार को उन्होंने उत्‍तराखंड के 12वें मुख्‍यमंत्री के रूप में शपथ ली। इसके साथ ही उन्‍होंने सालों से चले आ रहे मुख्यमंत्री आवास के दुभार्ग का मिथक भी तोड़ दिया है।

मुख्‍यमंत्री आवास को लेकर बड़ा मिथक
इस मुख्‍यमंत्री आवास को लेकर बड़ा मिथक जुड़ा हैं। हालांकि पुष्‍कर सिंह धामी इस आवास में रहे। कहा जाता है कि जो भी मुख्‍यमंत्री इस आवास में रहने आया उसे सत्ता गंवानी पड़ी। राज्य गठन से पहले यहां राज्य अतिथि गृह हुआ करता था। राज्य गठन के बाद पहली अंतरिम सरकार में इसे मुख्यमंत्री आवास बना दिया गया। सूबे की पहली सरकार में मुख्यमंत्री रहे नित्यानंद स्वामी और दूसरे मुख्यमंत्री रहे भगत सिंह कोश्यारी ने इसे केवल कैंप कार्यालय के रूप में इस्तेमाल किया था। लेकिन पहले विधानसभा चुनाव में भाजपा को शिकस्त मिली।
कांग्रेस के सत्ता में आने पर पहली सरकार में मुख्यमंत्री बने नारायण दत्त तिवारी इस आवास में पूरे पांच साल रहे। इसके बाद पुराने भवन को ध्वस्त कर नई इमारत बनाने का फैसला लिया गया।

पर्वतीय वास्तुकला के आधार पर बनाई गई इमारत
करोड़ों की लागत से यह इमारत पर्वतीय वास्तुकला के आधार पर बनाई गई। 2007 में भाजपा सरकार में मुख्यमंत्री बने भुवन चंद्र खंडूड़ी के समय इस भवन का निर्माण कार्य पूरा हुआ। वह अपने परिवार के साथ यहां रहे, लेकिन बीच में ही उन्हें मुख्‍यमंत्री पद छोड़ना पड़ा। इसके बाद नए मुख्यमंत्री डाक्‍टर रमेश पोखरियाल निशंक भी यहां रहे और उनकी भी कुर्सी चली गई। उनके बाद भाजपा ने फिर से मुख्यमंत्री के रूप में भुवन चंद्र खंडूड़ी को मुख्यमंत्री बनाया। तब भुवन चंद्र खंडूड़ी ने इस आवास को केवल कार्यालय के रूप में इस्तेमाल किया। लेकिन 2012 के चुनाव में भाजपा को सत्ता गंवानी पड़ी।

हरीश रावत ने इस आवास से बनाई थी दूरी
इसके बाद कांग्रेस सरकार सत्ता में आई और विजय बहुगुणा मुख्‍यमंत्री बनकर इस आवास में पहुंचे। लेकिन दो वर्ष का कार्यकाल पूरा करने से पहले ही उनकी सत्ता चली गई। इसके बाद मुख्यमंत्री बने हरीश रावत ने इस आवास से दूरी बनाए रखी। लेकिन वर्ष 2017 में कांग्रेस सत्ता से बाहर हो गई। नए मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र रावत ने अब इस मिथक को तोड़ने के लिए वास्तुशास्त्र का भी सहारा लिया। जब पुष्‍कर सिंह धामी मुख्‍यमंत्री बने तो वह इस आवास में रहने लगे। 2022 के विधानसभा चुनाव में वह अपनी सीट से हार गए, लेकिन मुख्यमंत्री की दौड़ में जीत गए।

RELATED ARTICLES

अगर जिंदगी भर की कमाई बैंक में रखी है तो समय-समय पर पासबुक प्रिंट जरूर करवाते रहें

देहरादून । ब्याज और रकम की सुरक्षा की आस में यदि आपने अपनी जिंदगी भर की कमाई बैंक में रखी है और समय-समय पर...

अलकनंदा में कपड़ों के रेशे, प्लास्टिक के कण और फॉम को निगल रहीं मछलियां, जानिए शोध में क्या हुए चौंकाने वाले खुलासे

श्रीनगर। अलकनंदा में पाए जाने वाली मछलियों के पेट में हानिकारक माइक्रोप्लास्टिक, कपड़ों के रेशे और फॉम के अवशेष मिले हैं। यानि कि नदी...

चारधाम सहित पर्वतीय जिलों में बारिश-ओलावृष्टि का येलो अलर्ट

देहरादून।  मौसम विभाग ने मंगलवार के लिए उत्तराखंड के अनेक जिलों में बारिश के साथ ओलावृष्टि का येलो अलर्ट जारी किया है। साथ ही...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

अगर जिंदगी भर की कमाई बैंक में रखी है तो समय-समय पर पासबुक प्रिंट जरूर करवाते रहें

देहरादून । ब्याज और रकम की सुरक्षा की आस में यदि आपने अपनी जिंदगी भर की कमाई बैंक में रखी है और समय-समय पर...

अलकनंदा में कपड़ों के रेशे, प्लास्टिक के कण और फॉम को निगल रहीं मछलियां, जानिए शोध में क्या हुए चौंकाने वाले खुलासे

श्रीनगर। अलकनंदा में पाए जाने वाली मछलियों के पेट में हानिकारक माइक्रोप्लास्टिक, कपड़ों के रेशे और फॉम के अवशेष मिले हैं। यानि कि नदी...

बिहार में जल्द ही भाजपा को बड़ा झटका दे सकते हैं नीतीश, जानिए सियासी उठापटक के बीच सीएम नीतीश कुमार का बड़ा फैसला

पटना। बिहार की सियासत में कुछ बड़ा होने की उम्मीद है। दरअसल, नीतीश कुमार अपने पार्टी के विधायकों को अगले 72 घंटे के लिए...

चारधाम सहित पर्वतीय जिलों में बारिश-ओलावृष्टि का येलो अलर्ट

देहरादून।  मौसम विभाग ने मंगलवार के लिए उत्तराखंड के अनेक जिलों में बारिश के साथ ओलावृष्टि का येलो अलर्ट जारी किया है। साथ ही...

व्हाट्सएप यूजर्स के लिए खास सुविधा शुरू, Whatsapp पर डाउनलोड होगा DL और PAN

नई दिल्ली। इलेक्ट्रॉनिक्स और आईटी मंत्रालय ने व्हाट्सएप यूजर्स के लिए खास सुविधा शुरू की है। अब आप सिर्फ एक व्हाट्सएप मैसेज के जरिए...

कोरोना के बाद अब मंकीपॉक्स की दहशत ! मोदी सरकार ने राज्यों को किया अलर्ट, हरकत में आई उद्धव सरकार ने जारी की एडवाइजरी

नई दिल्ली। डब्लूएचओ के अनुसार मंकीपॉक्स एक वायरल जूनोटिक बीमारी है। यह जानवरों से मनुष्यों में फैलती है और फिर मनुष्य से मनुष्य में...

हिना खान ने बॉडीकॉन ड्रेस में फ्लॉन्ट किया फिगर, चौथे लुक ने आते ही मचा दिया कहर

बॉलीवुड की मशहूर एक्ट्रेस हिना खान इन दिनों कांस फिल्म फेस्टिवल 2022 में खूब धूम मचा रही हैं। हिना खान आए दिन कांस से...

भविष्य की आहट

राष्ट्रप्रेम की डींगों का धरातली आइना डा. रवीन्द्र अरजरिया दुनिया के सामने मातृभूमि की छवि धूमिल करने की एक कोशिश गोरों की धरती पर फिर हो...

उत्तराखण्ड में साइबर अपराधी ने, डीजीपी का सोशल साइट पर बना लिया फर्जी एकाउंट

देहरादून। उत्तराखंड डीजीपी अशोक कुमार का किसी ने फर्जी ट्विटर अकाउंट बनाया है। पुलिस मुख्यालय की सोशल मीडिया सेल प्रभारी को जैसे ही इसकी...

महाभारतकालीन समय से रहे हैं उत्तर-पूर्वी राज्यों से हमारे संबंध: महाराज

श्रीनगर। हमारा देश एक राष्ट्र, एक ध्वज और एक आत्मा है। प्रतिष्ठित उत्सव अक्टेव-2022 जिस धरती पर हो रहा है, यही वह स्थान है...

Recent Comments