Home उत्तराखंड आखिर संपत्ति का ब्यौरा देने से क्यों परहेज करते हैं माननीय, मुख्यमंत्री...

आखिर संपत्ति का ब्यौरा देने से क्यों परहेज करते हैं माननीय, मुख्यमंत्री धामी सहित 7 मंत्रियों, नेता प्रतिपक्ष और 44 विधायकों का नाम सूची में शामिल 

देहरादून। संपत्ति का ब्योरा देने के नियम को तोड़ते हुए मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी सहित 44 विधायकों ने अपनी संपत्ति का ब्योरा नहीं दिया है। इसका खुलासा आरटीआई कार्यकर्ता एडवोकेट नदीम उद्दीन को सूचना का अधिकार अधिनियम के तहत जानकारी लेने पर हुआ है। सूचना के मुताबिक, उत्तराखंड के 71 विधायकों में से मुख्यमंत्री सहित 44 विधायकों ने अपना संपत्ति विवरण ही विधानसभा को नहीं दिया है। विधानसभा के लोक सूचना अधिकारी की ओर से यह सूचना उपलब्ध कराई गई है। नियमानुसार माननीयों को विधानसभा में अपनी संपत्ति का ब्योरा हर साल देना जरूरी होता है।

विधानसभा के लोक सूचना अधिकारी/उपसचिव (लेखा) हेम चन्द्र पंत ने सूचना उपलब्ध कराई है। इसके मुताबिक, इस बार विधायक बनने के बाद संपत्ति विवरण न देने वाले विधायकों की सूची में 44 विधायकों के नाम शामिल हैं। इसमें सात मंत्रियों और नेता प्रतिपक्ष का नाम भी शामिल है। सूची में मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी और मंत्री सुबोध उनियाल, अरविंद पांडे, रेखा आर्य, बंशीधर भगत, यतीश्वरानंद व बिशन सिंह चुफाल के नाम शामिल हैं। इसके अतिरिक्त नेता प्रतिपक्ष प्रीतम सिंह का नाम भी इस सूची में शामिल हैं।

इन विधायकों ने पूरे कार्यकाल में नहीं दिया संपत्ति ब्योरा
जानकारी के मुताबिक, जिन विधायकों ने अपने पूरे कार्यकाल में विधानसभा सचिव को संपत्ति व दायित्वों का विवरण नहीं दिया है, उनमें मंत्रियों के अलावा प्रीतम सिंह, पूर्व सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत, राजकुमार, सुरेन्द्र सिंह नेगी, मनोज रावत, विनोद कंडारी, विजय सिंह पंवार, मुन्ना सिंह चौहान, सहदेव सिंह पुंडीर, स्व. हरबंस कपूर, आदेश चौहान, सुरेश राठौर, ममता राकेश, देशराज कर्णवाल, फुरकान अहमद, प्रदीप बत्रा, कुंवर प्रणव सिंह चौम्पियन, काजी मो. निजामुद्दीन, संजय गुप्ता, ऋतु भूषण खंडूड़ी, दलीप सिंह रावत, हरीश सिंह, मीना गंगोला, महेश सिंह नेगी, करन माहरा, गोविंद सिंह कुंजवाल, राम सिंह कैड़ा, दीवान सिंह बिष्ट, आदेश सिंह चौहान, राजकुमार ठुकराल, राजेश शुक्ला, सौरभ बहुगुणा, प्रेम सिंह, मुन्नी देवी शाह, चन्द्र पंत, महेश सिंह जीना, विधायकों के नाम शामिल हैं।

20 विधायकों ने पहली अनुसूचि का विवरण दिया, दूसरी का नहीं
20 विधायक ऐसे भी हैं, जिन्होंने अपनी संपत्ति का प्रथम अनुसूची का विवरण तो दिया है लेकिन द्वितीय अनुसूची का संपत्ति अर्जन और व्ययन का वार्षिक विवरण नहीं दिया है। इन विधायकों में प्रेमचन्द्र अग्रवाल, केदार सिंह रावत, गणेश जोशी, बलवंत सिंह भौर्याल, सतपाल महाराज, विनोद चमोली, हरभजन सिंह चीमा, खजान दास, धन सिंह रावत, चन्दन राम दास, भरत सिंह चौधरी, मदन कौशिक, महेंद्र भट्ट, पूरन सिंह फर्त्याल, कैलाश चन्द्र गहतोड़ी, यशपाल आर्य, प्रीतम सिंह पंवार, रघुनाथ सिंह चौहान, संजीव आर्य, हरक सिंह रावत शामिल हैं।

आम जनता के लिए प्रकाशित किया जाता है ब्योरा
एडवोकेट नदीम उद्दीन ने बताया कि कि उत्तरप्रदेश मंत्री और विधायक (आस्तियों तथा दायित्वों का प्रकाशन) अधिनियम 1975 की धारा-3 के अनुसार, मंत्रियों और विधायकों का नियुक्त या निर्वाचित होने के तीन माह के अंदर विधानसभा सचिव को अपनी संपत्ति दायित्वों का विवरण देने का कर्तव्य है। इसके बाद धारा-4 के अनुसार हर साल 30 जून तक पूर्व वर्ष की संपत्ति प्राप्ति, खर्च व दायित्वों का विवरण देना होता है, जिसे गजट में आम जनता की सूचना के लिए प्रकाशित किया जाना आवश्यक है। उत्तराखंड गठन से ही बड़ी संख्या में विधायक व मंत्री इस कानून का पालन नहीं कर रहे हैं, जबकि पारदर्शिता तथा भ्रष्टाचार नियंत्रण के लिए ऐसा किया जाना जनहित में आवश्यक है।

RELATED ARTICLES

उत्तराखण्ड में साइबर अपराधी ने, डीजीपी का सोशल साइट पर बना लिया फर्जी एकाउंट

देहरादून। उत्तराखंड डीजीपी अशोक कुमार का किसी ने फर्जी ट्विटर अकाउंट बनाया है। पुलिस मुख्यालय की सोशल मीडिया सेल प्रभारी को जैसे ही इसकी...

महाभारतकालीन समय से रहे हैं उत्तर-पूर्वी राज्यों से हमारे संबंध: महाराज

श्रीनगर। हमारा देश एक राष्ट्र, एक ध्वज और एक आत्मा है। प्रतिष्ठित उत्सव अक्टेव-2022 जिस धरती पर हो रहा है, यही वह स्थान है...

पर्यटकों की भीड़ से कम पड़ी रोडवेज की बसें

देहरादून। पर्यटकों की भीड़  को देखते हुए रोडवेज ने मसूरी के लिए बसों के फेर बढ़ाए, बावजूद इसके बसों की किल्लत कम नहीं हो...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

व्हाट्सएप यूजर्स के लिए खास सुविधा शुरू, Whatsapp पर डाउनलोड होगा DL और PAN

नई दिल्ली। इलेक्ट्रॉनिक्स और आईटी मंत्रालय ने व्हाट्सएप यूजर्स के लिए खास सुविधा शुरू की है। अब आप सिर्फ एक व्हाट्सएप मैसेज के जरिए...

कोरोना के बाद अब मंकीपॉक्स की दहशत ! मोदी सरकार ने राज्यों को किया अलर्ट, हरकत में आई उद्धव सरकार ने जारी की एडवाइजरी

नई दिल्ली। डब्लूएचओ के अनुसार मंकीपॉक्स एक वायरल जूनोटिक बीमारी है। यह जानवरों से मनुष्यों में फैलती है और फिर मनुष्य से मनुष्य में...

हिना खान ने बॉडीकॉन ड्रेस में फ्लॉन्ट किया फिगर, चौथे लुक ने आते ही मचा दिया कहर

बॉलीवुड की मशहूर एक्ट्रेस हिना खान इन दिनों कांस फिल्म फेस्टिवल 2022 में खूब धूम मचा रही हैं। हिना खान आए दिन कांस से...

भविष्य की आहट

राष्ट्रप्रेम की डींगों का धरातली आइना डा. रवीन्द्र अरजरिया दुनिया के सामने मातृभूमि की छवि धूमिल करने की एक कोशिश गोरों की धरती पर फिर हो...

उत्तराखण्ड में साइबर अपराधी ने, डीजीपी का सोशल साइट पर बना लिया फर्जी एकाउंट

देहरादून। उत्तराखंड डीजीपी अशोक कुमार का किसी ने फर्जी ट्विटर अकाउंट बनाया है। पुलिस मुख्यालय की सोशल मीडिया सेल प्रभारी को जैसे ही इसकी...

महाभारतकालीन समय से रहे हैं उत्तर-पूर्वी राज्यों से हमारे संबंध: महाराज

श्रीनगर। हमारा देश एक राष्ट्र, एक ध्वज और एक आत्मा है। प्रतिष्ठित उत्सव अक्टेव-2022 जिस धरती पर हो रहा है, यही वह स्थान है...

पर्यटकों की भीड़ से कम पड़ी रोडवेज की बसें

देहरादून। पर्यटकों की भीड़  को देखते हुए रोडवेज ने मसूरी के लिए बसों के फेर बढ़ाए, बावजूद इसके बसों की किल्लत कम नहीं हो...

हरकी पैड़ी पर गंगा आरती की अब हो सकेगी ऑनलाइन बुकिंग

देहरादून।  हरकी पैड़ी पर होने वाली गंगा की विश्व प्रसिद्ध मुख्य आरती को पहली बार ऑनलाइन बुक किया जा सकेगा। पहले तक श्रीगंगा सभा...

गोरीकुंड से केदारनाथ का सफ़र होगा और भी आसान, जानिए

देहरादून।  गौरीकुंड-केदारनाथ 16 किमी पैदल मार्ग पर ऑल टेरेन व्हीकल (एटीवी) चलाने की संभावनाएं तलाशी जाने लगी हैं। पर्यटन मंत्री ने लोक निर्माण विभाग...

95 साल के शख्स को 84 साल की महिला से हुआ प्यार, 40 मेहमानों की मौजूदगी में खाई साथ जीने-मरने की कसमें

लंदन। जरा सोचिए कि आप 95 साल की उम्र में क्या कर रहे होंगे? आप कहेंगे 95 साल की उम्र में कोई क्या कर...

Recent Comments