Home Uncategorized उत्तर भारत लाइव के साथ पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत की खास बातचीत...

उत्तर भारत लाइव के साथ पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत की खास बातचीत में कहा 2022 में सख्त भू-कानून बिल बनाएंगे

आशीष कुमार ध्यानी
उत्तर भारत लाइव के साथ विशेष बातचीत में उत्तराखंड के पूर्व मुख्यमंत्री और उत्तराखंड कांग्रेस चुनाव संचालन समिति के अध्यक्ष हरीश रावत ने कई मुद्दों को लेकर बेबाकी से अपनी राय रखी। उत्तराखंड में बदलते वक्त के साथ लैंड रिफार्म की आवश्यकता है। बाहरी बड़े व्यापारियों से यहां की जमीन बचाने के लिए भू-कानून बनाया जाना अत्यंत अवश्य है। पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत ने कहा कि अगर 2022 में हमारी सरकार आती है तो पहली ही कैबिनेट में जनहितैषी भू-कानून बनाएंगे। नए भू-कानून में हर वर्ग का विशेष ध्यान रखा जाएगा। नए भू-कानून में इस बात का विशेष ध्यान रखा जाएगा कि यह प्रदेश में पलायन को रोकने में मददगार साबित हो।
उत्तर भारत लाइव के साथ बातचीत में पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत ने 2022 के विधानसभा के चुनाव को लेकर विस्तार से चर्चा की। उन्होंने आम आदमी पार्टी को बीजेपी का शार्प शूटर बताते हुए कहा कि वो दिल्ली से बीजेपी से सुपारी लेकर आए हैं। यह एक वोटकटुवा पार्टी है और इनकी शब्दावली भी बीजेपी के सरीखे हैं। उन्होंने कहा कि प्रदेश में कांग्रेस का मुकाबला सिर्फ और सिर्फ बीजेपी से हैं। आज प्रदेश में लोग बीजेपी से नाराज हैं और वो हमारी तरफ उम्मीद भरी नजरों से देख रहे हैं। आम आदमी पार्टी के कर्नल अजय कोठियाल द्वारा केदारनाथ धाम में हुए काम का श्रेय स्वयं लेने पर पूर्व सीएम जमकर बरसे। उन्होंने कहा कि आपदा के बाद हमारी सरकार ने बेहद विषम परिस्थितियों में केदारनाथ पुनर्निर्माण का काम करके यात्रा शुरू करवाई। केदारनाथ क्षेत्र में हमने मजदूरी रेट को तीन से चार गुना तक बढ़ाया यही कारण है कि केदारनाथ में तेजी से काम हुआ। इसके अलावा उस समय के जिलाधिकारी, उपजिलाधिकारी, पीडब्ल्यूडी के इंजीनियरों ने जिस तरह से दिन रात मिलकर काम किया उनकी भी तारीफ होनी चाहिए। पूर्व सीएम ने बताया कि केदारनाथ क्षेत्र में हमने काम को तीन भागों में बांट रखा था। कर्नल कोठियाल द्वारा केवल लिंचौली से केदारनाथ तक का काम किया गया। जबकि रामबाड़ा से लिंचौली और गौरीकुंड से रामबाड़ा का काम अन्य संस्थाओं ने मिलकर किया। इसलिए केदारनाथ में काम करने का श्रेय सभी को मिलना चाहिए। पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत ने कहा कि आपदा के बाद पिंडर घाटी, मंदाकिनी वैली और उत्तरकाशी में जो अभूतपूर्व काम हुए क्या उसका भी श्रेय कर्नल कोठियाल को मिलना चाहिए। क्या कर्नल कोठियाल ने पिथौरागढ़ और बागेश्वर में भी आपदा के दौरान काम किया था? इन सबका उनको जनता के समक्ष जवाब रखना चाहिए। पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत ने कहा कि उस वक्त अगर हमारी सरकार ने राजनैतिक सपोर्ट नहीं किया होता तो इतनी तेजी से काम नहीं हो पाता। हमने बढ़ी हुई मजदूरी के लिए विधानसभा में प्रस्ताव पेश कराया। केदारनाथ के निर्माण कार्य में हमारी सरकार ने जो दाम दिए वो एक बड़ा निर्णय था।

प्रदेश में रोजगार के नए विकल्प तलाशेंगे, जिससे यहां के पलायन को रोका जा सके। हमें बढ़ते पलायन को रोकना है।
अपनी पिछली सरकार के कार्यकाल के दौरान की बाते करते हुए पूर्व सीएम हरीश रावत ने कहा कि हमने मलिन बस्तियों को मालिकाना हक दिया। 1,37,000 लोग जो कई दशकों से मालिकाना हक के लिए भटक रहे थे उन्हें हमने आते ही मालिकाना हक दिए। मेट्रो का एमडी हमने साढ़े चार वर्ष पहले नियुक्त करके गए थे। पर आज साढ़े चार वर्ष बाद भी मेट्रो के काम में एक ईट का इजाफा नहीं हुआ। हमारी सरकार ने मड़ुवे का दाम पांच रुपये से बढ़ाकर 60 रुपये कर दिया। जिससे स्थानीय स्तर के इस उत्पाद की प्रसिद्ध अंतरराष्ट्रीय स्तर पर हुई। आज इसकी मांग अंतरराष्ट्रीय स्तर पर हैं। हमने पिछली सरकार में महिला सशक्तिकरण की दिशा में बेहतरीन काम किया। पूर्व सीएम हरीश रावत ने कहा कि जवानी और पानी कभी रुकते नहीं है इनको रिफाइन किया जाता है। हमें इनको अगर रोकना है तो इनका कैसे सदुपयोग कर सकते हैं इस पर ध्यान देना होगा। रोजगार के मुद्दे पर बोलते हुए पूर्व सीएम हरीश रावत ने कहा कि अगर 2022 में हमारी सरकार आती है तो पहली ही कैबिनेट में रोजगार की भर्तियां निकाली जाएंगी। आने वाले समय में और कितना रोजगार सृजित किया जा सकता है उसका खांका खींचा जाएगा। इसके अलावा स्वयं सहायता समूह को बढ़ाकर कैसे रोजगार के नए विकल्प पैदा किए जा सकते हैं इस दिशा में काम करेंगे। हमारी पिछली सरकार के दौरान भी हमने युवाओं और महिलाओं के रोजगार की दिशा में काम किया था और इस बार भी करेंगे। प्रदेश में रोजगार के नए विकल्प तलाशेंगे। जिससे यहां के पलायन को रोका जा सके। हमें पलायन को रोकना है। आज प्रदेश का नागरिक यहां की हवेलियां छोड़कर बड़े शहरों में दो कोठियों में रहने को आखिर क्यों मजबूर हैं? इसके लिए हमें गंभीरता से काम करना होगा। हम लोकल को वोकल बनाने की दिशा में काम करेंगे।

2022 में हम ऐसे लोगों को टिकट देंगे जो जिताऊ के साथ टिकाऊ भी हों
बागियों के मुद्दे पर पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत ने खुलकर अपने विचार रखे। उन्होंने कहा कि आजकल समय दुल्हन वही जो पिया मन भाए का है। कई बागी है जो पुन: पार्टी में आना चाहते हैं। मेरा किसी भी बागी को लेकर कोई विरोध नहीं है। मेरी तरफ से प्रदेश कांग्रेस पूरी तरह से फ्री हैंड हैं। यह प्रदेशाध्यक्ष का निर्णय है कि वो किसे शामिल करते हैं और किसे नहीं। इस पर मेरा किसी भी तरह का कोई हस्तक्षेप नहीं है। उन्होंने कहा कि परंपरागत कांग्रेसी के साथ कभी दिक्कत नहीं होती है। उन्होंने इशारों ही इशारों में कहा कि एक दो लोग हैं जो किसी भी पार्टी के लिए खतरा बने रहते हैं। ऐसे लोगों से बचने की जरूरत हैं। 2022 में हमारा लक्ष्य जनता को स्थाई और मजबूत सरकार देने का है। पार्टी में टिकट देने के प्रश्न पर पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत ने कहा कि यह निर्णय तो प्रदेशअध्यक्ष और कोर कमेटी द्वारा ही लिया जाएगा। पर हमारा फोकस जिताऊ और टिकाऊ पर रहेगा। 2022 में हम ऐसे लोगों को महत्व देंगे जो जिताऊ होने के साथ ही टिकाऊ भी हों। हम जनता से 50 सीटें मांग रहे हैं। जिससे हम स्थाई होकर जनहितैषी निर्णय ले सके। पूर्व सीएम ने कहा कि अगर कम सीटें आती है तो दिल्ली के कुछ व्यापारियों की नजर खरीद फरोख्त में जुट जाती है फिर वो लगातार सरकार को अस्थिर करने में लगे रहते हैं। ऐसे में अगर हम सदन में मजबूत रहेंगे तो हम जनता के लिए निर्णय भी मजबूती से ले सकेंगे।

छोटे और मझोले मीडिया संस्थानों का रखेंगे विशेष ध्यान
पूर्व सीएम हरीश रावत ने कहा कि अगर 2022 में हमारी सरकार आती है तो जनविरोधी निर्णयों को हम सबसे पहले रद्दी की टोकरी में डाल देंगे। फिर चाहे वो देव स्थानम् बोर्ड के गठन का मामला हो या फिर टेक होम राशन का। हमारी पिछली सरकार ने जनहितैषी के काम किए थे और 2022 में अगर हम पुन: सत्ता में आते हैं तो जनहितैषी, रोजगार, स्वास्थ्य और भू-कानून के मुद्दे को प्राथमिकता में रखकर काम करेंगे। पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत ने कहा कि अगर हमारी सरकार आती है तो छोटे और मझोले मीडिया संस्थानों और अखबारों का विशेष ध्यान रखा जाएगा। हमारी सरकार ने देश में पोर्टल को विज्ञापन देने की दिशा में सबसे पहले काम किया था। आज देश के कई बड़े राज्यों में अभी पोर्टल को प्रोत्साहित करने के लिए कोई नीति नहीं है। पर हमने यह काम वर्ष 2016 में ही कर दिया था। अगर 2022 में हम सत्ता में आते है तो लोकतंत्र के चौथे स्तंभ का पूरा ध्यान रखा जाएगा और उन्हें प्रोत्साहित करने के लिए विशेष रणनीति बनाई जाएगी।

मैं कांग्रेस में था कांग्रेस में हूं और आजीवन कांग्रेस में ही रहूंगा
पार्टी कार्यकर्ताओं में एकजुटता के मत पर पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत ने कहा कि हम बीजेपी में नहीं है। विचारों में भिन्नता जरूरी है। हर व्यक्ति के अपने विचार हो सकते हैं और अपने विचारों को प्रकट करने की स्वतंत्रता होनी चाहिए। जो हमारी पार्टी में है। पर इससे यह तो प्रमाणित नहीं होता कि हम अलग हैं। पूरी पार्टी आज एकजुटता के साथ कंधे से कंधा मिलाकर चल रही है। पार्टी छोडऩे वाले लोगों के बारे में विचार रखते हुए पूर्व सीएम ने कहा कि दो तीन युवा के जाने से कोई लाइन तो नहीं लग गई। ये वो लोग हैं जिन्हें बहुत जल्द तरक्की मिल गई। उन्होंने कहा कि सिंधिया अगर पार्टी में होते तो निश्चित एक दिन वो मुख्यमंत्री होते। अपने अनुभवों को साझा करते हुए पूर्व सीएम ने कहा कि पार्टी के अंदर बहुत कुछ होता रहता है। पर हमें पार्टी की न्यायप्रणाली पर विश्वास रखना चाहिए। पार्टी का सोचना कुछ और है हमारा अपना सोचना कुछ और है और पार्टी लीडरशिप का सोचना कुछ और होता है। 2002, 2007 और 2012 में ऐसे मौके मेरे साथ भी आए। पर मैं कांग्रेस में था कांग्रेस में हूं और आजीवन कांग्रेस में ही रहूंगा। 2022 में पार्टी की एकजुटता के बारे में पूर्व सीएम ने बोला कि हमने सब कुछ युवा प्रदेशअध्यक्ष गणेश गोदियाल के कंधों में समाहित कर रखा है। हम सभी एकजुटता के साथ बीजेपी के खिलाफ मैदान में उतरेंगे। बीजेपी और आम आदमी पार्टी को सोशल मीडिया आर्मी के बारे में बोलते हुए पूर्व सीएम हरीश रावत ने कहा कि प्रदेश में बीजेपी के जितने भी बड़े नेता है सोशल मीडिया के हर क्षेत्र में वो मुझसे पीछे हैं। फेसबुक, ट्विटर और इंस्टाग्राम में मेरे फालोवर्स की संख्या इनसे ज्यादा है। हां स्थानीय स्तर पर हम अपनी सोशल मीडिया आर्मी को और ओपन तथा एक्सपेंड कर रहे हैं।
अल्पसंख्यकों में सुरक्षा और आत्मविश्वास बढ़ाना किसी भी सरकार का प्रमुख काम
अल्पसंख्यकों के मुद्दे पर बेबाकी से राय रखते हुए पूर्व सीएम हरीश रावत ने कहा कि किसी भी सभ्य समाज में अल्पसंख्यकों को प्यार देना चाहिए तभी सद्भाव बढ़ता है। अल्पसंख्यकों में सुरक्षा और आत्मविश्वास बढ़ाना किसी भी सरकार का प्रमुख काम होता है। राज्य के अंदर शांति और सदभाव की जरूरत पड़ी तो हमने टोपी भी पहनी और सम्मान भी दिया। हिंदू तब नहीं डरा जब देश में हूणों और मुगलों ने आक्रमण किया। पर बीजेपी आज हिंदुओं के मन में अल्पसंख्यकों के प्रति डर पैदा कर रही है। आज हिंदुओं के मन में डर पैदा किया जा रहा है। शिक्षा बढ़ाने से बुराइयां कम होती है। प्रदेश के कई राज्य है जहां जनसंख्या में ग्रोथ रेट अल्पसंख्यकों का कम हैं। अद्र्ध कुंभ के दौरान हमने मुसलमानों से दिए जलवाएं, गंगा में आरती करवाई, कुंभ यात्रा के दौरान मार्ग में झाड़ू भी लगवाई इससे आपसी सदभाव पैदा हुआ पर आज एक डर का माहौल है। आखिर ऐसा क्यों? और सब जानते हैं इससे किसे लाभ होगा। पूर्व सीएम ने कहा कि ऐसा नहीं है कि हमने मेजोरिटी का ध्यान नहीं रखा। अगर हमने पिरान कलियर में एक रुपये खर्च किए तो बदरीनाथ और केदारनाथ धाम में 100 रुपये खर्च किए। अगर हमने मुस्लिम धर्म स्थल पर काम किये तो उससे 1000 गुना ज्यादा बजट का काम हमने हिंदू धर्मस्थलों के लिए किया। ऐसे में भेदभाव का प्रश्न हीं नहीं उठता है।

RELATED ARTICLES

खुद का नहीं तो पत्नी को टिकट दिलाने की कोशिश में जुटे विधायक कर्णवाल : डाला दिल्ली में डेरा

रुड़की। झबरेड़ा से टिकट बचाने के लिए भाजपा के सीटिंग विधायक देशराज कर्णवाल ने दिल्ली में डेरा डाल दिया है। पार्टी ने उन्हें भगवानपुर...

 नही थम रहा कोरोना का कहर, 3295 नए मामलों के साथ ही आज 04 मरीजो की हुई मौत

देहरादून। उत्तराखंड में वैश्विक महामारी कोविड-19 का कहर जारी है ,आज राज्य के सभी 13 जनपदों में कोरोना वायरस के 3295 नये मामले सामने आए...

त्रिवेंद्र सिंह रावत से भिड़ने वाली शिक्षिका ने थामा यूकेडी का दामन 

अर्जुन सिंह इंडिया टाइम्स: रविवार को उत्तराखंड क्रांति दल संसदीय बोर्ड अध्यक्ष के नेतृत्व में उतरा पन्त बहुगुणा ने दल का दामन थामने पर...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

खुद का नहीं तो पत्नी को टिकट दिलाने की कोशिश में जुटे विधायक कर्णवाल : डाला दिल्ली में डेरा

रुड़की। झबरेड़ा से टिकट बचाने के लिए भाजपा के सीटिंग विधायक देशराज कर्णवाल ने दिल्ली में डेरा डाल दिया है। पार्टी ने उन्हें भगवानपुर...

 नही थम रहा कोरोना का कहर, 3295 नए मामलों के साथ ही आज 04 मरीजो की हुई मौत

देहरादून। उत्तराखंड में वैश्विक महामारी कोविड-19 का कहर जारी है ,आज राज्य के सभी 13 जनपदों में कोरोना वायरस के 3295 नये मामले सामने आए...

त्रिवेंद्र सिंह रावत से भिड़ने वाली शिक्षिका ने थामा यूकेडी का दामन 

अर्जुन सिंह इंडिया टाइम्स: रविवार को उत्तराखंड क्रांति दल संसदीय बोर्ड अध्यक्ष के नेतृत्व में उतरा पन्त बहुगुणा ने दल का दामन थामने पर...

प्रेशर पॉलिटिक्स के महारथी अब खुद हुए अंडर प्रेशर

देहरादून। कैबिनेट मंत्री हरक सिंह रावत के भाजपा से 6 साल के लिए बर्खास्त होने के बाद देहरादून से लेकर दिल्ली तक यही चर्चा...

उत्तराखंड में भाजपा ने दिया कांग्रेस को बड़ा झटका, महिला कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष सरिता आर्य भाजपा में हुई शामिल

उत्तराखंड के राजनीतिक की बड़ी खबर, देहरादून: उत्तराखंड महिला कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष सरिता आर्य पहुंची बीजेपी प्रदेश कार्यालय में, बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष मदन कौशिक ने...

जॉगिंग की शुरूआत करने वाले हैं तो इन बातों का रखें ध्यान

जॉगिंग एक तरह की एक्सरसाइज है, जिसमें व्यक्ति को धीमी गति में दौडऩा होता है। इस एक्सरसाइज को रोजाना करने से आपको कई तरह...

एकता कपूर के शो नागिन 6 में तेजस्वी प्रकाश को लाने की तैयारी

बिग बॉस 15 में एंट्री करने के बाद अभिनेत्री तेजस्वी प्रकाश की लोकप्रियता काफी बढ़ गई है। उन्हें दर्शकों का भरपूर प्यार मिल रहा...

बिना नक्शे-कैलेंडर के भागता वक्त

शमीम शर्मा आज मेरे ज़हन में उस नौजवान की छवि उभर रही है जो सडक़ किनारे नक्शे और कैलेंडरों के बंडल लिये बैठा रहा करता।...

उत्तराखंड बीजेपी ने उठाया सख्त कदम, हरक सिंह रावत को मंत्रिमंडल समेत बीजेपी से किया 6 साल के लिये निष्कासित

देहरादून । भाजपा ने कैबिनेट मंत्री हरक सिंह रावत को 6 वर्ष के लिए पार्टी से निष्कासित कर दिया है। इसके साथ ही हरक...

85 नए केस के साथ 93 हुआ उत्तराखंड में ओमिक्रॉन संक्रमितों को आंकड़ा

देहरादून। उत्तराखंड में कोरोना का ओमिक्रॉन वेरिएंट तेजी से फैल रहा है। रविवार को आई 159 सैंपलों की जीनोम सीक्वेसिंग रिपोर्ट में से 54...

Recent Comments